Followers

Showing posts with label Education. Show all posts

Breaking: हरियाणा के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल 10 दिसंबर तक पूर्ण रूप से बंद

haryana-school-closed-till-10-december-2020-news

फरीदाबाद, 30 नवंबर: हरियाणा सरकार ने स्कूलों को लेकर आदेश जरी किये हैं. सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल आगामी 10 दिसम्बर तक बंद कर दिए गए हैं. सभी स्कूल छात्रों के साथ साथ अध्यापकों के लिए भी बंद रहेंगे।



 

हरियाणा के इन छात्रों के लिए खुशखबरी, पढ़ने के लिए मुफ्त टेबलेट देंगे मुख्यमंत्री मनोहर, पढ़ें

haryana-cm-manohar-lal-news-free-tablet-for-9-12-th-student

फरीदाबाद, 28 नवंबर: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक वर्ग के छात्रों के लिए खुशखबरी सुनायी है, उन्होंने ट्विटर पर लिखा - 

हरियाणा सरकार ने #Covid19 के मद्देनजर सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे कक्षा आठवीं से बाहरवीं के सभी वर्गों जैसे सामान्य श्रेणी, अनुसूचित जाति व पिछड़े वर्ग के साथ अल्पसंख्यक वर्गों के छात्र एवं छात्राओं को डिजिटल एजुकेशन की सुविधा देने हेतु नि:शुल्क टैबलेट देने की योजना बनाई है।

इस योजना के अंतर्गत बाहरवीं पास करने पर विद्यार्थियों को यह टैबलेट स्कूल को वापिस लौटाना होगा। इसमें प्री-लोडेड कंटेंट के तौर पर डिजिटल पुस्तकों के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के टेस्ट, वीडियो और अन्य सामग्री भी रहेगी, जो सरकारी स्कूलों के पाठ्यक्रमों के अनुसार तथा कक्षावार होगी। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा सरकार ने शिक्षा में सुधार के कई कदम उठाए हैं, हजारों सरकारी स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाया गया है जहाँ पर अब लोग प्राइवेट स्कूलों से अपने बच्चों को निकालकर दाखिला करा रहे हैं, डिजिटल एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए अब सरकार मुफ्त टेबलेट भी देने जा रही है.

जवाहर नवोदय विद्यालय फरीदाबाद में अपने बच्चों को कक्षा 6 में दाखिला दिलाने की प्रक्रिया पढ़ें

jawahar-navodaya-vidyalaya-faridabad-admission-class-6-process

फरीदाबाद, 26 नवंबर। जवाहर नवोदय विद्यालय फरीदाबाद में कक्षा 6 (छठी) हेतु आवेदन फार्म आमंत्रित किए जा रहे हैं। 

यह जानकारी उपायुक्त यशपाल ने आज यहां देते हुए बताया कि इस संबंध में छठी कक्षा में प्रवेश हेतु 10 अप्रैल 2021 को होने वाली जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा हेतु ऑनलाईन आवेदन 15 दिसम्बर 2020 तक आमंत्रित किए जा रहे हैं। 

उन्होंने जिले के पांचवी कक्षा में पढ़ रहे बच्चों व उनके अभिभावकों से अपील की है कि वे इस संबंध में जानकारी हासिल कर अपने पात्र बच्चों के फार्म भरवा कर उनका जवाहर नवोदय विद्यालय मे दाखिला करने के लिये ऑनलाईन फार्म भरकर दाखिला लेने की प्रक्रिया में शामिल हो अपने बच्चों का दाखिला करवा सकते हैं।

ऑनलाइन एडमिशन के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - अगर ना खुले तो कुछ देर बाद फिर से ट्राई करें क्योंकि सर्वर पर लोड है - 

http://cbseitms.in/nvsregn/index.aspx

इस लिंक पर क्लिक करके पूरी जानकारी हासिल करें 

https://www.navodaya.gov.in/nvs/nvs-school/FARIDABAD/en/home

छात्र संघ NSUI ने सौंपा MLA नरेंद्र गुप्ता को ज्ञापन, कॉलेजों में 20% सीटें बढ़ाने की मांग

faridabad-nsui-news-krishna-attri-demand-college-seat-hike

फरीदाबाद। आज एनएसयूआई के बैनरतले छात्र-छात्राओं ने सभी कॉलेजों की स्नातक कक्षाओं में 20 प्रतिशत सीट बढ़वाने के ओल्ड फरीदाबाद के विधायक नरेंद्र गुप्ता को ज्ञापन सौंपा। यह ज्ञापन एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री के नेतृत्व में सौंपा गया। 

इस दौरान एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने कहा कि 20 प्रतिशत सीट बढ़वाने के लिए छात्र पिछले 20 दिनों से लगातार प्रयास कर रहे हैं लेकिन कोई सुनवाई नही हो रही हैं। 

उन्होंने कहा कि सीट बढ़ाने की मांग को लेकर 2 नवंबर को एक प्रदर्शन किया गया था तथा पंडित जवाहरलाल नेहरू कॉलेज के प्राचार्य श्री एम० के० गुप्ता को उच्चतर शिक्षा विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के नाम ज्ञापन सौंपा था तथा इसके बाद 9 नवंबर को जिला उपायुक्त कार्यालय पर प्रदर्शन करके हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के नाम ज्ञापन सौंपा था और जब सुनवाई नही हुई तो 11 नवंबर को मैगपाई चौक पर प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और गृह मंत्री अनिल विज का पुतला भी फूंका था। उन्होंने कहा कि कॉलेज प्रशासन से लेकर जिला प्रशासन का दरवाजा खटखटाने के बाद जब छात्रों की नही सुनी गई तो 17 नवंबर को सत्ता रूढ़ पार्टी के परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा को अपनी मांग से अवगत कराया था।

अत्री ने भाजपा-जजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा पहली बार देखने में आ रहा हैं जब छात्रों को दाखिला लेने के लिए भी प्रदर्शन करने पड़ रहे हैं। पिछले कई सालों से लगातार सीटें बढ़ती आ रही थीं लेकिन इस बार भाजपा-जजपा सरकार की जुगलबंदी में छात्रों के अधिकरों का जमकर हनन किया जा रहा हैं। पिछले 20-22 दिनों से लगातार मांग करने के बावजूद भी सीटे नही बढ़ाई गई हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को बिना विलंब के सीट बढ़ाकर छात्रों को राहत देंनी चाहिए। 

