Palwal Assembly

Showing posts with label India News. Show all posts

भारत के गद्दारों ने मोदी-ट्रम्प में दुश्मनी कराने की चल दी चाल

indian-anti-nationals-traitor-want-modi-trump-dushmani-lock-down

नई दिल्ली: भारत के अंदर भारी मात्रा में गद्दार हैं जो खाते देश का हैं लेकिन भारत की जड़ें कमजोर करने में लगे रहते हैं, भारत और अमेरिका अच्छे दोस्त हैं, मोदी और ट्रम्प भी अच्छे दोस्त हैं, अब गद्दार लोग दोनों में दुश्मनी कराने का प्रयास कर रहे हैं, मोदी को ट्रम्प और अमेरिका के खिलाफ भड़काने के लिए उन्हें डरपोक बताया जा रहा है.

आपको बता दें कि सुपर पावर देश अमेरिका कोरोना वायरस का सबसे बड़ा शिकार बन गया है, वहां पर करीब 11000 लोगों की मौत हो चुकी है और रोजाना 1000 से अधिक लोगों की मौत हो रही है, वर्तमान में अमेरिका में 367,385 लोग कोरोना से संक्रमित हैं और यह ट्रेंड बढ़ता जा रहा है, अमेरिका की तुलना में भारत में कोरोना धीमी रफ़्तार से आगे बढ़ रहा है.

अमेरिका की हालत इतनी ख़राब हो चुकी है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी परेशान हो चुके हैं, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा कोरोना वायरस के संक्रमण के इलाज में कारगर साबित हो रही है लेकिन यह दवा अमेरिका के पास अधिक मात्रा में नहीं है, जबकि भारत में यह दवा मौजूद है.

प्रधानमंत्री मोदी ने इस दवा के निर्यात पर प्रतिबन्ध लगा दिया है क्योंकि भारत में कोरोना संक्रमण बढ़ने पर इस दवाई की जरूरत पड़ेगी। अमेरिका ने भी भारत से यह दवाई खरीदने की अर्जी दी थी जिसे मोदी सरकार ने अभी तक मंजूर नहीं किया है.

दो दिन पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत की और अमेरिका का बिल पास करने की प्रार्थना की, मोदी सरकार ने  इस पर फैसला नहीं लिया है हालाँकि मोदी ने US इंडिया पार्टनरशिप के तहत अमेरिका की पूरी मदद करने का भरोसा दिया है.

कल अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने वाइट हाउस से जनता को सम्बोधित किया, उन्होंने यह भी कहा कि - उन्होंने मोदीजी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा का आर्डर पास करने की अपील की है, अगर मोदीजी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा का आर्डर पास करते हैं तो ठीक, नहीं करते हैं तो भी ठीक है लेकिन अगर नहीं पास करेंगे तो अमेरिका भी भारत के साथ ऐसा ही करेगा, विल्कुल करेगा।

अमेरिका मुसीबत में है इसलिए भारत से मदद मांग रहा है, अगर भारत मदद नहीं करेगा तो अमेरिका भी भारत की मदद नहीं करेगा, कोई भी देश ऐसा ही करेगा, भारत ने भी अमेरिका को दवा देने का फैसला कर लिया है, लेकिन अब गद्दार लोग मोदी को डरपोक बता रहे हैं. ऐसा इसलिए ताकि मोदी भड़क जाएं और अमेरिका को दवा ना दें ताकि दोनों देशों में दुश्मनी हो जाए. वैसे पाकिस्तान से प्रेम करने वाले भी भारत और अमेरिका में दुश्मनी कराने का प्रयास कर रहे हैं.

कोरोना खतरा: 6 मार्च तक हुई थी सिर्फ 3494 मौत, उसके बाद 1 महीनें में हो गयी 71275 लोगों की मौत

corona-world-update-death-rate-due-to-corona-virus-very-dangerous

नई दिल्ली: दुनिया के लिए कोरोना वायरस बहुत बड़ा खतरा बन गया है, पहले जनता ने इस वायरस को गंभीरता से नहीं लिया, कुछ लोगों ने कहा कि सड़क दुर्घटना में भी तो लोग मरते हैं, कुछ ने कहा कि अन्य बीमारियों से भी लोग मरते हैं, लेकिन अगर ट्रेंड देखें तो कोरोना वायरस से लोगों के मरने की रफ़्तार अन्य सभी बीमारियों से अधिक है और अगर यही ट्रेंड रहा तो अगले एक महीनें में दुनिया भर में लाखों लोगों की मौत हो सकती है.

