Followers

Showing posts with label Delhi News. Show all posts

क्राइम ब्रांच ने तीन युवकों को अवैध हथियार सहित किया गिरफ्तार

faridabad-crime-branch-central-arrested-three-criminals

फरीदाबाद 2 अक्टूबर 2021: पुलिस आयुक्त श्री विकास अरोड़ा के दिशा निर्देश के तहत कार्य करते हुए क्राइम ब्रांच सेंट्रल प्रभारी इंस्पेक्टर कर्मवीर की टीम ने अवैध हथियार सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार किए गए आरोपियों में महावीर, प्रवीण और सूरजभान का नाम शामिल है। आरोपी महावीर तथा प्रवीण फतेहाबाद के टोहाना एरिया के रहने वाले हैं वहीं आरोपी सूरजभान हिसार के  अग्रोहा का रहने वाला है। क्राइम ब्रांच ने गुप्त सूत्रों की सहायता से आरोपी महावीर तथा प्रवीण को सेक्टर 12 तथा आरोपी सूरजभान को थाना सेक्टर 7 क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। पूछताछ में सामने आया कि आरोपी यहां आकर कोई नया धंधा शुरू करना चाहते थे इसलिए वह यहां अपने किसी साथी से मिलने आए थे। इनका पुराना कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं है। आरोपियों के कब्जे से दो 2 पिस्टल और 5 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं। पूछताछ पूरी होने के पश्चात तीनों आरोपियों को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है।

पुलिस प्रवक्ता।


भाटी माइंस की खदानों में मिली नगला फरीदाबाद के निवासी दीपांशु की लाश, परिजन दुखी

faridabad-deepanshu-murder-case-in-bhati-mines-delhi

फरीदाबाद 8 सितंबर 2021 फरीदाबाद में नगला एरिया के रहने वाले 20 वर्षीय दीपांशु नामक युवक की अधजली लाश दिल्ली में भाटी माइंस एरिया में खदानों में मिली है और परिजनों ने दीपांशु की हत्या की आशंका जताई है और दिल्ली पुलिस से इस मामले में कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

दिल्ली पुलिस ने मृतक दीपांशु का पोस्टमार्टम कराकर उसकी डेट बॉडी परिजनों को सौंप दी.

जानकारी के अनुसार दीपांशु की बहन दिल्ली में भाटी माइंस एरिया में ब्याही गई है और दीपांशु अपनी बहन से मिलने के लिए गया था लेकिन संदिग्ध परिस्थितियों में उसकी हत्या की आशंका जताई गई है और अज्ञात हत्यारों ने उसकी डेड बॉडी के साथ भी बहुत बुरा बर्ताव किया, परिजनों ने यह भी आशंका जताई है कि दीपांशु की हत्या करके उसकी बॉडी को जलाने का प्रयास किया गया है.

यह भी जानकारी मिली है कि मृतक दीपांशु की डेड बॉडी के पास ही पेट्रोल की बोतल और उसका टूटा हुआ मोबाइल भी बरामद हुआ है.

भाटी माइंस का इलाका दिल्ली एरिया में पड़ता है इसलिए दिल्ली पुलिस इस मामले में कार्यवाही कर रही है और फरीदाबाद के रहने वाले दीपांशु के परिजनों ने इस मामले में कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

फरीदाबाद QRG हॉस्पिटल के इस रेपिस्ट आरोपी को लोग कह रहे फांसी पर लटकाओ जी

rape-accused-qrg-hospital-staff

फरीदाबाद: फरीदाबाद के क्यूआरजी हॉस्पिटल के इस कर्मचारी पर एक नाबालिक लड़की से अस्पताल में ही बलात्कार का आरोप है और लोग इतना आक्रोशित हैं कि इसके लिए फांसी की सजा की मांग की जा रही है.

पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह के दिशा निर्देश पर कार्रवाई करते हुए महिला थाना सेक्टर 16 की प्रभारी इंस्पेक्टर गीता और अनुसंधान अधिकारी सब इंस्पेक्टर माया और उनकी टीम ने दुष्कर्म के आरोपी को वारदात के कुछ ही घंटों बाद धर दबोचने में कामयाबी हासिल हुई है।

हनुमान नगर भारत कॉलोनी फरीदाबाद निवासी आरोपी की पहचान राज किशोर पुत्र डालचंद के रूप में हुई है।

बता दें कि घटना कल दिनांक 21 अगस्त 2021 की है सुबह करीब 11:00 बजे 14 वर्षीय नाबालिग लड़की अपने पिता का डायलिसिस कराने के लिए क्यूआरजी हॉस्पिटल सेक्टर 16 में गई थी।

डायलिसिस शुरू होने के करीब 2 घंटे बाद लड़की वॉशरूम गई थी जब वह वॉशरूम से बाहर आई तो वहां पर उपरोक्त आरोपी राजकिशोर खड़ा था और उसने लड़की को कहा कि उसको कुछ काम है और नाबालिक लड़की को अस्पताल की बेसेंट में ले गया और उसके साथ वहां पर दुष्कर्म कर फरार हो गया।

लड़की ने इस संबंध में पूरी जानकारी अपने परिवार वालों को दी जो कि परिवार वालों ने तुरंत सूचना महिला थाना सेक्टर 16 को दी। सूचना पर तुरंत कार्रवाई करते हुए पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर नाबालिक लड़की का मेडिकल कराया गया।

मामला पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह के संज्ञान में आने पर उन्होंने आरोपी को तुरंत गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाने के दिशा निर्देश दिए थे। जिस पर महिला थाना सेक्टर 16 प्रभारी इंस्पेक्टर गीता ने तुरंत प्रभाव से सब इंस्पेक्टर माया सहित एक टीम का गठन किया और तुरंत प्रभाव से घटनास्थल का क्राइम ब्रांच की टीम एवं एफएसएल की टीम के साथ दौरा कर जरूरी साक्ष्य हासिल किए गए।

क्यूआरजी हॉस्पिटल में लगे हुए सभी कैमरे को पुलिस ने खंगालना शुरू किया और अस्पताल में मौजूद स्टाफ से पूछताछ कर आरोपी का पता लगाकर उसे गिरफ्तार किया गया।

पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि पीड़ित नाबालिग लड़की की उम्र 14 वर्ष है एवं आरोपी राजकिशोर की उम्र 24 वर्ष है। आरोपी क्यूआरजी अस्पताल में हाउसकीपिंग सुपरवाइजर का काम करता है।

 गिरफ्तार आरोपी को आज अदालत में पेश किया जाएगा।

लहर 2: कोरोना से IMA डॉक्टरों के मरने की संख्या बढ़कर हुई 513, अन्य डॉक्टरों का रिकॉर्ड नहीं

ima-513-doctors-death-in-second-wave-of-corona-virus
 
नई दिल्ली, 26 मई: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन में करीब 3 लाख डॉक्टर हैं, अन्य डॉक्टरों का कोई रिकॉर्ड सार्वजनिक नहीं किया गया है.

IMA संस्था डॉक्टरों का रिकॉर्ड दर्ज कर रही है, दूसरी लहर में अप्रैल 2021 से अब तक यानी दो महीनें के अंदर ही 513 डॉक्टरों की मौत हो चुकी है. पिछले एक हप्ते से रोजाना 40 - 50 डॉक्टरों की मौत हो रही है और कोरोना ही मौत की वजह बतायी जा रही है.

ये आंकड़े सिर्फ IMA सस्था के हैं, अन्य डॉक्टर्स, डेंटिस्ट, फार्मासिस्ट, नर्सों और अन्य पैरामेडिकल स्टाफ का कोई रिकॉर्ड नहीं है.

मृतक डॉक्टरों में सबसे अधिक दिल्ली के हैं जहाँ 103 डॉक्टरों की मौत हुई है, दूसरे नंबर पर बिहार है जहाँ पर 96 डॉक्टरों की मौत हुई है.



किसानों ने जो कहा था कर दिखाया, किसान आंदोलन के 6 महीनें पूरे, कल मनाया जाएगा काला दिवस

kisan-andolan-6-month-kala-divas-on-sanbhu-border-delhi
 

नई दिल्ली, 25 मई: पहले ऐसा लग रहा था कि कोरोना वायरस किसानों को डरा देगा और धरना ख़त्म हो जाएगा लेकिन ऐसा लगता नहीं है क्योंकि कल किसान फिर से दिल्ली में इकठ्ठा होकर किसान आंदोलन के 6 महीनें पूरे होने पर काला दिवस मनाएंगे और केंद्र सरकार से नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करेंगे।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 26 नवंबर 2020 से किसान आंदोलन शुरू हुआ था जो कल 6 महीनें पूरे हो जाएंगे, पहले जब किसानों ने आंदोलन की शुरुआत की थी तो कहा था कि उनके पास 6 महीनें का राशन है और आंदोलन वापस नहीं होगा तब कुछ लोगों ने उनकी हंसी उड़ाई थी लेकिन किसानों ने अपने दावे को पूरा किया और 6 महीनें पूरे हो गए.

कल शम्भू बॉर्डर पर पूरे देश के किसान इकठ्ठा होंगे और केंद्र सरकार ने नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करेंगे और विरोध स्वरुप काला दिवस मनाएंगे। शम्भू बॉर्डर से ही किसान आंदोलन की शुरुआत होगी।

दूसरी तरफ किसानों को कोरोना स्प्रेडर बताकर उनका मनोबल तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन किसानों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, वे किसानों के भविष्य को बचाने के लिए और देश का पेट भरने के लिए कोई भी आरोप झेलने को तैयार हैं।

फरीदाबाद पुलिस कमिश्नर के सामने बंदूक तानकर खड़ी हुई स्वेट कमांडो टीम, जानिए ऐसा क्यों

faridabad-swat-commando-team-rehearsal-cp-op-singh

फरीदाबाद:- पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह के दिशा निर्देश पर फरीदाबाद पुलिस की स्वेट कमांडो टीम तैयार की गई है।

आज, स्वेट कमांडो टीम ने प्रशिक्षण खत्म होने के बाद पुलिस लाइन सेक्टर 30 में डेमो देकर अपना जलवा दिखाया है।

इस दौरान पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह, और अन्य उच्च अधिकारी गण मौजूद रहे।

आपको बताते चलें कि फरीदाबाद पुलिस ने स्वेट कमांडो टीम का गठन किसी भी बड़ी अपराधिक/आतंकी गतिविधि को रोकने के लिए किया गया है ताकि मौके पर टीम भेजकर किसी भी स्थिति पर काबू पाया जा सके।

फरीदाबाद पुलिस की स्वेट टीम बनकर तैयार हो गई है। स्वेट टीम पिछले कई महीनों से पुलिस लाइन स्थित प्रशिक्षण ले रही थी।

पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह ने स्वेट कमांडो टीम का डेमो देखने के बाद उनकी प्रशंसा कर उनको प्रोत्साहित किया.

हमें नहीं चाहिए 5 स्टार होटल अशोका में कमरे, दिल्ली हाईकोर्ट के जजों ने केजरीवाल सरकार को लताड़ा

delhi-kejriwal-sarkar-slammed-by-delhi-high-court-news

दिल्ली: दिल्ली की केजरीवाल सरकार को जोरदार फटकार लगी है, हाईकोर्ट के जजों ने केजरीवाल सरकार को जमकर फटकार लगाते हुए दिल्ली के 5 स्टार अशोका होटल में 100 कमरे लेने से इंकार कर दिया।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केजरीवाल सरकार ने हाईकोर्ट, कोर्ट के जजों और उनके परिजनों के इलाज के लिए दिल्ली के सबसे आलीशान अशोका होटल में 100 कमरे बुक किये थे.

जैसी ही यह खबर मीडिया में वायरल हुई, केजरीवाल सरकार की जमकर आलोचना होने लगी. जजों पर भी सवाल उठने लगे.