इस मौके पर छात्र नेता दीपांशु, भूमिका, अंशु, नितिन मित्तल, ओमप्रकाश, अंकुश, रंजन, आसिफ, रजनीश, अमरेंद्र, ललित, सतीश, दीपक, अमित, अजय, रोहित, संदीप आदि मौजूद थे।

30 नवंबर तक विद्यार्थियों और अध्यापकों के लिए स्कूल बंद, CM ने दिए आदेश

haryana-schools-closed-for-students-and-teacher-till-30-november

फरीदाबाद, 20 नवंबर: हरियाणा सरकार ने कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर तथा स्कूली विद्यार्थियों के स्वास्थ्य को देखते हुए राज्य के सभी सरकारी व प्राइवेट स्कूलों को, विद्यार्थियों व अध्यापकों के लिए आगामी 30 नवंबर, 2020 तक बंद करने का निर्णय लिया है। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा सरकार ने 9 वीं से 12 वीं तक के स्कूलों को कुछ दिनों पहले खोला था लेकिन छात्रों और अध्यापकों में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने लगा जिसके बाद स्कूलों को फिर से बंद कर दिया गया है. 

आईटीआई में छात्रों को मिलेगी दोहरी प्रशिक्षण प्रणाली के तहत ट्रेनिंग, दाखिला शुरू

faridabad-iti-news-admission-and-training

फरीदाबाद, 12 नवम्बर। उपायुक्त यशपाल के कुशल मार्ग दर्शन में आईटीआई के अंर्तगत युवाओ की दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। 

यह जानकारी आज आईटीआई प्रिंसिपल ने देते हुए बताया कि दोहरी प्रशिक्षण प्रणाली के विषय में आईटीआई में दाखिला लेने वाले उम्मीदवारों के मन में संशय की स्थिति है। जिसके कारण इस योजना के तहत चल रहे व्यवसाय में अभी तक चतुर्थ काउंसलिंग तक कम दाखिले होना विशेष कारण रहा है। दोहरी प्रशिक्षण प्रणाली आईटीआई में पूर्व में चल रही सीटीएस प्रणाली के तहत व्यवसायियों का नवीनतम रूप है। जिसके तहत छात्र के हुनर को निखारने के लिए प्रैक्टिकल ट्रेनिंग संस्थान में नए करवा कर उद्योगों में उपलब्ध नवीनतम मशीनरी पर उद्योगों के कुशल सुपरवाइजर वह आईटीआई के अनुदेशक की देखरेख में कराई जाती है। 

उन्होंने बताया कि इन व्यवसायियों में न्यूनतम आयु 18 वर्ष होने के कारण कम मेरिट वाले उम्मीदवारों को दाखिला लेने का सुनहरा अवसर है क्योंकि आईटीआई में दाखिला लेने वाले इस आयोग के कम उम्मीदवार होते हैं। पूर्व में इस प्रणाली के तहत प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके छात्रों को संबंधित प्रतिष्ठानों द्वारा सभी छात्रों को शत प्रतिशत जॉब ऑफर प्रदान कर दिया गया है। इस संस्थान में विभिन्न औद्योगिक प्रतिष्ठानों के साथ दोहरी प्रशिक्षण प्रणाली के तहत वेल्डर व्यवसाय की 5 कक्षाएं चल रही है। वे व्यवसाय से प्रशिक्षण ग्रहण कर चुके छात्रों की उद्योगों में अत्यधिक मांग है अतः कम अंक वाले छात्र-छात्राएं जिनका अभी तक किसी भी व्यवसाय में दाखिला नहीं हुआ है। 

वह इस व्यवसाय में दाखिला लेकर अपना भविष्य उज्जवल कर सकते हैं अधिकतर छात्रों को अभी तक उनकी मनपसंद व्यवसाय में दाखिला नहीं मिला है क्योंकि वह पसंद की संस्थान वह व्यवसाय भरने से पूर्व रिक्त सीटों के अनुसार अपनी पसंद नहीं भरते हैं और ना ही दाखिला विवरण पत्रिका को ध्यान से पढ़ते हैं इससे बचने के लिए उम्मीदवारों को समय-समय पर विभागीय वेबसाइट www.itiharyana.gov.in का अवलोकन करते रहना चाहिए वे विभाग द्वारा उपलब्ध कराए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करना चाहिए ताकि अपनी पसंद का संस्थान व्यवसाय भरने में किसी प्रकार की गलती ना हो फिर भी कोई संशय शेष रहता है। तो वह अपनी नजदीकी सरकारी आईटीआई में संपर्क कर सकता है चतुर्थ काउंसलिंग के तहत जिन उम्मीदवारों को सीट आवंटित हुई है वह दिनांक 14 नवम्बर 2020 तक फीस अवश्य जमा करा दें अन्यथा अगले राउंड की काउंसलिंग में हिस्सा लेने हेतु उन्हें पेनल्टी जमा करानी पड़ेगी।

बाल महोत्सव में कैसे भाग ले सकते हैं फरीदाबाद के बच्चे, पढ़िए पूरा प्रोसेस और देखिये लिंक

how-to-participate-haryana-faridabad-bal-mahotsava-online-2020

फरीदाबाद, 17 अक्टूबर: हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा मनाए जा रहे ऑनलाईन बाल महोत्सव 2020 में फरीदाबाद के 18 वर्ष की आयु वर्ग तक के सभी बच्चे बढ़-चढ़कर भाग ले सकते हैं. कोविड-19 महामारी के चलते बच्चों की प्रतिभा को निखारने और उनके चुँहुमुखी विकास के लिए ऑनलाईन प्रतियोगिताओं के लिए मंच तैयार किया गया है जिसका सभी बच्चों को फायदा उठाना चाहिए। 

23 प्रकार की विभिन्न प्रतियोगिताओं को 71 ग्रुपों में करवाया जा रहा है यह प्रतियोगिताएं 10 अक्टूबर से शुरू हो चुकी है और आगामी 10 नवंबर तक चलेंगी।

इस प्रतियोगिता में ऑनलाइन भाग लेने के लिए फरीदाबाद के बच्चे नीचे लिंक पर क्लिक करके अपनी केटेगरी चुनें और आयु वर्ग पर क्लिक करके पूरा फॉर्म भरें और फाइल को अपलोड करें। नीचे वाले लिंक पर क्लिक करके पूरी जानकारी पढ़ सकते हैं - 


मान लो आपको डांस कम्पटीशन में भाग लेना है तो घर पर ही डांस वीडियो बनाकर ऑनलाइन अपलोड कर दें, अगर आपको पेंटिंग में भाग लेना है तो घर पर पेंटिंग बनाकर फाइल अपलोड कर दें. नीचे हम सभी प्रतियोगिताओं की Category का लिंक दे रहे हैं, आप अपनी Category पर क्लिक करके भाग ले सकते हैं - 


उपरोक्त प्रतियोगिताओं में भाग लेना बेहद आसान है, मान लो आप खुद को बेहतर ड्रामेबाज साबित करना चाहते हैं तो ड्रामेबाजी का एक वीडियो बनाएं और ड्रामेबाज लिंक पर क्लिक करके अपनी उम्र वर्ग चुनें और फॉर्म भरकर नीचे वीडियो अपलोड कर दें, इसी तरह से सभी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया जा सकता है.

