Showing posts with label Tourism. Show all posts

आकर्षण का केंद्र बनी सेक्टर-12 टाउन पार्क की फ्लावर वॉच, रोजाना हजारों लोग लेते हैं सेल्फी

sector-12-town-park-flower-watch-selfie-point-faridabad

फरीदाबाद 27 अगस्त 2018: फरीदाबाद सेक्टर 12 टाउन पार्क में लगी फ्लावर वाच आकर्षण का केंद्र बन गई है. यहां पर रोजाना हजारों लोग सेल्फी लेने के लिए आते हैं और इसी बहाने पार्क की रौनक का आनंद भी उठाते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह फ्लावर वाच कुछ ही महीनों पहले हरियाणा सरकार के उद्योग मंत्री और फरीदाबाद ओल्ड के भाजपा विधायक विपुल गोयल ने लगवाई थी.

इस फ्लावर वॉच की वजह से टाउन पार्क में आने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. इसके अलावा तिरंगे के साथ सेल्फी लेने के लिए भी लोग आते हैं. यह दोनों काम विपुल गोयल ने ही करवाए हैं जिसकी वजह से शहर के युवा उनकी तारीफ करते हैं.

सूरजकुंड मेले में मोटे लोगों के पास पेट कम करने का बढ़िया मौका, बैद बन्नू तैकाम के पास पहुंचे

baid-bannoo-taikam-in-surajkund-mela-motapa-km-karne-ki-dava

फरीदाबाद: फरीदाबाद सूरजकुंड मेले में शहर के मोटे लोगों के पास पेट कम करने का बढ़िया मौका है, आदिवासी बैद बन्नू तैकाम बहुत कम खर्च में जड़ी बूटियों से कुछ ही दिनों में चर्बी कम करने का दावा कर रहे हैं और इनके पास लोगों की लाइन लगी है.

बैद बन्नू तैकाम फर्जी नीम हकीम नहीं हैं बल्कि सरकार से मान्यता प्राप्त बैद हैं. इन्होने MSME में भी अपने बिजनेस का रजिस्ट्रेशन करा रखा है. इनका रजिस्ट्रेशन नम्बर है - MP10A0005561.

बैद बन्नू तैकाम अपनी जड़ी बूटियों ने मोटापा कम करते हैं, पेट घटाते हैं, बादी, थाईराईड, स्ट्रॉ चर्बी कम करते हैं. मोटापा कम करने की दवाई 1000 रुपये के आसपास है.

बन्नू तैकाम घर पर कोरियर से भी दवाइयों की डेलिवरी करते हैं. उनके मोबाइल नंबर पर फोन करके दवाओं का आर्डर किया जा सकता है (Mobile - 09993960302).

मोटापा घटाने का अलावा बैद बन्नू तैकाम शुगर, धातु-पौष्टिक, चेहरे के लिए, बालों के लिए, बवासीर, स्त्री रोग, लिंग के लिए, शीघ्र पतन, दर्द, गैस, पथरी, त्वचा रोग, सर्दी खांसी, शरीर के लिए और हाइड्रोसील का भी जड़ी बूटियों से इलाज करते हैं.

32वें सूरजकुंड मेलें में मशहूर कवियों ने दर्शकों को जमकर हंसाया

surajkund-international-craft-mela-poet-program-today-make-lots-of-fun

फरीदाबाद: 32वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुंड मेलें में हास्य कवियों ने सूरजकुंड में समां बांध दिया, इस फेहरिस्त में जाने माने कवि सुरेंद्र शर्मा, पद्मश्री सुरेंद्र दुबे, डॉ. सुरेश अवस्थी, कवियत्री अनीता सोनी, अरूण जैमिनी, मंजीत सिंह  जैसे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि मौजूद थे.

सभी कवियों ने अपने अपने हिसाब से दर्शकों का मनोरंजन करवाया, कुछ कवि रेपिस्ट बाबा राम रहीम पर कवितायेँ कहीं तो कुछ कवियों ने सोशल मीडिया के महत्व पर कवित सुनायी.

