Followers

Showing posts with label Delhi News. Show all posts

पढ़ें, दिल्ली एनसीआर में कौन कौन मेट्रो रुट पर शुरू हुई मेट्रो ट्रेनें

delhi-ncr-metro-services-started-after-lockdown-159-days-news

नई दिल्ली, 7 सितम्बर: दिल्ली एएनसीआर में कई मेट्रो स्टशनों और कई रूटों पर मेट्रो सेवा शुरू हो गयी है जिसकी वजह से जनता को काफी राहत मिली है, रोजगार करने वालों को काफी परेशानी हो रही थी लेकिन अब उनकी परेशानी दूर हो जाएगी।

नॉएडा मेट्रो रेल सेवा भी शुरू हो गयी है लेकिन अभी सिर्फ एक्वा लाइन पर ही मेट्रो चल रही है. सुबह 7 बजे से ट्रेनें चलेंगी।

अगर दिल्ली की बात करें तो येलो  लाइन पर मेट्रो सेवा बहाल हो गयी है जो समयपुर बादली से हुडा सिटी सेण्टर गुरुग्राम तक चलती है. सुबह 7 से 11 बजे और शाम 4 से 8 बजे ही मेट्रो सेवा मिलेगी। सिर्फ स्मार्ट कार्ड वालों को स्टेशन के अंदर प्रवेश करने की परमीशन होगी।

गुरुग्राम में रैपिड मेट्रो लाइन्स पर भी मेट्रो ट्रेनें चलेंगी।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली एनसीआर में मेट्रो सेवा 159 दिनों से बंद है जिसकी वजह से जनता को बहुत असुविधा हुई लेकिन लॉक डाउन की वजह से और कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार को यह कठोर कदम उठाना पड़ा लेकिन अब सोशल डिस्टन्सिंग और मास्क पहनना अनिवार्य मानते हुए मेट्रो सेवा शुरू हुई है.

अब दिल्ली एनसीआर की रेलवे लाइनें हो सकती हैं झुग्गी मुक्त, SC के आदेश से मचा हड़कंप

supreme-court-order-ro-remove-48000-jhuggi-delhi-ncr-railway-line

फरीदाबाद, 4 सितम्बर: दिल्ली और एनसीआर में रेलवे लाइन के किनारे कई वर्षों से कब्जा होता रहा है, शुरुआत में लोगों ने पटरियों के किनारे झुग्गियां बनायी, उसके बाद टीम और चद्दरों से झोपडी बना ली और उसके बाद धीरे धीरे झुग्गियों के स्थान पर पक्के मकान बनाते चले गए और अब ये लाखों लोग इसे ही अपना आशियाना समझने लगे हैं लेकिन कब्जे की जमीन कभी भी अपनी नहीं हो सकती है, कभी ना कभी तो सरकार अपनी जमीन वापस लेती ही है.

दिल्ली एनसीआर में रेलवे लाइन की पटरियों के किनारे करीब 48000 झुग्गियां चिन्हित की गयी हैं जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने हटाने के आदेश दिए हैं, ये झुग्गियां 148 किलोमीटर में फैली हुई हैं, गुरुवार को जारी आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि कोई भी स्थानीय कोर्ट झुग्गी झोपड़ियों को हटाने से रोकने के लिए स्टे नहीं दे.

राजनीतिक पार्टियों पर भी नकेल

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश में यह भी कहा है कि कोई भी राजनीतिक पार्टी झुग्गियों को हटाने में दखलंदाजी ना दे, अगर किसी भी तरह का राजनैतिक दखल दिया गया या दबाव बनाया गया तो कानूनी कार्यवाही की जाएगी। 

आदेश के बाद मचा हड़कंप

क्योंकि यह आदेश सर्वोच्च अदालत ने दिया है इसलिए झुग्गीवासियों में हड़कंप मच गया है, अब किसी भी कोर्ट से स्टे भी नहीं मिलेगा इसलिए इन झुग्गियों में रहने वाले लाखों लोगों को अपना नया आशियाना ढूंढना ही पड़ेगा। झुग्गियों को हटाने का काम तीन महीनें में पूरा किया जाएगा।

UnLock 3: कन्टेनमेंट जोन से बाहर रात्रि कर्फ्यू ख़त्म, योग-जिम सेण्टर भी खुलेंगे, और क्या क्या?

mha-guidelines-unlock-3-from-1-31-august-yoga-gym-may-open

नई दिल्ली, 30 जुलाई: गृह मंत्रालय ने कन्टेनमेंट जोन से बाहर के क्षेत्रों में UnLock 3 (1 अगस्त से 31 अगस्त) को लेकर दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं. राज्य सरकारों से फीडबैक लेने के बाद ही ये दिशानिर्देश दिए गए हैं हालाँकि राज्य सरकारों को खुद के कदम उठाने की आजादी भी दे दी है. 

