होम समाचार अमेरिकी क्रूज मिसाइलें जर्मनी वापस लौटेंगी, जिससे मास्को नाराज

अमेरिकी क्रूज मिसाइलें जर्मनी वापस लौटेंगी, जिससे मास्को नाराज

25
0
अमेरिकी क्रूज मिसाइलें जर्मनी वापस लौटेंगी, जिससे मास्को नाराज


नाटो की 75वीं वर्षगांठ के शिखर सम्मेलन में घोषित निर्णय के अनुसार शीत युद्ध के बाद पहली बार 2026 से जर्मनी में लंबी दूरी की अमेरिकी मिसाइलें समय-समय पर तैनात की जाएंगी।

टॉमहॉक क्रूज़, एसएम-6 और हाइपरसोनिक मिसाइलों की मारक क्षमता मौजूदा मिसाइलों से काफी अधिक हैअमेरिका और जर्मनी ने एक संयुक्त बयान में कहा।

अमेरिका और पूर्व सोवियत संघ के बीच 1988 की संधि के तहत ऐसी मिसाइलों पर प्रतिबंध लगाया गया होता, लेकिन यह समझौता पांच साल पहले टूट गया।

रूसी उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने कहा कि मास्को “नए खतरे पर सैन्य प्रतिक्रिया” देगा।

उन्होंने तर्क दिया कि “यह बढ़ते तनाव की श्रृंखला की एक कड़ी मात्र है”, उन्होंने नाटो और अमेरिका पर रूस को डराने का प्रयास करने का आरोप लगाया।

संयुक्त अमेरिकी-जर्मनी वक्तव्य में स्पष्ट किया गया कि मिसाइलों की “अचानक” तैनाती को शुरू में अस्थायी माना गया था, लेकिन बाद में यह नाटो और यूरोप के “एकीकृत निवारण” के प्रति अमेरिकी प्रतिबद्धता के भाग के रूप में स्थायी हो जाएगी।

वाशिंगटन में नाटो शिखर सम्मेलन में बोलते हुए जर्मन रक्षा मंत्री बोरिस पिस्टोरियस ने कहा कि अमेरिकी योजना के पीछे का उद्देश्य जर्मनी और अन्य यूरोपीय देशों को लंबी दूरी की मिसाइलों के विकास और खरीद में अपना निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

उन्होंने बताया कि अमेरिकी हथियारों की अस्थायी तैनाती से नाटो सहयोगियों को तैयारी का समय मिलेगा: “हम यहां यूरोप में क्षमता में बढ़ती गंभीर कमी के बारे में बात कर रहे हैं।”

इस तरह की मिसाइलों पर इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज (आईएनएफ) के तहत प्रतिबंध लगा दिया गया था, जिस पर शीत युद्ध के अंत में हस्ताक्षर किए गए थे और इसमें जमीन से प्रक्षेपित की जाने वाली मिसाइलें शामिल थीं, जो 500-5,500 किमी (310-3,400 मील) तक की यात्रा कर सकती थीं।

रूस के व्लादिमीर पुतिन को लगा कि यह बहुत प्रतिबंधात्मक है और 2014 में अमेरिका ने उन पर एक नए प्रकार के परमाणु-सक्षम क्रूज मिसाइल के साथ समझौते का उल्लंघन करने का आरोप लगाया।

अंततः 2019 में अमेरिका इस संधि से बाहर निकल गया और रूस भी उसी राह पर निकल गया।

जर्मनी के ग्रीन्स राजनेताओं ने चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ द्वारा जर्मन धरती पर अमेरिकी मिसाइलों की अनुमति देने के समझौते की आलोचना की थी।

ग्रीन्स श्री स्कोल्ज़ के सत्तारूढ़ गठबंधन का हिस्सा हैं, और सुरक्षा मामलों पर उनकी प्रवक्ता सारा नन्नी ने इस बात पर अपनी निराशा व्यक्त की कि उन्होंने निर्णय के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की।

उन्होंने राइनिश पोस्ट अखबार को बताया, “इससे भय और बढ़ सकता है तथा गलत सूचना और उकसावे की गुंजाइश पैदा हो सकती है।”



Source link

पिछला लेखपत्रों में: हाल ही में ब्लू जेज़ का ड्राफ्ट कितना अच्छा रहा है?
अगला लेखप्रोजेक्ट 2025 क्या है और इसके पीछे कौन है?
जेनेट विलियम्स
जेनेट विलियम्स एक प्रतिष्ठित कंटेंट राइटर हैं जो वर्तमान में FaridabadLatestNews.com के लिए लेखन करते हैं। वे फरीदाबाद के स्थानीय समाचार, राजनीति, समाजिक मुद्दों, और सांस्कृतिक घटनाओं पर गहन और जानकारीपूर्ण लेख प्रस्तुत करते हैं। जेनेट की लेखन शैली स्पष्ट, रोचक और पाठकों को बांधने वाली होती है। उनके लेखों में विषय की गहराई और व्यापक शोध की झलक मिलती है, जो पाठकों को विषय की पूर्ण जानकारी प्रदान करती है। जेनेट विलियम्स ने पत्रकारिता और मास कम्युनिकेशन में अपनी शिक्षा पूरी की है और विभिन्न मीडिया संस्थानों के साथ काम करने का महत्वपूर्ण अनुभव है। उनके लेखन का उद्देश्य न केवल सूचनाएँ प्रदान करना है, बल्कि समाज में जागरूकता बढ़ाना और सकारात्मक परिवर्तन लाना भी है। जेनेट के लेखों में सामाजिक मुद्दों की संवेदनशीलता और उनके समाधान की दिशा में सोच स्पष्ट रूप से परिलक्षित होती है। FaridabadLatestNews.com के लिए उनके योगदान ने वेबसाइट को एक विश्वसनीय और महत्वपूर्ण सूचना स्रोत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जेनेट विलियम्स अपने लेखों के माध्यम से पाठकों को निरंतर प्रेरित और शिक्षित करते रहते हैं, और उनकी पत्रकारिता को व्यापक पाठक वर्ग द्वारा अत्यधिक सराहा जाता है। उनके लेख न केवल जानकारीपूर्ण होते हैं बल्कि समाज में सकारात्मक प्रभाव डालने का भी प्रयास करते हैं।