Palwal Assembly

Showing posts with label Health. Show all posts

मशहूर फिजियोथेरेपिस्ट डॉ विनोद कौशिक ने लांच की फिजियोटॉक मैगजीन, MLA सीमा त्रिखा भी रहीं मौजूद

dr-vinod-kaushik-launched-phisiotalk-magazine-for-awareness-physiotherapy

फरीदाबाद 2 दिसम्बर: फरीदाबाद के मशहूर फिजियोथेरेपिस्ट डॉ विनोद कौशिक ने आज फिजियोटॉक मैगजीन लांच की, इस मौके पर मुख्य अतिथि सीमा त्रिखा, विशेष अतिथि के तौर पर मॉडल/एक्ट्रेस आन पराशर, डॉ संजीव झा, डॉ रूचि वार्ष्णेय, मिस्टर राम भंडारी भी उपस्थित थे.

इस कार्यक्रम में फरीदाबाद के कई डॉक्टर, मानव रचना, MVN सहित कई संस्थाओं के छात्र उपस्थित थे.


इस कार्यक्रम के बारे में डॉक्टर विनोद कौशिक ने बताया कि वह फरीदाबाद के लोगों को फिजियोथेरेपी के बारे में ज्यादा से ज्यादा जागरूक करना चाहते हैं, यह मैगजीन शैक्षणिक संस्थाओं में फ्री डिस्ट्रीब्यूट जाएगी, इस में फरीदाबाद के सभी फिजियोथैरेपी क्लिनिकोंं और डॉक्टरों की डायरेक्टरी होगी.


हमने इस प्रोग्राम का लाइव वीडियो बनाया है जिसे आप नीचे देख सकते हैं. कार्यक्रम में कई मनोरंजक कार्यक्रम भी पेश किये गए. देखें वीडियो.

डॉक्टर विनोद कौशिक 2 दिसंबर को फरीदाबाद में लॉन्च करेंगे फिजियोटॉक मैगजीन, आप भी जरूर पहुंचे

dr-vinod-kaushik-launch-physiotalk-magazine-2-december-2018

फरीदाबाद 23 नवंबर: फरीदाबाद के जाने-माने फिजियोथैरेपिस्ट डॉक्टर विनोद कौशिक फिजियोटॉक मैगजीन शुरू करने वाले हैं. आगामी 2 दिसंबर को यह मैगजीन लॉन्च की जाएगी.

मैगजीन का लॉन्च कार्यक्रम केएल मेहता दयानंद स्कूल 5-E/55 एनआईटी फरीदाबाद में आयोजित किया गया है जिसमें क्षेत्र की विधायिका सीमा त्रिखा मुख्य अतिथि के तौर पर पधारेंगी जबकि मॉडल/एक्ट्रेस आन पाराशर विशेष अतिथि होंगी.

इस कार्यक्रम में फरीदाबाद के कई डॉक्टर भी शिरकत करेंगे जबकि मानव रचना, MVN सहित कई संस्थाओं के छात्र उपस्थित रहेंगे. कार्यक्रम में आम लोग भी पहुंच सकते हैं और फिजियो थेरेपी के बारे में अपनी जानकारी बढ़ा सकते हैं क्योंकि कार्यक्रम में कई एक्सपर्ट फिजियो थेरेपी के बारे में भाषण देंगे.

इस कार्यक्रम के बारे में डॉक्टर विनोद कौशिक ने बताया कि वह फरीदाबाद के लोगों को फिजियोथेरेपी के बारे में ज्यादा से ज्यादा जागरूक करना चाहते हैं, यह मैगजीन शैक्षणिक संस्थाओं में फ्री डिस्ट्रीब्यूट जाएगी, इस में फरीदाबाद के सभी फिजियोथैरेपी क्लिनिकोंं और डॉक्टरों की डायरेक्टरी होगी.

नीचे फोटो में कार्यक्रम में आने वाले सभी विशिष्ट अतिथियों और गणमान्य व्यक्तियों के नाम दिए गए हैं, साथ ही कार्यक्रम का समय और स्थान भी दिया गया है.

physiotalk-magazine

बता दें कि डॉक्टर विनोद कौशिक फरीदाबाद NIT 5 नंबर और 3 नंबर में अपना फिजियोथैरेपी क्लिनिक चलाते हैं.

सर्व समाज स्वाभिमान मंच ने लगाया निशुल्क नेत्र जांच शिविर, पार्षद हेमा बैंसला ने किया उद्घाटन

sarva-samaj-swabhiman-manch-eye-checkap-camp-dr-ramesh-lal-maurya

फरीदाबाद, 7 अक्टूबर: शहर की सामाजिक संस्था सर्व समाज स्वाभिमान मंच ने आज मेवला महाराजपुर गाँव में निशुल्क नेत्र जांच शिविर का आयोजन किया जिसमें सेण्टर फॉर साईट के डॉक्टरों ने दर्जनों लोगों की आँखों की जांच की.

इस शिविर में वार्ड-20 की पार्षद हेमा कैलाश बैंसला विशेष अतिथि के रूप में मौजूद रहीं और उन्होंने रिबन काटकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया.

इस अवसर पर संस्था के अध्यक्ष डॉ रमेशलाल मौर्य, उपाध्यक्ष डॉ चरन सिंह मौर्य, जगवीर कुमार संगठन सचिव व डॉ राजू छजलाना, रवि चपराना, सतीश चपराना, जय पाल चपराना, लज्जा राम मौर्य, सुमित, तरुण, कार्तिक, विकास, मंजू मौर्य, प्रतिभा मौर्य, ओम प्रकाश, मिलाप बौद्ध आदि लोग उपस्थित रहे. 

इस मौके पर कई लोगों ने अपनी आँखों की जांच करवाकर निशुल्क शिविर सेवा का लाभ उठाया. संस्था ने आगे भी ऐसे हेल्थ जांच शिवित लगाने रहने का भरोसा दिया.

