Followers

Showing posts with label India News. Show all posts

डिप्टी चेयरमैन पर हमला, राज्य सभा से ये 8 सांसद किये गए सस्पेंड

aap-mp-sanjay-singh-tmc-mp-derek-o-brien-suspended-rajya-sabha

फरीदाबाद, 21 सितम्बर: राज्य सभा में 20 सितम्बर को जमकर हंगामा हुआ था, डिप्टी चेयरमैन हरवंश राय पर हमला किया गया, था उन्हें गलियां दी गयी थी, उनका माइक तोड़ दिया गया और रूल बुक भी फाड़कर फेंक दी गयी, यही नहीं कई मार्शलों पर भी हमला किया गया, आप सांसद संजय सिंह का मार्शल को पीटते हुए वीडियो भी वायरल हुआ था, देखिये वीडियो - 

राज्यसभा में गुंडई करने वाले 8 सांसदों पर कार्यवाही हुई है, इन्हें एक हप्ते के लिए सस्पेंड कर दिया गया है, इनके नाम हैं - 
TMC सांसद डेरेक ओ ब्रायन और डोला सेन, 
आप सांसद संसय सिंह, 
कांग्रेस सांसद राजीव सतय, रिपुन बोरा और सैयद हुसैन, 
CPI सांसद केके रागेश और एलमाराम करीम।

देखिये MCF क्षेत्र के वार्ड - 23, सूर्या विहार पार्ट-2 का हाल, डेढ़ साल से खुदी है सड़क

 

फरीदाबाद, 11 सितम्बर:  फरीदाबाद नगर निगम ने 26 गाँवों को अपने दायरे में लेने का फैसला किया है लेकिन कई गाँवों में MCF का विरोध हो रहा है. कुछ लोग कह रहे हैं कि अभी नगर निगम ने अपने क्षेत्र का विकास नहीं किया है, हर तरफ गन्दगी, सीवर समस्या, गंदे पानी की समस्या और टूटी सड़कों की समस्या है.

अगर  गौर किया जाए तो ये लोग सच बोल रहे हैं, फोटो में दिख रहा एरिया MCF क्षेत्र में आता है, वार्ड - 23, सूर्या विहार पार्ट - 2 का हाल आप खुद देख सकते हैं, यहाँ के लोगों ने बताया कि करीब डेढ़ साल पहले सीवर के लिए यह सड़क खोदी गयी थी जिसे आज तक बनाया नहीं गया है, क्षेत्र के लोगों की जिंदगी नरक बन गयी है.

यही हाल कई अन्य क्षेत्रों का भी है. पर्वतिया कॉलोनी, नंगला, ओल्ड फरीदाबाद सहित कई क्षेत्रों में ऐसे ही हालात देखने को मिल रहे हैं. इन क्षेत्रों में भी सड़कें खोद दी गई हैं लेकिन कई महीनें बीत जाने के बाद भी सड़कों को फिर से नहीं बनाया गया है और ना ही सीवर सिस्टम दुरुस्त हो पाए जिसकी वजह से जगह जगह जलभराव की समस्या देखने को मिल रही है.

सुशांत का संदिग्ध मर्डर और रिया-शौविक ड्रग्स रैकेट गैंग की जाँच कर रहे NCB के बारे में जानिये

what-is-narcotics-control-bureau-under-home-ministry-bharat-sarkar

नई दिल्ली: सुशांत के संदिग्ध मर्डर केस के बाद Narcotics Control Bureau उर्फ़ NCB चर्चा में आ गया है, लोग इस विभाग के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना चाहते हैं, लोग यह भी जानना चाहते हैं कि NCB किन क्षेत्र में काम करता है और इसका दायरा क्या है. लोग यह भी जानना चाहते हैं कि NCB केंद्र सरकार के अंडर आता है या राज्य सरकार के अंडर।

क्या है NCB - What is Narcotics Control Bureau

NCB या Narcotics Control Bureau केंद्र सरकार, गृह मंत्रालय के अंडर काम करने वाली एजेंसी है जो ड्रग्स से संबंधित मामलों की जांच करता है. NCB सर्वोच्च दवा कानून प्रवर्तन एजेंसी है जिसे विभिन्न केंद्रीय / राज्य एजेंसियों के बीच ड्रग्स से सम्बंधित मामलों में समन्वय बनाकर काम करने के लिए बनाया गया है.

एनसीबी में काम करना बहुत बड़ी चुनौती है क्योंकि इसपर लोगों को बहुत भरोसा है और उस भरोसे पर खरा उतरना इस विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी है. Narcotics Control Bureau का गठन 17 मार्च 1986 को किया गया था.

IPS राकेश स्थाना NCB या Narcotics Control Bureau के डायरेक्टर जनरल हैं. वह गुजरात के 1984 कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं और काफी ईमानदार माने जाते हैं.

रणदीप सुरजेवाला चाहते हैं, मोदीजी चीन को दिखाएं लाल आँखें

congress-leader-randeep-surjewala-demand-modi-show-lal-ankh-to-china

नई दिल्ली, 5 सितम्बर: वैसे तो भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में झड़प हो चुकी है और दोनों देशों के 20 से ज्यादा सैनिक भी मारे गए हैं, भारत सरकार ने चीन को कड़ी चेतावनी भी दी थी और एक बाद प्रधानमंत्री मोदी ने भी चीन का बगैर नाम लिए कड़ी चेतावनी दी थी लेकिन कांग्रेस को मोदी सरकार के एक्शन से तसल्ली नहीं है.

कांग्रेस नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सूरजवाला चाहते हैं कि मोदीजी चीन को लाल ऑंखें दिखाएं। सूरजवाला ने आज एक ट्वीट करके अपनी मांग मोदी सरकार के सामने रखी.

