Showing posts with label Education. Show all posts

CM मनोहर का आदेश, हरियाणा बोर्ड से 10वीं पास छात्र बिना फीस व्हाट्सअप से ले सकेंगे एडमिशन

haryana-board-school-admission-through-whatsapp-without-fees-says-cm

फरीदाबाद, 13 जुलाई: हरियाणा सरकार ने विद्यार्थियों को बड़ी राहत दी है, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आदेश दिया है कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी की 10 वीं कक्षा में पास होने वाले जो विद्यार्थी प्रदेश के सरकारी स्कूलों में 11वीं कक्षा में दाखिला लेना चाहते हैं, वे संबंधित स्कूल के प्रिंसिपल को व्हाट्सएप पर अपना परीक्षा परिणाम और आवश्यक डाक्यूमेंट्स भेज देंगे तो उनको दाखिला मिल जाएगा।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि विद्यार्थियों को फिलहाल उस सरकारी स्कूल में फीस जमा करवाने की भी आवश्यकता नहीं है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा बोर्ड का 10 वीं का रिजल्ट पिछले सप्ताह घोषित किया गया था, इस वर्ष 59 फीसदी छात्र पास हुए हैं. अब इन छात्रों को 11वीं में एडमिशन के लिए भाग दौड़ नहीं करनी पड़ेगी।

क्या प्रिंसिपल मानेंगे मुख्यमंत्री का आदेश

मुख्यमंत्री मनोहर ने आदेश तो दे दिया है लेकिन सवाल ये है कि प्रिंसिपल लोग उनका आदेश मानेंगे या नहीं, अधिकतर सरकारी स्कूलों और कॉलेज के टीचर और प्रिंसिपल टेक्नोलॉजी से दूर भागते हैं, लेकिन कोरोना की वजह से लॉक डाउन के बाद व्हाट्सअप से ही पढ़ाई चल रही है इसलिए प्रिंसिपल लोगों को भी टेक्नोलॉजी को अपनाना पड़ेगा, अगर वे ऐसा नहीं कर सकेंगे तो सरकारी स्कूलों को बर्बाद होने से कोई नहीं रोक सकता।

DC Yashpal Yadav का कमाल, हरियाणा बोर्ड के 10वीं परीक्षा में पास हुए 33% अधिक विद्यार्थी

haryana-board-10th-result-declared-59-percent-students-passed

फरीदाबाद, 11 जुलाई: उपायुक्त यशपाल के कुशल प्रशासनिक मार्ग दर्शन से जिला में  हरियाणा विद्यालय बोर्ड की कक्षा 10वीं की उत्तीर्ण प्रतिशत  में 33% की वृद्धि हुई है.
   
पिछले 3 वर्षों से,फरीदाबाद का पास प्रतिशत लगभग 37 प्रतिशत था। लेकिन इस साल फरीदाबाद जिला ने अपना पास प्रतिशत 37 प्रतिशत  (2017-19) से बढ़ाकर 59.68 प्रतिशत  (बोर्ड्स 2020) कर दिया है। 
  
उपायुक्त यशपाल के कुशल नेतृत्व में शिक्षकों, प्रधानाचार्यों, जिला शिक्षा विभाग और जिला प्रशासन द्वारा किए गए अथक प्रयासों के कारण यह क्वांटम छलांग संभव हो पाई है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि केवल 37 प्रतिशत  छात्र अपनी कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा उत्तीर्ण करने में सक्षम थे।

मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी  अतुल सहगल  द्वारा 'शिक्षित हरियाणा' परियोजना की शुरुआत की गई थी। इस परियोजना में शासन को सुव्यवस्थित करके पास प्रतिशत में सुधार करना, सरकारी स्कूलों से स्टार शिक्षकों का  मान करना और उन्हें सशक्त बनाना, सरकारी स्कूलों में बुनियादी ढांचे और सुविधाओं में सुधार करना था।
  
इस प्रकार सरकारी स्कूलों के शिक्षकों की विषय विशेषज्ञता का उपयोग करके उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो पाठ बनाए गए तथा  मुफ्त पहुंच प्रदान करके शैक्षिक असमानता को कम करने वाली प्रक्रियाएं बनाई गई।

उपायुक्त यशपाल ने इस पहल में बहुत योग्यता देखी और इसका समर्थन किया। डीसी फ़रीदाबाद ने 40 उच्च-रैंकिंग अधिकारियों को नियुक्त किया और उनमें से प्रत्येक को 2-2 स्कूल दिए। जिन्होंने इन स्कूलों में लगातार दौरा किया। डीसी यशपाल यादव ने खुद 2 स्कूलों को अपनाया और सामने से नेतृत्व किया।
  
यह शिक्षकों, प्राचार्यों और छात्रों के बीच बहुत आवश्यक प्रेरणा लेकर आया, जिनके लिए पहली बार जिले के शीर्ष नेतृत्व द्वारा इस तरह की पहल की गई थी। ब्लॉक-स्तरीय योजनाएं डिजाइन और कार्यान्वित की गईं। स्कूल वार प्रभारी तैनात किए गए। एक एबीआरसी/ ABRC को उसके क्लस्टर के भीतर स्थित स्कूलों के कक्षा 10  के 200 छात्रों की प्रगति की देखरेख के लिए जिम्मेदार बनाया गया। इसके अलावा  600 से अधिक वीडियो लेक्टर्स के सहारे विज्ञान, गणित, अंग्रेजी और सामाजिक विज्ञान से आसान-तथा-स्कोरिंग विषयों को समझाते हुए रिकॉर्ड किए गए। इन व्याख्यानों का प्रसार ‘शिक्षित हरियाणा’ यूट्यूब प्लेटफॉर्म, एडुसेट, व्हाट्सएप के माध्यम से किया गया और फ़रीदाबाद के 54 स्मार्ट-क्लास सक्षम स्कूलों में भी इसका उपयोग किया गया।

