Palwal Assembly

Showing posts with label Lawyers. Show all posts

DBA फरीदाबाद ने की पुलवामा हमले की कड़ी निंदा, 1 बजे बार रूम में दी जाएगी शहीदों को श्रद्धांजलि

district-bar-association-faridabad-condemn-pulwama-terrorist-attack

फरीदाबाद: पुलवामा हमले पर पूरा देश दुखी है, पूरे देश का रक्त उबल रहा है, एक साथ करीब 40 जवानों की शहादत को लोग सहन नहीं कर पा रहे हैं, फरीदाबाद जिला बार एसोसिएशन ने भी इस हमले पर दुःख जताया है और इस कुकृत्य की कड़ी निंदा की है.

आज 15 फ़रवरी को दोपहर 1 बजे पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की जाएगी और उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी.

जिला बार एसोसिएशन के प्रधान विवेक रावत (बॉबी रावत) ने कोर्ट के सभी वकीलों को दोपहर 1 बजे बार रूम में एकत्रित होकर इस प्रार्थना सभा में भाग लेने की अपील की है.

बता दें कि कल पुलवामा में आदिल अहमद नाम के कश्मीरी आतंकी ने मानव बम बनकर खुद को उड़ा लिया और अपने साथ साथ करीब 40 CRPF जवानों को भी उड़ा दिया. इस विस्फोट से देशवासी गुस्से में हैं, मोदी सरकार से कड़ी कार्यवाही की मांग कर रहे हैं.

युवा कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता विकास वर्मा ने सीलिंग का किया विरोध, BJP को बताया व्यापारी विरोधी

advocate-vikas-verma-told-bjp-vyapari-virodhi-criticise-sealing-action

फरीदाबाद: फरीदाबाद नगर निगम द्वारा सेक्टर -10-11, 9-10 में रिहाइशी इलाकों में चल रही दुकानों की सीलिंग की कार्यवाही का हरियाणा युवा कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विकास वर्मा एडवोकेट ने  विरोध किया। 

युवा कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता विकास वर्मा ने नगर निगम द्वारा चलाई गई सीलिंग का जोरदार विरोध करते हुए कहा कि सरकार रोजगार तो देने में पूरी तरह से असफल हुई है वहीं दूसरी तरफ लोगों से रोजी-रोटी छीनने का काम कर रही है। वर्षाे से यहां दुकान खोलकर अपनी आजीविका चला रहे लोगों पर सरकार का सीलिंग के नाम पर ये बड़ा कुठाराघात है और कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से व्यापारियों के साथ है, व्यापारी इस सीलिंग के विरोध में जो भी आंदोलन करेंगे, उसमें कांग्रेस अगुवा की भूमिका निभाएगी।

उन्होंने कहा कि आज की इस बड़ी कार्यवाही से सैकड़ों की तादाद में व्यापारियों के चूल्हे तक बंद हो गए है और उनके समक्ष दो जून की रोटी जुटाना भी मुश्किल हो गया है। इससे साबित हो गया है कि भाजपा पार्टी पूरी तरह से व्यापारियों के विरोधी साबित हुई है और इसने व्यापारियों को पूरी तरह से बर्बाद करने का काम किया है। 

प्रदेश प्रवक्ता विकास वर्मा ने कहा कि एक ओर तो नगर निगम इन सभी पीडि़त व्यापारियों से कमर्शियल टैक्स व कमर्शियल बिजली के दर आदि वसूलती है, जबकि दूसरी तरफ इन्हीं व्यापारियों की सील लगाई जाती है, जो भाजपा सरकार की दोहरी नीति को दर्शाता है।

LN पाराशर ने किया एक और तहसील काण्ड का खुलासा, MCF, HUDA और DC भी नहीं लेते कोई एक्शन

advocate-ln-parashar-exposed-corruption-in-tahsil-mcf-huda-other

फरीदाबाद: शहर की तहसीलों में कैसे कैसे काण्ड हो रहे हैं इस बारे में हर रोज अब चौंकाने वाले खुलासे होने लगे हैं। फरीदाबाद की तहसीलों में फर्जी रजिस्ट्री, एक ही स्टैम्प से दो रजिस्ट्री और फर्जी रजिस्ट्री पर लोन लेने का धंधा तो फल फूल ही रहा है कई अन्य तरह के गड़बड़झाले पर सरकार को जमकर चूना लगाया है रहा है। वकील पाराशर ने अधिकारियों पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ DC भी कोई एक्शन नहीं लेते इसलिए मैं हाईकोर्ट में रिट लगाऊंगा. 

फरीदाबाद के कई विभागों में चल रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ 25 फरवरी को जंतर-मंतर पर धरने का एलान कर चुके बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर ने कहा कि एक दिन पहले मैंने फरीदाबाद की तहसील का दौरा किया और वहाँ कुछ गड़बड़ देख मैंने थाना सेन्ट्रल की पुलिस बुलाया और पुलिस एक युवक को पकड़ कर ले गई थी जिसके पास 24 से ज्यादा रजिस्ट्री थी। वकील पाराशर ने बताया कि उस शाम का वीडियो सोशल मीडिया पर वाइरल हुआ और वीडियो देखने वाले एक युवक का फोन आया कि उस शाम फरीदाबाद की तहसील के उस वीडियो में दिखाई दे रहे कुछ अन्य लोग भी कई तरह के गड़बड़झाले कर रहे हैं। पाराशर ने बताया कि फोन करने वाले युवक को मैंने अपने पास बुलाया तो उसने कई चौंकाने वाली बताईं।

पाराशर के मुताबिक़ युवक ने उन्हें बताया कि फरीदाबाद के सेक्टर 49 में बड़ा रजिस्ट्री काण्ड कर सरकार को करोड़ों का चूना लगाया गया है। पाराशर के मुताबिक़ प्लाट नंबर 4825 अवं 4829 की रजिस्ट्री में बड़ा घोटाला हुआ है। उन्होंने बताया कि इन रजिस्ट्रियों को फर्जी तरीके से कराया गया है बने प्लाट को खाली दिखाकर रजिस्ट्री करवा ली गई। 

सवा करोड़ की रजिस्ट्री को खाली प्लाट दिखाकर 37 लाख 50 हजार में करवाकर सरकार को बड़ा चूना लगाया गया। ये रजिस्ट्री 18 जुलाई 2018 को हुई थी। उसके बाद 20 दिसंबर 2018 को कम्प्लीशन दिखाकर प्लाट को फ्लैटों में डिवाइड दिखाकर फिर रजिस्ट्री कर दी गई। इस रजिस्ट्री में पेमेंट डिटेल छुपाई गई और 2012 का कंप्लीशन दिखाया गया जबकि इन प्लाटों को जुलाई में खाली दिखाया गया था। पाराशर ने बताया कि एक प्लाट पर 87 लाख 50 रूपये की राशि छुपाई गई और इस तरह एक दो नहीं कुल रजिस्ट्रियां हुईं और सरकार को करोड़ों रूपयों का चूना लगाया गया। पराशर ने कहा कि ये रजिस्ट्रियां बड़खल तहसील में हुईं थीं।