ऑपरेशन करके मरीज को भूल गया ESI का डॉक्टर, लापरवाही में युवक की चली गयी जान

esi-hospital-and-medical-college-patient-died-due-to-doctor-mistake

फरीदाबाद, 29 अगस्त: ईएसआई हॉस्पिटल और मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों की लापरवाही से एक मरीज की जान चली गयी. परिजनों का आरोप है कि पर्वतिया कॉलोनी निवासी 40 वर्षीय प्रदीप सिर्फ पेट में दर्द की शिकायत लेकर 13 अगस्त को ईएसआई हॉस्पिटल में भर्ती हुआ था लेकिन डॉक्टर उसे ठीक नहीं कर सके, मरीज के परिजन भी डॉक्टरों के भरोसे रह गए लेकिन एक हप्ते बाद 20 अगस्त को प्रदीप की तवियत ज्यादा ही खराब हो गयी तो उसे ICU में शिफ्ट करके ऑपरेशन कर दिया गया.

परिजनों ने बताया कि जिस डॉक्टर ने प्रदीप का ऑपरेशन किया था वह उसे दोबारा देखने भी नहीं आया. 23 तारीख को एक न्यूरो सर्जन आया लेकिन वह भी प्रदीप को ठीक नहीं कर सका और प्रदीप के सभी अंगों को लकवा मार गया. उसके बाद 24 तारीख को ESI के डॉक्टरों ने जवाब दे दिया जिसके बाद परिजन प्रदीप को एशियन हॉस्पिटल ले गए और 28 अगस्त को प्रदीप को मृत घोषित कर दिया गया.

परिजनों को एशियन हॉस्पिटल जाने के पहले ही दिन बता दिया गया था कि प्रदीप का बचना मुश्किल है, प्रदीप की मौत के बाद परिजन ईएसआई हॉस्पिटल के डॉक्टरों से काफी नाराज दिए. आज रोहतक PGI में प्रदीप के शव का पोस्टमार्टम कराया गया. प्रदीप के परिजन ईएसआई हॉस्पिटल के लापरवाह डॉक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज करवाएंगे.

खुश हुईं आशा वर्कर, भाजपा सरकार ने मांगी जायज मांगें

haryana-pradesh-asha-worker-happy-after-haryana-sarkar-accept-demand

फरीदाबाद, 21 जुलाई: फरीदाबाद सहित पूरे हरियाणा में अपनी मांगो को लेकर पिछले लम्बे समय से आन्दोलन कर रही आशा वर्करों ने आज अपना आन्दोलन समाप्त कर दिया है. 

जानकारी के अनुसार आशा वर्करों की आज सरकार ने कुछ जायज मांगें मान ली है. जिससे इस समय आशा वर्करों में ख़ुशी की लहर है. सभी ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर ख़ुशी मनाई.

सरकार ने आशा वर्करों की कुछ जायज मांगे तो मान ली हैं लेकिन आशा वर्कर अभी भी पूरी तरह से खुश नहीं हैं. उन्होंने बताया मुख्य मांगे तो अभी बाकी है. जिससे अभी हमारी जीत अभी अधूरी है. लेकिन अभी आन्दोलन को समाप्त कर दिया है. वर्करों ने कहा कि आने वाले समय में मुख्य मांगों के लिये हमारा संघर्ष जारी रहेगा. 

CM खट्टर ने पलवल के सत्य साईं अस्पताल में हार्ट रिसर्च सेण्टर का किया उद्घाटन

cm-khattar-inaugurated-research-centre-for-congenital-heart-disease-in-palwal

पलवल, जून: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आज पलवल जिले के बघौला स्थित सत्य साईं हॉस्पिटल में दिल की बीमारी के शोध केंद्र का उद्घाटन किया।

जानकारी के अनुसार इस सेंटर में बच्चों के दिल में छेद के कारणों का पता लगाया जाएगा, जिससे गर्भ में ही बीमारी के कारणों को दूर किया जा सकेगा. सभी बच्चों के दिल की बीमारी का इलाज सम्भव नहीं हो पाता, इसलिए सत्य साईं हॉस्पिटल में इस सेंटर का उद्घाटन किया गया है। 

आपको बता दें आज मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पलवल में रोड शो किया जिसके तहत कई इलाकों में भ्रमण करके जनता के साथ मुलाक़ात की. 

डेरी पर बिकने वाले दूध-दही-घी के सैंपल लेगी स्वास्थय टीम, कमी पाए जाने पर होगी कार्यवाही

faridabad-healt-team-will-take-sample-of-milk-curd-ghee-on-dairy

फरीदाबाद, 12 मई: बढती गर्मी में दूषित खान पान से होने वाली बीमारियों से बचाने के लिए फरीदाबाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कमर कस ली है, स्वास्थय विभाग के आयुक्त साकेत कुमार के आदेश से NIT-5 से स्वास्थ्य विभाग की टीम ने डेरी पर दूध के चार नमूने लिए. इसी प्रकार डेयरी पर बिकने वाले देशी घी और दूध पर चेकिंग अभियान चलाया जायेगा. 

यह टीम खाद्य सुरक्षा अधिकारी पृथ्वी सिंह के नेतृत्व में गठित की गयी है जो शहर के विभिन्न डेयरी पर रेड करके खुले घी और दूध के नमूने लेकर जांच के लिए भेजेगी। निम्न स्तर के पाए जाने पर उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। 

अभियान के तहत बुधवार को एनआईटी पांच में चार नमूने लिए गए थे।  इसके आधार पर टीम बनाकर दुकान से दूध, घी सहित किसी भी खाद्य पदार्थों के नमूने लिए जा सकते हैं. अगर इसमें किसी प्रकार की शिकायत पाई जाती है, तो मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के कोर्ट में केस दर्ज किया जा सकता है। 