कुछ महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश
  • रात्रि कर्फ्यू हटा लिया गया है, मतलब अब कन्टेनमेंट जोन के बाहर किसी भी समय बेरोकटोक आवागमन किया जा सकता है.
  • 5 अगस्त से योग संस्थान और जिम-सेण्टर को खोलने की परमीशन दी गयी है. इसके लिए MHA द्वारा जारी SOP का पालन करना पड़ेगा।
  • सोशल डिस्टन्सिंग के साथ स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम आयोजित किये जा सकेंगे
  • वन्दे भारत मिशन के तहत अंतर्राष्ट्रीय यात्रा को मंजूरी दी गयी है.
कन्टेनमेंट जोन के बाहर निम्नलिखित को छोड़कर सभी गतिविधियों की परमीशन दी गयी है - 
  1. मेट्रो रेल नहीं चलेगी 
  2. सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थियेटर, बार्स, ऑडिटोरियम, असेम्बली हाल और सम्बंधित गतिविधियां बंद रहेंगी।
  3. सोशल/ पॉलिटिकल/ स्पोर्ट्स/ एंटरटेनमेंट /ऐकडेमिक /सांस्कृतिक /धार्मिक कार्यक्रम और भीड़-भाड़ वाले कार्यक्रमों पर रोक
आदेश में यह भी लिखा गया है कि - कन्टेनमेंट जोन में लॉक डाउन 31 अगस्त तक जारी रहेगा।



दिल्ली में जल प्रलय, कुमार विश्वास बोले, थोबड़ा दिखाऊ विज्ञापनों पर खर्च किये गए 2000 करोड़ रुपये

kumar-vishwas-reaction-on-delhi-anna-nagar-flood-arvind-kejriwal-ad

नई दिल्ली, 20 जुलाई: दिल्ली में 19 जुलाई को जल प्रलय देखने को मिली जहाँ पर सिर्फ पानी ही पानी दिखा, कई जगह गाड़ियां डूब गयीं तो कई घर गिर गए.

सबसे अधिक प्रलय अन्ना नगर में देखने को मिली जहाँ पर नाले किनारे बनी कई झुग्गियां और मकान ढह गए, तीन मंजिला मकान भी जमींदोज होकर नाले में बहते दिखे।

मशहूर कवि कुमार विश्वास ने इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा - दिल्ली के टैक्स पेयर्स के 2 हज़ार करोड़ रूपए “थोबड़ा-दिखाऊ विज्ञापनों” पर खर्च करके कमाई गई गंदी-बौनी क्रांति के इस बजबजाते नाले में जो कच्चे और सच्चे घर बहे गए हैं, दुर्भाग्य से वे भी “अन्ना नगर” के ही हैं. आइए दोषारोपण व कुतर्कों से अपने-अपने आकाओं/पार्टियों का बचाव शुरू करें।

कृष्णपाल गुर्जर ने AAP नेताओं के लिए की प्रार्थना, भगवान इनके मन में जगाएं जनता के लिए सेवा भाव

krishanpal-gurjar-pray-for-aap-leader-delhi-to-work-for-public-news

फरीदाबाद, 29 जून: फरीदाबाद के सांसद और मोदी सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने आम आदमी पार्टी के नेताओं पर निशाना साधा है और उनके लिए भगवान् से प्रार्थना की है। 

बात दरअसल ये है कि राधा सामी सत्संग ब्यास छतरपुर ने पांच बेड वाला दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना अस्पताल बनाया है। इस अस्पताल का क्रेडिट केजरीवाल ले रहे हैं जबकि इस बनाने में केंद्र सरकार का सहयोग है, दो दिन पहले अमित शाह ने इस अस्पताल का दौरा भी किया था, साथ में केजरीवाल भी थे। 

केजरीवाल को इस अस्पताल का क्रेडिट लेते देखकर भाजपा नेता कृष्णपाल गुर्जर से रहा नहीं गया और उन्होंने ट्विटर पर एक के बाद एक ट्वीट किये। 

उन्होंने लिखा - जब कोरोना का संकट दिल्ली सरकार के हाथ से निकल गया था, जब दिल्ली सरकार ने हाथ खड़े कर दिए थे तो देश के गृह मंत्री श्री अमित शाह जी ने मदद का हाथ बढ़ाया था। उन्होंने दिल्ली को बचाने के लिए फ़ास्ट ट्रैक मोड पर विभिन्न कार्य आरंभ करवाए। 

आप सभी जानते होंगे कि इसके बाद आम आदमी पार्टी की सरकार ने क्या किया, आदत से मजबूर इन कार्य का चुनावी विज्ञापन शुरू कर दिया, हद तो तब हुई जब इनके एक नेता ने अपने प्रचार में सरदार पटेल जी के 'स्टेचू ऑफ यूनिटी' की निंदा करी। 

इस पूरी परियोजना में केजरीवाल जी सबसे अधिक सक्रिय ट्विटर पर क्रेडिट लेने की कोशिश में ही दिखे। जो कि उन संस्थाओं, जवानों, व अन्य लोगो की उपेक्षा है। मेरी ईश्वर से प्राथना है कि वह आम आदमी पार्टी के नेताओं के मन में दिल्ली के लिए सेवा भाव जागृत करें।