एनटीपीसी/NTPC फ़रीदाबाद ने फ़रीदाबाद के सभी 94 वरिष्ठ माध्यमिक सरकारी स्कूलों में ‘शिक्षित हरियाणा’ परियोजना का समर्थन किया। इस समर्थन ने 600+ एनिमेटेड वीडियो लेक्चर के निर्माण में, 40 स्मार्ट क्लासरूम का निर्माण और वंचित वर्गों के योग्य छात्रों को डीसी छात्रवृत्ति प्रदान करने की जिम्मेदारी ली। जिला प्रशासन, फरीदाबाद, डीईओ श्रीमती सतिंदर कौर, डीईईओ शशि अहलावत और सीएमजीजीए अतुल सहगल ने न केवल 37 प्रतिशत  (2017-19) से 59.68 प्रतिशत  (बोर्ड्स 2020) पास प्रतिशत में सुधार किया है, बल्कि भारत के पहले और सबसे बड़े राज्य-के-स्वामित्व वाले एनिमेटेड वीडियो लेक्टर्स के संग्रह के निर्माण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है| सरकारी स्कूलों के स्टार शिक्षकों के  वीडियो लेक्टर्स ऐसा संसाधन हैं जो की आने वाले वर्षों में भी छात्रों के लिए फ़ायदेमंद साबित होगा।

इस वर्ष के बोर्ड के परिणाम और फ़रीदाबाद का बहतर प्रदर्शन देखते हुए, डीसी फरीदाबाद और उनकी टीम ने अब अगले बोर्ड परीक्षा में 75% + पास प्रतिशत प्राप्त करने का लक्ष्य लिया  है।

सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिए ई-कंटेंट तैयार हो रहा, फरीदाबाद के शिक्षक भी दे रहे योगदान

faridabad-sarkari-school-teacher-preparing-e-learning-content-news

फरीदाबाद, 25 जून। कोविड-19 की परिस्थितियों के मद्देनजर सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को अब डिजिटल प्लेटफॉर्म पर ई-लर्निंग शिक्षा दी जा रही है। इसके लिए प्रदेश भर के शिक्षकों द्वारा ई-कंटेंट तैयार किए जा रहे हैं। इस ई-कंटेंट को तैयार करने में फरीदाबाद के शिक्षकों द्वारा भी अहम भूमिका निभाई जा रही है।

जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी शशि अहलावत ने बताया कि उपायुक्त यशपाल के मार्गदर्शन में जिला फरीदाबाद के शिक्षकों द्वारा ई-कंटेट तैयार करने में विशेष रुचि दिखाई जा रही है। इस तैयार ई-कंटेंट को देशभर के विद्यार्थी भी पढ़ सकेंगे। इस ई-कंटेट को सरकार के दीक्षा एप पर भी अपलोड कर दिया गया है। फरीदाबाद के शिक्षकों द्वारा तैयार ई-कंटेंट  व शिक्षकों को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिलने से शिक्षा विभाग भी खुश है। जिला फरीदाबाद से दीक्षा एप पर कुल पांच कंटेट अपलोड किए जा चुके हैं। यह कंटेट तैयार करने वालों में डाइट में लेक्चरर डॉ. सीमा शर्मा, राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय एनआइटी पांच से अनिवाश शर्मा, महावतपुर स्कूल से जेबीटी अध्यापिका गायत्री और डाइट से लेक्चरर रश्मि शामिल हैं। इनके द्वारा तैयार किए गए कंटेट विभिन्न कक्षाओं के विषयों पर आधारित हैं। इस ई-कंटेंट को पहली से आठवीं तक के विद्यार्थी इनोवेटिव तरीके से पढ़ सकेंगे।

दीक्षा एप पर पहली से आठवीं कक्षा तक के सभी विषयों के पाठ्यक्रम देखे जा सकते हैं। छात्र पाठ्यपुस्तकों के अलावा इनोवेटिव और मनोरंजक वीडियो की मदद से पाठों को आसानी से समझ सकेंगे। जिला फरीदाबाद से जो कंटेट तैयार कर अपलोड किए गए, उन्हे एनीमेशन, म्यूजिक और रोचक साउंड के साथ तैयार किया गया है।  
हरियाणा के जिलों से बेहतरीन कंटेट मुहैया कराने के लिए राज्य स्तर पर टीम का गठन किया गया है। जिसमें हर जिले से कंटेंट क्रिएटर, जिला कोऑर्डिनेटर, बुक क्रिएटर और रिव्यूयर शामिल हैं। कंटेंट क्रिएटर दीक्षा पोर्टल पर बनी आइडी से कंटेंट अपलोड करते हैं। रिव्यूयर के पास मेल से नोटिफिकेशन जाने पर इन्हें परखा जाता है।

संशोधन की जरूरत होने पर उसे वापस क्रिएटर को भेजा जाता है और कंटेंट ठीक होने पर उसे आगे फॉरर्वड करते हैं। बुक क्रिएटर, क्यूआर कोड से कंटेंट लिक करते हैं। डिजिटल मंच पर छात्रों को बेहतरीन कंटेंट मुहैया कराने की हर संभव कोशिश जारी है। इस बार एससीईआरटी ने सभी जिलों से कंटेंट मांगे थे। जिला से अब तक पांच कंटेंट दीक्षा पोर्टल पर जगह बना चुके हैं।

Carmel Convent Schhol में कम हुई फीस, अब 9420 के बजाय 2617 रुपये ट्यूशन फीस, अन्य शुल्क समाप्त

faridabad-carmel-convent-school-reduced-tution-fees-other-charges

फरीदाबाद, 6 मई: फरीदाबाद सेक्टर 7-D स्थित Carmel Convent Schhol में आज फीस बढ़ने और अन्य शुल्क लेने की हमने खबर दी थी जो हमें स्कूल के ही एक अभिभावक ने बतायी थी, अब स्कूल ने ट्यूशन फीस भी कम कर दी है और अन्य शुल्क भी हटा दिए हैं. 9420 रुपये ट्यूशन फीस के बजाय अब सिर्फ 2617 रुपये लिए जाएंगे। तीन महीनें की फीस एक ही बार 7851 ली जा रही है जबकि हरियाणा सरकार ने सिर्फ मंथली फीस लेने के आर्डर जारी किये थे.

हमारे पास जो रिपोर्ट आयी थी उसके अनुसार 9420 रुपये ट्यूशन फीस के अलावा 6500 रुपये Annual Changes हैं और 500 रुपये Digi Class Fees ली जा रही थी लेकिन अब Annual Changes और Digi Class Fees को हटा लिया गया है.