छापेमारी के बाद खाद्य पदार्थों को डब्बा बंद कर जांच के लिए पंचकूला भेजा जाता है। इसकी जांच रिपोर्ट 14 दिनों के अंदर संबंधित अधिकारी के पास आ जाती है। जांच रिपोर्ट में अगर कोई खामियां पाई जाती हैं, तो दुकानदार दोबारा अपने मनपसंद लैब में जांच करा सकता है। उसके लिए शुल्क जमा करना पड़ता है. जांच रिपोर्ट में अगर किसी प्रकार की खामियां पाई जाती हैं, तो दुकान संचालक के खिलाफ विभागीय कार्रवाई होगी।

मोदी सरकार का 50 करोड़ लोगों को बीमा देने का अभियान शरू, मंत्री गुर्जर ने संभाला मोर्चा

minister-kp-gurjar-told-abount-pmrssm-yojna-in-village-tikawali-fbd

फरीदाबाद 30 अप्रैल: मोदी सरकार ने 50 करोड़ गरीब और माध्यम परिवार के लोगों को मेडिकल बीमा देने का सबसे बड़ा अभियान शुरू किया है और यह मोदी सरकार का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट भी हो सकता है, इससे स्वास्थ्य सेवाओं में भी क्रन्तिकारी परिवर्तन हो सकता है और देशवासियों को सस्ते मेडिकल बीम का लाभ मिल सकता है, फरीदाबाद के सांसद और मोदी सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर मोदी सरकार के इस काम को पूरा करने में जी जान से जुट गए हैं. आज उन्होंने इस समबन्ध में ग्राम टिकावली में एक कार्यक्रम को संबोधित किया.

आज उन्होंने टीकावली गाँव में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा - प्रधानमंत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन (PMRSSM)  का उद्देश्य देश के 10 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों के लगभग 50 करोड़ लाभार्थियों को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करना है।

मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने कहा कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन एक अत्यंत महत्वकांक्षी योजना है, जिसके अंतर्गत भारत की ग्राम सभाएं लाभार्थियों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन के बारे में जानकारी देगी। इसमें स्वास्थ्य विभाग के सहयोगी के रुप में आशा वर्कर, ए एन एम  की अत्यंत भूमिका है इसलिए उक्त सहयोगी वर्ग इस योजना को आम जन तक सुचारु रुप से पहुंचाने में पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी से अपने कार्य दायित्व का निर्वाह करें ताकि इस योजना का लाभ आमजन को अधिक से अधिक पहुँचाया जा सके। 

खुशखबरी, स्वास्थय मंत्री अनिल विज ने बीके अस्पताल में कैथलैब और डायलिसिस सेंटर का किया उद्घाटन

anil-vij-inaugurated-cathlab-and-dialysis-center-in-bk-hospital-faridabad

फरीदाबाद: शहर वासियों और खासकर गरीबों के लिए खुशखबरी है, हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज नें आज फरीदाबाद के सिविल हॉस्पिटल (बीके हॉस्पिटल) में कैथलैब और डायलेसिस सेंटर का रिबन काटकर शुभारंभ किया.

शुभारम्भ करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मंत्री अनिल विज ने कहा यह हमारे पायलेट प्रोजेक्ट है. और जल्दी ही गुरुग्राम ओर पंचकूला में भी कैथलैब का  शुभारंभ किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा की स्वास्थ्य के क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर हरियाणा देश का पहला राज्य बन चुका  है. उन्होंने कहा कि जहाँ प्राइवेट हॉस्पिटलों में डेढ़ से दो लाख के खर्चे पर स्टंट डाला जाता है वह स्टंट यहाँ मात्र 46 हजार रूपये में डाला जाएगा।

उन्होंने कहा कि बीपीएल कार्ड धारको को यह स्टंट बिलकुल मुफ्त डाला जाएगा। उन्होंने हरियाणा में इसे क्रांतिकारी कदम बताया, इस मौके पर केबिनेट मंत्री विपुल गोयल ओर बडखल विधायक सीमा त्रिखा आदि लोग मौजूद रहे 

स्वच्छ भारत अभियान, हथीन नगरपालिका में भी शुरू हुआ घर घर से कूड़ा उठाने का काम

hathin-nagarpalica-news-swach-bharat-mission-kuda-pickup-van-started

हथीन: हथीन नगरपालिका ने घर-घर से कूड़ा उठाने के अभियान की शुरुआत कर दी है। इसके लिए पालिका ने कूड़ा एकत्रित करने के लिए 3 गाड़ियों की व्यवस्था की है। घरों के कूड़े को एकत्रित करने के लिए तथा सूखे व गीले कचरे को एकत्रित करने के लिए प्रत्येक घर के मुखियाओं को डस्टबिनों का वितरण नपा द्वारा किया जा रहा है। अब तक पालिका क्षेत्र के लगभग 250 घरों में निशुल्क डस्टबीनें वितरित की जा चुकी हैं। 

स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम को सिरे चढ़ाने के उद्देश्य से शुरू की गई इस योजना का मुख्य मकसद साफ सफाई के साथ साथ घरों से निकलने वाले कूड़े के सदुपयोग को बढ़ावा देना है। योजना के अनुसार पालिका क्षेत्र में सभी घरों में दो-दो डस्टबीन वितरित की गई हैं। ताकि लोग घरों से निकलने वाले कूड़ा- कचरे को अलग-अलग डस्टबीन में डाल सकें। 

लोगों द्वारा डस्टबीन में डाले हुए कचरे को पालिका द्वारा गाड़ियों के माध्यम से घर-घर से एकत्रित करके सुरक्षित स्थान पर ले जाया जाएगा, जहां इसकी रिसाइक्लिंग की जाएगी। इसके लिए नगरपालिका की तरफ से व्यवस्था को अंतिम रूप दे दिया गया है। 

पालिका के भवन निरीक्षक प्रवीन कुमार ने बताया कि कूड़ा उठाने वाली गाड़ी में माइक द्वारा आवाज लगाकर घर- घर से कूड़ा उठाने का काम शरू करा दिया गया है। इस योजना को लोगो द्वारा बहुत पसंद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने डस्टबीन नहीं लिए हैं, वे अपना रजिस्ट्रेशन नपा में करा कर प्राप्त कर सकते है। (रिपोर्टर देवराज शर्मा)