कोरोना संक्रमण से हो रही मौतों का अगर ट्रेंड देखें तो यह ट्रेंड बहुत खतरनाक है. एक महीनें पहले यानी 6 मार्च तक दुनिया भर में सिर्फ 3494 लोगों की मौत हुई थी.

उसके बाद एक महीनें में यानी 6 मार्च से 6 अप्रैल (2020) तक 71275 लोगों की मौत हुई, हैरान करने वाली बात ये है कि अब मौत की रफ़्तार और तेज हो गयी है, पिछले पांच दिनों में 27571 लोगों की मौत हुई है.

यह ट्रेंड शो करता है कि अगर कोरोना महामारी पर कण्ट्रोल नहीं हुआ तो दुनिया भर में अगले महीनें लाखों लोगों की मौत हो सकती है.

भारत में फिलहाल 3981 एक्टिव मामले हैं, 114 लोगों की मौत हुई है और अब तक 4421 लोगों को कोरोना हो चुका है जिसमें से 326 लोग ठीक हो चुके हैं, अगर पिछले तीन चार दिनों का ट्रेंड देखें तो रोजाना 400 - 500 नए मामले सामने आ रहे हैं.

अमेरिका में 11000 लोगों की मौत, डोनाल्ड ट्रम्प बोले, मोदी नही देंगे हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, तो?

us-presidnet-donald-trump-warn-narendra-modi-for-hydroxychloroquine

नई दिल्ली: सुपर पावर देश अमेरिका कोरोना वायरस का सबसे बड़ा शिकार बन गया है, वहां पर करीब 11000 लोगों की मौत हो चुकी है और रोजाना 1000 से अधिक लोगों की मौत हो रही है, वर्तमान में अमेरिका में 367,385 लोग कोरोना से संक्रमित हैं और यह ट्रेंड बढ़ता जा रहा है, अमेरिका की तुलना में भारत में कोरोना धीमी रफ़्तार से आगे बढ़ रहा है.

अमेरिका की हालत इतनी ख़राब हो चुकी है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी परेशान हो चुके हैं, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा कोरोना वायरस के संक्रमण के इलाज में कारगर साबित हो रही है लेकिन यह दवा अमेरिका के पास अधिक मात्रा में नहीं है, जबकि भारत में यह दवा मौजूद है.

प्रधानमंत्री मोदी ने इस दवा के निर्यात पर प्रतिबन्ध लगा दिया है क्योंकि भारत में कोरोना संक्रमण बढ़ने पर इस दवाई की जरूरत पड़ेगी। अमेरिका ने भी भारत से यह दवाई खरीदने की अर्जी दी थी जिसे मोदी सरकार ने अभी तक मंजूर नहीं किया है.

दो दिन पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत की और अमेरिका का बिल पास करने की प्रार्थना की, मोदी सरकार ने  इस पर फैसला नहीं लिया है हालाँकि मोदी ने US इंडिया पार्टनरशिप के तहत अमेरिका की पूरी मदद करने का भरोसा दिया है.

कल अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने वाइट हाउस से जनता को सम्बोधित किया, उन्होंने यह भी कहा कि - उन्होंने मोदीजी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा का आर्डर पास करने की अपील की है, अगर मोदीजी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा का आर्डर पास करते हैं तो ठीक, नहीं करते हैं तो भी ठीक है लेकिन अगर नहीं पास करेंगे तो अमेरिका भी भारत के साथ ऐसा ही करेगा, विल्कुल करेगा।

डोनाल्ड ट्रम्प ने इशारों इशारों में कह दिया है कि अगर मुसीबत में भारत ने अमेरिका की मदद नहीं की तो अमेरिका भी मुसीबत के समय भारत की मदद नहीं करेगा। अब देखते हैं कि मोदीजी क्या निर्णय लेते हैं लेकिन अगर अमेरिका को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन नहीं मिला तो भारत अमेरिका के रिश्तों पर इसका असर जरूर पड़ेगा।

सामान तैयार है बस लोगों को 9 बजने का इन्तजार है

pm-modi-fight-against-corona-virus-5-april-light-deep-torch-news

फरीदाबाद, 5 मार्च: कोरोना के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री मोदी ने भी भारतीयों में आत्मविश्वास पैदा करने के लिए 5 अप्रैल को रात 9 बजे, 9 मिनट तक दिया, मोमबत्ती, टोर्च या मोबाइल की फ़्लैश लाइट जलाने की अपील की है.