तीनों चार्जेज जोड़कर अप्रैल महींने में 16370 रुपये लिए जा रहे है जबकि सरकार ने सिर्फ ट्यूशन फीस लेने की अनुमति दी है. खबर के बाद अभिभावक ने हमें बताया कि फीस कम कर ली गयी है और अन्य शुल्क भी हटा लिए गए हैं. अभिभावक ने बताया कि हमने 16370 फीस भी जमा कर दी थी जो अब आगे एडजस्ट कर दी जाएगी।


आप नीचे 23 अप्रैल 2020 का हरियाणा सरकार का आदेश भी पढ़ सकते हैं जिसमें सिर्फ ट्यूशन फीस लेने की अनुमति दी गयी थी और आदेश का पालन ना करने पर स्कूलों को कड़ी कार्यवाही की चेतावनी भी दी गयी थी.



अब किताबों के नाम पर लूटने लगे निजी स्कूल, 4173 रुपये में 3rd Class की किताब, अभिभावक परेशान

private-schools-looting-parents-high-price-of-books-in-faridabad

फरीदाबाद, 3 मई: कोरोना वायरस से फैली महामारी की वजह से दुनिया ठहर गयी है, इस महामारी ने सबकी जेब पर डाका डाल दिया है, लोगों के काम धंधे बंद हो गए हैं, कई लोगों को तो दो वक्त का भोजन भी मिलना मुश्किल हो रहा है लेकिन निजी स्कूल ना तो फीस कम कर रहे हैं और ना ही लूटने की आदत छोड़ रहे हैं. 

सरकार ने स्कूलों को सिर्फ ट्यूशन फीस लेने की अनुमत दी है लेकिन कुछ स्कूल वाले ट्यूशन फीस बढ़ाकर अभिभावकों को लूट रहे हैं, इसके अलावा किताबों के दाम कई गुना बढाकर अभिभावकों को लूटने का प्रयास किया जा रहा है.

एक अभिभावक ने बताया कि उसके बच्चे के स्कूल वाले किताब खरीदने के लिए प्रेशर डाल रहे हैं, किताब की दूकान खतरे वाले जोन सेक्टर-29 में है, इसके अलावा तीसरी क्लास की किताबों का दाम 4173 रुपये बताया जा रहा है.

किताबों में कैसे लूटते हैं निजी स्कूल

निजी स्कूल अपने मनपसंद पब्लिशर से किताबें छपवाते हैं और उसपर मनचाही MRP लिख देते हैं, 50 रुपये कीमत वाली किताब पर 500 रुपये लिखवा देते हैं और किताबों का कलेक्शन खुद लाकर किसी दूकान पर रखवा देते हैं और अभिभावकों को बोलते हैं कि फलां दूकान पर जाकर किताब ले लो, बदले में किताब की दूकान को भी कुछ कमीशन दिया जाता है. यह एक काली कमाई है जिसपर सरकार का ध्यान नहीं है.

लॉकडाउन के बाद ट्यूशन फीस के अलावा अन्य फीस भी लेना चाहता था सेक्टर-14 DAV स्कूल, हुई शिकायत

faridabad-sector-14-dav-school-issue-notice-by-education-officer

फरीदाबाद, 1 मई: हरियाणा सरकार ने प्राइवेट स्कूलों को साफ़ साफ़ आदेश दिए हैं कि लॉक डाउन के दौरान सिर्फ ट्यूशन फीस ली जाय और उसमें भी पिछले साल की तुलना में कोई वृद्धि ना की जाए लेकिन सेक्टर 14 के DAV Publicस्कूल ने सरकारी आदेशों की परवाह ना करते हुए पेरेंट्स को एक नोटिस भेजा जिसमें कहा कि सरकारी आदेश के अनुसार अभी सिर्फ ट्यूशन फीस पे करनी है लेकिन अन्य चार्जेस माफ़ नहीं हैं, अन्य चार्जेस को बाद में जब लॉक डाउन ख़त्म हो जाएगा तब लिया जाएगा।

किसी पेरेंट्स ने फरीदाबाद शिक्षा अधिकारी से इसकी शिकायत की जिसके बाद शिक्षा अधिकारी ने DAV Public स्कूल सेक्टर 14 को एक नोटिस जारी करके सफाई मांगी है और अगर लिखित उत्तर ना दिया तो कड़ी कार्यवाही की चेतावनी दी गयी है.

नोटिस में साफ़ साफ़ कहा गया है कि आपके मैनेजमेंट ने 23 अप्रैल 2020 को जारी सरकारी आदेशों का उल्लंघन किया है. देखिये नोटिस की कॉपी - 

dav-school-sector-14-notice

अब हम आपको दिखा रहे हैं कि DAV Public स्कूल ने पेरेंट्स को फीस के लिए 28 अप्रैल को क्या लेटर भेजा था, इसे आप भी पढ़ सकते हैं, इसमें कहा गया है कि Invoice में ट्रांसपोर्ट चार्जेस, डेवलपमेंट चार्जेस और एनुअल चार्जेस भी जोड़े गए हैं, नीचे लिखा गया है कि अन्य चार्जेज देने में एक दो महीनें देरी की जा सकती है लेकिन इसे माफ़ नहीं किया जाएगा, सिर्फ आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए सरकारी आर्डर मान्य है.

dav-school-sector-14-notice

सरकारी स्कूलों के बच्चे भी टोल फ्री नंबर 1800-890-6006 के जरिये कर सकते हैं शिक्षकों से संपर्क

faridabad-dc-yashpal-yadav-toll-free-number-teacher-on-call-sarkari-school

फरीदाबाद, 25 अप्रैल। उपायुक्त यशपाल ने शनिवार को फरीदाबाद एजूकेशन काउंसिल एवं सहज पाठ नॉलेज फाउंडेशन के तत्वावधान में चलाए जाने वाले टीचर ऑन कॉल प्रोजैक्ट का ऑनलाइन शुभारंभ किया। अब इस प्रोजैक्ट के शुरू होने से सरकारी स्कूलों के कक्षा 6वीं से 10वीं तक के बच्चे टोल फ्री नंबर 1800-890-6006 पर संपर्क कर अपने विषयों के संबंध में प्रश्नों का हल जान सकते हैं। 