पाराशर ने कहा कि इस गड़बड़झाले में तहसीलदार, नगर निगम फरीदाबाद सहित कई विभाग के अधिकारी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मैंने कई महीने से आवाज उठा रहा हूँ कि फरीदाबाद की तहसीलों में बड़ा भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन जिला अधिकारी खामोश बैठे हैं और इस मामले की शिकायत को जिला अधिकारी से भी की गई थी लेकिन उन्होंने कोई कार्यवाही नहीं करवाई जिसे देख लगता है कि सरकार को चूना लगाने वालो के साथ वो भी मिले हुए हैं।



तहसील काण्ड, फर्जी स्टाम्प से रजिस्ट्री, फर्जी रजिस्ट्री से बैंक लोन, शर्म करे सरकार: LN पाराशर

advocate-ln-parashar-exposed-tahsil-corruption-faridabad-fake-registry

फरीदाबाद: शहर की तहसीलों में जो कुछ हो रहा है उसे स आप हैरान हो जाएंगे और हरियाणा सरकार के उस दावे की पूरी तरह पोल फरीदाबाद की तहसीलों में खुल रही है जिसमे सरकार कहती है न भ्रष्टाचार का खात्मा हो रहा है। बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पराशर ने एक दिन पहले स्टाम्प घोटाले का पर्दाफाश किया था और पुलिस को लिखित शिकायत दी थी कि घोटालेबाज तहसील के अफसरों पर एफआईआर दर्ज किया जाए और उन्हें तुरंत सस्पेंड किया जाए। 

अब इस मामले में एक दिलचस्प और चौंकाने वाला मोड़ आ गया है। वकील पाराशर का दावा है पहली गलती तो एक ही स्टैम्प से दो बार रजिस्ट्री हुई थी और उससे बड़ी गलती ये की गई है कि जो रजिस्ट्री फर्जी तरीके से की गई उसी रजिस्ट्री पर 39 लाख का लोन भी लिया गया है और बैंक के वो अधिकारी भी अब शक के दायरे में हैं जिन्होंने फर्जी रजिस्ट्री से लोन की इतनी बड़ी रकम दी है। 

वकील पाराशर ने बताया कि  19433484 नंबर के स्टाम्प से दो बार रजिस्ट्री की गई और ये रजिस्ट्री फर्जी थी और इस नंबर की रजिस्ट्री पर केनरा बैंक सेक्टर 16 फरीदाबाद से 39 लाख 20 हजार का लोन लिया गया। वकील पाराशर ने बताया कि ये बड़ा खेल 17 जून 2016 में खेला गया और 19 लाख 60 हजार के दो चेक केनरा बैंक ने बेंचने  वाले को दिया जिसमे चेक नंबर क्रमशः 114770 और  114871 थे।

fake-lone-fake-registry

 वकील पाराशर ने कहा कि मैंने सेन्ट्रल थाने में इसकी शिकायत की थी जिसकी जांच चल रही है और अभी कई तरह के और खुलासे हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस की जांच में मैं पूरी तरह से सहयोग कर रहा हूँ और मुझे आशा है कि पुलिस जल्द इस बड़े घोटाले में कई लोगों पर एफआईआर दर्ज करेगी।

वकील पाराशर ने कहा कि फरीदाबाद में भ्रष्टाचार का बड़ा खेल जारी है। सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार तहसीलों में है जिसकी आवाज मैंने कई महीने पहले उठाई थी लेकिन सरकार ने इस पर ध्यान नहीं दिया था जिस कारण कुछ भ्रष्ट अधिकारियों  के बड़े बड़े खेल जारी हैं। उन्होंने कहा कि गरीब थोड़े से लोन के लिए बैंकों में चक्कर काट-काट थक जाते हैं लेकिन  जल्द लोन नहीं मिलता जबकि उनके पास असली कागजात होते हैं और दो नंबर के लोग, माफिया दो नंबर के कागज़ से लाखों का लोन करवा लेते हैं। वकील पाराशर ने कहा कि मैं फरीदाबाद के हर माफिया और दो नम्बरी को जेल भिजवाकर रहूंगा क्यू कि ये सब भ्रष्ट अधिकारियों से मिलकर फरीदाबाद को तवाह कर रहे हैं।

LN पाराशर की क्लास मेंं युवा वकीलों ने दिखाया क्रेज, प्रोफेसर सत्येन्द्र सिंह ने दिया लेक्चर

advocate-ln-parashar-coaching-start-young-advocate-prof-satyendra-singh

फरीदाबाद: शहर के युवा वकीलों को निःशुल्क प्रशिक्षण देकर जज बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर द्वारा आयोजित इस शिविर का शनिवार शुभारम्भ किया गया। शिविर में पहले दिन 70 से ज्यादा युवा वकील प्रशिक्षण लेने पहुंचे।

एडवोकेट पाराशर ने बताया कि बंगलौर यूनिवर्सिटी में डीन रह चुके सत्येंद्र सिंह फरीदाबाद के युवा वकीलों को कोर्ट में अंग्रेजी भाषा की ट्रेनिंग देने पहुंचे जबकि फरीदाबाद कोर्ट के पूर्व जज अभय प्रताप सिंह युवा वकीलों को ज्यूडीशियली की ट्रेनिंग दे रहे हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा वकील जज बन सकें।
वकील पाराशर ने बताया कि तमाम युवा वकील ठीक से अंग्रेजी नहीं बोल पाते इसलिए उन्हें ट्रेनिंग देकर अँग्रेजी में निपुण बनाया जाएगा ताकि वो फर्राटेदार अँग्रेजी बोल सकें।उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के दौरान जो भी खर्च आएगा उसका मैं स्वयं वहन कर रहा हूँ। उन्होंने बताया कि ट्रेनिंग शिविर हर रोज दोपहर दो बजे से शाम चार बजे तक चलेगा। पाराशर ने बताया कि फरीदाबाद कोर्ट में तमाम ऐसा युवा वकील हैं जो गरीब परिवारों से हैं और इनमे तमाम वकील आगे बढ़ना चाहते हैं लेकिन मजबूरी वश आगे नहीं बढ़ पाते।

उन्होंने कहा कि ऐसे वकीलों की मदद के लिए मैंने इस शिविर का आयोजन किया है जो दो महीने तक लगातार चलेगा। उन्होंने कहा कि ऐसे वकीलों की मैं हर तरह की मदद करूंगा। उन्होंने कहा कि ऐसे वकीलों को आगे बढ़ने के लिए मैं कई बार कानूनी किताबों का वितरण किया और अब प्रशिक्षण शिविर शुरू हुआ है।

दीपेन्द्र हुड्डा को फेम इंडिया ने दिया ‘श्रेष्ठ सांसद अवॉर्ड 2019', Adv विकास वर्मा ने दी बधाई

advocate-vikas-verma-congratulate-deepender-hudda-mp-2019-award

फरीदाबाद: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सांसद दीपेन्द्र हुड्डा को दिल्ली के विज्ञान भवन में फेम इंडिया द्वारा ‘श्रेष्ठ सांसद अवॉर्ड 2019' मिलने पर सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता एंव हरियाणा सरकार के पूर्व सहायक एडवोकेट जनरल विकास वर्मा ने बधाई दी। 

वर्मा ने बताया कि हुड्डा जी हमेशा जनता के महत्वपूर्ण मुद्दों को लोकसभा में उठाते रहे है तथा लोकतान्त्रिक प्रणाली में विश्वास रखते हैंं। आज जन जन के प्रिय सांसद हुड्डा जी लोगों के दिल में जगह बनाये हुए है। 

देश के महत्वपूर्ण मुद्दों पर राष्ट्रीय टीवी समाचार चैनलों पर बहुत ही बेबाक़ी से अपनी बात रखने वाले सांसद हुड्डा जी का पूरे देश में सम्मान किया जाता है जो कि हमारे लिए गर्व का विषय है.