उन्होंने लिखा - मोदी सरकार बार बार चीन से बात कर रही है, एक बार EAM लेवल की बातचीत हुई, 2 बार NSA लेवल की बातचीत हुई, दो बार दूतों के जरिये बातचीत हुई, चार बार WMCC लेवल की बातचीत हुई, 5 बार कोर कमांडर लेवल की बातचीत हुई और अब दोनों देशों के रक्षा मंत्री बातचीत कर रहे हैं.

उन्होंने सवालिए लहजे में पूछा - इस बातचीत का क्या रिजल्ट आया, हमारे प्रधानमंत्री चीन को लाल आँखें कब दिखाएंगे।

लॉक डाउन की वजह से ये करोड़ों लोग हो गए बेरोजगार, अब कैसे चेलगी इनकी जिंदगी, सरकार जरूर सोचे

india-un-employment-rate-increasing-due-to-lock-down-corona-virus

फरीदाबाद, 5 सितम्बर: कोरोना को भारत सरकार ने थोड़ा ज्यादा ही खतरनाक मानकर देश में लॉक डाउन लगा दिया जिसकी वजह से देश में डर का माहौल पैदा हो गया, लोग अपना बिजनेस नहीं कर पा रहे हैं, सरकार ने सख्त नियम बना रखे हैं, कई उद्योग बंद हो गए जिसकी वजह से लोगों की नौकरी चली गयी, करोड़ों लोगों से कोरोना से डरकर एक दूसरे राज्य से पलायन किया जिसकी वजह से भी लोगों का रोजगार गया, अब भारत की अर्थव्यवस्था तबाही के रास्ते पर है, GDP माइनस में जा रही है.

अगर बेरोजगार लोगों की बात परे तो शादियां, बरात, पार्टियां, कैटरिंग, टेंट हाउस, मंदिर, मस्जिद गुरुद्वारे, सामाजिक धार्मिक संस्थानों, होटल ढाबों, मॉल, गार्डन, स्वीमिंग पूल, कोचिंग सेण्टर, फन पार्क, वाटर पार्क, रेलवे स्टेशन, बसअड्डे आदि पर काम करने वाले करोड़ों लोगों का रोजगार चला गया और देश की अर्थव्यवस्था भी चौपट हो गयी. अगर ऐसे ही सख्ती जारी रही तो देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से तबाह होने से कोई नहीं रोक सकता और इसके लिए सिर्फ केंद्र सरकार जिम्मेदार होगी।

अब बात करते हैं भारत की. भारत में अब तक 39,36,747 लोगों को कोरोना संक्रमण हो चुका है, रोजाना 10 लाख से अधिक टेस्ट किये जा रहे हैं और रोजाना 60 - 90 हजार लोग पॉजिटिव निकल रहे हैं.

कोरोना संक्रमण के मामले में भारत दुनिया में अमेरिका, ब्राज़ील के बाद तीसरे नंबर पर है लेकिन आजकल में ब्राजील को पछाड़कर दूसरे नंबर पर पहुँचने वाला है.

भारत में सिर्फ 8 लाख के करीब एक्टिव केस है, 30 लाख से अधिक मरीज ठीक हो गए हैं, रिकवरी रेट बहुत बढ़िया है, सिर्फ अन्य गंभीर बीमारियों वाले लोग ही कोरोना से मर रहे हैं लेकिन सरकार इसपर ध्यान नहीं दे रही है. सरकार धड़ाधड़ टेस्ट करे जा रही है और कोरोना के मामले में दुनिया में सबसे अधिक संक्रमण का रिकॉर्ड बनाना चाहती है जबकि चीन जैसे देश कोरोना को भूलकर अपनी अर्थव्यवस्था मजबूत करने में लगे हैं.

चीन-रूस जैसे देशों ने दिमाग का इस्तेमाल करने जीत ली कोरोना से जंग, भारत बर्बादी की डगर पर

how-china-and-russia-win-corona-virus-battle-but-not-india

नई दिल्ली: कोरोना वायरस का संक्रमण उन देशों में ज्यादा देखने को मिल रहा है जहाँ पर टेस्ट ज्यादा किये जा रहे हैं, जिन देशों में अधिक टेस्ट किये जा रहे हैं और लॉक डाउन जैसे नियमों का कड़ाई से पालन किया जा रहा है उन देशों की अर्थव्यवस्था तबाही के रास्ते पर है, लोगों की नौकरी जा रही है और अब इन देशों के नागरिक बैंक बैलेंस पर ही निर्भर हैं, बैंक बैलेंस ख़त्म होने के बाद इन देशों में हाहाकार मच सकता है.

उदाहरण के लिए देखिये - कोरोना वायरस का संक्रमण चीन से शुरू हुआ लेकिन वहां पर सिर्फ 85,112 लोगों को कोरोना इन्फेक्शन हुआ, 4,634 लोगों की मौत हुई और 80,284 लोग ठीक हो गए, उसके बाद चीन ने आंकड़े देने ही बंद कर दिए और दुनिया में ऐलान कर दिया कि उनके यहाँ कोरोना संक्रमण ख़त्म हो गया है.

चीन के इस कदम से वहां की अर्थव्यवस्था पर ज्यादा असर नहीं पड़ा, आज सिर्फ चीन की GDP पॉजिटिव जा रही है जबकि अन्य देशों की GDP निगेटिव है. चीन के इस कदम से उसके देश में डर का माहौल ख़त्म हो गया, उद्योग फिर से पटरी पर आ गए और लोग अपनी नार्मल लाइफ जीने लगे.

अब बात करते हैं रूस की, करीब एक महीनें पहले रूस ने ताबड़तोड़ टेस्ट शुरू किये और रोजाना लाखों केस आने लगे लेकिन 1,015,105 मामले पहुँचते ही रूस में अचानक कोरोना पर कण्ट्रोल लग गया, अब सिर्फ चंद टेस्ट किये जा रहे हैं इसलिए रूस में कोरोना ख़त्म सा होता दिख रहा है. रूस की अर्थव्यवस्था भी पटरी पर है.