उपायुक्त ने इस टीचर ऑन कॉल प्रोजैक्ट की सराहना करते हुए कहा कि इससे सरकारी स्कूलों के बच्चों को बड़ा फायदा मिलेगा। उन्होंने बताया कि कक्षा 6वीं से 10वीं तक कि विद्यार्थी सोमवार से शनिवार प्रातः 9 बजे से 12 बजे तक तथा सायं 5 बजे से 8 बजे तक तथा रविवार के दिन प्रातः 9 बजे से सायं 8 बजे तक कॉल कर सकते हैं। 

इस सुविधा के लिए बच्चों को स्कूल के माध्यम से अपना पंजीकरण करवाना होगा। अब तक करीब 500 बच्चे अपना पंजीरण करवा चुके हैं। एक बार में कुल 30 बच्चे एक साथ कॉल कर सकेंगे, ये सभी लाइन पैरलल काम करेंगी। इस सुविधा का लाभ देने के लिए 100 से अधिक अध्यापक जुड़े हुए हैं।

बता दें कि फरीदाबाद के सरकारी स्कूलों के बच्चों की शिक्षा में मदद के लिए मानव रचना शैक्षणिक संस्थान फरीदाबाद ने अनेक बुद्धिजीवियों के साथ मिलकर फरीदाबाद एजूकेशन काउंसिल का गठन किया है, ताकि इस जिला के सरकारी स्कूलों के बच्चों के शिक्षा स्तर में सुधार लाया जा सके। एफएसी की ओर से सहज पाठ पद्धति को अब जिला फरीदाबाद में लाया जा रहा है, जिसके माध्यम से विद्यार्थी एक फोन कॉल के द्वारा अपने पढ़ाई संबंधी प्रश्नों का उतर आसानी से पा सकेंगे। 

इसके लिए अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर द्वारा टोल फ्री नंबर से जुड़कर गणित, विज्ञान, अंग्रेजी एवं सामाजिक विज्ञान आदि विषयों से संबंधित प्रश्नों का हल जान सकेंगे। इस कार्यक्रम में योग्य एवं अनुभवी अध्यापक जुड़े हैं, जो निःशुल्क सौहार्दपूर्ण वातावरण में बच्चों की सहायता करेंगे। विद्यार्थियों को पहले पोर्टल फरीदाबाद एजूकेशन काउंसिल डॉट कॉम पर अपना पंजीकरण करना होगा।

मंहगे मंहगे प्राइवेट स्कूल में अपने बच्चों को पढ़ाने वाले अभिभावक अब रो रहे हैं, पढ़ें क्यों

parent-sad-private-school-asking-high-fees-in-lock-down-faridabad

फरीदाबाद, 23 अप्रैल: इसे लोगों की मजबूरी ही कह सकते हैं कि अपने बच्चों के लिए अच्छी शिक्षा खरीदने के लिए पेरेंट्स अपनी क्षमता के बाहर जाकर मंहगे मंहगे स्कूलों में  मोटी मोटी फीस देकर अपने बच्चों को पढ़ाते हैं. हर माँ बाप यही सोचता है कि उसके बच्चे डॉक्टर, इंजीनियर ही बनें जबकि IAS, IPS और अन्य बड़े बड़े सरकारी अफसर सरकारी स्कूलों में पढ़कर ही बनते हैं लेकिन जनता को अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में दाखिला दिलाने में शर्म लगती है और लोग सोचते हैं कि अगर वे अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाएंगे तो उनके पडोसी क्या सोचेंगे।

अब तक तो सब कुछ ठीक चल रहा था लेकिन लॉक डाउन की वजह से सबके काम धंधे बंद हैं, कमाई धमाई सब बंद है, बिजनेस भी बंद है और आगे भी कई तरह की कठिनाइयां हैं. 

लोगों की परेशानी बढ़ गयी है लेकिन प्राइवेट स्कूलों की फीस वही है, कुछ ने तो फीस बढ़ा भी दी है जबकि कमाई के हिसाब से लोग काफी पीछे हो गए हैं. कुछ लोग तो यह भी अंदेशा जता रहे हैं कि लॉक डाउन की वजह से देश कई वर्ष पीछे चला जाएगा।

अब सवाल यह उठता है कि जब देश कई वर्ष पीछे चला जाएगा और लोगों की सैलरी भी कम हो जाएगी, तो क्या प्राइवेट स्कूलों की फीस नहीं घटनी चाहिए, क्या प्राइवेट स्कूलों की फीस पांच साल पीछे वाली नहीं होनी चाहिए। सरकार को इसपर जरूर ध्यान देना चाहिए क्योंकि यहाँ लोगों के पास राशन नहीं है लेकिन प्राइवेट स्कूल वाले हजारों रुपये फीस मांग रहे हैं. जनता को भी चाहिए कि शिक्षा खरीदने का लालच छोड़कर अपने बच्चों का दाखिला सरकारी स्कूलों में करवाएं।

ना एडमीशन फीस और ना 3 महीनें की फीस लेगा फरीदाबाद का डिवाइन पब्लिक स्कूल, CM बोले, बहुत बढ़िया

cm-manohar-lal-welcome-divine-public-school-fees-maaf-for-3-months

फरीदाबाद, 16 अप्रैल: लॉक डाउन की वजह से आम लोगों का काम धंधा बंद हो गया है जिसकी वजह से सबको बहुत समस्या हो रही है, ऐसे में अधिकतर प्राइवेट स्कूलों ने दाखिला फीस और तीन महीनें की फीस भी मांगने लगे जिसकी वजह से लोगों की परेशानी और बढ़ गयी. सरकार ने उसके बाद आदेश जारी किया कि प्राइवेट स्कूल सिर्फ मंथली फीस ले सकते हैं, तीन महीनें की फीस इकठ्ठी नहीं ले सकते। सरकार का यह आदेश भी आम लोगों को पसंद नहीं आया.

फरीदाबाद के डिवाइन पब्लिक स्कूल ने अच्छी पहल करते हुए दाखिला फीस के अलावा तीन महीनें की फीस भी माफ़ कर दी है, इसके अलावा ऑनलाइन क्लासेज के भी कोई पैसे नहीं देने पड़ेंगे, इसके अलावा वार्षिक फीस में भी 25 फ़ीसदी की छूट देने का वादा किया है.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने डिवाइन स्कुल के इस कदम का स्वागत किया है, उन्होंने अन्य स्कूलों से भी फीस मांग किये जाने की अपील की है.