आज के दौर में सोशल मीडिया का महत्त्व बहुत बढ़ गया है जिसको ध्यान में रखते हुए  कवि सरदार मंजीत सिंह ने व्हाट्सअप और फेसबुक से सम्बंधित कवितायेँ पढ़कर दर्शकों को लोटपोट कर दिया.

आपको बता दें कि 2 फ़रवरी से लगा यह मेला 18 फरवरी को ख़त्म होगा. हर साल इसका आयोजन बहुत भव्य तरीके से होता है. इस बार इस मेले का उद्घाटन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया था.

फरीदाबाद के लोगों के लिए खुशखबरी, अब साल में दो बार सूरजकुंड मेला लगवाएंगे सीएम खट्टर

haryana-cm-manohar-lal-khattar-hint-surajkund-crafts-mela-2-times

फरीदाबाद: जिले के लोगों के लिए खुशखबरी है, सूरजकुंड मेला साल भर में एक बार लगता है लेकिन इस मेले की वजह से जिले का पूरी दुनिया में नाम होता है, यह मेला हर साल 1 फ़रवरी से 14 फ़रवरी तक लगता है लेकिन इस साल यह 2 फ़रवरी से 18 फ़रवरी तक के लिए लगा है. आज प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि भविष्य में यह मेला साल में दो बार आयोजित किया जाएगा.

आज कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि भारत कलाओं, सभ्यता, संस्कृति और संगम स्थानों का एक प्राचीन स्थल है। उन्होंने कहा कि पडोसी राज्येां के साथ संबंध प्रगाढ बने, इसके लिए ऐसे मेलों का आयोजन होते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बार इस मेला में 1000 से अधिक कलाकार, बनुकर व हस्तषिल्प कलाकार आए हैं और उत्तर प्रदेश मेला में थीम राज्य के रूप में सिरकत कर रहा है। उन्होंने कहा कि इस मेला में उत्तर प्रदेश की महिमा रहेगी और उत्तर प्रदेष आर्कषण का केन्द्र रहेगा, जहाँ पर राम, कृष्ण, बाबा शिवजी इत्यादि उत्तर प्रदेश की याद ताजा करवाएंगे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश एक बडा राज्य हैं और वहां की संस्कृति का रंग यहां पर होगा। 

उन्होंने कहा कि इस बार मेला में उत्तर प्रदेश की छटा दिखाई देगी और बनारस, आयोध्या तथा अन्य जाने-माने स्थलों के द्वार व अन्य कलाकृतियों को यहां पर प्रदर्षित किया गया हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेष श्रीकृष्ण की जन्मस्थली हैं तो गीता का संदेष हरियाणा में दिया गया, जो आपसी संस्कृति की एक पहचान है। इसी प्रकार, इस बार इस मेला मं लगभग 28 देशों की संस्कृति व कला का संगम यहां पर होगा। उन्होंने बताया कि इस बार मेला में किर्गीस्तान भागीदार देश के रूप में भाग ले रहा हैं, जो विश्व प्रसिद्ध झीलों के रूप में जाना जाता हैं, इसके अलावा, यह देश सोना, जैविक खेती इत्यादि के लिए भी प्रसिद्ध है। उन्होंने बताया कि भारत और किर्गीस्तान के साथ पर्यटन, कृषि के अलावा अन्य क्षेत्रों में 6 समझौते किए गए है, जिससे वसुदेव कुटुम्बं के दर्षन होते है। 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश और हरियाणा के बीच एक परिवहन समझौता किया गया, जो एकरूपता को दिखाता है। उन्होंने कहा कि वे पर्यटक और परिवहन के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में बढावा देने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आभार व्यक्त करते हैं। उन्होंने कहा कि इस बार यह इस मेला की अवधि दो दिन के लिए बढाई गई है और यह भी योजना तैयार की जा रही है कि इस मेला को साल में दो बार आयोजित किया जाए ताकि लोगों के साथ-साथ कलाकारों, बुनकरों व शिल्पकारों को ज्यादा से ज्यादा यहां आने का मौका मिल सकें। 

इससे पूर्व, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल और उत्तर प्रदेष के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने मेला परिसर में स्थापित किए स्टालों व हटस का भ्रमण भी किया। 