इतना गौरवशाली सम्मान मिलने पर सासंद ने कहा कि “यह सम्मान मेरे क्षेत्र के हर मतदाता, हर हरियाणा-वासी को समर्पित है, जिनके आशीर्वाद और प्यार के बिना कोई भी सम्मान संभव नहीं। हर क्षण लोगों के काम आ सकूँ, यही मेरा लक्ष्य है”.

अगर किसी वकील को किसी जज से दिक्कत है तो इंस्पेक्टिंग जज से मिल सकता है: बार चीफ बॉबी रावत

bar-chief-bobby-rawat-message-advocates-can-meet-hc-inspecting-judge

फरीदाबाद: जिला बार एसोसिएशन के प्रधान बॉबी रावत ने वकीलों को सन्देश दिया है कि 2 फ़रवरी को हाईकोर्ट से इंस्पेक्टिंग जज आ रहे हैं, अगर किसी वकील भाई को किसी जज से दिक्कत है या कोई बात करनी है तो वह इंस्पेक्टिंग जज से मिल सकता है.

आपको बता दें कि जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान वकील एल एन पाराशर भी इंस्पेक्टिंग जज से मिलकर अपनी शिकायत देना चाहते हैं. बार चीफ के इस मैसेज के बाद एल एन पाराशर इंस्पेक्टिंग जज से मिल सकते हैं. अब शायद एल एन पाराशर इंस्पेक्टिंग जज को काले झंडे दिखाने की बात नहीं करेंगे.

पुलिस उठा ले तो कोई गम नहीं, अब महामहिम को काले झंडे दिखाना मेरी मजबूरी: LN पाराशर

advocate-ln-parashar-ready-to-show-black-flag-to-high-court-inspecting-justice

फरीदाबाद: जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एवं वरिष्ठ वकील एल एन पाराशर हाईकोर्ट के इंस्पेक्टिंग जज से मिलने के लिए इस कदर से बेताब हैं कि परमीशन ना मिलने की स्थिति में वह काले झंडे दिखाने को तैयार हैं. वकील एल एन पाराशर ने कहा कि वह महामहिम से मिलकर कोर्ट में फैले भ्रष्टाचार की शिकायत करना चाहते हैं लेकिन मुझे अभी तक मिलने की परमिशन नहीं दी गयी है इसलिए मुझे मजबूरन काले खंडे दिखाना ही पड़ेगा.

जब हमने वकील एल एन पाराशर को कानून व्यवस्था की याद दिलाई और कहा कि ऐसा काम करने से पहले पुलिस एहतियातन उन्हें गिरफ्तार कर सकती है या नजरबन्द कर सकती है तो उन्होंने कहा कि पुलिस उन्हें उठा भी ले तो कोई गम नहीं, वह काले झंडे दिखाने को मजबूर हैं.

वकील एल एन पाराशर ने कहा कि मुझे ऐसी सूचना है हाईकोर्ट के महामहिम जी पहले सूरजकुंड मेले में जाएंगे उसके बाद फरीदाबाद आएँगे. हम उन्हें सूरजकुंड मेले में भी काले झंडे दिखा सकते हैं और फरीदाबाद में भी. हमारी पूरी टीम ऐसा करने के लिए तैयार है.

बता दें कि सूरजकुंड मेले की सुरक्षा के लिए फरीदाबाद पुलिस ने पूरी ताकत लगा रखी है, वकील एल एन पाराशर को काला झंडा दिखाने से रोकने के लिए पुलिस को उनपर ख़ास नजर रखनी होगी. फरीदाबाद पुलिस ने आजतक किसी भी व्यक्ति को ऐसा काम नहीं करने दिया है, अब देखना है कि पुलिस और CID टीम एल एन पाराशर को कैसे रोक पाती है.

युवा वकीलों ने गुरुजी LN पाराशर का किया सम्मान, 2 फरवरी से शुरू होगी फ्री कोचिंग क्लास

advocate-ln-parashar-free-coaching-class-young-advocate-2-february

फरीदाबाद: दो फरवरी से फरीदाबाद की अदालत में युवा वकीलों को ट्रेनिंग दी जाएगी जिसे लेकर युवा वकील खुश हैं और गुरुवार को युवा वकीलों ने ट्रेनिंग के आयोजन एडवोकेट एल एन पाराशर का जोरदार स्वागत किया। इस मौके पर न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के महासचिव संजीव तंवर, एडवोकेट रामकृष्ण कौशिक, लोकेश पाराशर, सुन्दर नरवत, सचिन पराशर, दीपक शर्मा, हितेश पाराशर, बीड़ी कौशिक, ऋषि चौधरी, ब्रिज मोहन शर्मा, अभिषेक, विजय चौधरी, मनीष शर्मा, अनिल अधाना, सोमदत्त शर्मा, एनएस मान, सुधीर शर्मा, हिमांशु डबास, वरुण कपासिया, नितीश पराशर, मनोज शर्मा, मोहित कौशिक, शिव कुमार पराशर, सोहन, सुधाकर पांडेय, भूपेंद्र आदि मौजूद थे।

वकील पाराशर ने बताया कि ट्रेनिंग दोपहर दो बजे से शाम चार बजे तक होगी। उन्होंने बताया कि मेरी अनुपस्थिति में संस्था के महासचिव संजीव तंवर इस ट्रेनिंग प्रोग्राम की देखरेख करेंगे। उन्होंने कहा कि युवा वकील समय पर ट्रेनिंग शिविर में पहुंचे। उन्होंने कहा कि हरियाणा की किसी भी अदालत में निःशुक ट्रेनिंग सेंटर का आयोजन पहली बार किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि बंगलौर यूनिवर्सिटी में डीन रह चुके सत्येंद्र सिंह फरीदाबाद के युवा वकीलों को कोर्ट में अंग्रेजी भाषा की ट्रेनिंग देंगे जबकि फरीदाबाद कोर्ट के पूर्व जज अभय प्रताप सिंह युवा वकीलों को ज्यूडीशियली की ट्रेनिंग देंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा वकील जज बन सकें। वकील पाराशर ने बताया कि तमाम युवा वकील ठीक से अंग्रेजी नहीं बोल पाते इसलिए उन्हें ट्रेनिंग देकर अँग्रेजी में निपुण बनाया जाएगा ताकि वो फर्राटेदार अँग्रेजी बोल सकें।उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के दौरान जो भी खर्च आएगा उसका मैं स्वयं वहन करूंगा।आपको मालूम हो कि एडवोकेट पाराशर कई बार युवा वकीलों को कानूनी पुस्तकें भी बाँट चुके है।