डरे हुए हैं स्कूलों के शिक्षक/स्टाफ, उनके लिए खुले हुए हैं स्कूल, क्या उन्हें नहीं होगा कोरोना?

teacher-and-staff-demand-leave-in-haryana-school-corona-virus

फरीदाबाद: कोरोना वायरस के इन्फेक्शन को रोकने के लिए हरियाणा  सरकार ने कई कदम उठाये हैं, सबसे पहले कोरोना को महामारी घोषित किया गया और उसके बाद स्कूल, कॉलेज, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों में भीड़ कम करने के लिए कई आदेश दिए गए. प्राइवेट ऑफिस मालिकों से भी कहा गया है कि अपने कर्मचारियों और अधिकारियों को उनके घर पर बिठाकर काम कराएं और ऑफिस ना बुलाएं।

हरियाणा में सब कुछ बंद हो रहा है, स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी बंद हो गयी हैं लेकिन शिक्षक और स्टाफ की छुट्टी नहीं हो रही है जिसकी वजह से शिक्षक और स्टाफ डरे हुए हैं. कई शिक्षकों ने कहा कि क्या सरकार को हमारा ख्याल नहीं है, क्या हमें  कोरोना का खतरा नहीं है, क्या हमारा घर परिवार कर बच्चे नहीं हैं. जब स्कूल, कॉलेज और अन्य संस्थान बंद हैं तो शिक्षकों को अन्य स्टाफ को स्कूल आने की जरूरत क्या है. हम भी घर बैठकर काम कर सकते हैं.

कई शिक्षकों ने बताया कि हम दूर से बसों, ऑटो और ट्रैन पकड़कर स्कूल आते हैं, हमें भी कोरोना का खतरा बना रहता है. सरकार को चाहिए कि शिक्षकों के लिए भी छुट्टी घोषित करें।



haryana-school-closed


हरियाणा सरकार का आदेश, सरकारी और प्राइवेट स्कूल में 31 मार्च के बाद हो 1-8 कक्षा की परीक्षा

haryana-sarkaar-order-to-closed-sarkari-private-school-1-8-exam-postponed

फरीदाबाद, 18 मार्च: हरियाणा सरकार ने पिछले हप्ते पांच जिलों के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी किये थे लेकिन यह भी कहा था कि जिस स्कूल में वार्षिक परीक्षा हो रही है वह स्कूल खुल सकते हैं, इस छूट का फायदा सभी स्कूल उठा रहे थे और लगभग सभी खुले भी थे, अधिकतर स्कूलों में परीक्षाएं चल रही हैं और कई चोरी छुपे क्लासेस भी लगा रहे थे.

आज हरियाणा सरकार ने आदेश दिया है जिसके अनुसार अब सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को 31 मार्च तक बंद रखना पड़ेगा, अब सभी स्कूलों में 1 - 8 तक परिक्षा नहीं होगी और जो स्कूल सरकारी आदेश का उल्लंघन करेंगे उनके खिलाफ कार्यवाही भी होगी, अब 31 मार्च के बाद ही 1 - 8 वीं की परीक्षाएं होंगी।

haryana-sarkar-order

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फरीदाबाद के कई प्राइवेट स्कूल हरियाणा सरकार के आदेश को नहीं मानते लेकिन अगर इनके खिलाफ शिकायत की जाय तो सरकार कार्यवाही कर सकती है. आप जिला शिक्षा अधिकारी के मोबाइल - 9711185639, 9871084402 पर फोन करके शिकायत करें।

फरीदाबाद में अधिकतर स्कूल खुले हैं, इन्हें ना कोरोना का डर और ना ही हरियाणा सरकार के आदेश का

corona-virus-in-faridabad-many-private-school-open-news

फरीदाबाद, 16 मार्च: फरीदाबाद में अधिकतर स्कूल खुले हैं और  स्कूल वालों को कोरोना का कोई डर नहीं है. सरकारी आदेश के अनुसार 31 मार्च तक सभी स्कूल बंद होने चाहिए थे लेकिन सरकारी आदेश में यह भी लिखा गया था कि जिन स्कूलों में बच्चों की परिक्षा हो रही है सिर्फ वही स्कूल खोले जा सकेंगे।

प्राइवेट स्कूल इसी बात का फायदा उठा रहे हैं और परीक्षा का बहाना बनाकर स्कूलों को खोल रखा है, कई प्ले और नर्सरी स्कूल भी खुले हैं. जबकि प्राइवेट स्कूलों को चाहिए कि फटाफट परीक्षा कराकर स्कूलों को बंद करें लेकिन ये लोग अपने तय कार्यक्रम के अनुसार ही काम कर रहे हैं. सरकार को अपने आदेश में लिखना चाहिए था कि या तो वार्षिक परीक्षा जल्दी कराई जाय या 31 मार्च के बाद ही परीक्षाएं हों लेकिन सरकार की इस भूल का फायदा प्राइवेट स्कूल उठा रहे हैं.

हमने अपने फेसबुक पेज पर एक सर्वे डाला है जिसमें लोगों ने सैकड़ों स्कूलों के नाम बताये हैं जो खुले हैं, हम उसका लिंक दे रहे हैं. देखिये - 

COVID-19: हरियाणा की सभी यूनिवर्सिटी/कॉलेज और 5 जिलों के सरकारी/प्राइवेट स्कूल 31 मार्च तक बंद

haryana-sarkari-school-college-university-closed-till-31-march-2020

फरीदाबाद: कोरोना वायरस के इन्फेक्शन के बढ़ते खतरे को देखते हुए हरियाणा सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. COVID-19 को हरियाणा में महामारी घोषित कर दिया गया है, इसके अलावा पांच जिलों के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं, इसके अलावा राज्य की सभी यूनिवर्सिटी और कॉलेज को 31 मार्च तक बंद करने के आदेश जारी किये गए हैं.