केजरीवाल सरकार ने बदला इतिहास, दिल्ली में पेट्रोल से मंहगा हुआ डीजल

diesel-price-higher-than-petrol-price-in-delhi-arvind-kejriwal-sarkar

दिल्ली, 24 जून: अरविन्द केजरीवाल की  सरकार ने दिल्ली में इतिहास बदल दिया है,  अन्य राज्यों में डीजल का दाम पेट्रोल के दाम से करीब 4 से 8 रुपये सस्ता है लेकिन दिल्ली में डीजल का दाम पेट्रोल के दाम से अधिक हो गया है। केजरीवाल सरकार के इस कदम से लोग हैरान हैं और डीजल की गाड़ियां रखने वाले खून के आंसू रो रहे हैं। 

दिल्ली में डीजल का दाम 79.88 रुपये हो गया है जबकि पेट्रोल का दाम 79.76 है जो कि 12 पैसे कम है। इंडियन आयल की वेबसाइट पर इसे देखा जा सकता है। 

अगर फरीदाबाद (हरियाणा) की बात करें तो यहाँ पर डीजल का दाम 72. 41 है जबकि पेट्रोल का दाम 78.23 है जो कि करीब 4 रुपये अधिक है। 

अगर नॉएडा (UP) की बात करें तो यहाँ पर डीजल का दाम 72. 03 है जबकि पेट्रोल का दाम 80.57 है जो कि करीब 7.5 रुपये अधिक है। 

केजरीवाल सरकार के इस कदम से दिल्ली सरकार की कमाई बढ़नी तय है लेकिन यह भी हो सकता है कि डीजल के वाहन रखने वाले डीजल खरीदने फरीदाबाद, नॉएडा, गुरुग्राम, सोनीपत में ना आ जाएं। 

अरविन्द केजरीवाल की कोरोना टेस्ट की आ गयी रिपोर्ट

arvind-kejriwal-corona-test-report-negative-news-in-hindi

नई दिल्ली, 9 जून: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के कोरोना नाटक का आज अंत हो गया है, जी हाँ! केजरीवाल की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है, आज सुबह उनका कोरोना टेस्ट हुआ था।

गौरतलब है कि, आम आदमी पार्टी के नेता कल से ही बता रहे थे की केजरीवाल की तबियत खराब हो गई। कोरोना के लक्षण हैं। बड़े-बड़े अख़बारों में खबर छपी, कई चैनलों ने तो केजरीवाल की कई सालों पुरानी खांसी वाली वीडियो लगाकर खबर प्रसारित की। पूरे देश में खबर फ़ैल गई कि केजरीवाल को कोरोना के लक्षण हैं। सब केजरीवाल के लिए दुआ करने लगे। लेकिन अब केजरीवाल की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

दरअसल आम आदमी पार्टी ने जानबूझकर पूरे देश में फैलाया कि केजरीवाल को कोरोना के लक्षण हो गए हैं ताकि जनता सहानुभूति जताने लगे और दिल्ली में कोरोना को रोकने में असफल रहे केजरीवाल की नाकामियों को भूल जाए। परन्तु आम आदमी पार्टी का ये नाटक ज्यादा दिनों तक नहीं चल सका।

बता दें कि, केजरीवाल ने 7 जून को प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके ऐलान किया कि दिल्ली में सिर्फ दिल्ली वालों का ईलाज होगा, केजरीवाल के इस फैसले का देशभर में विरोध होनें लगा, चारों तरफ से दिल्ली सरकार घिरने लगी। 8 जून को खबर आई कि केजरीवाल की तबियत खराब हो गई है। उन्हें कोरोना का लक्षण है, सब भूलकर देशवासी केजरीवाल के अच्छे स्वास्थ्य की कामना करने लगे और करना भी चाहिए। पंरतु 9 जून को केजरीवाल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। उन्हें कोरोना नहीं हुआ है। खांसी आना कोई नई बात नहीं है केजरीवाल को हमेशा खांसी आती रहती है।

गौरतलब है कि कोरोना के मामलों में दिल्ली तीसरे नंबर पर चल रही है, दिल्ली में अब तक कोरोना के 29,943 मामले आ चुके हैं जबकि 874 लोगों की मौत हो चुकी है। दिन-प्रतिदिन दिल्ली में कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है।

अरविन्द केजरीवाल का ऐलान, कल से दिल्ली बॉर्डर खोल देंगे

delhi-cm-arvind-kejriwal-open-delhi-border-from-8-june-2020

नई दिल्ली, 7 जून: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने ऐलान किया है कि 8 जून 2020 से दिल्ली बॉर्डर अन्य राज्यों के लिए खोल दिया जाएगा। अन्य राज्यों के लोग आसानी से बेरोकटोक दिल्ली में प्रवेश कर सकेंगे और ड्यूटी करने वाले भी ड्यूटी करने जा सकेंगे। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केजरीवाल ने एक हप्ते पहले दिल्ली बॉर्डर को सील करने के आदेश दिए थे, उनका कहना था कि दिल्ली के अस्पताल सिर्फ दिल्ली वालों के हैं, यहाँ पर सिर्फ दिल्ली वालों का ही इलाज होगा क्योंकि अन्य राज्यों के लोग अगर दिल्ली में कोरोना का इलाज कराएंगे तो यहाँ पर संसाधनों की कमी हो जाएगी। 