अब बात करते हैं भारत की. भारत में अब तक 39,36,747 लोगों को कोरोना संक्रमण हो चुका है, रोजाना 10 लाख से अधिक टेस्ट किये जा रहे हैं और रोजाना 60 - 90 हजार लोग पॉजिटिव निकल रहे हैं.

कोरोना संक्रमण के मामले में भारत दुनिया में अमेरिका, ब्राज़ील के बाद तीसरे नंबर पर है लेकिन आजकल में ब्राजील को पछाड़कर दूसरे नंबर पर पहुँचने वाला है.

भारत में सिर्फ 8 लाख के करीब एक्टिव केस है, 30 लाख से अधिक मरीज ठीक हो गए हैं, रिकवरी रेट बहुत बढ़िया है, सिर्फ अन्य गंभीर बीमारियों वाले लोग ही कोरोना से मर रहे हैं लेकिन सरकार इसपर ध्यान नहीं दे रही है. सरकार धड़ाधड़ टेस्ट करे जा रही है और कोरोना के मामले में दुनिया में सबसे अधिक संक्रमण का रिकॉर्ड बनाना चाहती है जबकि चीन जैसे देश कोरोना को भूलकर अपनी अर्थव्यवस्था मजबूत करने में लगे हैं.

भारत सरकार रोजाना 10 लाख टेस्ट कर रही है, रोजाना लाखों लोग पॉजिटिव निकल रहे हैं जिसकी वजह से देश में डर का माहौल है, लोग अपना बिजनेस नहीं कर पा रहे हैं, सरकार ने सख्त नियम बना रखे हैं, कई उद्योग बंद हो गए जिसकी वजह से लोगों की नौकरी चली गयी, करोड़ों लोगों से कोरोना से डरकर एक दूसरे राज्य से पलायन किया जिसकी वजह से भी लोगों का रोजगार गया, अब भारत की अर्थव्यवस्था तबाही के रास्ते पर है, GDP माइनस में जा रही है, शादियां, बरात, पार्टियां, मंदिर, मस्जिद गुरुद्वारे, सामाजिक धार्मिक कार्यक्रम, मॉल, गार्डन, स्वीमिंग पूल आदि चीजें बंद हो गयी हैं जिसकी वजह से लाखों लोगों का रोजगार चला गया और देश की अर्थव्यवस्था भी चौपट हो गयी. अगर ऐसे ही सख्ती जारी रही तो देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से तबाह होने से कोई नहीं रोक सकता और इसके लिए सिर्फ केंद्र सरकार जिम्मेदार होगी।

कोरोना पर बोले PM MODI, रिकवरी रेट बढ़ रहा है, जनता का डर घट रहा है, हमारा प्रयास हो रहा सफल

pm-narendra-modi-give-report-card-kendra-sarkar-corona-virus

नई दिल्ली, 11 अगस्त: भारत में कुल कोरोना संक्रमण 2268675 हो चुका है लेकिन इसमें से 1583489 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि 45257 मरीजों की मौत हो चुकी है. अगर रिकवरी रेट की बात करें तो ये 69.80% है जबकि मोर्टेलिटी रेट 1.99% है.

कोरोना संक्रमण पर आज देश के प्रधानमंत्री Narendra Modi ने केंद्र सरकार के कामकाज का रिपोर्ट-कार्ड दिया।

प्रधानमंत्री Narendra Modi ने बताया - हमारे यहां Corona Virus महामारी से average fatality rate पहले भी दुनिया के मुक़ाबले काफी कम था, संतोष की बात है कि ये लगातार और कम हो रहा है। Active Case का प्रतिशत कम हुआ है, रिकवरी रेट  बढ़ा है। तो इसका अर्थ है कि हमारे प्रयास कारगर सिद्ध हो रहे हैं.

उन्होंने बताया कि आज 80% एक्टिव केस दस राज्यों में हैं। इसलिए कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इन सभी राज्यों की भूमिका बहुत बड़ी है। आज देश में एक्टिव केस 6 लाख से ज्यादा हो चुके हैं, जिनमें से ज़्यादातर मामले हमारे इन दस राज्यों में ही हैं.

प्रधानमंत्री Narendra Modi ने कहा कि हमारा मकसद फैटलिटी रेट को 1% से भी नीचे लाना है जो फिलहाल 2 प्रतिशत के करीब है. हम इस लड़ाई को जरूर जीतेंगे और सबके प्रयास से देश इस संकट से जरूर निकलेगा।

भारत में 14 लाख से भी अधिक कोरोना मरीज हो गए ठीक, अब बचे आधे से भी कम

india-corona-virus-update-9-august-2020-total-patient-14-lakh-recovered

नई दिल्ली, 9 अगस्त: जब कोरोना का जन्म हुआ था तो इसके बारे में पूरी दुनिया में इतना डर फैला दिया गया जैसे कि कोरोना नहीं बल्कि स्वयं यमराज ही सबको मारने के लिए धरती पर आ गए हों, डर को ज्यादा से ज्यादा फैलाने के लिए चीख पुकार और खांस खांसकर तड़पने के वीडियो वायरल किये जाते थे, ऐसे वीडियो  देखकर लोग डर जाते थे, सरकार को भी लगा कि अगर कोरोना पूरे देश में फ़ैल गया तो तबाही बचा देगा इसलिए लॉक डाउन जैसा कठिन फैसला लेना पड़ा, सरकार का मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों की जान बचाने का था, खैर अब कोरोना की सच्चाई सामने आने लगी है.

कोरोना वायरस भले ही इंसानों से इंसान में फ़ैल रहा है लेकिन अधिकतर लोग 15 दिन में ठीक हो जाते हैं, उनमें से आधे से भी अधिक लोगों में कोई लक्षण ही नहीं आते.