इस जंग में लोग मोदी का साथ देने के लिए एकजुट हैं, लोगों ने सामान भी तैयार कर लिया है, बस 9 बजे का इन्तजार किया जा रहा है, 9 बजते ही लोग दिया जलाकर कोरोना के खिलाफ जंग में एकजुटता का सबूत देंगे।

अगर किसी के पास दिया, मोमबत्ती नहीं है तो वह मोबाइल की टॉर्च या हाथ वाली टॉर्च का इस्तेमाल कर सकता है. कोई जरूरी नहीं कि लोग दिया ही जलाएं, कुछ लोगों ने तो दिवाली मनाने का निर्णय कर लिया है. सबकी अपनी अपनी श्रद्धा है.

कोरोना फाइट, अब भारत के भरोसे अमेरिका, डोनाल्ड ट्रम्प ने मदद के लिए मोदी को किया फोन

americi-president-donald-trump-call-narendra-modi-for-help-chloroquine

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी से अमेरिका में त्राहि त्राहि मच गयी है, अब तक 8000 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है और तीन लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके है, पिछले तीन दिनों से अमेरिका में रोजाना 1000 से अधिक लोगों की मौत हो रही है.

अब अमेरिका भारत के भरोसे है, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मदद के लिए 4 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया, दोनों नेताओं के बीच काफी देर तक बातचीत हुई.

बात दरअसल ये है कि भारत सरकार ने कोरोना संकट को अच्छे तरीके से मैनेज किया है जिसकी दुनिया में जमकर तारीफ हो रही है, WHO भी मोदी सरकार का कायल हो चुका है.

कोरोना संकट आते ही भारत ने क्लोरोक़्वीनोन सहित कई दवाओं का एक्सपोर्ट रोक दिया। अमेरिकी लोगों की जान क्लोरोक़्वीनोन पर टिकी है, भारत में यह दवा भारी मात्रा में मौजूद है. भारत दवा निर्माता कंपनियों का हब है, यहाँ से दुनिया भर में मेडिसिन सप्लाई होती है, मोदी के मेक इंडिया प्रोजेक्ट के बाद दुनिया भर की दवा कम्पनियाँ भारत में आ गयीं और यहीं पर दवा बनाने लगीं। जिसकी वजह से भारत में दवाओं का भण्डार है.

अमेरिका ने भी क्लोरोक़्वीनोन का आर्डर दिया है लेकिन मोदी सरकार ने एक्सपोर्ट बंद कर दिया था जिसकी वजह से अमेरिका का आर्डर अटक गया. अब अमेरिकी लोगों की जान भी अटक गयी है, अगर भारत ने अमेरिका को क्लोरोक़्वीनोन नहीं दिया तो वहां पर बहुत ज्यादा दिक्कत हो सकती है.

इसीलिए कल डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी को फोन किया और उनका आर्डर पास करने की अपील की, मोदी ने भी उन्हें मदद का भरोसा जताया है, भारत में क्लोरोक़्वीनोन की कमी नहीं होगी क्योंकि यहाँ की दवा कंपनियों ने और अधिक मात्रा में इस दवा का निर्माण शुरू कर दिया है. दुनिया भर के डॉक्टर कोरोना मरीजों को क्लोरोक़्वीनोन दवा ही खिला रहे हैं.

भारत में इटली वाली के बच्चे कर रहे मोमबत्ती जलाने का विरोध, इटली वाले कर रहे समर्थन: अनिल विज

haryana-home-minister-anil-vij-strong-reply-priyanka-vadra-gandhi

फरीदाबाद, 5 अप्रैल: सोनिया गाँधी का गृहदेश इटली कोरोना का सबसे बड़ा शिकार हुआ है, वहां पर 15,362 लोगों की मौत हो गयी है, कुल 124,632 लोगों को कोरोना का संक्रमण हुआ है, वहां एमरजेंसी के हालत हैं, सरकार के हाथों से बात जा चुकी है, अब इटली का भगवान की मालिक है, अब वहां के लोग भी इस बीमारी के खिलाफ थाली और ताली बजारकर एजुटता का परिचय दे रहे हैं, वहां पर मोमबत्तियां भी जलाई जा रही हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी भारतीयों में आत्मविश्वास पैदा करने के लिए 5 अप्रैल को रात 9 बजे, 9 मिनट तक दिया, मोमबत्ती, टोर्च या मोबाइल की फ़्लैश लाइट जलाने की अपील की है लेकिन प्रियंका वाड्रा गाँधी ने कल मोदी की अपील का मजाक उड़ाया।