अगर Essay यानी निबंध प्रतियोगिता में हिस्सा लेना चाहते हैं तो एक पेपर पर Essay लिखें और पेपर स्कैन करके फाइल अपलोड कर दें.

Haryana: सरकारी स्कूलों में 9वीं, 10वीं, 11वीं, 12वीं कक्षा में 31 अक्टूबर तक ले सकेंगे दाखिला

 haryana-government-order-sarkari-school-admission-news

फरीदाबाद: हरियाणा में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए खुशखबरी है, 9वीं और 11वीं में दाखिले का समय बढाकर 31 अक्टूबर कर दिया गया है, इसी तरह से 10वीं और 12वीं बोर्ड कक्षाओं में भी 31 अक्टूबर 2020 तक दाखिला लिया जा सकेगा। इसके अलावा MIS पोर्टल पर 10वीं और 12वीं बोर्ड कक्षाओं में 31 अक्टूबर तक विषय बदला जा सकता है.

कोरोना से फैली महामारी की वजह से सरकार ने यह फैसला लिया है, 31 अक्टूबर तक ही लॉक डाउन है, हो सकता है उसके बाद लॉक डाउन ख़त्म कर दिया जाए लेकिन अभी यह कन्फर्म नहीं है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्राइवेट स्कूलों में मंहगी फीस से परेशान लोग अब सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों का दाखिला करवा रहे हैं. 

बहुत सारे लोग प्राइवेट स्कूलों से अपने बच्चों का नाम कटवाकर सरकारी स्कूलों में दाखिला करवा रहे हैं, ऐसे लोग भी सरकार के इस आदेश का फायदा उठा सकते हैं.

haryana-government-order-sarkari-school-admission


Faridabad: 10 अक्टूबर से 10 नवंबर, ऑनलाईन बाल महोत्सव कार्यक्रम की हुई शुरुआत

 faridabad-haryana-online-bal-mahotsava-program-started

फरीदाबाद, 10 अक्टूबर: फरीदाबाद, 10 अक्टूबर। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी बाल दिवस के उपलक्ष्य में बाल महोत्सव 2020 का आयोजन कर रही है। इस बार राज्य स्तरीय बाल महोत्सव बदलाव के संदेश से ओतप्रोत होगा। 

इस बार राज्य स्तरीय बाल महोत्सव कई मायने में ऐतिहासिक होने वाला है। बच्चे घर बैठे परिषद की ओर से आयोजित राज्य स्तरीय बाल महोत्सव में भाग ले सकते हैं। कोरोना महामारी को देखते हुए व बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए इस बार बच्चों की सभी प्रतियोगिताएं दिनांक 10 अक्टूबर से 10 नवंबर तक ऑनलाईन आयोजित की जाएंगी, जिसके लिए राज्य स्तर पर एक वेबसाइट www.childwelfareharyana.com/balmahotsav विकसित की गई है, जिस पर बच्चे अपनी प्रविष्टियां वीडियो व फोटो अपलोड कर सकते हैं।

आज जिला स्तर पर जिला बाल कल्याण परिषद, फरीदाबाद द्वारा बाल महोत्सव 2020 का ऑनलाईन प्रतियोगिताओं का शुभारंभ सुमन बाला, मेयर, नगर निगम, फरीदाबाद द्वारा दीप प्रज्वलित करके किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने वेबसाइट लिंक को खोल कर भी इन प्रतियोगिताओं का संचालन किया। 

उन्होंने इस अवसर पर कहा कि यह हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की एक अनूठी व ऐतिहासिक पहल है।  इन ऑनलाईन प्रतियोगितयों में कोई भी बच्चा भाग ले सकता है व एक से अधिक प्रतियोगिताओं में भी भाग ले सकता है। सबसे विशेष बात यह है कि यह अबकी बार ब्लॉक लेवल से शुरुआत की गई है, जिसमें काफी संख्या में बच्चे लाभ प्राप्त करेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि चाहे बच्चा स्कूल में पड़ता है या वह नहीं पड़ता है वो सभी 18 साल तक इन प्रतियोगिताओं में  भाग ले सकते हैं।

इस अवसर पर जिला बाल कल्याण अधिकारी, फरीदाबाद एस. एल. खत्री ने मुख्य अतिथि मेयर सुमन बाला का गुलदस्ता देकर सम्मानित किया। मंच संचालन उदय चंद लेखाकार ने किया व सभी से आह्वान किया कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के मानद महासचिव कृष्ण ढुल के सपने को जरूर साकार करें। उनका यह संदेश है कि बाल महोत्सव का उद्देश्य बच्चों में छिपी प्रतिभा को निखारने व उनके सपनों को उड़ान भरने के लिए एक बड़ा मंच प्रदान करना है। 

इस अवसर पर विशेष रूप से आजीवन सदस्य लाखन सिंह लोधी, आर पी हंस , रूप सिंह लोधी, केदारनाथ अग्रवाल, चौधरी प्रवीण गर्ग, गजना लांबा, सुषमा यादव आदि मौजूद रहे। 

Faridabad: इस बार Online होगा राज्य स्तरीय बाल महोत्सव का आयोजन, पढ़ें कैसे ले सकते हैं हिस्सा


फरीदाबाद, 10 अक्टूबर। उपायुक्त यशपाल ने कहा कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा इस बार कोरोना कोविड-19 की महामारी को देखते हुए राज्य स्तरीय बाल महोत्सव को ऑनलाईन आयोजित करने का निर्णय लिया है। 