हरियाणा के 5 जिलों के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी किये गए हैं - फरीदाबाद, सोनीपत, रोहतक, झज्जर, गुरुग्राम। सिर्फ उन स्कूलों को खोला जा सकेगा जिनमें बोर्ड परीक्षा, वार्षिक परीक्षा और असेसमेंट परीक्षा हो रही हों. कक्षाएं नहीं चलेंगी। आदेश में यह भी कहा गया है कि स्कूलों में शिक्षक पहले की तरह आते रहेंगे, मतलब उनकी छुट्टी नहीं होगी। देखिये आदेश की कॉपी - 

haryana-school-closed

राज्य के सभी विश्वविद्यालय/कॉलेज बंद

हरियाणा राज्य के सभी कॉलेज और यूनिवर्सिटी को भी 31 मार्च तक बंद करने के आदेश दिए गए हैं. देखिये आदेश की कॉपी - 

haryana-college-universities-closed

फरीदाबाद जिले में बोर्ड परीक्षा केंद्रों के आस पास लगी धारा 144, पढ़ें क्यों

dc-yashpal-yadav-impose-dhara-144-board-exam-center-faridabad

फरीदाबाद 26 फरवरी: जिलाधीश यशपाल ने हरियाणा राज्य शिक्षा बोर्ड की दसवी व 12वीं कक्षाओं की परीक्षाएं शांतिपूर्ण ढंग से करवाने व परीक्षा केंद्रों के आसपास कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से परीक्षा के समय व तिथियों के दौरान आपराधिक प्रक्रिया की संहिता 1973 की धारा 144 के तहत भारी संख्या में लोगों की भीड़ इक्ट्ठा होने व आसपास की दुकानों में फोटोस्टेट की मशीन संचालित रखने पर प्रतिबंध लगाया है।

जिलाधीश ने आदेशों में बताया कि हरियाणा राज्य शिक्षा बोर्ड की दसवीं रेगुलर, ओपन स्कूल व रि-अपीयर की परीक्षाएं 3 मार्च से 31 मार्च तक दोपहर 12.30 बजे से 3.30 बजे तक तथा 12वीं कक्षा की परीक्षाएं 4 मार्च से 27 मार्च तक दोपहर बाद 12.30 बजे से 3.30 बजे विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जाएंगी। 

इन परीक्षाओं के दौरान परीक्षा केंद्रों के आसपास भारी भीड़ इक्ट्ठा होने तथा शांतिपूर्ण परीक्षा करवाने में बाधा उत्पन्न करने का अंदेशा बना रहता है। इसी के मद्देनजर परीक्षा केंद्रों के आसपास धारा 144 लगाई गई है, जिसके तहत 100 मीटर की परिधि में भीड़ की किसी भी प्रकार की गतिविधियों व फोटोस्टेट की मशीनों चलाने पर प्रतिबंध लगाया गया है। 

दिल्ली दंगों का असर, CBSE ने 26 तारीख को रद्द की कई विषयों की परीक्षा

delhi-riot-bad-effect-started-cbse-cancelled-26-february-examination

नई दिल्ली: पूर्वी दिल्ली में दंगों ने विकराल रूप धारण कर लिया है जिसकी वजह से CBSE ने कई विषयों की परीक्षा रद्द कर दी है. CBSE की तरफ से जारी आदेशों में कहा गया है कि छात्रों, परिजनों और स्टाफ की परेशानी को देखते हुए और सरकार के प्रार्थना के आधार पर 26 फ़रवरी की परिक्षा को रद्द करके आगे बढ़ा दिया गया है.

delhi-danga-news

आपको बता दें कि दिल्ली में तनाव बढ़ता जा रहा है, कई स्थानों पर CAA विरोधी और CAA समर्थकों में हिंसक झड़प हुई हैं, GTB हॉस्पिटल से मिली सूचना के अनुसार अब तक 11 लोगों की मौत हुई है जबकि 180 से अधिक लोग घायल हैं. मरने वालों में एक पुलिसकर्मी भी शामिल है जिनका नाम रतन लाल सिंह है.

घायलों में 56 पुलिसकर्मी हैं जबकि 130 नागरिक हैं जिनका कई अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है.

अगर हालातों पर गौर करें तो दिल्ली पुलिस ने अभी भी अपने हाथ नहीं खोले हैं और दंगाइयों पर ज्यादा सख्ती नहीं की जा रही है लेकिन आज दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने बयान दिया है.

उन्होंने कहा कि दिल्ली में हिंसाग्रस्त इलाकों में पर्याप्त पुलिस बल पहुँच चुका है, परेड मार्च निकाला जा रहा है, हम दंगाइयों और उपद्रवियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करेंगे। दिल्ली में अधिक तनावग्रस्त क्षेत्रों - चांदबाग, करावलनगर, मौजपुर और जाफराबाद में कर्फ्यू लगा दिया गया है.

फरीदाबाद जिले के सरकारी स्कूलों में बनेंगे 40 स्मार्ट क्लासरूम, उपायुक्त और NTPC के बीच हुआ MOU

faridabad-government-school-40-smart-class-room-will-be-started

फरीदाबाद, 20 फरवरी: हरियाणा राज्य शिक्षा बोर्ड कक्षाओं के परीक्षा परिणाम बेहतर लाने के उद्देश्य से जिला प्रशासन व एनटीपीसी मिलकर काम करेंगे। इसके लिए वीरवार को उपायुक्त यशपाल व एनटीपीसी के महाप्रबंधक दीपक पतांकर ने एमओयू यानी अनुबंधन ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

उपायुक्त ने बताया कि इस एमओयू के तहत एनटीपीसी द्वारा जिला के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों व राजकीय उच्च विद्यालययों में 40 स्मार्ट क्लास रूम स्थापित किए जाएंगे। इन स्मार्ट क्लास रूम में प्रोजेक्टर के माध्यम से बच्चों को डिजिटल एजूकेशनल कंटेंट स्टडी मैटिरियल उपलब्ध कराया जाएगा। इस शिक्षण सत्र में बोर्ड कक्षाओं तथा आगामी शिक्षण सत्र में कक्षा 6वीं से 12वीं तक बच्चों को डिजिटल स्टडी मैटिरियल उपलब्ध कराया जाएगा। 