आज हाईकोर्ट में इसकी सुनवाई हुई. जजों ने चाणक्यपुरी की SDM गीता ग्रोवर का आदेश देखा तो उसमें लिखा था कि जजों ने खुद ही इसकी डिमांड की थी इसलिए सरकार उन्हें अशोका होटल में 100 कमरे उपलब्ध करा रही है.

जब जजों ने SDM गीता ग्रोवर का आदेश देखा तो वे हैरान हो गए, जजों ने कहा कि हमने तो ऐसी कोई मांग नहीं की थी, हम तो सिर्फ अस्पताल में सुविधाएं चाहते थे ताकि बीमारी में हमारा इलाज हो सके क्योंकि हमने पहले ही 2 जजों को खो दिया है.

हाईकोर्ट के जजों ने सू मोटो लेते हुए SDM गीता ग्रोवर से स्पष्टीकरण माँगा है और कार्यवाही की चेतावनी दी है.

अमित मिगलानी, अमित अरोड़ा और अन्य दर्जनों लोग अवैध कैसीनों खेलते हुए गिरफ्तार

amit-miglani-amit-arora-arrested-playing-casino-in-delhi-radisson-blue-hotel
 

फरीदाबाद, 1 अप्रैल: अभी कुछ दिनों अमित मिगलानी फरीदाबाद के फतेहपुर चंदीला गाँव के शमशान घाट में टीन की शैड डलवा रहे थे, उन्होंने बताया था कि वह अपने खर्चे से इस नेक काम को कर रहे हैं.

अब खबर आयी है कि अमित मिगलानी दिल्ली में फाइव स्टार होटल रैडिसन ब्लू में अवैध रूप से कैसीनों चला रहे थे, दिल्ली पुलिस ने रेड मारकर अमित मिगलानी, अमित अरोड़ा और अन्य दर्जनों लोगों को गिरफ्तार कर लिया। अमित मिगलानी गांधी कॉलोनी के रहने वाले हैं जबकि अमित अरोड़ा NIT-2 के रहने वाले हैं.

पुलिस के अनुसार अमित मिगलानी और अमित अरोड़ा होटल के दो कमरों में अवैध रूप से कैसीनों चला रहे थे जो पूरी तरह से गैर कानूनी है, इस मौके पर कई महिलाओं सहित करीब 14 लोग कैसीनों खेलते हुए रंगे हाथ पकडे गए. पुलिस ने इनके खिलाफ गैंबलिंग एक्ट के तहत कार्यवाही की.

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस ने जुवारियों के पासे से 1.15 लाख रुपये नकद, 30 लाख 50 हजार के 6100 कॉइन और कार्ड के 30 सेट भी बरामद किये हैं.

अगर आप अमित मिगलानी को नहीं जानते तो यह वीडियो जरूर देखिये, यह वीडियो हमारी ही है, हमें खबर मिली थी कि अमित मिगलानी कोई अच्छा काम करवा रहे हैं, हमें भी उस वक्त नहीं पता था कि अमित मिगलानी कैसीनों का धंधा करते हैं - 

शर्मनाक: मुहम्मद इस्लाम की बीमार पत्नी को रिंकू शर्मा ने दिया था खून, फिर भी कर दिया क़त्ल

rinku-sharma-murder-case-in-delhi-mangolpuri-news
 

नई दिल्ली: दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके में रिंकू शर्मा नाम के एक रामभक्त का क़त्ल कर दिया गया, वह बजरंग दाल का कार्यकर्ता था और राम मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह कर रहा था, इसी दौरान उसका स्थानीय मुस्लिमों से विवाद हुआ था जिसके बाद घात लगाकर कल उसके घर पर हमला किया गया और रिंकू शर्मा का चाकुओं से बेरहमी से क़त्ल कर दिया गया.

आरोपियों के नाम - मुहम्मद इस्लाम, दानिश नसीरुद्दीन, दिलशान और दिलशाद इस्लाम हैं और अन्य कई लोग भी हैं, ये लोग मृतक रिंकू शर्मा के घर से कुछ ही दूरी पर रहते हैं.

एक चौंकाने वाली बात सामने आयी है, डेढ़ साल पहले जब मुहम्मद इस्लाम की पत्नी गर्भवती थी और अचानक बीमार हो गयी थी, उसे तत्काल ब्लड की जरूरत थी तो रिंकू शर्मा ने अपना खून देकर उसकी जान बचाई थी लेकिन हत्यारों ने उसका नेक काम भी नहीं देखा और उसकी बेरहमी से ह्त्या की.

रिंकू शर्मा की हत्या से दिल्ली का माहौल गर्म है, भाजपा नेताओं ने हत्यारों की कड़ी सजा की मांग की है. हिन्दू संगठनों ने कल मंगोलपुरी थाने के बाहर प्रदर्शन किया।

काव्या सिंह बनी फरीदाबाद की ब्रांड एंबेसडर, हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद का फैसला

faridabad-kavya-singh-brand-ambassdor-hbkp-news

फरीदाबाद, 31 जनवरी: हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद ने एक महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए फरीदाबाद की 10 वर्षीय प्रतिभाशाली बालिका काव्या सिंह को फरीदाबाद के ब्रांड एंबेसडर घोषित किया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद ने हरियाणा के सभी जिलों के ब्रांड एंबेसडर की घोषणा की है जिसकी लिस्ट नीचे दी गई है.
 
आपका जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा में 2020 में हुए ऑनलाइन बाल महोत्सव प्रतियोगिता में करीब पांच लाख बच्चों ने भाग लिया था जिन्हें अलग-अलग प्रतियोगिताओं में इनाम भी मिला इन्हीं 5 लाख बच्चों में से प्रत्येक जिले में ब्रांड मिस्टर की पहचान की गई.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि फरीदाबाद की 10 वर्षीय बालिका काव्या सिंह ने बाल महोत्सव में पर्यावरण को लेकर भाषण प्रतियोगिता में भाग लिया और कई अन्य बच्चों की प्रतियोगिता में भाग लेने में मदद की, उनके इस अच्छे काम की खबर हरियाणा सरकार तक पहुंची दो उन्हें फरीदाबाद का ब्रांड मिस्टर बना कर सम्मानित किया गया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि काव्य सिंह को हरियाणा गरिमा अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है, उन्होंने एक अवॉर्ड फंक्शन में 100 कविताएं लिखकर कीर्तिमान बना दिया और साथ ही कुछ कविताओं को गाकर भी सुनाया.