बीके अस्पताल में अचानक पहुँच गए उद्योग मंत्री विपुल गोयल, 10 रुपये थाली वाला खाया भोजन, पढ़ें

vipul-goel-eat-rs-10-thali-food-in-bk-hospital-faridabad-quality-check

फरीदाबाद: अक्सर नेता लोग कोई ना कोई अच्छा काम करते रहते हैं लेकिन उसे फॉलो नहीं करते जिसकी वजह से कुछ दिन बाद अच्छे काम अपने आप बन हो जाते हैं या लापरवाही से काम होने लगता है जिसकी वजह से जनता दुखी हो जाती है लेकिन फरीदाबाद के विधायक और राज्य के उद्योग मंत्री विपुल गोयल ऐसे नेताओं में नहीं हैं, वह अगर कोई अच्छा काम शुरू करते हैं तो उसे फॉलो भी करते हैं और उसकी मोनिटरिंग भी करते हैं.

कुछ महीनों पहले विपुल गोयल ने बादशाह खान अस्पताल में नवचेतना ट्रस्ट के सहयोग से एक कैंटीन की शुरुआत की थी जिसमें सिर्फ 5 और 10 रुपये थाली वाला भोजन उपलब्ध करवाया था. यह काम करके उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने बीके अस्पताल में मरीजों और आसपास काम करने वाले लोगों को सस्ता भोजन उपलब्ध करवाया.

इस कैंटीन में बने खाने की गुणवत्ता बनी रहे इसलिए विपुल गोयल लगातार बीके अस्पताल में बनी फरीदाबाद नवचेतना ट्रस्ट की कैंटीन का दौरा करते रहते हैं। शनिवार को भी उद्योग मंत्री अचानक बीके अस्पताल में खाना खाने पहुंच गए। उन्होने आम लोगों के साथ 10 रूपये की थाली का भोजन किया। इस मौके पर खाना खाने आए लोगों से उन्होने खाने की क्वालिटी पर राय ली और सुझाव भी मांगे। इस मौके पर लोगों ने 5 रूपये और 10 रूपये में अच्छी क्वालिटी का भोजन और शुद्ध शीतल पानी की उपलब्धता करवाने के लिए फरीदाबाद नवचेतना ट्रस्ट और विपुल गोयल की तारीफ की।

विपुल गोयल ने कहा कि इस कैंटीन में लगातार सुविधाओं को बेहतर किया जा रहा है। उन्होने कहा कि अच्छी क्वालिटी के भोजन के साथ आराम से खड़े होकर या बैठकर लोग खाना खा सकें इसके लिए कैंटीन में शेड का भी निर्माण किया गया है। उन्होने कहा कि इस योजना के सफल क्रियान्वन के बाद गुणवत्ता कायम रहे, इसके लिए वो आगे भी लगातार नजर बनाए रखेंगे। विपुल गोयल ने कहा कि खाने के बारे में अच्छे फीडबैक से वो खुश हैं और आगे भी लोगों के सुझाव आमंत्रित हैं। इससे पहले विपुल गोयल बजट पर एक सेमिनार में डिलाइट होटल भी गए लेकिन वहां लंच करने की बजाए विपुल गोयल ने बीके अस्पताल में 10 रूपये की थाली का भोजन कर अपनी योजना का मुआयना करना बेहतर समझा।

CPS सीमा त्रिखा ने बीके अस्पताल में मारी रेड, तीन कर्मचारियों को दारू पीते हुए पकड़ लिया

badkhal-mla-seema-trikha-raid-in-bk-hospital-3-people-drinking-wine

फरीदाबाद, 19 नवम्बर: शहर की बदहाल व्यवस्थाओं ने से तंग आकर अब बडखल की विधायक और मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा भी एक्शन में आने लगी हैं, कल तेज रात्रि में उन्होंने बादशाह अस्पताल की हालत देखने के लिए रेड मारी, उनके सामने हैरानी का मंजर था क्योंकि अस्पताल के ही तीन कर्मचारी दारू पी रहे थे, उन्होंने तीनों को पकड़कर CMO को फोन लगाया लेकिन वह मौके पर नहीं आये.

सीम त्रिखा ने रेड मारकर गलत काम करने वालों को सन्देश देने की कोशिश की है कि वह भ्रष्टाचार को कत्तई सहन नहीं करेंगी.

उन्होंने देखा कि  मरीजों की बीमारी बीके अस्पताल में मरीजों की बीमारी की जांच करने वाली पैथौलॉजी लैब शाम होते ही मैखाने में तब्दील हो जाती है। शनिवार देर शाम जांच रिपोर्ट लेने पहुंचे एक व्यक्ति ने फार्मेसी कर्मचारियों को दारू पीते देखा तो बडख़ल विधायक सीमा त्रिखा को फोन करके इसकी सूचना दे दी। विधायक ने खुद ही छापामार कार्रवाई करते हुए शराबखोरी कर रहे तीन कर्मचारियों को रंगेहाथ दबोच लिया। 

बीके सिविल अस्पताल की तीसरी मंजिल पर पैथौलॉजी लैब है। यह लैब जांच के लिए 24 घंटे खुली रहती है। शनिवार रात करीब पौने नौ बजे किसी मरीज का तीमारदार जांच रिपोर्ट लेने लैब पहुंचा था। उसने लैब के अंदर एक कमरे में तीन लोगों को दारू पीते देखा। उसने ड्यूटी पर तैनात फार्मासिस्ट से तीनों के बारे में जानकारी करनी चाही तो उसे उल्टा सीधा जवाब दिया गया। उस व्यक्ति ने बडख़ल विधायक सीमा त्रिखा को फोन कर पैथोलॉजी लैब में कर्मचारियों द्वारा शराब पिए जाने की सूचना दी. कुछ ही देर में विधायक सीमा त्रिखा अपने भाई के साथ मौके पर पहुंचीं और तीनों को दबोच लिया.