भारत में अब तक 21,53,010 मरीजों को कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ जिसमें से 14,80,884 मरीज ठीक हो गए जबकि 628747 मरीजों का इलाज चल रहा है. इस बीमारी से अब तक 43,379 मरीजों की मौत भी हुई है लेकिन इन्हें किडनी, लीवर, हार्ट, कैंसर, टीवी जैसी अन्य लाइलाज बीमारियां भी थीं.

कहने का मतलब ये है कि सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करते रहने से, मास्क का इस्तेमाल करते रहने से और काढ़ा पीते रहने से कोरोना संक्रमण से भी बचा जा सकता है और इलाज भी किया जा सकता है. सावधानी ही कोरोना से बचाव का उपाय है.

लॉक डाउन की वजह से देश को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है इसलिए अब धीरे धीरे आर्थिक स्थिति मजबूत करने पर सरकार को विचार करना चाहिए और कोरोना से फैले डर को भी जनता के दिमाग से निकालने पर ध्यान देना चाहिए। 

प्रियंका गाँधी वाड्रा ने कहा - राम सबमें हैं, राम सबके हैं - जय सिया राम

priyanka-gandhi-vadra-support-ram-mandir-in-ayodhya-news

फरीदाबाद, 4 अगस्त: राम मंदिर भूमि पूजन के मुहूर्त को गलत बताते हुए अब तक कांग्रेसी नेता विरोधी सुरों में बोल रहे थे लेकिन जैसे ही कांग्रेसियों को लगा कि अब मुहूर्त नहीं बदलेगा और हमारी पार्टी को लेकर जनता के मन में अलग सन्देश जा रहा है अब कांग्रेसी भी भगवान राम के प्रति अपनी भक्ति दिखाने लगे हैं.

प्रियंका गाँधी वाड्रा के मुंह से अब तक किसी ने राम के लिए बोलते नहीं सुना था लेकिन आज उन्होंने भी अपनी रामभक्ति दिखा दी और भगवान राम को लेकर लंबा चौड़ा प्रवचन सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया।

प्रियंका वाड्रा ने ट्विटर पर लिखा - सरलता, साहस, संयम, त्याग, वचनवद्धता, दीनबंधु राम नाम का सार है। राम सबमें हैं, राम सबके साथ हैं। 

भगवान राम और माता सीता के संदेश और उनकी कृपा के साथ रामलला के मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का अवसर बने। नीचे देखिये पूरा प्रवचन - 


नई शिक्षा नीति से अंग्रेजी मीडियम के नाम पर जनता को लूटने वाले निजी स्कूलों की उडी नींद, पढ़ें

new-education-policy-2020-hindi-medium-up-to-class-8-benefit

फरीदाबाद, 1 अगस्त: मोदी सरकार ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को कैबिनेट से मंजूरी दे दी है जिसकी वजह से अंग्रेजी मीडियम के नाम पर शिक्षा को फायदेमंद व्यापार बनाकर जनता को दोनों हाथों से लूटने वाले प्राइवेट स्कूलों की नींद उड़ गयी है. यह नीति लागू होने के बाद गरीबों का भला हो जाएगा, शिक्षा सस्ती और आसान हो जाएगी।

नई शिक्षा नीति के मुताबिक़ कम से कम पांचवीं और जरूरी तौर पर आठवीं तक सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल मातृभाषा में ही बच्चों को पढ़ाएंगे और अन्य भाषाएं सिर्फ एक विषय के तौर पर पढ़ाई जाएंगी। मतलब हिंदी मीडियम में ही शिक्षा दी जाएगी, अंग्रेजी और संस्कृत का भी सिर्फ एक विषय होगा।


नई शिक्षा नीति के आते ही लोग अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूलों से निकालकर सरकारी स्कूलों में डालने लगे हैं क्योंकि अब तक अंग्रेजी सिखाने के लालच में ही लोग अपने बच्चों को मंहगे अंग्रेजी मीडियम स्कूलों को पढ़ाते थे और हर महीने 5 से 15 हजार रुपये फीस चुकाते थे.

जब से जनता को पता चला है कि सरकारी और प्राइवेट स्कूल दोनों ही पांचवीं या आठवीं तक हिंदी भाषा में ही पढ़ाई कराएंगे तब से लोगों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं है. पहले लोग सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को इसलिए नहीं डालते थे क्योंकि सरकारी स्कूलों में हिंदी मीडियम में पढ़ाया जाता है. भ्रमित जनता को लगता था कि सरकारी स्कूलों में पढ़ाने से उनका बच्चा पीछे रह जाएगा और प्राइवेट स्कूल अंग्रेजी सीखकर उनके बच्चों से आगे निकल जाएंगे।

नयी शिक्षा नीति: अब स्कूल में चलेगा 5 + 3 + 3 + 4 पैटर्न

अब  5 + 3 + 3 + 4  सिस्टम से स्कूली शिक्षा उपलब्ध कराई जायगी। नयी शिक्षा नीति में 10वीं बोर्ड परिक्षा को ख़त्म कर दिया है, अब सिर्फ 12वीं बोर्ड की परिक्षा होगी और 12वीं पास करने में 15 साल की पढ़ाई करनी पड़ेगी। यही नहीं अब सिर्फ तीन वर्ष में बच्चों का सरकारी स्कूलों/आंगनवाणी में दाखिला मिलेगा और छठे वर्ष में पहली में दाखिला मिलेगा।
स्कूल शिक्षा में अहम बदलाव 

- नई शिक्षा नीति के तहत अब 5वीं तक के छात्रों को मातृ भाषा, स्थानीय भाषा और राष्ट्र भाषा में ही पढ़ाया जाएगा.