केजरीवाल के इस फैसले का काफी विरोध हुआ था क्योंकि दिल्ली को देश की राजधानी भी कहा जाता है और राजधानी पर पूरे देश की जनता का हक़ होता है। इसी विरोध को देखते हुए केजरीवाल ने अपना फैसला बदल दिया है। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली में कोरोना के 27654 मरीज हो चुके हैं, इसमें से 10664 मरीज ठीक हो चुके हैं और 16229 मरीजों का इलाज जारी है, 761 मरीजों की मौत हो चुकी है। 

Delhi Corona Update: एक ही दिन में बढे 1513 कोरोना मरीज

delhi-corona-update-total-23645-positive-patient-3-june-2020

नई दिल्ली, 3 जून: दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, दिल्ली में हालात चिंताजनक होते जा रहे हैं, सिर्फ आज एक दिन में 1513 कोरोना संक्रमित मरीज सामने आये हैं। सिर्फ आज ही 9 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हुई है। 

दिल्ली में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 23645 हो चुकी है, 9542 मरीज ठीक भी हो चुके है, कुल 606 मरीजों की मौत हो चुकी है, वर्तमान में 13497 एक्टिव मरीज हैं। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली सरकार कोरोना संक्रमण रोकने का पूरा प्रयास कर रही है लेकिन सभी प्रयास फेल साबित हुए हैं। रोजाना हजारों संक्रमण बढ़ने से दिल्ली सरकार की चिंता बढ़ गयी है, करीब 8386 बेड की व्यवस्था की गयी है जिसमें से 4940 बेड खाली हैं, अगर इसी तरह से हजारों मरीज सामने आते रहे तो जल्द ही सभी बेड फुल हो सकते हैं। 

delhi-corona-update

दिल्ली में पिछले एक हप्ते में बढे 3500 कोरोना मरीज, केजरीवाल बोले, चिंता की कोई बात नहीं


arvind-kejriwal-delhi-corona-update-total-13418-positive-newsनई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज कोरोना से सम्बंधित सरकार द्वारा उठाये गए क़दमों की जानकारी दी. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है लेकिन इसमें चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि काफी मरीज ठीक होकर घर भी जा रहे हैं। 

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना तो रहेगा लेकिन हमारी कोशिश कोरोना से होने वाली मौत हो रोकना है. उन्होंने बताया कि दिल्ली में अब तक 13418 कोरोना संक्रमण हो चुके हैं लेकिन 6540 मरीज ठीक भी हो चुके हैं जो करीब आधे हैं। अन्य मरीजों को भी ठीक करने का प्रयास किया जा रहा है। दिल्ली में कोरोना से अब तक 261 लोगों की मौत हुई है। 

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पर्याप्त मात्रा में बेड, वेंटीलेटर और अन्य सुविधाएं मौजूद हैं, अभी हम कोरोना मरीजों का इलाज करने में सक्षम हैं, सरकारी अस्पतालों में कोरोना के 3829 बेड हैं जिसमें 3164 में ऑक्सीजन की सुविधा है। अभी सिर्फ डेढ़ हजार बेड ही इस्तेमाल हो रहे हैं और अन्य खाली हैं। 

इसी तरह से प्राइवेट अस्पतालों में 677 बेड हैं जिसमें 509 बेड भर चुके हैं और सिर्फ 150-175 बेड खाली हैं, कुछ लोग प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज कराना पसंद करते हैं इसीलिए कल दिल्ली सरकार ने एक आर्डर जारी किया जिसमें 170 प्राइवेट अस्पतालों को अपने 20 पर्सेंट बेड कोरोना मरीजों के लिए रिज़र्व रखने को कहा है। अब प्राइवेट हॉस्पिटल में भी करीब 2000 बेड खाली हो चुके हैं। 

उन्होंने बताया कि दिल्ली में 17 मई को लॉक डाउन में ढील दी गयी थी, हमें अंदेशा था कि ढील देने के बाद कोरोना संक्रमण में बढ़ोतरी होगी जो हुई भी है लेकिन इसमें चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि अभी इस तेजी से मरीज नहीं बढ़ रहे हैं कि हमारे अस्पताल फेल हो जाएं, अभी स्थिति नियंत्रण में हैं। 

लॉक डाउन पार्ट- 4 की शुरुआत: कालिंदी कुञ्ज में लगा लम्बा जाम

lock-down-part-4-started-kalindi-kunj-heavy-jaam-news-in-hindi

नई दिल्ली: भारत में लॉकडाउन के चौथे चरण की शुरुआत हो चुकी है, 31 मई तक लॉक डाउन बढ़ाया गया है, लेकिन लॉक डाउन पार्ट- 4 की शुरुआत में ही दिल्ली और नॉएडा में नौकरी के लिए जाने वालों की वजह से कालिंदी कुंज में लंबा जाम लग गया। 