काव्या सिंह को फरीदाबाद का ब्रांड Ambassador बनाए जाने पर उनके परिवार वाले खुश हैं और हरियाणा सरकार को धन्यवाद कहा है.

मैं अब आत्महत्या करूंगा: राकेश टिकैत

rakesh-tikait-will-commit-suicide-news-in-hindi

नई दिल्ली, 28 जनवरी: किसान नेता राकेश टिकैत ने अब आत्महत्या की धमकी दी है, उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया तो मैं आत्महत्या कर लूँगा, उन्होंने आंदोलन ख़त्म करने से भी इंकार कर दिया है. उन्होंने भाजपा पर किसान आंदोलन ख़त्म करने की साजिश करने का आरोप लगाया है.

आपको बता दें कि अब तक किसान नेता अपनी मनमानी कर रहे थे और देश के लोग इनका समर्थन कर रहे थे लेकिन रिपब्लिक डे पर किसान नेताओं और उनके समर्थकों ने दंगा-फसाद करके और लाल किले पर झंडा कांड करके अपनी पोल खोल दी.

अब देश के लोग भी इस आंदोलन का समर्थन नहीं कर रहे हैं, करीब आधा दर्जन किसान संगठनों ने आंदोलन ख़त्म कर दिया है, इसके अलावा दिल्ली के निवासी खुद सड़क पर उतारकर रोड खाली कराने की मांग करने लगे हैं इसलिए पुलिस भी जनता की भावनाएं समझकर एक्शन में आ गयी है.

गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत और उनके समर्थक रोड जाम करके बैठे हैं, आज उन्हें उठाने के लिए पुलिस फ़ोर्स पहुँच गयी है, यूपी पुलिस ने धरना करने वाले नेताओं को नोटिस दिया है और उनसे शान्ति के साथ उठने की अपील कर रहे हैं हालाँकि पुलिस बल आजमाकर भी उन्हें उठाने के लिए तैयार है.

इस बीच राकेश टिकैत के सुर लगाकर बदल रहे हैं, कभी रोने लगते हैं, कभी चिंतित हो जाते हैं, कभी लाठी वालों को आंदोलन से निकलने का आदेश देते हैं, आज उन्हें एक युवक लाठी लिए दिखा तो उन्होंने खुद ही उसे पुलिस से पकड़वा दिया।

पहले इन्हीं राकेश टिकैत का वीडियो वायरल हुआ था जिसमें उन्होंने कहा था कि ट्रेक्टर मार्च में झंडा और लाठी डंडा दोनों साथ लेकर आना है, सरकार ऐसे मानने वाली नहीं है. अब टिकैत के होश ठिकाने आ गए हैं. हालाँकि उन्होंने आंदोलन जारी रखने का फैसला किया है.

गाजीपुर बॉर्डर खाली कराने पहुंची पुलिस फोर्स, राकेश टिकैत बोले, लाठी ना उठाए मेरा कोई साथी

police-force-ready-to-free-ghazipur-border-delhi-rakesh-tikait

नई दिल्ली, 28 जनवरी: अब तक किसान नेता अपनी मनमानी कर रहे थे और देश के लोग इनका समर्थन कर रहे थे लेकिन रिपब्लिक डे पर किसान नेताओं और उनके समर्थकों ने दंगा-फसाद करके और लाल किले पर झंडा कांड करके अपनी पोल खोल दी.

अब देश के लोग भी इस आंदोलन का समर्थन नहीं कर रहे हैं, करीब आधा दर्जन किसान संगठनों ने आंदोलन ख़त्म कर दिया है, इसके अलावा दिल्ली के निवासी खुद सड़क पर उतारकर रोड खाली कराने की मांग करने लगे हैं इसलिए पुलिस भी जनता की भावनाएं समझकर एक्शन में आ गयी है.

गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत और उनके समर्थक रोड जाम करके बैठे हैं, आज उन्हें उठाने के लिए पुलिस फ़ोर्स पहुँच गयी है, यूपी पुलिस ने धरना करने वाले नेताओं को नोटिस दिया है और उनसे शान्ति के साथ उठने की अपील कर रहे हैं हालाँकि पुलिस बल आजमाकर भी उन्हें उठाने के लिए तैयार है.

इस बीच राकेश टिकैत के सुर लगाकर बदल रहे हैं, कभी रोने लगते हैं, कभी चिंतित हो जाते हैं, कभी लाठी वालों को आंदोलन से निकलने का आदेश देते हैं, आज उन्हें एक युवक लाठी लिए दिखा तो उन्होंने खुद ही उसे पुलिस से पकड़वा दिया।

पहले इन्हीं राकेश टिकैत का वीडियो वायरल हुआ था जिसमें उन्होंने कहा था कि ट्रेक्टर मार्च में झंडा और लाठी डंडा दोनों साथ लेकर आना है, सरकार ऐसे मानने वाली नहीं है. अब टिकैत के होश ठिकाने आ गए हैं. हालाँकि उन्होंने आंदोलन जारी रखने का फैसला किया है.

लाठी डंडे लेकर आना, पुलिसवालों की बक्कल उतार देंगे कहने वाले राकेश टिकैत आज खूब रोते दिखे

kisan-neta-rakesh-tikait-drama-exposed-then-crying

नई दिल्ली: 27 जनवरी, 2021: किसान नेता राकेश टिकैत की मुसीबत बढ़ गयी है, पुलिस उन्हें कभी भी गिरफ्तार करके जेल में डाल सकती है. उनपर दंगा भड़काने और अन्य संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज है जिसमें 307 भी शामिल है. आज राकेश टिकैत फूट फूट कर रोते दिखे हालाँकि इससे पहले वह दंगों में लाठी डंडा लाने और पुलिस वालों की बक्कल उतारने की धमके देते थे और हमेशा कड़क भाषा में बात करते थे. आज यूपी पुलिस गाजीपुर बॉर्डर को खाली भी करा सकती है.