मुझे भ्रष्टाचार की शिकायत करनी है, हाईकोर्ट के इंस्पेक्टिंग जज से मिलवाया जाय: LN पाराशर

advocate-ln-parashar-demand-to-meet-highcourt-inspecting-justice

फरीदाबाद: फरीदाबाद कोर्ट के निरीक्षण के लिए समय समय पर हाईकोर्ट के इंस्पेक्टिंग जज दौरा करते रहते हैं, लोगों की शिकायत भी सुनते हैं और समस्याओं का समाधान भी करते हैं. पिछले साल वकील एल एन पाराशर ने भी इंस्पेक्टिंग जज से मुलाकत की थी और कुछ समस्याएँ बतायी थीं, इस बार फिर से हाई कोर्ट के इंस्पेक्टिंग जज के आने की एल एन पाराशर को सूचना मिली है.

आज वकील एल एन पाराशर ने कहा कि फरीदाबाद कोर्ट में फैले भ्रष्टाचार की शिकायत के लिए वह भी इंस्पेक्टिंग जज से मिलता चाहते हैं. पाराशर ने कहा कि मुझे माननीय इंस्पेक्टिंग जज से जरूर मिलवाया जाय, अगर मुझे उनसे मिलने का मौका नहीं दिया गया तो मैं काले झंडे दिखाऊंगा.

वकील एल एन पाराशर ने कल कोर्ट परिसर के बाहर भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर पर्चे चिपकाए थे, आज उनसे पूछा गया कि कहीं वे पर्चे छपवाकर न्यायिक अधिकारियों के खिलाफ नकारात्मक प्रचार तो नहीं कर रहे हैं तो उन्होंने कहा - जब सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जज प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ प्रेस में बयान दे सकते हैं तो क्या एक वकील होने के नाते मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ नहीं बोल सकता.

वकील एल एन पाराशर ने कहा कि मेरे पास सबूत हैं, कुछ जज अपने गनर से ड्राइविंग करवा रहे हैं, ऐसा काम करने से गनर डिप्रेशन के शिकार होते हैं, जिस प्रकार से गुरुग्राम में गनर से ड्राइविंग करवाने से बड़ा हादसा हो गया उसी तरह से फरीदाबाद में भी कोई ऐसी घटना हो सकती है. उन्होंने कुछ जजों की गाड़ियों की फोटो भी दिखाई जिसमें गनर ड्राइविंग करते हुए दिख रहे थे.

वकील एल एन पाराशर ने कहा कि पिछली बार मैंने इंस्पेक्टिंग जज से मुलाकत की थी तो पांच छः महीनों तक काफी सुधार देखने को मिला था लेकिन पिछले कुछ दिनों से फिर से वही चीजें देखने को मिल रही हैं इसलिए मैं फिर से इंस्पेक्टिंग जज से मिलता चाहता हूँ.

माँ के स्वर्गवास की वजह से अब 2 फरवरी से शुरू की जाएगी युवा वकीलों के लिए क्लासेस: LN पाराशर

advocate-ln-parashar-informer-young-advocate-classes-will-start-2-february

फरीदाबाद। बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर ने 19 जनवरी से युवा वकीलों के लिए ज्यूडिशरी और इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स शुरू करने का ऐलान किया था जो किसी कारणवश आगे बढ़ाया जा रहा है अब यह क्लासेस 2 फरवरी से शुरू की जाएंगी जिसमें और कोर्सेज जोड़े जाएंगे साथ ही सीपी ऑफिस में लीगल एडवाइजर जांगड़ा एवं कुछ सरकारी वकील भी अपना अनुभव साझा करेंगे। (आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसी हप्ते 14 जनवरी को वकील एल एन पाराशर की माँ का स्वर्गवास हुआ था, इस वजह से एल एन पाराशर ने यह निर्णय लिया है).

वकील पाराशर ने बताया कि फरीदाबाद कोर्ट में जज रह चुके अभय प्रताप सिंह एवं बंगलौर यूनिवर्सिटी में डीन रह चुके सत्येंद्र सिंह युवा वकीलों को ये ट्रेनिंग देंगे। उन्होंने कहा कि इस बारे में मैंने पूर्व जज अभय प्रताप सिंह से बात की थी और उन्होंने अब युवा वकीलों को ट्रेनिंग देने की सहमति प्रदान कर दी है।

वकील पाराशर ने बताया कि इसी तरह बंगलौर यूनिवर्सिटी में डीन रह चुके सत्येंद्र सिंह फरीदाबाद के युवा वकीलों को कोर्ट में अंग्रेजी भाषा की ट्रेनिंग देंगे जबकि पूर्व जज अभय प्रताप सिंह युवा वकीलों को ज्यूडीशियली की ट्रेनिंग देंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा वकील जज बन सकें। वकील पाराशर ने बताया कि तमाम युवा वकील ठीक से अंग्रेजी नहीं बोल पाते इसलिए उन्हें ट्रेनिंग देकर अँग्रेजी में निपुण बनाया जाएगा ताकि वो फर्राटेदार अँग्रेजी बोल सकें।

वकील पाराशर ने बताया कि ये ट्रेनिंग प्रोग्राम हर शनिवार को फरीदाबाद कोर्ट के बार सभागार में आयोजित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि मेरा प्रयास रहेगा कि फरीदाबाद के ज्यादा से ज्यादा युवा वकील जज बन सकें। उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के दौरान जो भी खर्च आएगा उसका मैं स्वयं वहन करूंगा। उन्होंने कहा कि इस निःशुल्क ट्रेनिंग शिविर में भाग लेने के लिए युवा वकील 12 जनवरी तक पंजीकरण करवा सकते हैं।

वकील LN पाराशर ने बताया कि युवा वकीलों के लिए क्लासेस खत्म होने के बाद रिफ्रेशमेंट की भी व्यवस्था रहेगी ताकि उनकी Skill के साथ साथ शरीर का भी विकास हो सके.