फोटो में आप देख सकते हैं कि किस तरह से लोग अपने वाहनों के साथ लाइन में लगे हैं, यहाँ पर कोई सोशल डिस्टन्सिंग भी नहीं है। 

हमारी सूचना के अनुसार करीब एक घंटे तक ये जाम लगा रहा, लोग जाम से परेशान होते रहे, शायद चेकिंग की वजह से यह जाम लग गया लेकिन इस जाम की वजह से कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है. इसपर सरकारों को जरूर ध्यान देना चाहिए।

दिल्ली तिलक नगर के क्वारंटाइन सेण्टर में भगदड़, बोरिया बिस्तर समेटकर गेट से भागते दिखे लोग

delhi-tilak-nagar-quarantine-center-people-seeing-run-away-video

फरीदाबाद, 5 मई: दिल्ली में कोरोना वायरस ने कोहराम मचा दिया है, रोजाना 300 - 400 मरीज बढ़ रहे हैं, कोरोना मरीजों की कुल संख्या 4898 हो चुकी है.

दिल्ली में जितनी तेजी से कोरोना फ़ैल रहा है, ऐसा लगता है कि दिल्ली सरकार के हाथ से कोरोना लगाम की डोर छूट रही है.

शायद यही वजह है कि आज दिल्ली के तिलक नगर के कन्या केंद्रीय विद्यालय के क्वारंटाइन सेण्टर से करीब 50 लोग भाग गए. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. देखिये - 

दिल्ली में हुआ एक ही दिन में 427 कोरोना मरीजों का विस्फोट

delhi-corona-update-427-new-positive-patient-on-3-may-2020

नई दिल्ली, 4 मई: देशभर में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है। महाराष्ट्र के बाद सबसे ज्यादा दिल्ली कोरोना से प्रभावित है। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 427 नए लोगों में वायरस की पुष्टि की गई है। यह अब तक का एक दिन में कोरोना से संक्रमित होने का सबसे बड़ा आंकड़ा है।

delhi-corona-update
दिल्ली में कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 4549 तक पहुंच गई है। बता दें कि – अभी मई की शुरुआत हुई है और पहले तीन दिन में दिल्ली में कुल 1034 मरीज आए हैं। 330 पॉजिटिव मरीज होम क्वारंटीन में हैं। 3 मई को 427, 2 मई को 384 और 1 मई को 223 मरीज की पुष्टि हुई थी।

एक और चिंता की बात यह है कि दिल्ली में आईसीयू मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है, अस्पतालों में चल रहे इलाज 1032 मरीजों में से 76 आईसीयू में भर्ती हैं और वहीं अब 13 मरीज वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए हैं।

दिल्ली मुंबई में आज हुआ कोरोना का सबसे बड़ा विस्फोट

delhi-and-mumbai-reported-corona-virus-blast-on-1-may-2020

नई दिल्ली: नई दिल्ली देश की राजधानी है जो दिल्ली राज्य में है और कुछ लोग दिल्ली को ही राजधानी मानते हैं क्योंकि दिल्ली एक शहर है. वहीं मुंबई देश की आर्थिक राजधानी है जो महाराष्ट्र में है. 

आज दोनों शहरों में कोरोना विस्फोट हुआ है. मुंबई में आज सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट हुआ है, सिर्फ आज कोरोना के 751 पॉजिटिव मरीज सामने आये हैं और मुंबई में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 7625 पहुँच चुकी है.

दिल्ली में भी आज सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट हुआ है, यहाँ पर आज 223 पॉजिटिव मरीज सामने आये हैं और अब दिल्ली में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 3738 पहुँच चुकी है.

कहने का मतलब ये है कि देश की दोनों कथित राजधानियों में कोरोना का कहर शुरू हो गया है और रोजाना सैकड़ों मामले सामने आ रहे हैं, टेंशन की बात ये है कि दोनों शहरों में अनगिनत बड़े बड़े हॉस्पिटल हैं उसके बाद भी कोरोना का लगाम नहीं लग पा रही है.

खट्टर-विज से सीखें केजरीवाल तभी कोरोना पर लगा पाएंगे लगाम, पढ़ें किन मामलों में फेल हैं केजरीवाल

cm-manohar-lal-hm-anil-vij-good-work-than-arvind-kejriwal-corona-virus

फरीदाबाद, 29 अप्रैल: मनोहर लाल और अनिल विज की जोड़ी ने सरकार चलाने का अद्भुत उदाहरण दिया है, कोरोना  महामारी के रोकथाम में इस जोड़ी ने ऐसी कुशलता दिखाई है जो किसी भी सरकार ने नहीं दिखाई, दिल्ली में कोरोना बेलगाम हो गया है, अगर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी खट्टर और विज की जोड़ी से कुछ सीखकर कोरोना के रोकथाम के लिए आक्रामक कदम उठाते तो दिल्ली में कोरोना इतना कोहराम ना मचाता।

अब हम बताने जा रहे हैं कि खट्टर-विज की सरकार ने ऐसा क्या किया है जो दिल्ली के सर्वेसर्वा अरविन्द केजरीवाल नहीं कर सके. सबसे पहले तो ये जान लीजिये कि हरियाणा सरकार ने कोरोना मरीजों का अपने ही राज्यों के अस्पतालों में इलाज कर रही है और अधिकतर मरीजों को ठीक कर रही है जबकि अरविन्द केजरीवाल अपने बड़े बड़े अस्पतालों पर बहुत इतराते थे लेकिन वहां पर कोरोना के 3500 मरीज हो चुके हैं और 54 मरीज मर चुके हैं.