- बाकी विषय चाहे वो अंग्रेजी ही क्यों न हो, एक सब्जेक्ट के तौर पर पढ़ाया जाएगा

- अब सिर्फ 12वींं में बोर्ड की परीक्षा देनी होगी. जबकि इससे पहले 10वी बोर्ड की परीक्षा देना अनिवार्य होता था, जो अब नहीं होगा.

मोदी सरकार का एक और बड़ा धमाका, बदल दी देश की शिक्षा नीति, दसवीं बोर्ड खत्म, पढ़ें और क्या?

read-india-education-policy-2020-in-hindi-bhashai-modi-sarkar

नई दिल्ली: धमाकों पर धमाके करने वाली मोदी सरकार ने अब एक और बड़ा धमाका कर दिया है, मोदी सरकार ने भारत की शिक्षा नीति में बदलाव कर दिया है जिसके बाद दसवीं बोर्ड को खत्म करके 5 + 3 + 3 + 4 के पैटर्न से शिक्षा जारी करने का प्लान बनाया है. मतलब 12 की स्कूली परिक्षा ख़त्म करने में 15 साल पढ़ाई करनी पड़ेगी।

मोदी सरकार की कैबिनेट ने नई शिक्षा नीति (New Education Policy 2020) को हरी झंडी दे दी है. 34 साल बाद शिक्षा नीति में बदलाव किया गया है.

खास बातें: 10वीं बोर्ड खत्‍म, MPhil भी होगा बंद.

शिक्षा मंत्री (HRD मंत्री) रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कहा कि ये नीति एक महत्वपूर्ण रास्ता प्रशस्‍त करेगी.  ये नए भारत के निर्माण में मील का पत्थर साबित होगी. इस नीति पर देश के कोने कोने से राय ली गई है और इसमें सभी वर्गों के लोगों की राय को शामिल किया गया है. देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि इतने बडे़ स्तर पर सबकी राय ली गई है.

अहम बदलाव 

- नई शिक्षा नीति के तहत अब 5वीं तक के छात्रों को मातृ भाषा, स्थानीय भाषा और राष्ट्र भाषा में ही पढ़ाया जाएगा.

- बाकी विषय चाहे वो अंग्रेजी ही क्यों न हो, एक सब्जेक्ट के तौर पर पढ़ाया जाएगा

- अब सिर्फ 12वींं में बोर्ड की परीक्षा देनी होगी. जबकि इससे पहले 10वी बोर्ड की परीक्षा देना अनिवार्य होता था, जो अब नहीं होगा.


- 9वींं से 12वींं क्लास तक सेमेस्टर में परीक्षा होगी. स्कूली शिक्षा को 5+3+3+4 फॉर्मूले के तहत पढ़ाया जाएगा

-वहीं कॉलेज की डिग्री 3 और 4 साल की होगी. यानि कि ग्रेजुएशन के पहले साल पर सर्टिफिकेट, दूसरे साल पर डिप्‍लोमा, तीसरे साल में डिग्री मिलेगी. 


- 3 साल की डिग्री उन छात्रों के लिए है जिन्हें हायर एजुकेशन नहीं लेना है. वहीं हायर एजुकेशन करने वाले छात्रों को 4 साल की डिग्री करनी होगी. 4 साल की डिग्री करने वाले स्‍टूडेंट्स एक साल में  MA कर सकेंगे. 

- अब स्‍टूडेंट्स को  MPhil नहीं करना होगा. बल्कि MA के छात्र अब सीधे PHD कर सकेंगे.

स्‍टूडेंट्स बीच में कर सकेंगे दूसरे कोर्स 

हायर एजुकेशन में 2035 तक ग्रॉस एनरोलमेंट रेशियो 50 फीसदी हो जाएगा. वहीं नई शिक्षा नीति के तहत कोई छात्र एक कोर्स के बीच में अगर कोई दूसरा कोर्स करना चाहे तो पहले कोर्स से सीमित समय के लिए ब्रेक लेकर वो दूसरा कोर्स कर सकता है. 

हायर एजुकेशन में भी कई सुधार किए गए हैं. सुधारों में ग्रेडेड अकेडमिक, ऐडमिनिस्ट्रेटिव और फाइनेंशियल ऑटोनॉमी आदि शामिल हैं. इसके अलावा क्षेत्रीय भाषाओं में ई-कोर्स शुरू किए जाएंगे. वर्चुअल लैब्स विकसित किए जाएंगे. एक नैशनल एजुकेशनल साइंटफिक फोरम (NETF) शुरू किया जाएगा. बता दें कि देश में 45 हजार कॉलेज हैं.

हायर एजुकेशन सेक्रटरी अमित खरे ने बताया, ' नए सुधारों में टेक्नॉलॉजी और ऑनलाइन एजुकेशन पर जोर दिया गया है. अभी हमारे यहां डीम्ड यूनविर्सिटी, सेंट्रल यूनिवर्सिटीज और स्टैंडअलोन इंस्टिट्यूशंस के लिए अलग-अलग नियम हैं. नई एजुकेशन पॉलिसी के तहत सभी के लिए नियम समान होंगे।

भारत में 10 लाख से अधिक कोरोना मरीजों का हुआ इलाज, अब बचे सिर्फ 5.28 लाख

india-corona-virus-infected-patient-treatment-reached-10-lakh-news

फरीदाबाद, 30 जुलाई: भारत के लिए राहत भरी खबर है, कोरोना संक्रमण की शुरुआत में ऐसा दुष्प्रचार किया गया था कि कोरोना का कोई ट्रीटमेंट ही नहीं है, इससे संक्रमित मरीज तड़प तड़प कर मरते हैं और खांस खांस कर मरते हैं, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है. कोरोना से संक्रमित अधिकतर मरीज ठीक हो जाते हैं.