प्रशासन एवं सरकार महाबलिओं पर मेहरबान, अरावली पहाड़ पर बिजली का ट्रांसफर देखकर LN पाराशर हैरान

advocate-ln-parashar-visit-kot-village-faridabad-aravali-padad-bijli

फरीदाबाद: फरीदाबाद की जनता को शहर में तोता, मैना जैसे पक्षी शायद ही देखने को मिलने और यहाँ नहीं सैकड़ों तरह के पंक्षी अब फरीदाबाद के आसमान पर नहीं दिखते जिसका प्रमुख कारण है अरावली का चीरहरण और अरावली पर अवैध कब्जे कर बनाये गए अवैध फ़ार्म हाउस और एक तथाकथित बाबा द्वारा खरीदा गया लगभग 1800 एकड़ पहाड़। ये कहना है बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर का जिन्होंने रविवार को कोट गांव एवं मांगर गांव के आस पास का सर्वेक्षण किया। वकील पाराशर ने कहा कि चार महीने पहले भी मैं इस क्षेत्र में गया था जहाँ पहाड़ पर तारफेंसिंग की गई थी और जब उस समय उन्होंने ग्रामीणों से पूंछा था कि ये तारफेंसिंग कौन करवा रहा है तो ग्रामीण किसी बाबा राम देव का नाम ले रहे हैं।
पाराशर का कहना है कि रविवार 13 जनवरी को मैंने वहां का दौरा किया तो देखा अरावली के जंगल में और मंगल हो रहा है। पहाड़ पर ट्रांसफार्मर लगाए गए हैं और बिजली देने की तैयारी चल रही है। वकील पाराशर ने कहा कि जब पहाड़ पर बड़ी बड़ी लाइटें जलेंगी तो जीव जंतु जंगल से भाग जाएंगे और ऐसा हो भी रहा है। सैकड़ों अवैध फ़ार्म हाउस अरावली पर बन चुके हैं जहाँ पूरी रात्रि जश्न मनाया जाता है। पटाखे दगाये जाते हैं जिस कारण फरीदाबाद के जंगल से तमाम जंगली जानवर और फरीदाबाद के आसमान से तमाम पक्षी गायब हो चुके हैं।
वकील पाराशर का कहना है कि इसके बाद मैं कोट गांव पहुंचा जहाँ ग्रामीणों ने मुझे घेर लिया और अपना दुखड़ा सुनाने लगे। ग्रामीणों से उन्हें बताया कि कोट गांव में कई कई दिन बिजली नहीं आती और कभी आती है तो रात्रि में आती है और रात्रि में जंगली जानवरों का खतरा बना रहता है। जिस कारण वो ठीक से खेती नहीं कर पा रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि पहाड़ पर रोशनी की व्यवस्था युद्ध स्तर पर की जा रही है हम जबकि ग्रामीणों को कई कई दिन तक बिजली नहीं मिलती। ग्रामीणों ने पाराशर को फिर बताया कि पहाड़ को बाबा रामदेव के लिए खरीदा जा रहा है और कोई कृषणवीर और परवीन शर्मा ये पहाड़ बाबा के लिए खरीद रहे हैं।
वकील पाराशर ने बताया कि मैंने कोट गांव के स्कूल का भी दौरा किया जहाँ पाया कि सरकारी स्कूल में कई खामियां हैं। ये स्कूल पांचवीं तक है जिस कारण इस गांव की बेटियां आगे की पढाई नहीं कर पा रहीं हैं क्यू कि गांव की बेटियां ज्यादा दूर पढ़ाई के लिए जाने में खतरा महसूस करतीं हैं। वकील पराशर ने कहा कि इस सरकारी स्कूल को 12वीं तक किया जाए।
वकील पराशर ने कहा कि मैं देखा कि अरावली पर कई जगह अब भी अवैध खनन चल रहा है और कई जगहों पर हरे पेड़ भी काटे गए हैं। उन्हने कहा कि मैंने 4 महीने पहले हरियाणा सरकार को लिखा था कि पहाड़ पर खरीदी गयी लगभग 18 00 एकड़ जमीन किसकी है लेकिन अब तक कोई जबाब नहीं है। उन्होंने कहा कि मैंने सैकड़ों जीपीए एकत्रित की है जिसमे परवीन शर्मा के नाम से तमाम जीपीए हैं। कई जीपीए पंजाब, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश से करवाई गई हैं जिनमे अधिकांश जीपीए फर्जी हैं और फरीदाबाद के तहसीलदारों की मिलीभगत से फर्जी जीपीए से सैकड़ों एकड़ पहाड़ खरीदे गए हैं। वकील पारशर ने कहा कि मुझे लगता है कि हरियाणा सरकार या सरकार के कुछ अधिकारी अरावली के लुटेरों से मिले हुए हैं इसलिए मैं राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख रहा हूँ और उनसे मांग कर रहा हूँ कि 1800 एकड़ जमीन फर्जी तरीके से किसने खरीदा है इसकी सीबीआई से जांच करवाई जाए।

हार्डवेयर अवैध निर्माण और अरावली चीरहरण रोककर दिखाएं निगमायुक्त अनीता यादव: LN पाराशर

advocate-ln-parashar-challenge-mcf-commissioner-aneeta-yadav-take-action-illegal-encroachment

फरीदाबाद: फरीदाबाद की नयी निगमायुक्त अनीता यादव ने 9 जनवरी को चार्ज संभाल लिया, चार्ज संभालते ही उन्होंने बड़े बड़े ऐलान कर दिए, कुछ ट्रान्सफर कर दिए, अवैध निर्माणों को तोड़ने की चेतावनी दे दी. इसी तरह से कई और ऐलान किये गए हैं.

जब इसकी खबर शहर के जाने माने वकील एवं सामाजिक कार्यकर्ता एल एन पाराशर को मिली तो उन्होंने कहा कि फरीदाबाद में जितने भी निगमायुक्त आये हैं, कुछ दिन बड़ी बड़ी बातें करते हैं उसके बाद शांत होकर बैठ जाते हैं. इससे पहले मुहम्मद शाइन ने भी बड़ी बड़ी बातें की थी लेकिन ना तो वे अरावली का चीरहरण रोक पाए और ना ही अवैध निर्माण रोक पाए. हार्डवेयर पर खुलेआम अवैध निर्माण होता रहा, एक कंपनी का बोर्ड लग गया लेकिन निगम अधिकारी सोते रहे, जब हमने इसके खिलाफ आवाज उठाई तो दूकान को सिर्फ सील किया गया जबकि उसे तोड़ा जाना चाहिए था.

वकील एल एन पाराशर ने कहा कि नयी निगमायुक्त अनीता यादव भी इसी तरह की बड़ी बड़ी बातें कर रही हैं, अगर वह खुद को साबित करना चाहती हैं तो अरावली चीरहरण रोककर दिखाएं और हार्डवेयर चौक पर बना अवैध निर्माण तुड़वाकर दिखाएं.

वकील एल एन पाराशर ने बताया कि पूरा शहर जानता है कि हार्डवेयर चौक पर बनी दुकानें अवैध हैं लेकिन नगर निगम इन्हें तोड़ने की हिम्मत नहीं कर पा रहा है. इसी तरह से अरावली पर अवैध निर्माण और खनन आज भी जारी है लेकिन नगर निगम अभी तक इसके खिलाफ एक्शन नहीं ले पाया, डेलाईट होटल का निर्माण आज भी जारी है, जबकि सुप्रीम कोर्ट और NGT ने खनन और निर्माण पर प्रतिबन्ध लगाया हुआ है.

वकील एल एन पाराशर ने कहा कि अनीता यादव यहाँ पहले भी संयुक्त आयुक्त के पद पर काम कर चुकी हैं, अगर वह अवैध निर्माणों, अवैध खनन और अरावली के चीरहरण के खिलाफ एक्शन ले पाती हैं तभी एक अच्छी अफसर साबित हो सकती हैं वरना फरीदाबाद में पहले ही तरह अवैध निर्माण होते रहेंगे और कोई एक्शन नहीं हो पाएगा.