हरियाणा सरकार ने अपने डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के रहने खाने के लिए 3 स्टार होटलों में, टूरिस्म होटलों में और अन्य सम्बंधित स्थानों पर व्यवस्था की है ताकि कोरोना योद्धाओं को किसी भी तरह की परेशानी ना हो लेकिन दिल्ली में हरियाणा के सोनीपत, फरीदाबाद, गुरुग्राम और अन्य सीमावर्ती जिलों से रोजाना हजारों लोग दिल्ली में नौकरी करने के लिए मेडिकल स्टाफ और पुलिसकर्मी जाते हैं लेकिन केजरीवाल उनके लिए व्यवस्था नहीं कर पाए, इसीलिए बॉर्डर सील होने पर दिल्ली के कर्मचारियों को परेशान हो रही है, अगर केजरीवाल हरियाणा की खट्टर सरकार ने कुछ सीखकर अपने स्टाफ के दिल्ली में रहने की व्यवस्था कर देते तो दिल्ली के कर्मचारियों को परेशानी ना होती।

हरियाणा सरकार ने सबसे बेहतरीन काम किया तब्लीगी जमात के लोगों को ट्रेस करने का. निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के हजारों लोगों के इकठ्ठे होकर एक दूसरे को कोरोना फैलाकर पूरे देश में फैलकर कोरोना फैलाया। हरियाणा में भी 1500 से अधिक तब्लीगी घुसे लेकिन हरियाणा सरकार ने युद्ध स्तर पर उन्हें ट्रेन्स करके उनका कोरोना टेस्ट कराया जिसमें से 120 लोग पॉजिटिव मिले और सबका इलाज कराया।

लेकिन केजरीवाल ऐसा नहीं कर सके. अगर वह भी खट्टर सरकार की तरह तब्लीगी जमात के लोगों को ट्रेस करते, अगर उनपर कानूनी कार्यवाही की चेतावनी देते और उन्हें फटाफट ढूढ़कर उनका टेस्ट कराकर कोरोना चैन को तोड़ देते तो दिल्ली की आज ऐसी हालत ना होती लेकिन केजरीवला तुस्टीकरण की राजनीति करते हैं इसलिए तब्लीगी जमात के लोगों पर सख्त कार्यवाही करने की उनकी हिम्मत नहीं हुई वहीं अनिल विज ने चेतावनी दी कि अगर तब्लीगी जमात के लोग घरों से बाहर ना निकले और अपना टेस्ट नहीं करवाया तो इनके खिलाफ ह्त्या के प्रयास का मामला दर्ज किया जाएगा। अनिल विज की इस चेतावनी का असर हुआ और तब्लीगी जमात के छुपे हुए लोग बाहर निकले और अपना टेस्ट कराया। आज उसी का परिणाम है कि नूह-मेवात, पलवल फरीदाबाद, गुरुग्राम में कोरोना की चैन तोड़ दी गयी.

खट्टर और विज के इसी अच्छे कामों का परिणाम है कि आज हरियाणा में सिर्फ 308 कोरोना के मरीज हैं जिसमें से 224 मरीजों का इलाज भी कर लिया गया है जबकि दिल्ली में 3500 के करीब मरीज हो चुके हैं, जिसमें से सिर्फ 1078 मरीजों का इलाज किया गया है जबकि दिल्ली में बड़े बड़े अस्पताल हैं और केजरीवाल को अपने अस्पतालों पर घमंड है. कुछ महीनों पहले केजरीवाल कहते थे कि उनके अस्पतालों में यूपी बिहार के लोग 500 रुपये किराया खर्च करके आते हैं और 5 लाख का इलाज मुफ्त में कराकर जाते हैं.

कहने का मतलब ये है कि खट्टर विज की जोड़ी ने कोरोना के खतरे के खिलाफ असरदार और प्रभावी लड़ाई लड़ी है जबकि केजरीवाल सरकार पूरी तरह से असफल साबित हुई है. दिल्ली में कोरोना बेलगाम है और इसपर लगाम लगाने के लिए आक्रामक होना पड़ेगा, तब्लीगी जमात के लोगों को ट्रेस करके सबका टेस्ट करना पड़ेगा। मेडिकल स्टाफ के लिए दिल्ली में सुविधाएं देनी पड़ेंगी और तुस्टीकरण की राजनीति को छोड़ना पड़ेगा।

थोड़ी सी लापरवाही पर फिर अटैक कर देता है कोरोना, दिल्ली के एक मोहल्ले में 46 लोग कोरोना पॉजिटिव

delhi-jahangir-puri-46-people-found-corona-positive-in-a-muhalla-news

नई दिल्ली, 23 अप्रैल: कोरोना वायरस बहुत ही खतरनाक वायरस है. यह हमेशा देखता रहता है कि कहाँ के लोग ज्यादा लापरवाही बरत रहे हैं, सोशल डिस्टैन्सिंग में थोड़ी सी भी लापरवाही देखने पर कोरोना वायरस फिर से अटैक कर देता है और देखते ही देखते पूरी गली मोहल्ले को बीमार बना देता है.