आपको बता दें कि दिल्ली में दंगा फसाद के बाद किसान नेता राकेश टिकैत के खिलाफ गाजीपुर थाने में FIR दर्ज हुई है और उनपर धारा 307 और अन्य सेक्शन में मामला दर्ज हुआ है.

राकेश टिकैत ने अब अनशन शुरू कर दिया है, उन्होंने कहा कि अगर कृषि कानून वापस नही हुए तो मैं आत्महत्या कर लूँगा, मैं पानी नहीं पियूँगा, गाँव से ट्रेक्टर से पानी आएगा तभी पियूँगा, सरकार ने धोखा दिया है, आंदोलन ख़त्म नहीं होगा, हालाँकि राकेश टिकैत के इस स्टंट को सिर्फ ड्रामा बताया जा रहा है.

बता दें क़ि राकेश टिकैत के कई वीडियो वायरल हुए हैं, एक वीडियो में वह अपने समर्थक दंगाइयों को लाठी-डंडा आदि लेकर आने का आदेश दे रहे हैं, झंडे में लाठी बाँधने का गुरुमंत्र दे रहे हैं. देखिये वीडियो -  


अब ऐसा कहा जा रहा है क़ि दंगों की प्लानिंग काफी पहले से की गयी थी, दंगाई किसान नेताओं ने अपने समर्थकों को लाठी डंडों आदि के साथ आने का आदेश दिया था और उनके दिमाग में पुलिस-प्रशासन और सरकार के प्रति जहर भर दिया गया था, जो बाद में दंगे के रूप में वो जहर निकला।

इस दंगे में करीब पौने 400 पुलिसकर्मियों को चोटें आयी हैं, कई गंभीर हैं, दंगाइयों ने पुलिसकर्मियों पर तलवारों और नुकीले हथियारों से भी हमला किया। पुलिस ने दंगाइयों के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी है, करीब 200 दंगाइयों को गिरफ्तार किया गया है, दो दर्जन से अधिक FIR दर्ज की गयी है.

खूब तारीफ हो रही है पुलिसकर्मियों की, दीवार से कूदकर पैर तुड़वा लिए, देश को बदनाम नहीं होने दिया


नई दिल्ली, 28 जनवरी: लाल किले पर अगर दिल्ली पुलिस कर कर्मचारी चाहते तो अपनी जान बचाने के लिए दंगाइयों पर गोली चला सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। दंगाई लोग पुलिसकर्मियों की जान लेने पर तुले थे ताकि पुलिसवाले गोली चलाएं और उसके बाद दंगाई और साजिशकर्ता मिलकर देश को दुनिया में बदनाम कर दें.

पुलिसकर्मियों ने बहुत ही समझदारी का परिचय दिया, ये चाहते तो आत्मरक्षा के लिए दंगाइयों पर गोली चला सकते थे और संविधान उन्हें इसकी छूट भी देता है लेकिन गोली चलाने के बजाय पुलिसकर्मी अपनी जान बचाने के लिए लाल किले की ऊंची दीवार से खाई में जा गए, कई लोगों के पैर टूट गए हैं, इनका इलाज चल रहा है.

आपको बता दें क़ि देश के दुश्मन चाहते थे कि दंगा और खून खराबा इतना अधिक हो कि पुलिस दंगाइयों पर गोली चलाने को मजबूर हो जाए, जैसे ही दो चार दंगाई मरते, टीवी चैनल तुरंत खबर चलाते कि पुलिस ने किसानों को गोली मार दी, अगर ये सन्देश फ़ैल जाता तो दंगाई और अधिक गुस्सा हो जाते और पूरी दिल्ली में कोहराम मचा देते।

उदाहरण आप नीचे देख लीजिये, एक व्यक्ति पुलिस को कुचलने के लिए ट्रैक्टर तेज गति में चला रहा था, ITO पर उसका ट्रेक्टर पलट गया और उसकी मौत हो गयी. इंडिया टुडे के पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने तुरंत ट्वीट कर दिया क़ि किसान नवनीत पुलिस की गोली से मारा गया है, किसानों ने मुझसे कहा कि उसका वलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। यह पूरी तरह से फेक ट्वीट था, यह ट्वीट बहुत बड़ा दंगा करा सकता था लेकिन पुलिस ने  जल्द ही इसकी असलियत बता दी और उसका वीडियो भी वायरल हो गया, वरना राजदीप सरदेसाई का यह ट्वीट कई लोगों की जान का दुश्मन बन सकता था. देखिये - 


दंगाई साजिशकर्ता चाहते थे क़ि पुलिस किसानों पर फायरिंग करे, कई लोगों की जान जाए और उसके बाद मीडिया यह खबर दिखाई क़ि मोदी सरकार ने किसानों को मरवा दिया, किसानों को मोदी सरकार में गोली मारी जा रही है. पूरी दुनिया में भारत की छवि खराब करने की बहुत बड़ी प्लानिंग की गयी थी लेकिन पुलिस ने सहनशक्ति दिखाकर दंगाइयों का प्लान फेल कर दिया हालाँकि पुलिस ने दंगाइयों की लाठियां खाई, कई लोगों पर तलवार से हमला हुआ, देखिये ये फोटो - 


एक फोटो और देखिये, ये लाल किले की है, इसमें देखिये दंगाइयों ने पुलिसकर्मियों पर तलवारों और लाठी डंडों से किस प्रकार हमला किया।


एक फोटो और देखिये, जब पुलिसकर्मी अपनी जान बचाने के लिए दीवार से नीचे कूद गए तो एक दंगाई भी उनके पीछे नीचे कूद गया और पुलिसकर्मी पर हमला कर दिया।