महोत्सव में भाग लेने वाले बच्चे www.childwelfareharyana.com पर ऑनलाईन ले सकते हैं हिस्सा ले सकते हैं। उपायुक्त यशपाल शुक्रवार को लघु सचिवालय के छठे तल स्थित कॉन्फ्रेंस हाल में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। 

उपायुक्त ने कहा कि प्रदेश के बच्चों की चहुंमुखी प्रतिभा को मंच प्रदान करने के लिए हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि इस बार राज्य स्तरीय बाल महोत्सव बदलाव के संदेश से ओतप्रोत रहेगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं भारत व हरियाणा सरकार के निर्देशानुसार बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए इस बार सभी प्रतियोगिताएं ऑनलाईन करवाई जा रही हैं। इससे पहले भी परिषद द्वारा ऑनलाईन ही जय हिंद व रंगमंच प्रतियोगिता भी आयोजित करवाई गई थी। उन्होंने कहा कि इस बार भी लाखों बच्चे घर बैठे ही इस प्रतियोगिता के लिए उत्साहित हैं।

पत्रकारों को जानकारी देते हुए उपायुक्त ने आवाहन किया कि इस संबंध में अधिक से अधिक बच्चों को जागरूक करें ताकि वह अपने घरों में रहकर ही इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकें। 

उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि अगर कोई बच्चा डांस करना चाहता है तो वह घर में ही नृत्य कर उसका वीडियो बनाकर हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के पोर्टल पर अपलोड कर दे। 

उपायुक्त ने बताया कि प्रतियोगिता के लिए 23 अलग-अलग विषय रखे गए हैं। इनमें एकल नृत्य (क्लासिक), एकल नृत्य (फिल्मी), एकल नृत्य (फोक), ग्रुप नृत्य-(क्लासिकल), ग्रुप नृत्य (फिल्मी), ग्रुप नृत्य (फोक) के लिए 3 से 5, 5 से 10, 10 से 14 और 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे भाग ले सकते हैं। इसके लिए वह 2 से 3 मिनट का वीडियो बनाकर अपलोड www.childwelfareharyana.com/balmahotsav  पर अपलोड कर सकते हैं। इसके लिए विषयवस्तु कोई भी हो सकती है। साथ ही फैंसी ड्रैस प्रतियोगिता में 3-5 वर्ष के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं और उन्हें अपना फोटो अपलोड करना होगा। वहीं श्रेष्ठ ड्रामेबाज के लिए 5 से 10 व 5 से 10 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं और इन्हें भी 2 से 3 मिनट का वीडियो बनाकर अपलोड कर सकते हैं। क्ले माडलिंग व कार्ड मेकिंग, दिया मोमबत्ती की सजावट में 3 से 5, 5 से 10, 10 से 14 और 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। इसके लिए उन्हें अपना फोटो पोर्टल पर अपलोड करना होगा। स्केचिंग में 5-10, 10-14 व 14-18 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। इसके लिए पांच विषय रखे गए हैं। 

इनमें कोई भी प्रभावशाली व्यक्ति, कोरोना वारियर (डॉक्टर, पुलिस व अन्य) स्केचिंग स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी, किसी भी खिलाड़ी का स्कैच, किसी भी यात्रा या प्रसिद्ध स्थल का स्केच हो सकता है। 

पोस्टर मेकिंग के लिए आत्मनिर्भर भारत, कोरोना प्रभावित संसार, ऑनलाईन शिक्षा के लाभ-हानि, कोविड-19 में साफ-सफाई व स्वच्छता की प्रथाएं व अभ्यास विषय पर 5 से 10, 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। देश भक्ति ग्रुप गीत में 5 से 10, 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। इसके लिए उन्हें 2 से 3 मिनट का वीडियो डालना होगा। 

निबंध में हिंदी या अंग्रेजी विषय में से किसी एक भाषा को चुने इसके लिए स्व-परिवर्तन से ही विश्व परिवर्तन होगा, परिवर्तन संसार का नियम है, कोविड-19 महामारी, बाल अधिकार और प्रकृति संरक्षण विषय रखे गए हैं। इस प्रतियोगिता के लिए 5 से 10 वर्ष के बच्चे 200 शब्दों में, 10 से 14 वर्ष के बच्चे 300 शब्दों में और 14 से 18 वर्ष तक के बच्चे 500 शब्दों में अपना निबंध लिखकर उसकी फोटो भेज सकते हैं। डेक्लामेशन के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020, मोबाईल शिक्ष में साधक या बाध, बाल अधिकार, राष्ट्रीय निर्माण में युवाओं की भूमिका, नशा नाश का वार और परिवर्तन समाज का नियम है विषय रखे गए हैं। 

इस प्रतियोगिता में 5 से 10, 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। एकल गीत में किसी भी विषय पर 3 से 5, 5 से 10, 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे दो से तीन मिनट का गीत, देशभक्ति गीत में 3 से 5, 5 से 10, 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे दो से तीन मिनट का गीत, कलश की सजावट प्रतियोगिता में 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग, रंगोली में 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग, फेस पेंटिंग प्रतियोगिता में अनेकता में एकता, किसी भी देश का झंडा, कोई भी खेल, विषय पर पेंटिंग कर सकते हैं। इसके लिए हर्बल रंगों का प्रयोग ही करें। 

फोटोग्राफी में 10 से 14 व 14 से 18 आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। बेबी शो में 6 माह से एक वर्ष, एक से दो वर्ष व दो से तीन वर्ष आयु वर्ग के बच्चे हिस्सा ले सकते हैं। इसके लिए उनके 30 से 35 सेकेंड के वीडियो बनाकर अपलोड करने होंगे। पत्रकार वार्ता के दौरान जिला बाल कल्याण अधिकारी एस.एल. खत्री, उदय चंद व मांगे राम भी मौजूद थे।

Faridabad: केंद्रीय विद्यालय नंबर-3 के भवन को रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने किया जनता को समर्पित

 faridabad-news-union-miniter-ramesh-pokharial-nishank-kendriya-vidyalaya

फरीदाबाद, 08 अक्टूबर। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि केंद्रीय विद्यालय देश की शान हैं और इनमें पढऩे वाले बच्चे पहली पंक्ति में खड़े होकर देश की शान बढ़ाते हैं। यह विद्यालय अनुशासन और संस्कारों की बेहतरीन पाठशाला भी हैं। 