खट्टर की कोई चर्चा नहीं, लोग बोले, हमें तो सिर्फ योगी को देखना है, सूरजकुंड मेले में आयी रौनक

up-cm-yogi-adityanath-in-surajkund-international-crafts-mela-faridabad

फरीदाबाद, 2 फ़रवरी: प्रधानमंत्री मोदी के बाद सिर्फ योगी ऐसे नेता हैं जिनकी एक झलक पाने के लिए लोग अधिक लालायित रहते हैं. आज योगी ने फरीदाबाद के लोगों को अपने दर्शन दिए, उन्होंने 32वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुंड मेले का उद्घाटन किया.

उनके साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और अन्य कई मंत्री भी थे लेकिन हर कोई सिर्फ योगी की एक झलक देखना चाहता था, जैसे ही योगी आदित्यनाथ मेले के गेट से बाहर पहुंचे और फीता काटकर मेले का उद्घाटन किया, उनको कैमरे में कैद करने के लिए मीडिया का क्रेज देखते ही बनता था. लोगों ने भगवाधारी योगी की ताकत को अपनी आँखों से देखा.

योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा के लिए कम से कम 1000 पुलिस के जवान और सैकड़ों NSG कमांडों मेले में मौजूद थे, इतने सुरक्षाकर्मी होने के बाद भी उन्हें योगी को सुरक्षा देने और आम जनों को उन तक पहुँचने से रोकने में पसीनें छूट गए, हालत यह हो गयी कि सजावट की चीजें, पौधे और गमले तक टूट गए, लोगों को जहाँ से भी जहाँ मिली वहां से चलने लगा. 

योगी और खट्टर मेले में कई स्टालों पर गए और वहां के कलाकारों से बात करके उनका हौसला बढाया, बाद में कार्यक्रम को संबोधित किया जिसमें भारत को एक करने के कई फ़ॉर्मूले बताये और भारत को तोड़ने की कोशिश करने वालों को कड़ा सन्देश दिया. योगी ने कहा कि हमारी संस्कृति हमें जोडती हैं लेकिन राजनीति हमें अलग करती है, हर कोई अयोध्या में राम मंदिर,काशी में विश्वनाथ मंदिर और मथुरा में बांके बिहारी मंदिर के दर्शन करना चाहता है लेकिन पूर्व सरकारों ने नागरिकों की सुविधाओं का ध्यान नहीं रखा, यही देखते हुए हरियाणा सरकार के साथ यूपी सरकार ने एक MOU साइन किया है जिसमें दोनों राज्यों की बसें एक दूसरे के राज्यों में जाएंगी और एक दूसरे के पर्यटन स्थलों के दर्शन कराएंगी.

सूरजकुंड मेले में साफ़-सफाई के लिए स्वच्छ भारत मिशन के VC सुभाष चंद्र ने दिए आवश्यक निर्देश

swachh-bharat-mission-vc-subhash-chandra-order-cleanliness-in-surajkung-mela

सूरजकुंड (फरीदाबाद), 1 फरवरी: हरियाणा पर्यटन और सूरजकुंड मेला प्राधिकरण द्वारा केंद्रीय पर्यटन, कपड़ा, संस्कृति एवं विदेशी मामले के मंत्रालय के सहयोग से आयोजित किए जाने वाला मेला एक और जहाँ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी अलग पहचान के लिए जाना जाता है वहीँ यहाँ आने वाले पर्यटकों के दिलो दिमाग में भारत की एक साफ़ और स्वच्छ देश की छवि निर्मित हो इसके लिए स्वच्छता और साफ़ सफाई का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है।  