भारत में अब तक कुल 15,67,619 लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण हो चुका है जिसमें से 1020582 मरीजों का इलाज हो चुका है जबकि 34968 मरीजों की मौत हो चुका है. वर्तमान में 528242 एक्टिव कोरोना मरीज हैं जिनका अस्पतालों में और घरों में क्वारंटाइन करके इलाज जारी है.

कहने का मतलब ये है कि कोरोना दुनिया की सबसे कम खतरनाक बीमारी है, भारत में तो आंकड़े यही कह रहे हैं, कुल 15,67,619 मरीजों में से सिर्फ 34968 मरीजों की मौत हुई है और इनमें से अधिकतर मरीजों को अन्य लाइलाज बीमारियां थीं. सामान्य लोगों की बहुत कम मौत हुई है. मतलब कोरोना से 100 मरीजों में से सिर्फ 2.2 लोगों की मौत हो रही है.

अगर आंकडों पर गौर करें तो कोरोना से डरने की नहीं बल्कि लड़ने की जरूरत है. मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करके कोरोना संक्रमण से आसानी से बचा जा सकता है.

ये जंगलराज है, किसानों पर पुलिसिया अत्याचार होते देखकर एमपी भाजपा सरकार पर भड़के दीपेंद्र हुड्डा

deepender-singh-hooda-slams-mp-bjp-shivraj-singh-sarkar-beating-farmer

गूना, 16 जुलाई: हरियाणा के कांग्रेस नेता और राज्य सभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने ट्विटर पर एमपी के गुना जिले का एक वीडियो देखकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्र शिवराज सिंह पर निशाना साधते हुए लिखा - ये शिवराज सरकार MP को कहाँ ले जा रही है? ये कैसा जंगल राज है? गुना में एक दलित किसान दंपत्ति पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों द्वारा इस तरह बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज किया।यदि पीड़ित का ज़मीन सम्बंधी कोई शासकीय विवाद था तो भी उसे क़ानूनन हल किया जा सकता था। जो हुआ वो सरासर ग़लत है।
इससे पहले यही वीडियो राहुल गाँधी ने ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा - हमारी लड़ाई इसी सोच और अन्याय के ख़िलाफ़ है.
राहुल गाँधी ने ट्विटर पर वीडियो शेयर किया है जिसमें करीब दर्जन भर पुलिसकर्मी कुछ युवकों को एक जगह घेरकर उन्हें बेरहमी से पीट रहे हैं.

इस वीडियो में एक महिला युवक को बचाने का प्रयास कर रही है और दर्द से छटपटा रही है लेकिन पुलिस वाले उसकी गुहार सुनने को तैयार नहीं है, कुछ महिला पुलिसकर्मी उसे उठाकर दूर कर देती हैं. 

वीडियो में पुलिसकर्मी देखते ही देखते दो तीन युवकों को पीट पेट कर अधमरा कर देते हैं और कुछ लोग उन्हें उठाकर किसी गाडी में डालते हैं, एक युवक उनका विरोध करता है तो उसकी भी डंडों से पिटाई शुरू हो जाती है.

पुलिस द्वारा पिटाई का वीडियो शेयर करके बोले राहुल गाँधी, हमारी लड़ाई इसी सोच-अन्याय के खिलाफ

rahul-gandhi-share-video-policemen-beating-some-youth-news

नई दिल्ली, 16 जुलाई: राहुल गाँधी ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें करीब दर्जन भर पुलिसकर्मी कुछ युवकों को एक जगह घेरकर उन्हें बेरहमी से पीट रहे हैं.

इस वीडियो में एक महिला युवक को बचाने का प्रयास कर रही है और दर्द से छटपटा रही है लेकिन पुलिस वाले उसकी गुहार सुनने को तैयार नहीं है, कुछ महिला पुलिसकर्मी उसे उठाकर दूर कर देती हैं. 

वीडियो में पुलिसकर्मी देखते ही देखते दो तीन युवकों को पीट पेट कर अधमरा कर देते हैं और कुछ लोग उन्हें उठाकर किसी गाडी में डालते हैं, एक युवक उनका विरोध करता है तो उसकी भी डंडों से पिटाई शुरू हो जाती है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने इसे ट्विटर पर शेयर करके लिखा है - हमारी लड़ाई इसी सोच और अन्याय के ख़िलाफ़ है.
हरियाणा के कांग्रेस नेता और राज्य सभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने इस वीडियो को मध्य प्रदेश के गूना जिले का बताते हुए शिवराज सिंह पर निशाना साधते हुए लिखा - ये शिवराज सरकार MP को कहाँ ले जा रही है? ये कैसा जंगल राज है? गुना में एक दलित किसान दंपत्ति पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों द्वारा इस तरह बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज किया।यदि पीड़ित का ज़मीन सम्बंधी कोई शासकीय विवाद था तो भी उसे क़ानूनन हल किया जा सकता था। जो हुआ वो सरासर ग़लत है।

कोरोना पॉजिटिव होने पर अमिताभ बच्चन अस्पताल में भर्ती, संपर्क में आये लोगों से की ये अपील, पढ़ें

amitabh-bachchan-test-corona-positive-admitted-in-nanavati-hospital

फरीदाबाद, 11 जुलाई: बिग-बी यानी अमिताभ बच्चन की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर उन्हें मुंबई के नानावटी हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है.

अमिताभ बच्चन ने अपने कोरोना पॉजिटिव होने की खुद ही जानकारी दी, उन्होंने लिखा - मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है, मुझे अस्पताल में शिफ्ट किया गया है, मेरे परिवार और स्टाफ का भी टेस्ट हुआ है लेकिन रिपोर्ट पेंडिंग है.