यह सब फोटो देखकर आप समझ सकते हैं कि पुलिसकर्मियों को भड़काकर फायरिंग करवाने की कितनी बड़ी प्लानिंग की गयी थी, दंगों के आरोपी राकेश टिकैत ने तो आज बोल भी दिया कि लाल किले के दंगाइयों पर पुलिस ने गोली क्यों नहीं चलाई। कांग्रेस भी यही कह रही है कि पुलिस ने कड़ा एक्शन क्यों नहीं लिया, लेकिन अगर पुलिस कड़ा एक्शन ले लिया होता तो यह लोग कुछ और बोल रहे होते।

सिंघू बॉर्डर पहुंचे दिल्ली वाले, आंदोलनकारियों से बोले, रोड खाली करो, हम परेशान हो चुके हैं

delhi-citizen-reached-singhu-border-to-free-road-kisan-protester

नई दिल्ली, 27 जनवरी: अब तक लोग आंदोलनकारियों को किसान समझकर समर्थन कर रहे थे लेकिन दिल्ली में लाल किले पर झंडा कांड और तिरंगे का अपमान देखकर लोगों के सब्र का बांध टूट रहा है, आज सैकड़ों लोग सिंघु बॉर्डर पहुंचे और आंदोलनकारियों से रोड खाली करने की अपील की.

इस दौरान दिल्ली वालों और आंदोलनकारियों के बीच बहस भी हुई लेकिन पुलिस ने हालात संभाल लिया, दिल्ली वालों ने अपने हाथों तिरंगा भी ले रखा था कर पोस्टर में लिखा था,  तिरंगे का अपमान नहीं सहेगा हिंदुस्तान।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में कई जगह आंदोलनकारियों ने जमकर हिंसा की, सरकारी संपत्ति को नुक्सान पहुंचाया और पुलिसकर्मियों पर हमला किया जिसमें पौने 400 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, इस सम्बन्ध में दो दर्जन से अधिक FIR दर्ज है और सैकड़ों लोगों को अरेस्ट किया गया है, पुलिस ने किसान नेताओं को हिंसा का जिम्मेदार बताया और और उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही भी शुरू कर दी है.

अब पुलिस रोड जाम करके बैठे आंदोलनकारियों को उठाने की कोशिश कर रही है जिसमें दिल्ली की जनता भी साथ दे रही है, पहले दिल्ली वालों को लग रहा था कि किसान अपनी परेशानी की वजह से रोड जाम करके बैठे हैं लेकिन लाल किले पर धर्म विशेष का झंडा फहराकर आंदोलनकारियों ने किसानों के प्रति जनता की सहानुभूति ख़त्म कर दी इसलिए अब जनता भी इन्हें रोड से उठाने के लिए आगे आ रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली पुलिस ने आज गाजीपुर बॉर्डर की तरफ कई किलोमीटर में फ्लैग मार्च निकाला और दिल्ली की जनता का विश्वास फिर से जीतने की कोशिश की, दिल्ली में हिंसा और उत्पात से जनता के मन भी ड़र बैठ गया है इसलिए पुलिस भी जनता के डर को ख़त्म करने का प्रयास कर रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुलिस ने दंगे के दौरान काफी सहनशक्ति दिखाई, खुद पर हमला झेल लिया लेकिन दंगाइयों पर गोली नहीं चलाई। पुलिस की सहनशक्ति और विवेक की तारीफ की जा रही है.

धारा 307 की FIR दर्ज, दंगाइयों को लाठी-डंडा लेकर बुलाने वाले राकेश टिकैत भी फावड़ा लिए दिखे

dangaai-kisan-neta-rakesh-tikait-exposed-police-lodged-fir

दिल्ली, 27 जनवरी: कथित किसान नेता राकेश टिकैत के खिलाफ गाजीपुर थाने में FIR दर्ज हुई है और उनपर धारा 307 और अन्य सेक्शन में मामला दर्ज हुआ है.

बता दें क़ि राकेश टिकैत के कई वीडियो वायरल हुए हैं, एक वीडियो में वह अपने समर्थक दंगाइयों को लाठी-डंडा आदि लेकर आने का आदेश दे रहे हैं, झंडे में लाठी बाँधने का गुरुमंत्र दे रहे हैं. देखिये वीडियो -  


अब राकेश टिकैत और उनकी गैंग का एक और वीडियो वायरल हुआ है जिसमें उनकी गैंग के लोग देशभक्तों के भेष में दिख रहे हैं और उनके हाथ में फावड़ा भी हैं, इसके अलावा सभी के हाथों में लाठी-डंडे भी दिख रहे हैं, देखिये वीडियो - 


अब ऐसा कहा जा रहा है क़ि दंगों की प्लानिंग काफी पहले से की गयी थी, दंगाई किसान नेताओं ने अपने समर्थकों को लाठी डंडों आदि के साथ आने का आदेश दिया था और उनके दिमाग में पुलिस-प्रशासन और सरकार के प्रति जहर भर दिया गया था, जो बाद में दंगे के रूप में वो जहर निकला।

इस दंगे में करीब 300 पुलिसकर्मियों को चोटें आयी हैं, कई गंभीर हैं, दंगाइयों ने पुलिसकर्मियों पर तलवारों और नुकीले हथियारों से भी हमला किया। पुलिस ने दंगाइयों के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी है, करीब 200 दंगाइयों को गिरफ्तार किया गया है, दो दर्जन से अधिक FIR दर्ज की गयी है.

खेती के लिए ट्रैक्टर पर सस्ता लोन देती है सरकार, उसी ट्रेक्टर से पुलिस को कुचल रहे थे दंगाई

tractor-march-dangai-exposed-attack-police-in-delhi-lal-qila

नई दिल्ली, 27 जनवरी: सरकार ने किसानों के लिए कई लाभकारी योजनाएं बना रखी हैं, किसानों को 0 पर्सेंट इंटरेस्ट पर लोन दिया जाता है जिससे वे ट्रेक्टर खरीदकर खेती करते हैं और अपना परिवार पालते हैं लेकिन अब उसी ट्रेक्टर का इस्तेमाल दंगाई लोग पुलिस को कुचलने के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं जो बहुत ही शर्म की बात है.