इन शराबियों से उनका नाम पता पूछा ही जा रहा था कि एक चकमा देकर भाग निकला। पकड़े गए व्यक्ति की पहचान पूर्व अकाउंटेंट ओम प्रकाश और चतुर्थश्रेणी कर्मचारी ललित के रूप में हुई। दोनों ने भागने वाले युवक का नाम राजकुमार बताया। दोनों का मेडिकल परीक्षण कराया गया, मौके पर पहुंचे पीएमओ डॉ. राजीव बातिश को विधायक ने अस्पताल परिसर में इस तरह की हरकतें दोबारा नहीं होने की सख्त हिदायत दी। खास बात यह रही कि विधायक के पहुंचने के बावजूद सीएमओ डॉ. गुलशन अरोड़ा अस्पताल नहीं पहुंचे। विधायक सीमा त्रिखा ने बताया कि शराब पीते हुए पाए गए कर्मचारियों से स्पष्टीकरण तलब कर उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी ।

कांग्रेस ने बनवाया इतना बड़ा ESI अस्पताल, 3 साल में शिफ्ट भी नहीं करवा पायी खट्टर सरकार

khattar-sarkar-could-not-shift-into-faridabd-esi-hospital-in-three-year

शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में खट्टर सरकार पूरी तरह से फेल नजर आती है, ना तो सरकारी स्कूलों की हालत सुधारने पर एक पैसे खर्च किये जा रहे हैं और ना ही सरकारी अस्पतालों को सुधारने में एक पैसे खर्च किये जा रहे हैं, पूर्व कांग्रेस सरकार ने 3 नंबर फरीदाबाद में NCR का सबसे बड़ा ESI हॉस्पिटल और मेडिकल कॉलेज बनाया, इस काम में अरबों रुपये खर्च किये गए, पूरी बिल्डिंग कांग्रेस के समय में ही बनकर तैयार हो गयी थी.

कांग्रेस के जाने के बाद राज्य में बीजेपी की सरकार आयी, सारा काम कांग्रेस ने किया, खट्टर सरकार को सिर्फ नए अस्पताल में शिफ्ट करना था और सुविधाओं की व्यवस्था करनी थी लेकिन खट्टर सरकार तीन साल में भी यह काम नहीं कर पायी है.

वर्तमान में हालत यह है दिखावे के लिए नए अस्पताल में OPD सुविधा शुरू कर दी गयी है लेकिन मरीजों को भर्ती करने के बाद पुराने अस्पताल में ही भेजा जाता है, अभी भी लेबर रूप, बच्चों का वार्ड, महिलाओं का वार्ड, OT, सब का सब पुराने अस्पताल में है, नया अस्पताल सिर्फ देखने के लिए बना है. 

बारिश के मौसम में पुराने अस्पताल में मरीजों का बुरा हाल हो जाता है, छत टूटी होने के कारण कमरे में मरीजों के बिस्तर पर पानी टपकता है, बिजली चली जाती है तो मरीजों को गर्मी में ही रहना पड़ता है, खैर अब तो मौसम बदल चुका है लेकिन हालत अब भी खराब है.

अगर खट्टर सरकार इस अस्पताल पर ध्यान देकर यहाँ पर सुविधाओं की व्यवस्था कर देती, मरीजों के बिस्तर का इंतजाम भी कर देती, अस्पताल में मेडिकल स्टोर की भी सही से व्यवस्था कर दी जाती तो मरीजों का काफी भला होता। अस्पताल के अन्दर मेडिकल स्टोर तो है लेकिन वहां पर अधिकतर दवाएं नहीं मिलतीं, जो दवाएं नहीं मिलतीं उन्हें लेने के लिए मरीजों को फिर से डिस्पेंसरी में भेजा जाता है, मरीज लोग किराया भाड़ा खर्च करके डिस्पेंसरी में दवाएं लेने जाते हैं और सरकार को कोसते हैं. कई बार तो डिस्पेंसरी में भी दवाएं नहीं मिलतीं, ऐसे में मरीजों को खुद से दवाएं खरीदनी पड़ती हैं और बिल बनवाकर अस्पताल को देना पड़ता है, इस काम में मरीजों का काफी समय खर्च हो जाता है. देखिये वीडियो।



सरकार को शायद मरीजों की हालत का अहसास नहीं है इसलिए इस क्षेत्र में काम नहीं किया जा रहा है, फरीदाबाद के लोग सरकार से बहुत नाराज हैं, इस अस्पताल में सुविधाएं बढाने के लिए कई बाद धरना-प्रदर्शन और आन्दोलन किये गए लेकन खट्टर सरकार सिर्फ पांच साल रहने का मन बनाकर आयी है इसलिए मजदूरों की मांग पर ध्यान नहीं दिया गया.

ऐसा लगता है कि कांग्रेस ने ही इस अस्पताल को बनवाया था तो दो साल बाद कांग्रेस ही आकर इस अस्पताल में सुविधाएं बढाकर मरीजों को राहत देगी, वरना खट्टर सरकार ने तो काम ना करने की कसम खा रखी है.

हर महीनें करोड़ों का घोटाला 

यह भी बता दें कि इस अस्पताल में सभी सुविधाएं देने के बाद फरीदाबाद के कई प्राइवेट अस्पताल बंद हो जाएंगे क्योंकि इस अस्पताल से मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में रिफर करके उनकी हर महीनें करोड़ों रूपए की कमाई करवाई जाती है, मरीजों को भर्ती करवाकर करोड़ों रुपये के फर्जी बिल बनवाए जाते हैं, डॉक्टरों को भी कमीशन मिलता है, सरकार खजाने से हर महीनें करोड़ों रुपये लूटे जा रहे हैं लेकिन खट्टर सरकार सो रही है.