हरियाणा सरकार ने मानी LN पाराशर की मांग, 178 और हॉस्पिटल होंगे मोदी के आयुष्मान पैनल में शामिल

advocate-ln-parashar-demand-big-hospital-in-ayushman-accepted-hr-sarkar

फरीदाबाद: लगभग एक हफ्ते पहले बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पराशर ने आयुष्मान भारत योजना को लेकर हरियाणा सरकार पर सवाल उठाया था और वकील पाराशर ने कहा था कि फरीदाबाद की बड़ी अस्पतालों में गरीब इस योजना का कार्ड लेकर जाते हैं तो उन्हें धक्के खाना पड़ता है और कई बड़ी अस्पतालों में ये सुविधा लागू नहीं है।

इस मामले को लेकर पाराशर ने हरियाणा के मुख्यमंत्री और गृह सचिव को पत्र लिखा था। वकील पाराशर का ये अभियान भी रंग लाया है और इस मामले को लेकर हरियाणा के मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने सम्बंधित अधिकारियों संग हाल में समीक्षा बैठक का आयोजन कर बताया कि हरियाणा की 178 निजी अस्पताल इस योजना को लागू करने की प्रक्रिया में हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश की 304 अस्पतालें इस योजना के पैनल में हैं। 

इस बैठक को लेकर वकील पाराशर ने कहा कि सरकार फ़टाफ़ट इस योजना को फरीदाबाद सहित हरियाणा की बड़ी अस्पतालों में लागू करे ताकि गरीब दर-दर न भटकें।

वकील पाराशर ने कहा कि चार जनवरी को मैंने हरियाणा के सीएम और मुख्य सचिव को पत्र लिख बताया था कि फरीदाबाद की बड़ी अस्पतालें जिसमे एशियन अस्पताल, मेट्रो अस्पताल और कई बड़ी अस्पतालों में ये सुविधा नहीं है और गरीब कार्ड लेकर जाते हैं तो उन्हें यहाँ धक्के मारकर बाहर कर दिया जाता है।

वकील पाराशर ने कहा कि सरकार कहती है कि इस योजना में पांच लाख तक का इलाज मुफ्त है और जिन अस्पतालों में इस योजना को लागू किया गया है उनमे बड़ी बीमारियों का इलाज होता ही नहीं है। वकील पाराशर ने कहा कि हरियाणा के मुख्य सचिव ढेसी को फिर मैं पत्र लिखूंगा कि फरीदाबाद की सभी बड़ी अस्पतालों में जल्द से जल्द इस योजना को लागू किया जाए।

अरावली चीरहरण कांड, LN पाराशर की शिकायत पर NHRC ने लिया एक्शन, 8 हप्ते में कार्यवाही के आदेश

nhrc-take-action-against-ln-parashar-complaint-aravali-cheerharan-faridabad

फरीदाबाद: किसी ने होटल बनाया तो किसी ने फार्म हाउस, किसी ने पहाड़ बेंच खाया तो किसी ने पहाड़ को अवैध रूप से खरीद लिया और कुछ इस तरह शहर के कुछ लोगों ने अरावली को तवाह कर डाला। अरावली के इस चीर-हरण में शहर के तमाम विभाग के अधिकारियों ने भी अपना योगदान दिया जिनमे तहसीलों के तहसीलदार गलत तरीके से अरावली को किसी माफिया के नाम लिखते रहे, नगर निगम के अधिकारी भी अरावली के चीर हरण का तमाशा देखते रहे।

खनन विभाग के अधिकारी आँख, कान बंद अरावली पर खनन करवाते रहे। वन विभाग के अधिकारी जंगल उजड़वाते रहे। सबने मिलकर अरावली को लूटा और जिसका परिणाम फरीदाबाद की जनता भुगत रही है और जिले को देश का सबसे प्रदूषित शहर कई बार घोषित किया जा चुका है लेकिन अब अरावली के चीर हरण के जिम्मेदार नहीं बचेंगे। ये कहना है बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एल एन पाराशर का जिन्होंने लगभग दो महीने पहले अरावली के चीर हरण की शिकायत, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीश, मानवाधिकार आयोग, एनजीटी सहित कई बड़े विभागों से की थी। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस शिकायत पर बड़ा ऐक्शन लेते हुए सम्बंधित अधिकारियों को नोटिस भेजा है कि 8 हफ़्तों के अंदर इस मामले पर कार्यवाही करें और शिकायतकर्ता को इस दौरान पूरे मामले की जानकारी देते रहे। आदेश में कहा गया है कि 8 हफ्ते के भीतर कार्यवाही कर आयोग को इसकी सूचना दें।

इस मामले के बारे में अधिक जानकारी देते हुए वकील पाराशर ने बताया कि मैंने सितम्बर-अक्टूबर 2018 में अरावली का कई बार दौरा किया था जिस दौरान मैंने देखा कि किसी ने बाहरी राज्यों की जीपीए से हजारों एकड़ अरावली की जमीन खरीद ली है तो किसी ने तमाम अवैध फ़ार्म हाउस बनाये हैं।

वकील पाराशर ने कहा कि मैंने अरावली पर अवैध खनन भी देखा जिसकी शिकायत करने पर खनन विभाग ने कुछ लोगों पर एफआईआर भी दर्ज करवाई। वकील पाराशर ने कहा कि मैंने देखा कि अरावली सरेआम लूटी जा रही है और ऐसा कई विभागों की मिलीभगत से हो रहा है और इस लूट का खामियाजा फरीदाबाद के लगभग 25 लाख लोग भुगत रहे हैं।

शहर में प्रदूषण से कोई कैंसर का शिकार हो रहा है तो कोई अन्य जानलेवा बीमारियों की चपेट में है इसलिए मैंने कई बड़े विभागों और पीएम को इसकी शिकायत की और अब नेशनल ह्यूमन राइट्स कमीशन ने मेरी शिकायत पर ऐक्शन लिया है। वकील पाराशर ने कहा कि 8 हफ़्तों के भीतर अगर कार्यवाही न हुई तो सम्बंधित अधिकारियों और अरावली के माफियाओं को मैं सुप्रीम कोर्ट में घसीटूंगा।

उन्होंने कहा कि मेरी मांग है कि अरावली के सभी अवैध फ़ार्म हाउस, सभी अवैध होटल ढहाए जाएँ और जिसने भी अवैध रूप से अरावली का पत्थर लूटा है, अरावली के पहाड़ को खरीदा है, अरावली के जंगल उजाड़े है उन सभी पर कार्यवाही हो। वकील पाराशर ने कहा कि अरावली की लूट के जिम्मेदार हर किसी पर कार्यवाही जब तक नहीं होती तब तक मेरा अभियान जारी रहेगा।

वकीलों ने उठायी बल्लभगढ़ के तहसीलदार के खिलाफ आवाज, रिश्वतखोरी का लगाया आरोप

ballabhgarh-tahseeldar-accused-for-corruption-by-faridabad-advocate

फरीदाबाद: फरीदाबाद जिले के तहसीलदारों से वैसे तो पूरे जिले की जनता परेशान है लेकिन इनके खिलाफ आवाज उठाने की कोई हिम्मत नहीं करता और ना ही हरियाणा सरकार इनके खिलाफ कोई कार्यवाही करती है, आज फरीदाबाद कोर्ट के वकीलों ने भी बल्लभगढ़ के तहसीलदार पर रिश्वतखोरी और पैसे लेकर काम ना करने का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया और कई वकीलों ने मिलकर DCP को उनके खिलाफ शिकायत दी.