केंद्रीय शिक्षा मंत्री गुरुवार को शहर के केंद्रीय विद्यालय नंबर-3 के भवन का ऑनलाईन उद्घाटन कर रहे थे। इस दौरान फरीदाबाद से बडख़ल की विधायक सीमा त्रिखा व उपायुक्त यशपाल इस कार्यक्रम में शामिल हुए।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा आज एक साथ देश के चार केंद्रीय स्कूलों के भवनों का उद्घाटन किया जा रहा है। इनमें दो उड़ीसा, एक राजस्थान और एक हरियाणा के फरीदाबाद से है। 

उन्होंने कहा कि केंद्रीय विद्यालयों में छात्रों के दाखिले के लिए काफी दबाव रहता है। इन विद्यालयों ने बहुत से बच्चों को तराशा है और भविष्य में यहां और अधिक बच्चों को शिक्षा लेने का मौका मिले इसलिए हम लगातार इन विद्यालयों की संख्या बढ़ा रहे हैं।

ऑनलाईन संबोधित करते हुए केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि फरीदाबाद में आज जिस भवन को समर्पित किया गया है यहां वर्ष 2003-04 से भवन से मांग की जा रही थी। अब यहां पर बच्चों के लिए पांच एकड़ में 20.19 लाख रुपये की लागत से नए भवन का निर्माण कर इसे शिक्षा के लिए समर्पित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यहां बच्चों के लिए खेल व अन्य सुविधाओं की भी व्यवस्था की गई है। 

उद्घाटन कार्यक्रम में डीसी के.वी.एस. गुडग़ांव संभाग एस.एस. चौहान, गुडग़ांव संभाग के तीन सहायक आयुक्त कांता रानी चुघ, मीना कुलश्रेष्ठ, ओमवीर सिंह, गुडग़ांव संभाग के के.वी.एस. के प्रशासनिक अधिकारी पुष्पेंद्र कुमार और प्राचार्य केवी-3 प्रेमलता समनौल भी मौजूद थी।

Faridabad में कचरे का उचित इस्तेमाल कर रहे हैं ये बच्चे, बोतल में भरकर बना रहे दीवार

faridabad-plastic-bottle-bricks-by-poor-news

फरीदाबाद, 8 अक्टूबर: फरीदाबाद में झुग्गी बस्ती के बच्चों और युवकों ने साबित किया है कि थोड़ी सी रचनात्मकता और सामूहिक प्रयास की मदद से  स्थानीय परिवेश में बड़ा बदलाव लाया जा सकता है। ये बच्चे एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेज के बाल-पंचायत के सक्रिय भागीदार हैं। यह बाल पंचायत बच्चों एवं उनके परिवारों को प्रभावित करने वाली समस्याओं के लिए समाधान ढूंढने एवं उनके बारे में विचार–विमर्श करने का एक मंच है।

जब बाल पंचायत ने अपने समुदाय में बढ़ते प्लास्टिक कचरे का मुद्दा उठाया, तो उन्होंने प्लास्टिक कचरे को पुन: उपयोग करने योग्य बिल्डिंग ब्लॉक्स बनाने के लिए अपसाइक्लिंग की अवधारणा (अपशिष्ट पदार्थों को अधिक मूल्य के नए उत्पादों में बदलने की प्रक्रिया) का प्रयास करने का निर्णय लिया।

एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेज की देखभाल करने वालों और एक स्थानीय संगठन के स्वयंसेवकों के सहयोग से, बच्चों ने सीखा कि बेकार प्लास्टिक (उपयोग किए गए और फेंके गए प्लास्टिक / कैरी बैग, रैपर, आदि) को प्लास्टिक वाटर बॉटल्स के भीतर कैसे भरते हैं और उन्हें कैसे बॉटल ब्रिक में बदलते हैं। ये ब्रिक घनत्व वाले होते हैं ओर मिट्टी की ईंटों की तरह मजबूत और टिकाऊ होते हैं और इनका उपयोग छोटे–छोटे निर्माण में किया जा सकता है।

हर रविवार को, बाल-पंचायत के बच्चे अपने घर से कुछ घंटों का समय निकाल कर 4000 से अधिक घरों वाले समुदाय में से प्लास्टिक कचरा और पानी की बोतलें इकट्ठा करते हैं। वे सामुदायिक कार्य केंद्र में एकत्रित होते हैं और वहां जमा किए गए प्लास्टिक कचरे से बोतल की ईंटें बनाईं। धीरे-धीरे, उन्होंने लगभग 300 बोतल ईंटें बना ली, जिनमें से प्रत्येक का वजन लगभग 200 ग्राम होता है। इन ईंटों से उन्होंने बेंचों का निर्माण किया और एनिमेटरों और एसओएस चिल्ड्रेन्स विलेज के सहकर्मियों के सहयोग से उन बेंचों को समुदाय में लगाया।

बाल पंचायत के बच्चों ने बोतल की ईंटों को इको-ईंट का नाम दिया है - क्योंकि ये ईंटें पर्यावरण के विशाल मूल्य का प्रतिनिधित्व करती हैं। इन ईंटों के कारण घरेलू प्लास्टिक कचरे को नालों में जाने तथा इन प्लास्टिक कचरे को विषाक्त पदार्थों या सूक्ष्म प्लास्टिक बनने से रोका जा रहा है और इस तरह से भोजन और पानी को दूषित होने से रोका जा रहा है।उनकी भविष्य की योजना बेंच और डस्टबिन जैसी संरचनाओं का निर्माण करने के लिए अधिक से अधिक इको ईंटें बनाने की है ताकि ऑटो पिन स्लम समुदाय की स्थानीय आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके। 

मेधावी छात्रवृति योजना के लिए 30 अक्टूबर 2020 तक कर सकते हैं आवेदन: उपायुक्त यशपाल

faridabad-dc-yashpal-yadav-invited-application-for-meghavi-chhatra

फरीदाबाद, 07 अक्टूबर। उपायुक्त यशपाल ने बताया कि अनुसूचित जाति एवं पिछड़े वर्ग, कल्याण विभाग, हरियाणा द्वारा चलाई जा रही डॉ. बी.आर. अंबेडकर मेधावी छात्रवृति संशोधित योजना के वर्ष 2020-21 में छात्र/छात्राओ की छात्रवृति हेतु ऑन-लाईन आवेदन पत्र विभागीय वैबसाईट पर दिनांक 11.09.2020 से लेकर 30.10.2020 तक प्राप्त किये जायेगें। 