स्वच्छता का निरिक्षण करने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के वाईस चेयरमैन सुभाष चंद्र ने वीरवार को मेला परिसर का दौरा किया और अधिकारीयों के साथ मीटिंग कर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिए।  उन्होंने मौके पर ही फरीदाबाद रेंज के कमिशनर मोहम्मद शाईन से फरीदाबाद एंट्री गेट से लेकर मेले तक साफ़ सफाई व कचरा निपटान के बारे बातचीत की। मेला परिसर का निरिक्षण करने के दौरान उन्होंने शौचालय, कूड़ेदान और पीने के पानी की व्यवस्था को गहराई से देखा और जहाँ कमी पाई गई वहीँ मौके पर मौजूद अधिकारीयों को ये कमियां तुरंत दूर करने को कहा।  उन्होंने अधिकारियों से मेले में जागरूकता के लिए प्रमुख स्थानों पर स्वच्छता के होर्डिंग लगाने व इससे संबंधित उद्घोषणा करने की बात कही। 

सुभाष चंद्र ने मेले में कचरे को इकठ्ठा करने व इसके उठान की जानकारी लेते हुए कर्मचारियों की पर्याप्त संख्या सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने कहा की ये मेला भारत के हस्तशिल्प, हथकरघा की विविधता व समृद्धि को विश्व स्तर पर प्रदर्शित करता है।अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी राष्‍ट्रव्‍यापी पहचान को देखते हुए यहाँ स्वच्छता का मॉडल पेश किया जाना जरुरी है. 

उन्‍होंने कहा कि जन समर्थन के बिना स्‍वच्‍छता मिशन के लक्ष्‍य को प्राप्‍त नहीं जा सकता ऐसे में इस देश के हर नागरिक को इस मुहीम से जोड़ना होगा, ये राष्‍ट्र निर्माण का एक बहुत बड़ा संकल्‍प है। मिशन के तहत गांव से लेकर केंद्रीय स्तर  तक समाज के हर तबके की भागीदारी तय की गई है। महिलाओं के अनेक स्‍वयं सहायता समूह सक्रिय हैं, सिविल सोसाएटी, सैन्‍य बलों, इंटरफेस ग्रुप, एनसीसी कैडेट जैसे युवा संगठनों, पंचायती राज संस्‍थाओं और कारपोरेट सेक्‍टर की निरंतर भागीदारी से इस अभियान को और गति दी जा रही है। 

इस अवसर पर हरियाणा पर्यटन विभाग से केके यादव, सुलभ संस्था के जितेंद्र सिंह, रमेश कर्दम, अनीश चोपड़ा सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। 

योगीजी कल करेंगे सूरजकुंड मेले का उद्घाटन, CM खट्टर करेंगे समारोह की अध्यक्षता: रश्मि वर्मा

cm-yogi-adityanath-will-inaugurate-surajkund-mela-2018-tomorrow

सूरजकुंड, 1 फरवरी: सूरजकुंड मेला परिसर स्थित चौपाल पर मीडिया प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय की सचिव एवं सूरजकुंड मेला प्राधिकरण की चेयरपरसन रश्मि वर्मा ने बताया कि 32वें अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड क्राफ्ट मेला 2018 का उद्घाटन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो फरवरी 2018 को प्रातः 11 बजे करेंगे। इस समारोह की अध्यक्षता हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल करेंगे।

इस अवसर पर हरियाणा के पर्यटन एवं शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा, उत्तर प्रदेश की पर्यटन एवं महिला कल्याण मंत्री प्रो रीता बहुगुणा जोशी, भारत में किरगिज राजदूत समरगुल आदमकुलोबा, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, हरियाणा के उद्योग मंत्री विपुल गोयल, बडखल की विधायक सीमा त्रिखा, बल्लभगढ के विधायक मूलचंद शर्मा तथा हरियाणा पर्यटन निगम के चेयरमैन जगदीश चोपडा आदि अन्य कई प्रमुख हस्तियां भी मौजूद रहेंगी। 

पहली बार वर्ष 1987 में भारतीय कला हस्तशिल्प व हथकरघा की वैभवता को दर्शाने के लिए सूरजकुंड क्राफ्ट मेला का आयोजन केंद्रीय पर्यटन, टैक्सटाइल, संस्कृति, विदेश मंत्रालय तथा हरियाणा सरकार के सहयोग से सूरजकुंड मेला प्राधिकरण व हरियाणा पर्यटन द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। यह मेला अंतरराष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर भारतीय शिल्प, संस्कृति व खानपान की विशेष पहचान बन चुका है। 