उन्होंने अपने संपर्क में आये लोगों से अपील की है कि जो लोग भी पिछले 10 दिनों में मेरे संपर्क में आये हैं उनसे मेरी प्रार्थना है कि अपना टेस्ट कराएं।

फरीदाबाद से पकडे गए प्रभात मिश्रा की तर्ज पर विकास दूबे का भी हुआ एनकाउंटर, गाडी खराब हुई और..

vikas-dubey-killed-by-up-police-in-an-encounter-kanpur-news

कानपुर: पहले से ही अनुमान जताया जा रहा था कि विकास दूबे को अदालत नहीं पहुँचने दिया जाएगा और रास्ते में ही उसका एनकाउंटर कर दिया जाएगा। लोगों का अनुमान सच साबित हुए और यूपी पुलिस ने विकास दूबे का एनकाउंटर का दिया।

फरीदाबाद से पकडे गए विकास दूबे के साथी प्रभात मिश्रा का भी इसी प्रकार से कानपुर में एनकाउंटर हुआ था, फरीदाबाद पुलिस ने प्रभात मिश्रा को यूपी पुलिस को ट्रांजिट रिमांड पर भेजा था लेकिन पनकी के पास पुलिस की गाड़ी खराब हुई, उसके बाद प्रभात मिश्रा ने पुलिसकर्मी की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की और पुलिस ने उसका एनकाउंटर कर दिया।

इसी तर्ज पर आज विकास दूबे का भी एनकाउंटर कर दिया गया. कानपुर पहुँचते ही पुलिस की गाडी पलट गयी, उसके बाद विकास दूबे ने एक पुलिसकर्मी की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की, कथित तौर पर उसने पुलिसकर्मियों पर फायरिंग भी की उसके बाद पुलिस ने उसका एनकाउंटर कर दिया।

पुलिस के अनुसार इस एनकाउंटर में चार पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार ने एनकाउंटर की पुष्टि की है।

एसएसपी दिनेश कुमार का कहना है कि गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे पुलिसवालों का हथियार छीनकर भाग निकला। उसे सरेंडर करने का मौका दिया गया था, लेकिन विकास दुबे ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में उसे गोली लगी और उसकी मौत हो गई है। ये घटना कानपुर से 15 किलोमीटर पहले की है।

गौरतलब है की कल उज्जैन पुलिस ने विकास दुबे को महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया था। आठ घंटे पूछताछ करने के बाद यूपी एसटीएफ के हत्थें सौंप दिया। विकास दूबे पर कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की ह्त्या का आरोप था। 

महापापी विकास दूबे की गिरफ्तारी पर शिवराज का बयान, महाकाल की शरण में जाने पर भी नही धुलेंगे पाप

cm-shivraj-singh-chauhan-says-mahakal-will-not-save-vikas-dubey

उज्जैन 9 जुलाई: उज्जैन के महाकाल मंदिर में यूपी के खूंखार बदमाश और महापापी विकास दूबे की गिरफ्तारी पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने बयान दिया है.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा जिनको लगता है की महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धूल जाएँगे उन्होंने महाकाल को जाना ही नहीं। हमारी सरकार किसी भी अपराधी को बख्श्ने वाली नहीं है. उन्होंने विकास दुबे की गिरफ़्तारी के लिए उज्जैन पुलिस को बधाई भी दी है.
आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के कानपुर का नामचीन बदमाश और 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी विकास दूबे मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल मंदिर में गिरफ्तार कर लिया गया है, विकास दूबे पाप करने के बाद महाकाल के मंदिर में चला गया था.

विकास दूबे एक वीडियो में कुछ सुरक्षाकर्मियों के साथ नंगे पैर मंदिर में जाता दिख रहा है जिससे लग रहा है कि वह महाकाल के दर्शन करने जा रहा है, एक फोटो में उसके हाथों पर कलावा बंधा भी दिख रहा है। विकास दूबे ने मंदिर में खुद ही अपनी पहचान और नाम बता दिया जिससे उसकी गिरफ्तारी आसान हो गयी।

मध्य प्रदेश के उज्जैन के DM ने विकास दूबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है, राज्य के गृह मंत्री ने भी उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि की है. विकास दूबे को पुलिस जल्द ही कोर्ट में पेश कर सकती है, उसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड पर यूपी पुलिस को सौंपा जा सकता है.

पाप करने के बाद उज्जैन महाकाल के मंदिर में पहुंचा विकास डूबे, दर्शन करने के बाद गिरफ्तार

vikas-dubey-arrested-in-ujjain-mahakal-mandir-by-mp-police-news

फरीदाबाद 9 जुलाई: उत्तर प्रदेश के कानपुर का नामचीन बदमाश और 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी विकास दूबे मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल मंदिर में गिरफ्तार कर लिया गया है, विकास दूबे पाप करने के बाद महाकाल के मंदिर में चला गया था.

विकास दूबे एक वीडियो में कुछ सुरक्षाकर्मियों के साथ नंगे पैर मंदिर में जाता दिख रहा है जिससे लग रहा है कि वह महाकाल के दर्शन करने जा रहा है, एक फोटो में उसके हाथों पर कलावा बंधा भी दिख रहा है। विकास दूबे ने मंदिर में खुद ही अपनी पहचान और नाम बता दिया जिससे उसकी गिरफ्तारी आसान हो गयी।

मध्य प्रदेश के उज्जैन के DM ने विकास दूबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है, राज्य के गृह मंत्री ने भी उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि की है. विकास दूबे को पुलिस जल्द ही कोर्ट में पेश कर सकती है, उसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड पर यूपी पुलिस को सौंपा जा सकता है.

मारा गया विकास दूबे का साथी प्रभात

फरीदाबाद पुलिस ने काफी मेहनत करके विकास दूबे के ख़ास साथी प्रभात मिश्रा को गिरफ्तार किया था, उसे कोर्ट में पेश करके 24 घंटे के लिए UP पुलिस ने ट्रांजिट रिमांड पर लिया लेकिन रास्ते में ही प्रभात मिश्रा का एनकाउंटर कर दिया गया.