जिसका डर था वही हुआ, प्रदूषण बना जानलेवा, सिविल अस्पताल में लगी अस्थमा-खांसी के मरीजों की कतार

faridabad-bk-civil-hospital-recording-more-asthma-cases-pollution

फरीदाबाद 16 नवंबर: दिल्ली एनसीआर में लगातार बढ रहे स्मॉग से अब फरीदाबाद के सिविल अस्पताल में भी असर देखने को मिल रहा है, सिविल अस्पताल में स्मॉग के चलते अस्थमा दमा और खांसी की बीमारी के मरीजों की संख्यां में काफी बढोत्तरी हुई है, डाक्टरों का कहना है पिछले कई दिनों से लगातार अस्पताल में मरीजों की संख्यां न केवल ओपीडी में बढ रही है बल्कि बेड भी भर गये हैं।

डाक्टरों ने शहर के लोगों को सलाह दी है कि ऐसे मौसम में घरों से कम निकलें और अधिक पानी पीयें।  बढ़ता स्मॉग लोगो के लिए जानलेवा बनता जा रहा है, बदलते मौसम के साथ स्मॉग का कहर बढऩे लगा है जो बच्चे बुजुर्ग और बीमार लोगो के लिए जानलेवा साबित हो रहा है. इस स्मोग से लोगों की आँखों में जलन, एलर्जी और सांस लेने में दिक्क्त महसूस होने लगी है, जिसका असर अब फरीदाबाद के सिविल अस्पताल में देखने को मिल रहा है जहां अस्थमा दमा और खांसी के मरीजों की कतारें लग गई हैं, पिछले दिनों की अपेक्षा अस्पताल में कई गुना मरीज ओपीडी में आ रहे हैं और कुछ मरीजों को भर्ती भी किया जा रहा है। 

इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए सिविल अस्पताल के फिजिशियन योगेश गुप्ता और वीरेंद्र यादव ने कहा कि अस्पताल में पिछले कुछ दिनों से मरीजों की संख्या बढी है जिसका कारण स्मॉग है जिससे मरीजों को अस्थमा, दमा और सांस के साथ साथ कई प्रकार की बीमारियां हो रही हैं। वही डॉक्टर्स ने लोगो को सलाह देते हुए कहा है की जो लोग सुबह की सैर करते है वह इस मौसम में सैर न करें और अगर एक्सरसाइज करनी है तो वह घर के अंदर ही सैर करें और स्मॉग से बचे। वहीं डाक्टर्स का कहना है कि लोग इससे राहत पाने के लिये अधिक से अधिक पानी पीयें।

गोल्डेन ऐज पिपुल संस्था द्वारा स्वास्थ्य चर्चा का आयोजन

golden-age-vipul-sanstha-swastha-charcha-ka-ayojan-news

फरीदाबाद, 22 अक्टूबर: गोल्डन ऐज पिपुल सीनियर सिटीजन एसोसिएशन की ओर से सर्वोदय हॉस्पिटल के साथ मिल कर कम्युनिटी सेंटर सेक्टर-8 में एक स्वास्थ्य चर्चा का आयोजन किया गया। बिजेंदर सिंह प्रधान आरडब्लूए हास्पिटल ब्लॉक मुख्य अतिथि तथा वासदेव अरोरा वरिष्ठ अतिथि थे।

 डॉ. तनुज पाल भाटिया ने मूत्र रोगों के बचाव, निदान पर विस्तार से चर्चा की। श्रोताओं के सवालों का उत्तर दिया। स्वास्थ्य चर्चा के कार्यक्रम के मंच संचालन एवं संस्था के महासचिव आर.के. शर्मा ने गोल्डेन ऐज पिपुल संस्था द्वारा किये जा रहे कार्या का वर्णन किया।

 उन्होंने बताया कि संस्था का मुख्य उद्देश्य बुजुर्ग लोगों को संगठित कर समाज को सुधार कर रचनात्मक योगदान देना है। संस्था एक फ्री डिस्पेंसरी भी चला रही है। इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेवी एवं भाजपा नेता वासदेव अरोड़ा ने संस्था को पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया। आरडब्लूए हास्पिटल ब्लॉक के प्रधान बिजेंदर सिंह ने संस्था द्वारा किये जा रहे कार्यों की भूरी-भूरी प्रशंसा कर सभी प्रकार की सहायता का प्रस्ताव भी रखा।

 कार्यक्रम के अंत में प्रधान महेश गुप्ता द्वारा कार्यक्रम में आए सभी लोगों का आभार जताया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि में नरेश शर्मा, रंधावा, दलजीत सैनी, सतीश गुप्ता, बनवारी लाल गुप्ता, करण, राजपाल गुप्ता, विनय पांडे, एल.एस. वर्मा तथा समाज सेवी वाई.के. उप्पल, वाई.पी. भल्ला, आर.सी. कटोच, गांगुली, बिरंचि ठाकुर, भरत ओझा की उपस्तिथि उलेखनीय रही।

BK Hospital की बदहाल हालत देखकर भड़के BJP विधायक अवतार भडाना, ना बिजली, ना डॉक्टर, ना CMO

bjp-mla-avtar-singh-bhadana-vizit-bk-hospital-faridabad-upset

आज खट्टर सरकार की पोल खुल गयी, पोल खोलने वाले भी BJP के विधायक निकले. आज एक पत्रकार से मिलने के लिए फरीदाबाद के पूर्व सांसद और मीरपुर उत्तर प्रदेश के BJP विधायक अवतार सिंह भडाना शहर के बीके सरकारी अस्पताल पहुंचें. आपको बता दें कि कुछ लोगों ने पत्रकार बिजेंदर शर्मा को पटाखा फोड़ने से रोकने पर उनके घर में घुसपर पीट दिया था, उन्हें इलाज के लिए बीके अस्पताल में भर्ती किया गया है. अवतार भड़ाना जब उनसे मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे तो बदहाल हालत देखकर भड़क गए.

अस्पताल में ना बिजली थी, ना पानी था, ना साफ़-सफाई थी और ना ही पंखे चल रहे थे. अवतार भड़ाना से यह देखा नहीं गया, वे पूर्व में फरीदाबाद के सांसद भी रह चुके हैं इसलिए उन्होंने तुरंत ही हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से बात की.