केन्द्रीय पर्यअन मंत्रालय की सचिव श्रीमती रश्मि वर्मा ने बताया कि इस मेले में भारत के विभिन्न राज्य हिस्सा लेते हैं और उन राज्यों के कलाकार व बुुनकर अपनी ऐतिहासिक धरोंहरों व काश्तकारी का यहां पर प्रदर्शन करते हैं। यह मेला ऐसे कलाकारों के लिए एक ऐसा मंच प्रदान करता है जो काश्तकारों व बुनकरों के हाथों से बने सामान को सीधा उपभौक्ताओं तक पहुंचाता है और इसमें कलाकारों को सामान बिक्री करने का एक मौका मिलता है। 

मेले के दौरान विदेशी पर्यटक यहां आते हैं और वे भी इन कलाकारों का सामान लेते हैं। इस बार इस मेले में उत्तर प्रदेश थीम राज्य के रूप में भाग ले रहा हैं जबकि किग्रीस्तान पार्टनर राष्ट्र हैं। उन्होंने इस अवसर पर देश में बढती पर्यअकों की संख्या के साथ-साथ देश में पर्यटन के दृष्टिकोण पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि इस मेले में एक छोटे भारत की झलक देखने को मिलती है। 

Surajkund Faridabad, Best Tourist Place at the Corner of Delhi

surajkund faridabad

Surajkund Lake Faridabad:

Surajkund (literal meaning is 'Lake of the Sun') is an artificial Kund (‘Kund’ means lake or reservoir) built in the backdrop of the Aravalli hills with an amphitheatre-shaped embankment constructed in semicircular form. It is said to have been built by the Tomar king Suraj Pal of Tomar dynasty in the 10th century. Tomar was a sun worshipper and he had therefore built a Sun temple on its western bank.

Surajkund is an ideal picnic spot, as it is situated only 8 kms. away from South Delhi. Substantiating this belief, there are ruins of a Sun Temple around the sunpool. The complex includes a beautifully done-up garden and a pool - Siddha Kund.

More importantly, Surajkund has earned fame for hosting the world acclaimed Surajkund International Crafts Mela organised here every year. Celebrated during 1st to 15th February, this is a fair that showcases the Indian handicrafts, handlooms and folk traditions. Set amidst a rich rural backdrop, the fair offers a lot of fun, frolic, entertainment and exclusive shopping opportunities. The fair comes alive with truly exotic, exquisite and exclusive ethnic items that range from delicately embroidered fabrics, hand woven furnishings, terracotta artefacts, jewellery, metal and cane-ware. Not to miss, a variety of mouth-watering Indian cuisines at the Food Court.

Moreover, the Chaupal and Natyashala pulsate with, folk dances and musical evenings that add riot of colours and euphoria of rhythm to the entire experience.

Every year national and state awardee crafts persons from all the corners of India participate in the Fair. The year 2013 witnessed the 27th Surajkund International Crafts Mela.

The Mela is an annual event that highlights some of the finest handloom and handicraft traditions of the country.

The first fortnight of February sees the rural India bask in the warmth of admiration at Surajkund Mela village that lies about 8 kms. from South Delhi. The Mela also celebrates the heritage, culture and art forms. A different theme State is chosen every year that puts its best foot forward.

Surajkund Ticket

surajkund ticket price

Surajkund Information


Live View: Video

हरियाणा की बीजेपी सरकार जल्द शुरू करेगी ट्रेवल एंड टूरिज्म मोबाइल एप्प

haryana tourism mobile app

Chandigarh, 28 July: हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा शीघ्र ही लोगों की सुविधा के लिए ट्रेवल एवं टूरिज्म का एक मोबाइल एप्प शुरू किया जाएगा। पर्यटन विभाग की प्रधान सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी में हो रही प्रगति के साथ तालमेल बैठाने के लिए यह अनूठा कदम उठाया गया है। 