दिल्ली से एक हैरान कर देने वाली खबर आई है, जहां एक मोहल्ले में 46 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गये हैं। ये मामला दिल्ली के जहांगीरपुरी का है। प्रशासन में इसकी जानकारी मिलते ही हड़कंप मच गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, जहांगीरपुरी के एच ब्लॉक में 46 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये हैं। एक साथ 46 लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए जानें से मोहल्ले के लोगों में दहशत का माहौल है। इससे पहले आज सुबह जामा मस्जिद इलाके में 11 लोग कोरोना पॉजिटव पाए गए। फिलहाल दोनों इलाकों को सील कर दिया गया है. ताकि संक्रमण और न फ़ैल सके।

बता दें कि – पिछले हफ्ते भी जहांगीरपुरी में एक परिवार के 31 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले थे, इस समय जहांगीरपुरी को पूरी तरह सील कर दिया गया है। आवश्यक चीजों की आपूर्ति प्रसाशन कर रहा है।

पढ़ें, केजरीवाल क्यों बोले, दिल्ली में कोरोना, फ़ैल चुका है, लोग कोरोना लेकर घूम रहे हैं

delhi-me-corona-fail-chuka-hai-says-cm-arvind-kejriwal-19-april

फरीदाबाद, 19 अप्रैल: कई सारे राज्य कोरोना से सम्बंधित जानकारी छुपाने का प्रयास कर रहे हैं, कई जिले के प्रशासनिक अधिकारी यह भी नहीं पता रहे हैं कि कौन से एरिया में कितने कोरोना मरीज हैं, मीडिया और जनता से बहुत सारी जानकारियां छुपाई जा रही हैं जिसकी वजह से जनता में पूरी तरह से जागरूकता और सावधानी का माहौल नहीं बन रहा है लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल रोजाना मीडिया के सामने आकर पूरी जानकारी देते हैं.

आज अरविन्द केजरीवाल ने साफ़ साफ़ बता दिया कि दिल्ली में कोरोना फ़ैल चुका है. उन्होंने साफ़ साफ़ बता दिया कि दिल्ली में बहुत सारे लोग कोरोना लेकर घूम रहे हैं लेकिन उन्हें पता नहीं है क्योंकि उनके अंदर कोरोना के कोई लक्षण नहीं हैं.

केजरीवाल ने एक चौंकाने वाली जानकारी दी है, उन्होंने कहा कि 18 अप्रैल 2020 को दिल्ली में 736 लोगों की टेस्ट रिपोर्ट आयी जिसमें से 186 लोग कोरोना के मरीज निकले। मतलब 25 परसेंट, ये काफी ज्यादा हैं. ये 185 लोग Asymptomatic हैं, इनमें किसी के अंदर कोरोना वायरस के लक्षण नहीं हैं. ना तो उन्हें बुखार है, ना खांसी है और ना ही सांस की दिक्कत है, उन्हें पता ही नहीं था कि वे दिल्ली में कोरोना लेकर घूम रहे हैं. ये और भी खतरनाक बात है. कोरोना फ़ैल चुका है, बहुत सारे लोग कोरोना लेकर घूम रहे हैं. ये बीमारी ऐसी है कि किसी को पता ही नहीं चलता कि मुझे बीमारी हुई है. जिसका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है वो घूमता रहता है और वो पता नहीं कितने लोगों  में कोरोना फैला देता है.

केजरीवाल ने एक और चौंकाने वाली  जानकारी दी, उन्होंने बताया कि 185 पॉजिटिव लोगों में से एक ऐसा है जो सरकारी फ़ूड सेण्टर में कई दिनों से भोजन बांटने जाता है, हमें आशंका है कि उसने कई लोगों को संक्रमित किया होगा, अब हम फ़ूड सेण्टर में आने वालों का भी टेस्ट कराएंगे।

CM केजरीवाल बोले, दिल्ली में फ़ैल गया है कोरोना, निजामुद्दीन मरकज की पड़ी सबसे बड़ी मार, पढ़ें

delhi-cm-arvind-kejriwal-corona-update-nizamuddin-markaj-news

नई दिल्ली, 19 अप्रैल: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कोरोना वायरस से फैली महामारी पर अपडेट दिया है. उन्होंने कोरोना संक्रमण बढ़ने का ठीकरा विदेशी यात्रियों और निजामुद्दीन मरकज पर फोड़ा है. उन्होंने कहा कि निजामुद्दीन मरकज की सबसे बड़ी मार दिल्ली पर पड़ी है.