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को बताया कि - यहाँ पर एक पत्रकार, एक पुलिस और एक डॉक्टर को मारा पीटा गया है, सभी लोग यहाँ पर भर्ती हैं, अस्पताल में यह हालत है कि यहाँ पर ना डॉक्टर हैं, ना CMO हैं, ना PMO हैं, ना लिफ्ट है, यहाँ तक कि रूम में लाइट तक नहीं है. यहाँ पर जब पत्रकारों और पुलिस वालों की ऐसी हालत है तो यहाँ पर आने वाले फरीदाबाद के जन मानस के साथ क्या होता होगा.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर हमारी सरकार है लेकिन इन्हें कैसे विश्वास दिलाएं कि हमारी सरकार में हम लोगों को न्याय मिलेगा. उन्होंने कहा कि आप यह पूछिए कि बिना लाइट और पंखे के उसे पूरी रात भगवान के रहमो-करम पर क्यों रखा गया.

उन्होंने कहा कि यहाँ पर एक डॉक्टर भी भर्ती है, एक पुलिस वाला भी भर्ती है, मैं आपने न्याय की उम्मीद करता हूँ मंत्री जी, आप अस्पताल की बदहाल हालत पर ध्यान दीजिये.

उन्होंने CMO को फोन पर कहा कि आप यहाँ पर जल्दी पहुँचिये तो ठीक होगा वरना ठीक नहीं होगा, उन्होंने कहा कि आज यहाँ पर जो कुछ भी हो रहा है, ना लाइट है, ना बिजली है, दोबारा ऐसा नहीं होना चाहिए वरना मुझे आपके खिलाफ सख्त कार्यवाही करनी पड़ेगी. मैं आपके साथ बहुत बुरा पेश आऊंगा. मैंने हेल्थ मिनिस्टर को बोल दिया है, मैं मुख्यमंत्री को भी बोलने जा रहा हूँ, फरीदाबाद के अस्पताल की ऐसी बुरी हालत है कि मैं इस शहर के लोगों को रहमों करम पर नहीं छोड़ना चाहता.

उन्होंने CMO को यह भी चेतावनी दी कि अगर पत्रकार की रिपोर्ट में तुम्हारे डॉक्टरों ने कुछ भी कमीं करने की कोशिश की तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा, यह 307 और 308 का मामला है, इनका क़त्ल करने की कोशिश की गयी, घटना के वक्त पुलिस को किसी मामा ने फोन किया और पुलिस वालों ने मामले को दबाने की कोशिश की.

पटाखा जलाने से रोकने पर ESI मेडिकल कॉलेज के क्लर्क ने अपने डॉक्टर को ही धुन दिया

esi-medical-college-clerk-beaten-doctor-when-stop-patakha-bursting

फरीदाबाद, 21 अक्टूबर: फरीदाबाद के ईएसआई हॉस्पिटल और मेडिकल कॉलेज के तमाम डॉक्टरों ने क्लर्क की गुंडागर्दी के चलते हस्पताल के परिसर में धरना प्रदर्शन किया। बीती दिवाली की रात को ईएसआई मेडिकल कालेज के डाक्टर ने जब हॉस्पिटल में काम करने वाले क्लर्क को अपनी कार के पास पटाखे बजाने से मना किया तो उक्त क्लर्क ने अपने साथियो के साथ डाक्टर पर हमला कर दिया और उसकी जमकर पिटाई की.

इस घटना के बाद सुबह मेडिकल हॉस्पिटल के डॉक्टर्स लामबंद हो गए और धरना देकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की. पुलिस ने डाक्टर की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. 

रिपोर्ट के अनुसार बीती रात वीरेंद्र दहिया नाम का क्लर्क और उसके साथी पटाखे बजा रहे थे, इसी दौरान डॉक्टर राघवेंद्र ने उन्हें अपनी कार  के पास पटाखे फोड़ने से मना किया तो उक्त लोग तहश में आ गए और डाक्टर के साथ मारपीट कर डाली।

सुबह जब सभी डॉक्टरों को इस घटना के बारे में पता चला तो उन्होंने धरना प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। पीड़ित डाक्टर ने बताया की उसका सिर्फ इतना कसूर था की उसने उन्हें पटाखे फोड़ने से मना किया था. 

वहीँ इलाके के एसीपी शाकिर हुसैन ने बताया की पटाखों को बजाने से मना करने पर डाक्टर के साथ मारपीट हुई है जिसके संदर्भ में मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश की जा रही है. 

BK HOSPITAL में NHM कर्मचारियों का अनिश्चितकालीन धरना शुरू

faridabad-news-nhm-workers-started-protest-in-bk-hospital

Faridabad, 25 October: पोलियो मुक्त भारत की उपाधि दिलाने वाले हाथों को आज 'समान काम समान वेतन' के लिये सरकार के सामने हाथ फैलाना पड रहा है, पूरे प्रदेश में एनएचएम कर्मचारियों ने नियमितीकरण के लिये हडताल कर दी है, जिसमें फरीदाबाद के हजारों कर्मचारियों ने भी सिविल अस्पताल में अनिश्चितकालीन हडताल शुरू की है, उन्होंने कहा कि उन्हें कोई विधानसभा या लोकसभा नहीं चाहिये उन्हें बस उनका हक चाहिये, लेकिन सरकार ने सख्त रुख दिखाते हुए सभी NHM कर्मचारियों को टर्मिनेट करने के आदेश दिए है इसपर  एनएचएम कर्मचारियों ने दी चेतावनी देते हुए कहा की उनकी मांगे नहीं मानी गई तो आगे बड़ा आंदोलन होगा। 

हरियाणा प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग मुर्दाबाद के नारे लग रहे हैं, हजारों एनएचएम के कर्मचारी काम छोडकर धरने पर बैठ गये हैं जिसे प्रदेश में स्वास्थ्य सेवायें ठप होने का भय बना हुआ है, फरीदाबाद के हजारों एनएचएम कर्मचारियों ने सिविल अस्पताल में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है, धरने पर बैठे कर्मचारियों में स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ रोष हैं जिसे जाहिर करने के लिये लगातार स्वास्थ्य विभाग मुर्दाबाद और हरियाणा सरकार मुर्दाबाद के नारे लगा रहे हैं।