उन्होंने बताया गया कि शिक्षा के क्षेत्र में निरन्तर बढ़ रही प्रतिस्पर्धा के युग में अनुसूचित जाति एवं पिछड़े वर्गो के छात्र/छात्राओं को सामान्य श्रेणी के छात्रों के साथ प्रतिस्पर्धा रखने हेतु तथा उन्हें सक्षम बनाने के लिये आर्थिक सहायता प्रदान करना एवं मैट्रिक से स्नातकोत्तर कक्षाओं में अधिक से अधिक अंक प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना है। 

उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति से सम्बन्धित छात्र/छात्राओं द्वारा मैट्रिक में 60 प्रतिशत ग्रामीण,  70 प्रतिशत शहरी अथवा बाहरवीं की बोर्ड परीक्षा में 70 प्रतिशत ग्रामीण तथा 75 प्रतिशत शहरी व स्नात्तक डीग्री में ग्रामीण क्षेत्र में 60 प्रतिशत तथा 65 प्रतिशत शहरी क्षेत्र में अंक प्राप्त किये होने चाहिये। पिछड़े वर्ग-ए जाति से सम्बन्धित छात्र/छात्रों ने मैट्रिक में 60 प्रतिशत ग्रामीण,  70 प्रतिशत शहरी तथा पिछड़े वर्ग-बी जाति से सम्बन्धित छात्र/छात्राओ द्वारा मैट्रिक में 75 प्रतिशत ग्रामीण,  80 प्रतिशत शहरी क्षेत्र में अंक प्राप्त किये जाने अनिवार्य है। 

उक्त योजना के तहत छात्र/छात्रा द्वारा पास की गई पास की गई कक्षा की मार्कशीट, हरियाणा का स्थाई निवासी हो, जाति प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, बैंक खाता, वर्तमान कक्षा का आई.डी. कार्ड तथा माता-पिता तथा अभिभावक की 04 लाख तक का आय प्रमाण होना अनिवार्य है। निर्धारित तिथि के बाद प्राप्त आवेदन पत्रों पर कोई विचार नहीं किया जायेगा।

छात्र संगठन ABVP ने महान आत्मा महात्मा गाँधी और लाल बाबादुर शास्त्री को दी श्रद्धांजली

faridabad-abvp-tribute-mahatma-gandhi-lal-babadur-shastri-du


फरीदाबाद, 2 अक्टूबर: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद दिल्ली विश्वविद्यालय इकाई द्वारा आज नॉर्थ कैंपस दिल्ली विश्वविद्यालय में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया , इस अवसर पर उपस्थित छात्रों ने महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शास्त्री के योगदान पर अपने विचार प्रस्तुत किए ।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद दिल्ली विश्वविद्यालय इकाई के मंत्री रोहित शर्मा ने कहा कि " महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शास्त्री इन दोनों महापुरुषों का आधुनिक भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान रहा है । गांधी जी ने आधुनिक भारत के मानस के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ‌। आज हम सभी युवाओं को उनके दिखाए रास्ते पर चलकर देश के निर्माण में बेहतर योगदान करने के लिए अग्रसर रहना होगा ‌। लाल बहादुर शास्त्री जी ने देश के सामने स्वतंत्रता के बाद के वर्षों में आए संकटों को अपने सीमित कार्यकाल में दूर किया । "

फीस वसूली: हाईकोर्ट ने छात्रों और शिक्षकों के लिए दिया बढ़िया आर्डर, निजी स्कूलों को बड़ा झटका

 punjab-and-haryana-high-court-order-school-fees-1-october

फरीदाबाद, 1अक्टूबर: फरीदाबाद हरियाणा के निजी स्कूलों की फीस को लेकर पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने जनता के लिए राहतभरा आदेश दिया है.

हाई कोर्ट ने साफ़ साफ़ कर दिया है कि प्राइवेट स्कूल सिर्फ ट्यूशन फीस ले सकते हैं वो भी तब, जब छात्रों को ऑनलाइन क्लास दी हो. ऑनलाइन क्लास नहीं तो ट्यूशन भी नहीं ली जाएगी।

इसके अलावा हाई कोर्ट ने यह भी कहा है कि लॉक डाउन के बाद से बसें बंद हैं इसलिए निजी स्कूल छात्रों से ट्रांसपोर्टेशन फीस नहीं ले सकते।

तीसरा आदेश यह दिया गया है कि निजी स्कूल इस आदेश के दो हप्ते के अंदर पिछले 7 महीनें की बैलेंस शीट किसी मान्यता प्राप्त CA से वेरिफाई करवाकर जमा करें।

चौथा आदेश शिक्षकों के  लिए है - हाई कोर्ट ने कहा है कि प्राइवेट स्कूलों सभी शिक्षकों को हर महीनें की सैलरी देंगे। किसी की सैलरी रोकी नहीं जाएगी। लॉक डाउन से पहले जितनी सैलरी मिलती थी वही सैलरी मिलनी चाहिए।

highcourt-order-tution-fees


high-court-order-2

आर्थिक रूप से कमजोर स्कूली छात्रों के लिए 25 दिनों से 'बस्ती की पाठशाला' चला रहे हैं DU छात्र

 basti-ki-pathshala-by-du-student-to-teach-poor

नई दिल्ली ,सोमवार 28 सितंबर: कोरोनावायरस के कारण छात्र स्कूल नहीं जा पा रहे हैं और बहुत सारे छात्रों के पास आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के चलते ऑनलाइन पढ़ने की भी व्यवस्था नहीं है , ऐसे में दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ तथा स्टूडेंट्स फ़ॉर सेवा के माध्यम दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र दिल्ली में कुल 18 जगहों पर जाकर लगभग 450 छात्रों को पढ़ा रहे हैं ।

ऐसी ही एक पाठशाला दिल्ली विश्वविद्यालय के निकट स्थित तिमारपुर बस्ती में चल रही है, जहां पर दिल्ली विश्वविद्यालय की लक्ष्मीबाई कॉलेज की छात्राएं नियमित रूप से जाकर वहां पर बस्ती के आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को पढ़ा रही हैं। बस्ती की पाठशाला में स्कूली बच्चों को गणित, विज्ञान, हिंदी, अंग्रेजी जैसे विषयों को पढ़ाया जाता है। तिमारपुर की 'बस्ती की पाठशाला' में लगभग 50 स्कूली छात्र पढ़ रहे हैं।