ये ट्रेक्टर या तो किसान खुद लेकर आये थे या दंगाई लोग उनसे लेकर आये थे, कई लोगों को मजबूर किया गया था ट्रेक्टर देने को, पहले ही दंगाइयों ने किसानों को फरमान सुना दिया था कि या तो ट्रेक्टर देना है या डीजल का पैसा देना है, पंजाब में तो गांव गाँव और घर घर से चंदा और ट्रेक्टर लिया गया था.

सरकार आम लोगों से टैक्स लेकर उसी पैसों को किसानों को देती है, किसानों को 0 पर्सेंट इंटरेस्ट पर लोन दिया जाता है और उसका बोझ टैक्सपेयर्स पर डाला जाता है लेकिन टैक्स पेयर के पैसे से किसानों को जो ट्रेक्टर दिया जा रहा है, उसका इस्तेमाल पुलिस को कुचलने के लिए, देश की दुनिया में बेइज्जती करने के लिए किया जा रहा है, गणतंत्र दिवस पर ट्रेक्टर मार्च निकालकर, हिंसा और दंगा करके भारत को पूरी दुनिया में बदनाम किया गया, यह बात ट्रेक्टर देने वाले किसानों को भी सोचना चाहिए, सरकार को भी सोचना चाहिए और टैक्स पेयर को भी सोचना चाहिए।

दंगाई किसानों का अब लोग नहीं कर रहे समर्थन

अब तक देश के लोग किसानों के आंदोलन का यह सोच कर समर्थन कर रहे थे कि किसान परेशान हैं इसलिए हमें उनका साथ नहीं देना चाहिए, किसी को यह नहीं पता था कि ये लोग तो लाल किले पर, जहाँ पर देश का पवित्र तिरंगा झंडा फहराया जाता है, वहां पर खालिस्तानी झंडा फहराना चाहते हैं. 


रिपब्लिक डे पर इन कथित किसानों ने अपनी इक्षा पूरी भी कर ली और लाल किले पर तिरंगे की जगह खालिस्तानी झंडा फहरा दिया, लाल किले में जमकर तोड़फोड़ की गयी, पुलिस वालों पर भी हमला किया जिसकी वीडियो आप नीचे देख सकते हैं - 

  

पुलिस ने काफी संयम से काम लिया, कई पुलिसकर्मियों ने दंगाई किसानों द्वारा किया गया तलवार का वार भी झेल लिया लेकिन उनके ऊपर गोली नहीं चलाई, अगर पुलिस गोली चलाती तो मीडिया यही खबर दिखाती कि पुलिस ने किसानों पर गोली चला दी, कई लोगों ने तो बिना गोली चलाये ही खबर चला दी कि पुलिस की गोली से किसान की मौत हो गयी है, इंडिया टुडे चैनल में काम करने वाले राजदीप सरदेसाई ने भी यह अफवाह फैलाई, जबकि दंगाई किसानों के हमले में पुलिस अपनी जान बचाती दिखी और करीब 300 पुलिसकर्मी दंगाई किसानों के हमले में घायल हो गए.

अब दंगाइयों की पोल खुल गयी है, पहले ही कहा जा रहा था कि यह खालिस्तानी आंदोलन है, लाल किले पर खालिस्तानी झंडा फहराकर दंगाइयों ने इस बात को खुद ही साबित कर दिया इसलिए अब देश के लोग भी इनका समर्थन नहीं कर रहे हैं.

दिल्ली पुलिस भी इस बात को समझ गयी है इसलिए अब दंगाइयों पर कड़ी कार्यवाही शुरू हो गयी यही, करीब 250 दंगाइयों को गिरफ्तार कर लिया गया है, 22 FIR दर्ज कर ली गयी है जिसमें साजिश करना, डकैती करना, जानलेवा हमले करना, सार्वजनिक सम्पत्तियों को नुकसान पहुंचाना आदि की धाराएं जोड़ी गयी है

किसान की सोच के पुलिस वालों ने झेल लिया तलवारों का भी वार, लेकिन अब हद हो गयी पार, दर्ज हुई FIR

delhi-police-lodge-fir-against-tractor-march-violence-accused

नई दिल्ली, 27 जनवरी: अब तक देश के लोग किसानों के आंदोलन का यह सोच कर समर्थन कर रहे थे कि किसान परेशान हैं इसलिए हमें उनका साथ नहीं देना चाहिए, किसी को यह नहीं पता था कि ये लोग तो लाल किले पर, जहाँ पर देश का पवित्र तिरंगा झंडा फहराया जाता है, वहां पर खालिस्तानी झंडा फहराना चाहते हैं. 

रिपब्लिक डे पर इन कथित किसानों ने अपनी इक्षा पूरी भी कर ली और लाल किले पर तिरंगे की जगह खालिस्तानी झंडा फहरा दिया, लाल किले में जमकर तोड़फोड़ की गयी, पुलिस वालों पर भी हमला किया जिसकी वीडियो आप नीचे देख सकते हैं - 

  

पुलिस ने काफी संयम से काम लिया, कई पुलिसकर्मियों ने दंगाई किसानों द्वारा किया गया तलवार का वार भी झेल लिया लेकिन उनके ऊपर गोली नहीं चलाई, अगर पुलिस गोली चलाती तो मीडिया यही खबर दिखाती कि पुलिस ने किसानों पर गोली चला दी, कई लोगों ने तो बिना गोली चलाये ही खबर चला दी कि पुलिस की गोली से किसान की मौत हो गयी है, इंडिया टुडे चैनल में काम करने वाले राजदीप सरदेसाई ने भी यह अफवाह फैलाई, जबकि दंगाई किसानों के हमले में पुलिस अपनी जान बचाती दिखी और करीब 300 पुलिसकर्मी दंगाई किसानों के हमले में घायल हो गए.

अब दंगाइयों की पोल खुल गयी है, पहले ही कहा जा रहा था कि यह खालिस्तानी आंदोलन है, लाल किले पर खालिस्तानी झंडा फहराकर दंगाइयों ने इस बात को खुद ही साबित कर दिया इसलिए अब देश के लोग भी इनका समर्थन नहीं कर रहे हैं.