यूपी पुलिस के ADG कानपुर के मुताबिक़ रास्ते में वैन खराब हो गयी थी जिसका फायदा प्रभात मिश्रा ने उठाया और एक पुलिसकर्मी की पिस्टल छीनकर फायरिंग कर दी, प्रभात मिश्रा वहां से भागना चाहता था लेकिन पुलिस ने भी फायरिंग की जिसमें प्रभात मिश्रा मारा गया, इस मुठभेड़ में कई पुलिसकर्मियों को भी चोट आयी है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कानपुर के कुख्यात बदमाश विकास दुबे के मुख्य साथी सहित दो अन्य आरोपियों को फरीदाबाद क्राइम ब्रांच ने 8 जुलाई को दबोचा था, फरीदाबाद में भी प्रभात मिश्रा और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई थी. विकास दुबे के सहयोगी आरोपी कार्तिकेय ने खुद को पुलिस से घिरा देख पुलिस पर फायरिंग की, क्राइम ब्रांच ने चारों तरफ से घेर कर उसे दबोच लिया। मुख्य आरोपी  कार्तिकेय उर्फ प्रभात से  4 पिस्टल  और 44 जिंदा राउंड बरामद किए.

दिनांक 7 जुलाई को क्राइम ब्रांच फरीदाबाद को गुप्त सूचना मिली कि उत्तर प्रदेश के कुख्यात बदमाश विकास दुबे के कुछ सहयोगी आरोपी हथियार सहित न्यू इंदिरा नगर कंपलेक्स हरि नगर नहर पार एरिया में छुपे हुए है। सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को भेजी गई।

ओपी सिंह पुलिस आयुक्त महोदय ने डीसीपी क्राइम मकसूद अहमद को आरोपियों की धरपकड़ के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए.

 डीसीपी क्राइम मकसूद अहमद  की देखरेख में एसीपी क्राइम अनिल यादव ने  क्राइम ब्रांच 48, क्राइम ब्रांच ऊंचा गांव और क्राइम ब्रांच बीपीटीपी की तीन टीमों के साथ सूचना के आधार पर नहर पार एरिया में रेड की।

रेड के दौरान एक घर मे छुपे हुए बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर भागने की कोशिश की लेकिन क्राइम ब्रांच की टीम की घेराबंदी और सतर्कता के चलते आरोपियों को मौके पर ही धर दबोचा।

8 पुलिसवालों के हत्यारे विकास दूबे के खास साथी अमर दूबे के जीवन का हुआ अंत

vikas-dubey-close-aid-amar-dubey-killed-in-an-encounter-hamirpur-up-stf

हमीरपुर, 8 जुलाई: यूपी के हमीरपुर में एक मुठभेड़ में विकास दूबे के ख़ास साथी और 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्यारोपी अमर दूबे को मार गिराया है। इस मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए हैं जिनका अस्पताल में उपचार किया जा रहा है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि UP Police स्पेशल टास्क फ़ोर्स विकास दूबे और उसके साथियों के पीछे लगी हुई है. आज इसी कड़ी में UPSTF को अमर दूबे के हमीरपुर में छिपे होने की जानकारी मिली। पुलिस ने तुरंत अमर दूबे का पीछा करके उसे एक स्थान पर रोका, उसके बाद दोनों पार्टियों के बीच गोलीबारी हुई जिसमें एक SHO और एक कॉन्स्टेबल को गोली लगी, इसके बाद पुलिस ने अमर दूबे का एनकाउंटर का दिया। 

अमर दूबे के पास एक एक ऑटोमैटिक हथियार और एक बैग बरामद हुआ है. फॉरेंसिक टीम ने जांच शुरू कर दी है. UP Police के ADG Law and Order ने कहा है कि पुलिसकर्मियों का वलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा, विकास दूबे और उसके साथियों को छोड़ा नहीं जाएगा।

इस बीच मुख्य आरोपी विकास दूबे के फरीदाबाद में छुपे होने की जानकारी मिली थी, पुलिस ने यहाँ भी तलाशी अभियान शुरू कर दिया है. गुरुग्राम पुलिस कमिश्नर केके राव ने भी एक ऑडियो सन्देश जारी करके विकास दूबे के प्रति होशियार रहने और देखते ही उसे पकड़ने के निर्देश दिए हैं.

केंद्रीय स्वास्थय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने चाय और हरड़ को बताया कोरोना रोकने में फायदेमंद

tea-and-harad-benefits-in-corona-virus-treatment-dr-harshwardhan

फरीदाबाद, 4 जुलाई: केंद्रीय स्वास्थय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने चाय और हरड़ को कोरोना बीमारी रोकने में फायदेमंद बताया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि स्वास्थय मंत्री हर्षवर्धन एक डॉक्टर भी हैं इसलिए उनकी बात में जरूर सच्चाई होगी। 

उन्होंने ट्विटर पर लिखा - हमारे देश में ज़्यादातर लोगों के दिन की शुरुआत चाय के घूंट से होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही चाय Corona Virus से लड़ने में भी कारगर साबित हुई है? IT Delhi के एक शोध के मुताबिक चाय और हरड़  COVID-19 के मुख्य Protein की वृद्धि को रोकने में कारगर साबित हुए हैं।
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चिकित्सक, हेल्थ विशेषज्ञ और रिसर्चर पहले से ही चाय को कोरोना में फायदेमंद बता रहे हैं, अधिकतर लोग यही कहते हैं कि कोरोना से बचाव और इलाज के लिए अधिकतर गर्म तरल पदार्थ पीएं, समय समय पर चाय पीते रहने की भी सलाह दी जाती है, अब IIT Delhi की रिसर्च में भी यह बात प्रूफ हो गयी है और स्वयं स्वास्थय मंत्री चाय पीने की सलाह दे रहे हैं।