उनकी  माने तो उन्होंने धरना सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ शुरू किया है,  उनकी मांग है कि एनएचएम में लगे हुए सभी कर्मचारी को पक्का किया जाये, उन्हें समान काम समान वेतन दिया जाये। कर्मचारियों का कहना है लम्बे समय काम करने के दौरान अभी तक उन्हें न तो कोई ईपीएफ ईएसआई की सुविधा दी गई है और न ही समान वेतन दिया जा रहा  है।

उन्होंने कहा की कर्मचारी कोई विधानसभा या फिर लोकसभा नहीं माग रहे हैं कर्मचारी बस अपना हक मांग रहे हैं उन्हें पक्का कर दिया जाये जब तक कर्मचारियों को पक्का नहीं किया जायेगा, तब तक उनका अनिश्चित कालीन धरना जारी रहेगा।इस अवसर पर विमला और धर्मेंद्र एवं सैंकडों स्वास्थ कर्मचारी मौजूद रहे। 

विपुल गोयल और KP गुज्जर ने कहा, पत्रकार सचिन खेड़ा के परिवार को करेंगे हर संभव मदद

journalist-sachin-khera-death-in-fortis-hospital-vipul-goel-and-kp-gurjar-will-help

Faridabad 10 September: हरियाणा के उद्योगमंत्री विपुल गोयल आज सुबह पत्रकार स्वर्गीय सचिन खेड़ा के घर शोक प्रकट करने पहुंचे। उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने कहा सचिन खेड़ा मेहनती पत्रकार थे हमें उसके जाने का बेहद दुःख है उनका जाना शहर मीडिया जगत के लिए बड़ी क्षति है – परिवार को हर संभव सहायता देने का दिया आश्वासन – मौत के मामले की निष्पक्ष जांच कराई जाएगी। 

केन्द्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर भी पत्रकार सचिन खेडा के आकस्मिक निधन पर उनके निवास पर शोक प्रकट करने के लिए पंहुचे और परिजनों को सातंवना दी। केन्द्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने साफ कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होगी और जो भी दोषी होगें उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाही की जायेगी।  

सचिन खेडा होनहार पत्रकार था। और उनके परिवार के हिस्सा की तरह था। इसलिए वे इस दुख की घडी में उनके साथ है। और हर सम्भव मदद के लिए तैयार है उन्होंने कहा की कोई भी संस्थान कितना भी बड़ा हो यदि जांच में दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही होगी। 

मालूम हो कि सचिन की मौत  फरीदाबाद के फोर्टिस अस्पताल में हुई थी और सचिन के परिजनों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया था जिसके बाद डाक्टर पर लापरवाही का मामला दर्ज किया गया था जिसकी जांच जारी है।

बताया जा रहा है कि सचिन को ओवरडोज दवाई दी गयी है, क्योंकि चिकनगुनिया बुखार जिसमे कहा जाता है इस बुखार से जान नहीं जाती लेकिन फरीदबाद के इतने बड़े फोर्टिस अस्पताल में सचिन खेडा की जान चली गयी और डॉक्टरों ने डेढ़ लाख रुपये भी ले लिए। 

मौत के हॉस्पिटल फोर्टिस ने फरीदाबाद के पत्रकार सचिन खेडा को छीना

journalist-sachin-kheda-dead-in-fortis-hospital-faridabad-due-to-mis-handling

Faridabad, 8 September: अब यह बात साबित हो गयी है कि फरीदाबाद शहर के फोर्टिस हॉस्पिटल मे ज्यादातर लोग जिन्दा भर्ती होते हैं और मरकर ही बाहर निकलते हैं, पैसे ही हवस के कारण डॉ मनचाही रकम की मांग करते हैं और रूपया ना देने पर मरीजों से बेरुखी से पेश आते हैं जिसकी वजह से ज्यादातर मरीजों की मौत हो जाती है।

आज डॉक्टरों की ऐसी ही लापरवाही के चलते फरीदाबाद के जाने मानी पत्रकार सचिन खेडा की मौत हो गयी, कल तक वह स्वस्थ थे, बुखार होने के बाद वे पिछले कुछ दिनों से फोर्टिस हॉस्पिटल में भर्ती थे, कल डोक्टरों ने उन्हें कोई गलत दवाई दे दी जिसकी वजह से मात्र 15 मिनट में उनकी हालत बिगड़ गयी, देखते ही देखते उनका शरीर नीला पड़ गया और उनकी मौत हो गयी, सचिन खेडा के परिवार वाले इसे डॉक्टरों की लापरवाही बता रहे हैं और कार्यवाही की मांग कर रहे हैं।

सचिन खेडा की अचानक मौत की खबर सुनकर फरीदाबाद के सभी पत्रकार फोर्टिस हॉस्पिटल के बाहर इकठ्ठे हो गए और डॉक्टरों और हॉस्पिटल प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी, नारेबाजी के बाद हॉस्पिटल प्रशासन की तरफ से पत्रकारों से बातचीत करने कोई नहीं आया उल्टा पुलिस को फोन कर दिया, पुलिस ने आकर पत्रकारों को शांत कराने की कोशिश की लेकिन पत्रकार सचिन खेडा की मौत से इस कदर नाराज हैं कि उन्होंने पुलिस की बात मानने से इनकार कर दिया।

पत्रकारों ने डॉक्टरों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करने की मांग की जिसपर पुलिस ने कहा कि बिना लाश का पोस्टमार्टम किया FIR दर्ज नहीं की जा सकती, पत्रकारों का कहना था कि पुलिस तुरंत FIR दर्ज करके एक मेडिकल बोर्ड का गठन करे और हॉस्पिटल पर तुरंत ही कार्यवाही करे।