दिल्ली पुलिस भी इस बात को समझ गयी है इसलिए अब दंगाइयों पर कड़ी कार्यवाही शुरू हो गयी यही, करीब 250 दंगाइयों को गिरफ्तार कर लिया गया है, 22 FIR दर्ज कर ली गयी है जिसमें साजिश करना, डकैती करना, जानलेवा हमले करना, सार्वजनिक सम्पत्तियों को नुकसान पहुंचाना आदि की धाराएं जोड़ी गयी है

क्राइम ब्रांच 17 ने अवैध गांजा तस्कर को किया गिरफ्तार

faridabad-crime-branch-sector-17-arrested-ganja-taskar

फरीदाबाद 20 जनवरी 2021: क्राइम ब्रांच सेक्टर 17 प्रभारी इंस्पेक्टर संदीप मोर व उनकी टीम ने अवैध गांजा तस्कर अशोक को गुप्त सूत्रों की सूचना के आधार पर सेक्टर 58  से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

आरोपी के कब्जे से 575 ग्राम गांजा बरामद किया गया।

आरोपी के खिलाफ थाना सेक्टर 58 में एनडीपीएस की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह बल्लभगढ़ से किसी अनजान व्यक्ति से यह गांजा लेकर आया था।

आरोपी परचून की दुकान चलाता है और अपनी दुकान पर ही लोगों को गांजा बेचता है।

आरोपी अशोक पुत्र विजय सेक्टर 58 का निवासी है जिसे अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है।

Phone Pay App यूज करने वाले उत्तम कुमार पंडित बने 1 लाख रुपये के फ्रॉड के शिकार, पढ़ें कैसे

phone-pay-app-fraud-tricks-we-aware

New Delhi News, 8 Jan 2021: टेक्नोलॉजी के जमाने में अगर वे लोग भी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं जो टेक्नोलॉजी में एक्सपर्ट नहीं होते तो उन्हें फ्रॉड लोग आसानी से जाल में फंसाकर उन्हें अपना  शिकार बना लेते हैं. ऑनलाइन फ्रॉड की घटनाएं बहुत बढ़ गयी हैं.


दिल्ली में साउथ एक्सटेंशन में रहने वाले उत्तम कुमार पंडित भी एक फ्रॉड का शिकायत हो गए और उन्हें 1 लाख रुपये लूट लिए गए.

उत्तम कुमार पंडित Phone Pay App का इस्तेमाल करते थे, उन्होंने सोचा कि Phone Pay App से मोबाइल आसानी से रिचार्ज हो जाएगा, घर पर आसानी से पैसे भेजे जा सकेंगे, अन्य काम भी आसान हो जाएंगे। उन्होंने अपने मोबाइल में Phone Pay App Install कर दिया और अपने बैंक अकाउंट को Phone Pay App से लिंक कर दिया।

किसी फ्रॉड को खबर लग गयी कि उत्तम कुमार पंडित Phone Pay App का इस्तेमाल करते हैं और उनके अकाउंट में लाखों रुपये पड़े हैं.

इसके बाद फ्रॉड आदमी ने उत्तम कुमार पंडित को उनका दोस्त देवेंद्र बताकर मोबाइल नंबर 9548085812 से दिनांक 17/05/2020 को फोन किया और कहा - मेरे 15-20 हजार रुपये कहीं फंसे हुए हैं, आप अपना Pay नंबर बताइये ताकि मैं आपने आकउंट में पैसे डलवा सकूं और बाद में आप मुझे दे देना।

उत्तम कुमार पंडित अपने दफ्तर में देवेंद्र  नाम के युवक से मिलते थे, उन्होंने सोचा वही देवेंद्र बोल रहा है, उन्होंने अपना Pay नंबर 9958769636 देवेंद्र को बता दिया, उसके बाद Pay नंबर 7509803277 से उन्हें व्हाट्सअप पर एक बार कॉड भेजा गया.

उत्तम कुमार पंडित को अहसास भी नहीं हुआ कि वह फ्रॉड के शिकार हो रहे हैं, उन्होंने अपने मोबाइल में Pay App खोलकर उस बार कोड को Scan कर लिया, इसके बाद फ्रॉड ने कहा अभी आपके अकाउंट में पैसे नहीं गए हैं एक और बार कोड भेज रहा हूँ, इसको भी स्कैन करो, उत्तम कुमार ने फिर से Scan कर लिया, इसी तरह से फ्रॉड व्यक्ति ने पांच बार बार कोड भेजा, उत्तम कुमार ने पांच बार Scan किया और पाँचों बार उनके अकाउंट से 20000-20000 रुपये निकलते गये.

इस तरह से उत्तम कुमार के 1 लाख रुपये लूट लिए गए, बाद में उन्हें Debit से मैसज मिलने पर बता चला कि उनके पैसे निकाल लिए गए हैं.  उसके बाद उन्होंने दौड़ भाग लगाई, KP Pur थाना में उन्होंने शिकायत दी जिसपर पुलिस ने दिनांक 12/06/2020 को IPC 420 के तहत मुकदमा नंबर 227 दर्ज किया।

इस मुक़दमे को दर्ज हुए 7 महीनें हो चुके हैं लेकिन पुलिस अभी तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर पायी है, दरअसल ऐसे अपराधियों को पकड़ना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि ये लोग फर्जी आईडी से सिम लेते हैं, फर्जी आईडी से बैंक खाता खुलवाते है और फर्जी SIM से ही फोन पर बातचीत करते हैं और फ्रॉड करने के बाद SIM को बंद कर देते हैं. पुलिस कुछ दिनों तक दौड़ भाग करती है और उसके बाद शांत होकर बैठ जाती है.

उत्तम कुमार ने बताया क़ि बैंक अकाउंट स्टेटमेंट से उन्हें पता चला है कि उनके अकाउंट से पैसे जयपुर के किसी केनरा  बैंक के अकाउंट से निकाले गए हैं, पुलिस को वहां जाकर अकाउंट होल्डर की  पूरी डिटेल निकलवानी चाहिए क्योंकि बैंक वालों के पास खाताधारकों की हर डिटेल होती है.