 उन्होंने बताया कि दिल्ली में कोरोना के लगभग 1900 मरीज हैं। इनमें 43 आईसीयू में हैं जबकि 6 वेंटिलेटर पर हैं। केजरीवाल ने कहा कि देश की 2 फीसदी आबादी दिल्ली में रहती है। जबकि दिल्ली में कोरोना के 12 फीसदी मरीज हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली में कोरोना विदेशियों के आने से फैला क्योंकि जो बाहर से आया वही कोरोना लेकर आया, सबसे ज्यादा लोग दिल्ली में ही आये बाहर से। जबकि दिल्ली में कोरोना मरीज थे नहीं। केजरीवाल ने यह भी कहा कि निजामुद्दीन मरकज की सबसे बड़ी मार दिल्ली पर पड़ी। दिल्ली में अब कोरोना फ़ैल चुका है. सैकड़ों लोग ऐसे पॉजिटिव मिले हैं जिन्हें कोरोना के कोई लक्षण नहीं हैं.


केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में 1900 मरीजों में 1050 से ज्यादा निजामुद्दीन मरकज के हैं। केजरीवाल ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि लॉकडाउन  का पालन करो, तभी कोरोना से सुरक्षित रहोगे। सीएम ने कहा, हमने दिल्ली के लोगों को सुरक्षित रखने का फैसला किया है, लॉक डाउन वैसे ही रहेगा जैसे पहले था, इसमें कोई ढील नहीं दी जाएगी। एक हफ्ते बाद फिर करेंगे समीक्षा। उसके बाद कोई निर्णय लिया जाएगा।

ड्यूटी करते हुए अगर दिल्ली के पुलिस कर्मी हुए कोरोना पॉजिटिव तो कमिश्नर साहब देंगे 1 लाख रुपये

delhi-police-staff-will-get-rs-1-lakh-if-found-corona-positive-news

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के कमिश्नर ऐलान किया है कि अगर कोई पुलिसकर्मी ड्यूटी के दौरान कोरोना वायरस की चपेट में आ गया तो उसे एक लाख रुपये का आर्थिक सहयोग दिया जाएगा।
आपको बता दें कि दिल्ली में अब तक 1707 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, आज 67 नए मामले सामने आये हैं. फ़िकर वाली बात ये है कि 56 मरीजों की ना तो फॉरेन ट्रेवल हिस्ट्री है और ना ही कांटेक्ट हिस्ट्री, उनको संक्रमण कैसे हुआ, इसकी जांच की जा रही है. इसके अलावा 11 लोगों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री है.

दिल्ली में अब कुल मरीजों की संख्या 1707 हो चुकी है जिसमें से 72 लोगों का ट्रीटमेंट हो चुका है और 42 मरीजों की मौत हो चुकी है. 1592 मरीजों का कई अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

1707 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में 1080 मरीज मरकज निजामुद्दीन से जुड़े हैं, 53 लोग विदेश यात्रा से जुड़े हैं, 353 लोग ऐसे लोगों के कांटेक्ट में आने से संक्रमित हुए हैं और 191 लोगों की कांटेक्ट हिस्ट्री की जांच की जा रही है. सरकार कोरोना महामारी से निपटने की पूरी कोशिश कर रही है, दिल्ली में 40 से अधिक हॉटस्पॉट की पहचान हो चुकी है और ऐसे क्षेत्रों में अधिक निगरानी रखी जा रही है.

दिल्ली में मिले कोरोना के 67 नए मरीज, कुल आंकड़ा पहुंचा 1707

delhi-corona-update-17-april-2020-1707-total-patient-positive-news

फरीदाबाद, 17 अप्रैल: दिल्ली में कोरोना महामारी पर 17 अप्रैल की अपडेट आयी है, दिल्ली में अब तक 1707 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, आज 67 नए मामले सामने आये हैं. फ़िकर वाली बात ये है कि 56 मरीजों की ना तो फॉरेन ट्रेवल हिस्ट्री है और ना ही कांटेक्ट हिस्ट्री, उनको संक्रमण कैसे हुआ, इसकी जांच की जा रही है. इसके अलावा 11 लोगों की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री है.

दिल्ली में अब कुल मरीजों की संख्या 1707 हो चुकी है जिसमें से 72 लोगों का ट्रीटमेंट हो चुका है और 42 मरीजों की मौत हो चुकी है. 1592 मरीजों का कई अस्पतालों में इलाज चल रहा है.

1707 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में 1080 मरीज मरकज निजामुद्दीन से जुड़े हैं, 53 लोग विदेश यात्रा से जुड़े हैं, 353 लोग ऐसे लोगों के कांटेक्ट में आने से संक्रमित हुए हैं और 191 लोगों की कांटेक्ट हिस्ट्री की जांच की जा रही है. सरकार कोरोना महामारी से निपटने की पूरी कोशिश कर रही है, दिल्ली में 40 से अधिक हॉटस्पॉट की पहचान हो चुकी है और ऐसे क्षेत्रों में अधिक निगरानी रखी जा रही है.