बार एसोसिएशन के प्रधान बॉबी रावत ने बताया कि बल्लभगढ़ के तहसीलदार से वकील बहुत परेशान हैं, हमें शिकायत मिली है कि ये पैसे अधिक मांगते हैं, अधिक पैसे लेकर रजिस्ट्री करते हैं, इन्होने हेराफेरी कर रखी है, इन्होने सभी तरह की रजिस्ट्रियों के रेट बना रखे हैं, हम इनके खिलाफ कायवाही करवाना चाहते हैं.

आज वकीलों ने मिलकर बल्लभगढ़ के तहसीलदार के खिलाफ नारेबाजी की, वकीलों ने बताया कि बल्लभगढ़ तहसील में रजिस्ट्री पर साइन कराने के दाम फिक्स है। इस मामले में सभी वकीलों ने मिलकर बल्लभगढ़ के डीसीपी को तहसीलदार के खिलाफ लिखित शिकायत दी है और तहसीलदार की जांच करवाने की मांग की है।

जज बनने की तमन्ना है, अंग्रेजी सीखना है तो LN पाराशर से मिलें युवा वकील, मिलेगी फ्री कोचिंग

advocate-ln-parashar-will-provide-free-training-young-lawyers-judge-english

फरीदाबाद। जिला अदालत के सैकड़ों युवा वकीलों के लिए बड़ी खुशखबरी है। बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एल एन पाराशर तीन महीने पहले किया गया अपना वादा पूरा करने जा रहे हैं और फरीदाबाद कोर्ट में युवा वकीलों के निःशुल्क ट्रेनिंग प्रोग्राम 19 जनवरी से शुरू होगा । वकील पाराशर ने बताया कि फरीदाबाद कोर्ट में जज रह चुके अभय प्रताप सिंह एवं बंगलौर यूनिवर्सिटी में डीन रह चुके सत्येंद्र सिंह युवा वकीलों को ये ट्रेनिंग देंगे। उन्होंने कहा कि इस बारे में मैंने पूर्व जज अभय प्रताप सिंह से बात की थी और उन्होंने अब युवा वकीलों को ट्रेनिंग देने की सहमति प्रदान कर दी है।

वकील पाराशर ने बताया कि इसी तरह बंगलौर यूनिवर्सिटी में डीन रह चुके सत्येंद्र सिंह फरीदाबाद के युवा वकीलों को कोर्ट में अंग्रेजी भाषा की ट्रेनिंग देंगे जबकि पूर्व जज अभय प्रताप सिंह युवा वकीलों को ज्यूडीशियली की ट्रेनिंग देंगे ताकि ज्यादा से ज्यादा युवा वकील जज बन सकें। वकील पाराशर ने बताया कि तमाम युवा वकील ठीक से अंग्रेजी नहीं बोल पाते इसलिए उन्हें ट्रेनिंग देकर अँग्रेजी में निपुण बनाया जाएगा ताकि वो फर्राटेदार अँग्रेजी बोल सकें।

वकील पाराशर ने बताया कि ये ट्रेनिंग प्रोग्राम हर शनिवार को फरीदाबाद कोर्ट के बार सभागार में आयोजित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि मेरा प्रयास रहेगा कि फरीदाबाद के ज्यादा से ज्यादा युवा वकील जज बन सकें। उन्होंने कहा कि ट्रेनिंग के दौरान जो भी खर्च आएगा उसका मैं स्वयं वहन करूंगा। उन्होंने कहा कि इस निःशुल्क ट्रेनिंग शिविर में भाग लेने के लिए युवा वकील 12 जनवरी तक पंजीकरण करवा सकते हैं। इस मौके पर संस्था के महासचिव एडवोकेट संजीव तंवर, एडवोकेट लोकेश पाराशर, एडवोकेट हितेश पाराशर, एडवोकेट सचिन पराशर, एडवोकेट बिजेंद्र कौशिक, एडवोकेट दीपक शर्मा, एडवोकेट राधेश्याम पन्हेड़ा आदि मौजूद थे।

नए साल में अवैध खनन माफियाओं, भू माफियाओं और भ्रष्टाचारियों को और टेंशन देंगे LN पाराशर, पढ़ें

advocate-ln-parashar-will-work-against-corruption-in-2019-also-news

फरीदाबाद: इस वर्ष भ्रष्टाचारियों, अवैध खनन माफियाओं और भू माफियाओं को सबसे अधिक टेंशन अगर किसी व्यक्ति ने दी है तो उनका नाम है जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान वकील एल एन पाराशर. उन्होंने अरावली के पहाड़ों पर जाकर बाबा रामदेव तक को टेंशन दे दी जिसके बाद बाबा रामदेव को फरीदाबाद आना पड़ा.

वकील पाराशर ने पिछले छः महीनों में बुरा काम करने वालों को बहुत टेंशन दी, चाहें टोल वालों पर FIR, चाहे लकड़पुर पहाड़ का खनन करने वाले माफियाओं पर FIR, चाहे जवां गाँव में खनन माफियाओं पर FIR और उनकी जमानत रद्द करवाकर उन्हें जेल की सैर, चाहे हार्डवेयर अवैध निर्माण के खिलाफ नगर निगम का एक्शन, ऐसे दर्जनों काम हैं जिसे वकील एल एन पाराशर ने करवाए.

वकील एल एन पाराशर ने माफियाओं के साथ साथ प्रशासनिक अधिकारियों की भी नींद उड़ाकर रखी, चाहे अरावली का बार बार दौरा हो, चाहे खूनी झील की सैर हो, चाहे डबुआ फ्लैट का मुद्दा हो या सेक्टर-56 HUDA फ्लैट का मुद्दा हो, उन्होंने अधिकारियों को चैन की नींद नहीं सोने दिया, कभी कोई अधिकारी आनन फानन में डबुआ फ्लैट का दौरा कर रहा था, यही नहीं खुद HUDA एडमिनिस्ट्रेटर धर्मेन्द्र सिंह दर्जनों अधिकारियों के साथ सेक्टर-56 के जर्जर फ्लैट देखने गए.

अगर वकील एल एन पाराशर और हमारी मीडिया टीम इन कारनामों का पर्दाफाश ना करती तो ये अधिकारी अपने अपने दफ्तरों में AC में बैठे रहते लेकिन हमने जब इन कारनामों की असलियत दिखाई तो इन्हें मजबूर होकर ऑफिस से निकलना ही पड़ा.

वकील एल एन पाराशर ने भू माफियाओं, अवैध खनन माफियाओं और भ्रष्टाचारियों के साथ साथ प्रशासनिक अधिकारियों को साफ़ साफ़ कहा है कि नए साल में इन लोगों को टेंशन देते रहेंगे और अधिकारियों को चैन से नहीं सोने देंगे, जितनी ऊर्जा के साथ 2018 में काम किया गया उससे भी अधिक ऊर्जा के साथ 2019 में काम किया जाएगा.