इसका बड़ा फायदा यह भी होगा कि बच्चों को हरियाणा के बेस्ट टीचर्स द्वारा तैयार स्टडी मैटिरियल आसानी से उपलब्ध होगा तथा वे इसके नोट्स भी तैयार कर सकेंगे। जिन स्कूलों में किसी विषय के अध्यापक या प्राध्यापक का पद रिक्त है, तो ऐसी कक्षाओं के बच्चों को तैयारी करने में परेशानी नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि अभी भी बच्चों को यू-ट्यूब चैनल शिक्षित हरियाणा के माध्यम से स्टडी मैटिरियल उपलब्ध कराया जा रहा है, जल्द ही इसकी वेबसाइट भी बनाई जाएगी तथा सभी कक्षाओं का स्ट्डी मैटिरियल उस पर उपलब्ध कराया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि बोर्ड परीक्षाओं का बेहतर परिणाम लाने के लिए जिला के 47 अधिकारियों को दो-दो स्कूल अलाॅट किए गए हैं, जहां जाकर वे बच्चों से उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी लेते हैं तथा जो संभव हो, उन्हें मदद उपलब्ध करवाते हैं। इसकी रिपार्ट बाद में वे उन्हें भी करते हैं। इसी प्रकार एबीआरसी, बीआरपी व डाईट से करीब 35 व्यक्तियों के स्टाफ की भी डयूटी लगाई गई है, जो करीब 200-200 बच्चों की व्यक्तिगत तौर पर मिलकर परीक्षा तैयारी करवाने या फिर कंटेंट उपलब्ध करवाने में मदद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो स्कूल इस बार परीक्षा परिणाम बेहतर लाएंगे, उन्हें स्वतंत्रता दिवस समारोह में सम्मानित भी किया जाएगा।

मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी अतुल सहगल ने बताया कि बच्चों को आॅनलाइन स्टडी मैटिरियल से काफी लाभ मिल रहा है। बच्चों को बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी के लिए विडियो उपलब्ध करवाई गई हैं, जिनकी मदद से उन्हें नोट्स बनाने में मदद मिल रही है। इस अवसर पर एनटीपीसी की एजीएम प्रेमलता, सीएमजीजीए कार्यक्रम टीम की सदस्य नेहा सहित एनटीपीसी का स्टाफ उपस्थित था।

मेगा PTM में बोले उपायुक्त यशपाल, माता पिता और अध्यापकों से बढ़कर बच्चों का नहीं होता कोई मित्र

faridabad-dc-yashpal-yadav-address-mega-ptm-in-nit-3-girls-school

फरीदाबाद,17 फरवरी। उपायुक्त यशपाल ने कहा कि बच्चों का माता पिता और अध्यापकों से बढ़कर अन्य कोई मित्र नहीं होता, इसलिए बच्चों को माता-पिता व अध्यापकों के साथ पढ़ाई के अलावा निजी जीवन के बारे में भी खुलकर बातचीत करनी चाहिए। जीवन में हमेशा खुश रहे था तथा खुशी के साथ सभी कार्यों को बेहतर तरीके से पूरा करोगे तो निश्चित तौर पर सफलता मिलेगी।

उपायुक्त यशपाल ने यह विचार सोमवार को एनआईटी-3 के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में मेगा पीटीएम के दौरान टीचर, अभिभावकों व विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उपायुक्त यशपाल ने इस अवसर पर स्कूल में जिला फरीदाबाद का 16वां और प्रदेश का 102वें बाल कल्याण परामर्श केंद्र की भी शुरुआत की। उन्होंने कहा कि अच्छे इंसान में बहुत कान्फीडेंस होता है, वह अपनी बात को बेझिझक होकर रखता है। उन्होंने कहा कि बेटा-बेटी में कोई फर्क नहीं होता, बेटियां मां-बाप की ज्यादा सेवा और बातचीत में भगीदार होती हैं। उपायुक्त ने बच्चों को गुड टच और बैड टच बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि समाज जागरुकता के साथ ही सम्पन्नता की ओर अग्रसर होता है। उन्होंने कहा कि हर नागरिक को सीमाओं की मर्यादा में रहकर कार्य करना चाहिए। मर्यादा के बाहर मजाक भी नहीं करना चाहिए। बच्चे देश का भविष्य हैं, देश के भविष्य की नींव मजबूत होगी तो निश्चित तौर पर विश्व में भारत विकसित देश बनेगा। उपायुक्त ने विद्यार्थियों को खून की कमी और पोषण आहार बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने बच्चों के कल्याण से संबंधित सरकार की योजनाओं के बारे में भी जागरूक किया।

मंडल बाल कल्याण अधिकारी एवं हरियाणा के बाल कल्याण सलाह एवं परामर्श केंद्र के नोडल अधिकारी अनिल मलिक ने कहा कि छात्राओं को माता पिता और अध्यापकों को अपना मित्र बनाना चाहिए। उनके साथ मित्रों जैसा व्यवहार करोगे तो वो भी आपको मित्र मानेंगे। जिससे वे आपकी सभी समस्याओं का तो निदान करेंगे ही साथ अपनी स्वयं की समस्याओं बारे भी सुझाव सांझे करेंगे। उन्होंने माता पिता और अध्यापकों तथा विद्यार्थियों को मनोवैज्ञानिक विश्लेषण बारे भी विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने सफलता के लिए अन्य सुझाव और अनुभव भी सांझा किए गए और गुणवत्ता पूर्वक सीधा संवाद किया। छात्राओं को गुड टच और बैड टच बारे में जानकारी दी और प्रश्नोत्तर किए। 

कार्यक्रम में हरियाणा बाल कल्याण परिषद के स्टेट कोर्डिनेटर उदय सिंह, जिला शिक्षा अधिकारी सतिंदर कौर वर्मा, खंड शिक्षा अधिकारी डॉ इंदु रानी, स्कूल के प्रिंसीपल रविन्द्र कुमार ने भी सम्बोधित किया।

इस अवसर पर जिला बाल कल्याण अधिकारी एस सी खत्री, रज्जो राणा, प्रवीण गुप्ता, लाखन सिंह लोधी, सुषमा यादव, केंद्र कास्लर गीता देवी सहित अभिभावक और विद्यार्थि उपस्थित थे।

DC यशपाल यादव ने किया बाल मार्गदर्शन, परामर्श और कल्याण क्लिनिक का उद्घाटन, पढ़ें क्या होगा यहाँ

faridabad-dc-yashpal-yadav-inaugurate-child-guidance-counseling-and-welfare-clinic

फरीदाबाद, 17 फ़रवरी: उपायुक्त यशपाल यादव ने NIT-3 के गवर्नमेंट गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल में बाल मार्गदर्शन, परामर्श और कल्याण क्लिनिक का उद्घाटन किया है.