तिमारपुर 'बस्ती की पाठशाला' की संयोजक मानसी राणा ने कहा कि  'हम लगभग बीते 25 दिनों से लगातार इन छात्रों को पढ़ा रहे हैं, हमारी यह कोशिश है कि लॉकडाउन के कारण इन छात्रों की पढ़ाई का जो भी नुकसान हुआ है, उसे हम छात्र वालंटियर करके इन्हें पढ़ा सकें। 

बस्ती की पाठशाला में हम लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं तथा एक-दूसरे की सुरक्षा का भी ध्यान रख रहे हैं। दिल्ली विश्वविद्यालय से कई वालंटियर्स बस्ती की पाठशाला में पढ़ाकर इस प्रयास को सफल बनाने में जुटे हैं । " तीमारपुर में स्कूली छात्रों को पढ़ाने के लिए लक्ष्मीबाई कॉलेज की मानसी राणा साक्षी , काजोल , वैष्णवी , इशिका , महिमा , मंजू आदि छात्राएं नियमित रूप से वालंटियर्स के रूप में कार्य कर रही हैं ।

हरियाणा में प्राइवेट स्कूलों की फीस-वसूली से परेशान अभिभावकों को हाईकोर्ट ने दी राहत, पढ़ें आदेश

 haryana-private-school-cant-take-transportation-charges-hc-order

फरीदाबाद, 24 सितम्बर: हरियाणा में प्राइवेट स्कूलों की फीस वसूली से परेशान अभिभावकों को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने फिलहाल राहत दी है, प्राइवेट स्कूलों को ट्रांसपोर्टेशन चार्जेज नहीं वसूलने के  आदेश दिए गए हैं साथ ही सिर्फ 50 पर्सेंट एनुअल चार्ज वसूलने के आदेश दिए गए हैं. 

इससे पहले पंजाब स्कूलों के लिए दिए गए एक आदेश को हरियाणा के लिए भी रेफर कर दिया गया था जिसकी वजह से प्राइवेट स्कूलों ने हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए ट्रांसपोर्टेशन फीस और एनुअल चार्ज वसूलना शुरू कर दिया जिसकी वजह से जनता परेशान हो गयी.

इस आदेश को फिर से चैलेंज दिया गया जिसके बाद पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने हरियाणा के निजी स्कूलों के लिए इंटरिम आर्डर दिया है, आगामी 1 अक्टूबर 2020 को फिर से इस मामले की सुनवाई होगी, उसके बाद फाइनल आदेश आ सकता है, फिलहाल हाईकोर्ट का यही आदेश लागू रहेगा। देखिये आर्डर की कॉपी - 

haryana-high-court-order-school-fees-24-september-2020

Faridabad: 9-12 तक के विद्यार्थी आ सकते हैं विद्यालय लेकिन इन सब शर्तों का करना होगा पालन, पढ़ें

faridabad-news-school-open-9-12-with-sop-corona-virus-infection

फरीदाबाद, 19 सितम्बर। उपायुक्त यशपाल के दिशा-निर्देशानुसार कोविड-19 के कोऑर्डिनेटर डॉ. एम.पी. सिंह ने एमएचए (मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स) द्वारा जारी की गई एसओपी (स्टैंड ओपरेटिंग पोसिजर) के बारे में राजकीय बालिका वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय एनआईटी फरीदाबाद में जागरूकता के लिए एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया। 

इस सेमीनार में उन्होंने कहा कि नौवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थी वॉयलेएंट्री बेसिस पर अपने माता-पिता की अनुमति से अध्यापकों का मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिए विद्यालय आ सकते हैं। लेकिन इन्हें दो गज की दूरी बनाकर रखनी होगी तथा मुंह पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा। साबुन से हाथों को धोने का प्रावधान विद्यालय में होगा तथा गेट पर सैनिटाईजर, डिस्पेंसर होगा ताकि सभी विद्यार्थी और अध्यापक अपने हाथों को सैनिटाईज करने के बाद ही अपने कक्षा में जा सके इसके साथ थर्मल स्क्रीनिंग भी उनकी गेट पर की जाएगी। यदि किसी को छींक आती है या खांसी होती है तो उसके लिए अध्यापकों को सुपरविजन करना होगा तथा अति शीघ्र जिला प्रशासन की हेल्पलाइन 1950 या राज्य की हेल्पलाइन 1075 पर सूचना देनी होगी यदि कोई विद्यार्थी या अध्यापक बीमारी की स्थिति में विद्यालय आते हैं तो उन्हें तुरंत सरकारी अस्पताल को बताना होगा। 

डॉ. एम.पी. सिंह ने कहा कि कंटेनमेंट जोन में रहने वाले विद्यार्थी और अध्यापकों को विद्यालय नहीं आना चाहिए जिन विद्यालयों में क्वारेंटाइन सेंटर बना हुआ है। उनको प्रतिदिन सैनिटाईज करना होगा तथा विद्यालय में 50 फ़ीसदी अध्यापकों को ही मार्गदर्शन देने के लिए बुलाना होगा, बुलाने से पहले उनका कोविड टेस्ट होना अनिवार्य है। किसी भी अध्यापक और विद्यार्थी को सार्वजनिक स्थान पर थूकना बिल्कुल मना है। सभी मोबाइलों में आरोग्य सेतु एप होना अनिवार्य है। 

उन्होंने कहा कि पुस्तकालय प्रयोगशाला व कॉमन यूटिलिटी एरिया को 1%  सोडियम हाइपोक्लोराइड सॉल्यूशन से सैनिटाईज करना होगा बायोमेट्रिक, अटेंडेंस की बजाए किसी अन्य तरीके को हाजिरी के लिए अपनाना होगा,  हाउस कीपर, सेवादार प्रशिक्षित होने चाहिए ताकि वेस्टमैट्रियल और डिस्पोजल को सावधानीपूर्वक उठा सकें और संक्रमण से बच सकें,  टॉयलेट बाथरूम की विशेष साफ-सफाई का ध्यान रखना होगा। 