शिक्षा मंत्री के 30 लाख से खुश नहीं हुए LN पाराशर, लूटने वालों पर की कार्यवाही की मांग, पढ़ें

advocate-ln-parashar-demand-legal-action-in-sehatput-sarkari-school-loot

फरीदाबाद: सोमवार 24 दिसम्बर को जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान और समाजसेवी वकील एल एन पाराशर ने सेहतपुर के सीनियर सेकंडरी सरकारी स्कूल का सर्वे किया था जिसमें बिल्डिंग की इमारत जर्जर अवस्था में दिखाई थी. इस मामले की खबर हरियाणा सरकार में शिक्षा मंत्री तक पहुंची और उन्होंने तुरंत ही स्कूल की मरम्मत के लिए 30 लाख देने का ऐलान कर दिया.

शिक्षा मंत्री के इस बयान के बाद वकील पाराशर ने उनका आभार जताया है लेकिन पाराशर का कहना है कि शिक्षा मंत्री उन पर कार्यवाही भी करवाएं जिन्होंने स्कूल के निर्माण में घोटाला किया है और  घटिया  मैटेरियल से  उस स्कूल के कमरों का निर्माण करवाया था। 

वकील पाराशर ने कहा कि उस दौरान स्कूल के निर्माण करने वाले  ठेकेदार और इंजीनियर पर  कार्यवाही की जाए ताकि शहर में सरकारी निर्माण में कोई घटिया मैटेरियल न लगा सकें। वकील पाराशर ने बताया कि जो पैसा दौरान स्कूल में लगा था वो जनता का पैसा था और उस पैसे को गोलमाल कर स्कूल के कमरों को घटिया मैटेरियल से बना दिया जिसे मैंने देखा और पाया कि स्कूल की नई इमारत भी इतनी जर्जर हो गई है कि उसकी खिड़की, दरवाजे टूट चुके हैं, छतों से पानी टपक रहा है।  दीवारों में दरारें पड़ चुकी हैं। 

वकील पाराशर ने कहा कि इस स्कूल सहित न जाने कितने सरकारी स्कूलों के निर्माण में बड़े बड़े घोटाले हुए हैं और कमजोर नींव से इमारते बनाईं गईं हैं और कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है इसलिए ऐसे लोगों पर कार्यवाही की जाए। वकील पाराशर ने कहा कि अगर शिक्षा मंत्री कार्यवाही नहीं करवाते हैं तो मैंने ऐसे लोगों पर एफआईआर दर्ज करवाऊंगा ताकि शहर में फिर कभी कोई किसी सरकारी निर्माण में घोटाला न कर सके। वकील पाराशर ने कहा कि सरकारें विकास के लिए अपनी तरफ से कमी नहीं छोड़तीं लेकिन कुछ लोग निजी फायदे के लिए कमजोर इमारतें बनवाते हैं, कमजोर सड़कें बनवाते हैं और सरकार की फजीहत करवाते हैं। वकील पाराशर ने कहा कि आने वाले समय में मैं कई अन्य सरकारी निर्माणों का जायजा लूँगा और जहाँ जहां भी लापरवाही हुई है उन लापरवाहों पर कार्यवाही करवाऊंगा.

युवा वकीलों को गुरूजी की तरफ से फिर मिला ज्ञान का गिफ्ट, 500 वकीलों को बांटी गयी लॉ-डायरी

advocate-ln-parashar-distribute-law-diary-to-young-advocates-faridabad

फरीदाबाद: फरीदाबाद कोर्ट के युवा वकीलों को गुरूजी उर्फ़ एल एन पाराशर की तरफ से एक बार फिर से ज्ञान का गिफ्ट मिला है. बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एल एन पराशर ने गुरुवार शहर के लगभग 500 वकीलों को लॉ डायरी का वितरण किया। वकील पाराशर ने अपने चैंबर में पांचवीं बार पुस्तक वितरण का आयोजन किया। 

इसके पहले इसी साल वो चार बार वकीलों को कानून से सम्बंधित पुस्तकें वितरित कर चुके हैं। गुरुवार बांटी गई लॉ डायरी में 17 एक्ट की जानकारी दी गई है। वकील  पाराशर ने बताया कि गुरुवार का पुस्तक वितरण कार्यक्रम युवा वकीलों के लिए था लेकिन जितने सीनियर वकील पुस्तक लेने पहुंचे, सबकों पुस्तकें दी गईं। उन्होंने बताया कि इस किताब से युवा वकीलों को कोर्ट में काफी फायदा मिलेगा क्यू कि इस किताब में  आईपीसी, सीआरपीसी, सीपीसी। लॉ आफ एविडेंस, कोर्ट फीस एक्ट, लिमिटेशन ऐक्ट, ट्रिब्यूनल्स एक्ट, स्टेट बार काउंसिल एक्ट सहित कुल 17 ऐक्ट की जानकारी दी गई है। उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि युवा वकीलों को हर तरह की जानकारी हो ताकि वो अच्छी तरह से प्रैक्टिस कर सकें और लोगों को न्याय दिला सकें। 

वकील पाराशर ने कहा कि फरीदाबाद की अदालत में तमाम ऐसे युवा वकील प्रैक्टिस कर रहे हैं जो बहुत गरीब परिवार से हैं। ऐसे वकीलों की मदद के लिए उनकी संस्था न्यायिक सुधार संघर्ष समिति हर तरह का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि आगे भी मैं उनकी मदद करता रहूंगा। वकील पाराशर ने कहा कि शहर के अधिकांश युवा वकीलों के पास बैठने के लिए चैंबर नहीं है। उन्होंने कहा कि जिन वकीलों के पास चैंबर नहीं है वो हर मौसम में बहुत परेशानी झेलते हैं इसलिए मेरा प्रयास रहेगा कि मैं इस वकीलों के लिए जल्द से जल्द सरकार से चैंबर की जगह पास करवा चैंबर बनवा सकूं। 

इस मौके पर बार एसोशिएशन के अध्यक्ष बॉबी रावत ने वकील पाराशर की तारीफ़ करते हुए कहा कि वकील एल एन पाराशर ने कोर्ट में समाजसेवाओं को नया आयाम दिया है और वो हर किसी का ख़याल रखते हैं और हर जरूरतमंद की मदद करते हैं। बॉबी रावत ने कहा कि हमारा पूरा प्रयास रहता है कि कोर्ट में वकीलों को किसी भी तरह की समस्या न झेलनी पड़े। 

advocate-ln-parashar-with-pradhan-bobby-rawat-bar-association

इस मौके पर एडवोकेट लोकेश पाराशर, एडवोकेट सचिन तंवर, एडवोकेट हितेश पाराशर, एडवोकेट कुलदीप, ओम दत्त, एडवोकेट दीपिका शर्मा, कंवर कमल, एडवोकेट विश्वेन्द्र अत्री, एडवोकेट रंजना शर्मा आदि मौजूद थे।