उन्होंने बताया कि लोगों को स्मार्ट फोन के माध्यम से पर्यटक अनुकूल सूचनाएं प्रदान करना समय की मांग है। इसलिए शीघ्र ही एप्पल आईओएस और एंड्रायड आधारित प्लेटफार्मस के लिए राज्य पर्यटन का एक मोबाइल एप्प शुरू किया जाएगा जिसे नि:शुल्क डाउनलोड किया जा सकेगा। डॉ. मिश्रा ने बताया कि विभाग मोबाइल एप्प के सृजन के लिए कम्पनियों एवं फर्मों से परामर्श कर रहा है। मोबाइल एप्प हरियाणा के इतिहास की सही जानकारी प्रदान करेगा और इसके अतिरिक्त इस एप्प पर हरियाणा में पहुंचने, यहां के मौसम, खान-पान, त्यौहार, लोकेशन मैप, तथ्य एक नजर में, जिलावार ठहरने के स्थलों, भोजन, रूचिकर स्थल, कला एवं शिल्प और पर्यटन से संबंधित विस्तृत जानकारी उपलब्ध होगी। इस एप्प को गुगल मैप्स के साथ भी जोड़ा जाएगा ताकि लोग अपनी रूचि अनुसार धार्मिक स्थल, धरोहर स्थल, सप्ताहांत सैरगाह, नेचर डिस्कवरी, हैरिटेज, एमआईसीई गंतव्य स्थल, फार्म पर्यटन, हाईवे पर्यटन और साहसिक प्रवास जैसे विभिन्न स्थलों तक पहुंचने के मार्ग एवं दिशा की जानकारी प्राप्त कर सकें। 

पर्यटन विभाग के प्रबंध निदेशक समीर पाल सरो ने बताया कि मोबाइल एप्प पर्यटकों के लिए हरियाणा के दौरे को बहुत सुविधाजनक बना देगा क्योंकि इसके माध्यम से उन्हें टूर-पैकेजिस, किराये, निकटवर्ती पर्यटक स्थलों और एमरजेंसी नम्बरों के साथ-साथ  ठहरने के लिए हरियाणा पर्यटन परिसर एवं निजी होटलों संबंधी हर प्रकार की जानकारी तुरंत उपलब्ध हो जाएगी। 

यह मोबाइल एप्प होटलों में कमरों की ऑनलाइन बुकिंग, मनी कनवर्टर, सोशल मीडिया शेयरिंग और शिकायत दर्ज करवाने की सुविधा भी प्रदान करेगा। हरियाणा अपने मेलों एवं उत्सवों के लिए भी जाना जाता है और यह मोबाइल एप्प हरियाणा पर्यटन द्वारा आयोजित किए जाने वाले विभिन्न उत्सवों एवं मेलों जैसे कि सूरजकुंड अन्तर्रष्ट्रीय शिल्प मेला, बैशाखी मेला, मैंगो मेला, गीता जयन्ती उत्सव और पिंजौर हैरिटेज फेस्टिवल की जानकारी भी उपलब्ध करवाएगा। 

हरियाणा पर्यटन के पास 838 आरामदायक वातानुकूलित कक्षों, बहु-व्यंजन रेस्टोरेंटस, बारस, अत्याधुनिक सभा केन्द्रों और बैंक्वेट, सम्मेलन एवं बहुउद्देशीय हॉलस जैसी सुविधाओं से सुसज्जित 43 पर्यटन परिसरों का एक तंत्र है। 

हरियाणा पर्यटन परिसरों में कक्षों की बुकिंग के लिए राष्ट्रीय सूचना केन्द्र, हरियाणा के सहयोग से मोबाइल एप्प की योजना बनाई गई है। मोबाइल एप्प एंड्रायड स्मार्ट फोन के लिए गुगल प्लेस्टोर और आई-फोन प्रयोक्ताओं के लिए  एप्पल एप्प स्टोर दोनों पर उपलब्ध होगा और इस पर कमरों की बुकिंग के लिए रिजर्वेशन, केंसलेशन, प्रि-पोन या पोस्टपोन और रूम बुकिंग रिसिप्ट की प्रिटिंग जैसी अनेक सुविधाएं होंगी और इसे हरियाणा पर्यटन के पेमेंट गेटवे के साथ जोड़ा जाएगा।