आज जिले के सभी सरकारी स्कूलों में मेगा PTM का भी आयोजन किया गया था, NIT-3 के गवर्नमेंट गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल में उपायुक्त ने मुख्य अतिथिः के तौर पर शिरकत की.

उपायुक्त ने बताया कि बाल मार्गदर्शन, परामर्श और कल्याण क्लिनिक में बाल शोषण के प्रति छात्राओं को जागरूक किया जाएगा और उन्हें मानसिक तौर पर मजबूत बनाया जाएगा ताकि अगर कोई अपराधी बच्चियों से छेड़छाड़ करे या उन्हें बुरी नीयत से देखें तो वह इसकी शिकायत कर सकें।

उपायुक्त ने मेगा पैरेंट टीचर मीटिंग के बारे में बताते हुए कहा कि छात्रों के अच्छे भविष्य और उनकी प्रगति के लिए पैरेंट टीचर मीटिंग बहुत जरूरी है, इससे पता चलता है कि पैरेंट स्कूल और अध्यापकों से क्या उम्मीद रखते हैं, अभिभावकों की उम्मीदों को पूरा करने के लिए ऐसे कार्यक्रम बहुत जरूरी हैं, हमारी कोशिश है कि ऐसी मीटिंग सभी सरकारी स्कूलों में रखी जाए ताकि शिक्षा में सुधार किया जा सके.

केजरीवाल से सीखकर मनोहर लाल ने भी सभी सरकारी स्कूलों में शुरू किया ये काम, पढ़ें

haryana-government-will-start-delhi-sarkari-school-model-faridabad

फरीदाबाद, 16 फ़रवरी: सरकारी स्कूलों में शिक्षा के सुधार को मुद्दा बनाकर दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने फिर से बहुमत से जीत दर्ज की है, दिल्ली के  सरकारी स्कूलों में पेगा पैरेंट टीचर मीटिंग PTM होती है जहाँ पर पैरेंट और टीचर मिलते हैं और बच्चों की शिक्षा पर बातचीत होती है.

अब फरीदाबाद में भी दिल्ली मॉडल लागू हो रहा है. 17 फ़रवरी को पहली मेगा PTM का आयोजन होने वाली है.

उपायुक्त यशपाल ने बताया कि हरियाणा सरकार की हिदायतों के अनुसार 17 फरवरी को जिला के सभी स्कूलों में मैगा पीटीएम का आयोजन किया जाएगा। 

उन्होंने सभी अभिभावकों से अपील करते हुए कहा कि सभी अभिभावक अपने बच्चों की प्रगति जानने और शिक्षकों से मिलने के लिए आमंत्रित हैं।

उन्होंने कहा कि अभिभावक-अध्यापक बैठक में यह प्रयास किया जाएगा कि विद्यार्थियों की बेहतर पढ़ाई और अनुसाशासन के बारे में जागृति हो। इस पीटीएम का आयोजन बोर्ड की दसवीं व बाहरवीं कक्षाओं के छात्रों के माता-पिता के लिए किया जाएगा। 

इसमें परीक्षा के अंतिम दिनों में इन परीक्षाओं में की तैयारी के लिए छात्रों को सही मागदर्शन मिलेगा। यह अत्यंत महत्वपूर्ण है। 

राजा जैत सिंह पॉलिटेक्निक के टीचर और छात्र स्कूल प्रशासन से परेशान, की नारेबाजी

faridabad-nimka-raja-jait-singh-polytechnic-news-yogesh-mohan-ill

फरीदाबाद, 14 फ़रवरी: नीमका गाँव स्थित राजा जैत सिंह पॉलिटेक्निक कॉलेज में कुछ वर्षों से कॉलेज प्रशासन और टीचर एवं छात्रों के बीच में विवाद चल रहा है, कल कॉलेज में फिर से हंगामा हुआ और शिक्षकों एवं छात्रों ने कॉलेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की.

छात्रों एवं शिक्षकों का आरोप है कि कॉलेज प्रशासन शिक्षकों को टार्चर कर रहा है जिसकी वजह से इलेक्ट्रिक ट्रेड के ट्रैनर योगेश मोहन बेहोश हो गए. पुलिस के अनुसार योगेश मोहन पर परिक्षा के दौरान नक़ल कराने के आरोप लगे थे जिसके लिए उन्हें शो कॉज नोटिस दिया गया था और इसी सन्दर्भ में जब उनसे पूछताछ की जा रही थी तो वह कुर्सी पर बैठे बैठे ही गिर पड़े और बेहोश हो गया. कुछ लोगों ने बताया की शिक्षक को हार्ट अटैक आ गया था लेकिन अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है. उन्हें इलाज के लिए सेक्टर-8 के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

जैसे ही योगेश मोहन के बेहोश होने की जानकारी शिक्षकों एवं छात्रों को हुई उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया और प्रिंसिपल के खिलाफ जमकर नारेबाजी की, ये सभी छात्र और शिक्षक सर्वोदय हॉस्पिटल भी पहुँच गए और वहां भी मीडिया के सामने कॉलेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की, शिक्षकों ने बताया की कॉलेज परेशान हसे हमारे ओरिजिनल डॉक्यूमेंट मांग रहा है ताकि बाद में हमारे डॉक्यूमेंट वापस लेने के लिए हमें दौड़ना पड़े और वे हमें परेशान कर सकें।

छात्रों ने बताया की हमारे पॉलिटेक्निक में सुविधाओं का अभाव है, योगेश मोहन हमें अच्छा बढ़ाते हैं तो उन्हें निकालने का प्रयास किया जा रहा है और उनके साथ बंद कमरे में टार्चर किया जा रहा है जिसकी वजह से वह बेहोश हो गए.