इसके अलावा उन्होंने कहा कि अपनी सुरक्षा में ही सभी की सुरक्षा है, उन्होंने कहा कि अभिवादन के लिए हमें हाथ नहीं मिलाने चाहिए और गले भी नहीं लगना चाहिए, किसी का भोजन शेयर करके प्यार नहीं जताना चाहिए, पानी की बोतल भी अपनी अलग ही होनी चाहिए, अपनी पुस्तक व कलम अन्य किसी को नहीं देनी चाहिए, किसी दूसरे की कुर्सी का भी प्रयोग नहीं करना चाहिए एक दूसरे के पास तभी जाना चाहिए जब बहुत जरूरी हो अन्यथा एवॉइड करना चाहिए। जागरूकता ही इस कोरोना वायरस का बचाव है। 

मार्गदर्शन करते व पढ़ाते समय विशेष एहतियात बरतने की जरूरत है। पढ़ाई से संबंधित सामग्री जैसे डस्टर, मारकर, चौक अपना अपने पास ही रखें बार-बार किसी के हाथ नहीं लगने चाहिए। इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाचार्य संजीव चावला ने डॉ. एम.पी. सिंह का स्वागत किया तथा विद्यालय की वाइस प्रिंसिपल रसायन विज्ञान की प्रवक्ता पूनम ने महत्वपूर्ण जानकारियों व मार्गदर्शन देने के लिए डॉ. एम.पी. सिंह का आभार जता कर उन्हें आश्वस्त किया कि स्कूल प्रबंधन एमएचए (मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स) तथा जिला प्रशासन के द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की अनुपालना के साथ ही भविष्य में काम करेंगे।

उपमंडल अधिकारी का शिक्षकों को आदेश, बच्चों को ऑनलाइन ढंग से पढ़ाएं, सब कुछ अच्छे से समझाएं

sarkari-teacher-should-teach-students-online-with-full-capacity

फरीदाबाद, 15 सितम्बर। उपमंडल अधिकारी (ना.) फरीदाबाद जितेंद्र कुमार ने कहा कि कोरोना महामारी के बाद हम आपातकाल की स्थिति में है। इस तरह की स्थिति में बच्चों को शिक्षित करना हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी है। इसी जिम्मेदारी को समझते हुए हमें ऑनलाईन तरीके से प्रत्येक विद्यार्थी तक कक्षा का लाभ पहुंचाना है। उपमंडल अधिकारी (ना.) फरीदाबाद मंगलवार को लघु सचिवालय के छठे तल स्थित कॉन्फ्रेंस हाल में शिक्षा विभाग की सक्षम योजना की समीक्षा कर रहे थे।

उपमंडल अधिकारी (ना.) फरीदाबाद ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह सभी शिक्षकों को निर्देश दें कि वह अपनी कक्षा के बच्चों को ऑनलाईन ढंग से पढ़ाएं। जिन बच्चों के पास स्मार्टफोन नहीं हैं उनके लिए किसी रिश्तेदार के स्मार्टफोन या अन्य सुविधा देने के लिए शिक्षा मित्रों की संख्या भी बढ़ाई जाए। उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है और हमें इसे गभीरता से निभाना है। उन्होंने कहा कि कुछ बच्चों के परिजनों के पास स्मार्टफोन होता है। ऐसे में हम शाम के समय की कक्षाएं भी आयोजित कर सकते हैं।

मीटिंग में निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि हमें ऑफलाईन व ऑनलाईन कक्षा में कोई भी अंतर नहीं रखना है। इस दौरान शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि फरीदाबाद ब्लॉक सक्षम घोषित हो चुका है। अब अगले चरण में सीसीटी (क्रिएटिव एंड क्रिटिकल थिंकिंग) स्तर की तरफ आगे बढऩा है। इस स्तर में सातवीं, आठवीं व नवीं कक्षा के विद्यार्थियों को लिए हिंदी, विज्ञान व गणित विषय को शामिल किया गया है। इन विषयों को बच्चे बेहतर ढंग से कैसे समझ सकते हैं। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि अध्यापकों के लिए इस संबंध में उन्मुखीकरण (ओरियंटेशन) कार्यक्रम भी शुरू किया गया है। शिक्षा विभाग द्वारा इस पूरे कार्यक्रम को लेकर एक पावर प्वाइंट प्रोजेंटेशन भी मीटिंग में दी गई।

इस पर उपमंडल अधिकारी (ना.) फरीदाबाद जितेंद्र कुमार ने कहा कि शिक्षा विभाग के सभी अधिकारी, एआरसी व एबीआरसी सभी अध्यापकों को इस कार्य के लिए जागरूक करें। अध्यापक पोटर्ल पर दिए गए सेलेबस को अवश्य पढ़ें ताकि इसका लाभ विद्यार्थियों को मिल सके। उन्होंने कहा कि बच्चों की प्रत्येक समस्या का समाधान करना हमारा कर्तव्य है और हमें इसे प्रत्येक स्थिति में पूरा करना है। मीटिंग में मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी रूपाला सक्सेना, खंड शिक्षा अधिकारी फरीदाबाद जोगेंद्र कौर, खंड शिक्षा अधिकारी बल्लभगढ़ अंजू मान, विभिन्न स्कूलों के प्राचार्यों सहित शिक्षा विभाग व डाईट पाली के अध्यापक भी मौजूद थे।

MDU की यूजी-पीजी परीक्षा के मद्देनजर परीक्षा केंद्रों के आस-पास धारा 144 लागू

 faridabad-news-mdu-examination-dhara-144-on-center

फरीदाबाद, 15 सितम्बर। जिला मजिस्ट्रेट यशपाल ने महर्षि दयानंद विश्विद्यालय (एमडीयू) की 15 सितंबर से शुरू होने वाली यूजी व पीजी कक्षाओं की सेमेस्टर व वार्षिक परीक्षा के मद्देनजर धारा 144 के तहत आदेश जारी किए हैं।

अपने आदेशों में जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि एमडीयू की यूजी व पीजी की वार्षिक व सेमेस्टर परीक्षाएं 15 सितंबर 2020 से दो सत्रों में शुरू हो रही हैं। इनमें प्रात:कालीन सत्र सुबह 10:00 बजे से 11:45 बजे तक और सांयकालीन सत्र दोपहर 2:00 बजे से 3:45 बजे तक आयोजित किया जाएगा। 

इस दौरान परीक्षा केंद्रों के आस-पास व्यक्तियों के किसी भी तरह के आवागमन पर पाबंदी रहेगी। इसके अलावा 100 मीटर के दायरे में सभी फोटोस्टेट व फैक्स की सुविधा भी पूरी तरह से बंद रहेगी। यह आदेश 15 सितंबर 2020 से परीक्षा संपन्न होने तक लागू रहेंगे।