प्रियंका वाड्रा को हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने जवाब दिया, उन्होंने कहा - इटली के लोग ताली बजाकर व मोमबत्तियां जला कर अपने देश की एकता को प्रदर्शित कर रहे परन्तु भारत मे इटली वाली के बच्चे इसका विरोध कर रहे । कोरोना के आपातकाल में भी कोरी राजनीति कर रहे।

कोरोना के खिलाफ दिया जलाने से पहले इस बात का ध्यान रखें वरना मोदीजी को दोष देंगे आप, पढ़ें

dont-burn-deepak-after-washing-hand-with-sanitizer-5-april-2020

फरीदाबाद, 4 अप्रैल: कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए कुछ लोग बहुत अधिक सावधानी बरत रहे हैं, कुछ लोग तो कई बार हाथों को सैनिटाइजर से सैनिटाइज करते रहते हैं. हमें यह भी पता है कि प्रधानमंत्री मोदी का कहना लोग बहुत मानते हैं इसलिए 5 अप्रैल को रात 9 बजे लोग दिया भी जरूर जलाएंगे और कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अपनी एकजुटता दिखाएंगे।

कल दिया जलाते वक्त इस बात का ध्यान जरूर रखें, अपने हाथों में सैनिटाइजर लगाने के बाद दिया ना लगाएं या अगर सैनिटाइजर लगा हो तो पहले अपने हाथों को साबुन से धोकर सूखा लें और उसके बाद दिया जलाएं।

बात दरअसल ये है कि सैनिटाइजर में अल्कोहल मिला होता है जो ज्वलनशील पदार्थ में आता है, हाथों में सैनिटाइजर लगा होने की वजह से आपका हाथ जल सकता है, अगर ऐसा हुआ तो आप गुस्से में मोदीजी को दोष देंगे।

बता दें कि मोदीजी ने कोरोना के खिलाफ जंग में सभी देशवासियों का साथ चाहते हैं, मोदी चाहते हैं कि देशवासी एकजुट होकर कोरोना के खिलाफ जंग लड़ें, इसीलिए उन्होंने 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक घर की सभी लाइटें बंद करके सिर्फ दिया जलाने की अपील की है, विकल्प में मोबाइल टोर्च, मोमबत्ती, मिटटी का दिया या टोर्च शामिल हैं. आप इनमें से कुछ भी इस्तेमाल कर सकते हैं. मोबाइल टोर्च जलाने पर आपको सैनिटाइजर से कोई खतरा नहीं है.

एक बड़े शहर की आबादी जितनी हो गयी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या, 60,428 लोगों की मौत

corona-virus-infection--world-update-4-april-2020-news

नई दिल्ली, 4 अप्रैल: इस वक्त दुनिया भर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1,134,421 हो गयी है, इसके अलावा  60,428 लोगों की मौत हो गयी है, अगर संक्रमित लोगों की संख्या पर गौर करें तो 11 लाख से अधिक लोगों से एक बड़ा शहर बस सकता है. मतलब एक बड़े शहर की आबादी से भी अधिक कोरोना मरीजों की संख्या है और यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

पहले कुछ लोगों ने कोरोना महामारी को हलके में नहीं लिया था लेकिन तेजी से फैलते संक्रमण की वजह से अब लोग सावधानी बरतना शुरू कर दिए हैं. इस बीमारी का इलाज सोशल डिस्टैन्सिंग है. किसी भी बाहरी आदमी को छूने से बचकर संक्रमित होने से बचा जा सकता है.

इस वक्त सबसे अधिक कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 277,607 अमेरिका में हैं. इसके अलावा स्पेन में 124,736 इटली में 119,827 मरीज हैं, इसी तरह से 20 से अधिक देशों में 10 हजार से अधिक मरीज हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

अगर मोदी सरकार ना करती लॉक डाउन तो अब तक देश में लाखों लोगों को संक्रमित कर चुके होते जमाती

pm-narendra-modi-lock-down-worked-corona-infected-jamati-identified

फरीदाबाद, 4 अप्रैल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 मार्च को पूरे देश को एक साथ लॉक डाउन करने की घोषणा की थी, कुछ लोगों ने उनके इस कदम को गलत बताया था, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने कहा कि - मोदी ने जल्दबाजी में यह कदम उठा लिया लेकिन अब सोचिये, अगर 25 मार्च को लॉक डाउन का ऐलान ना होता और सब कुछ पहले की तरह चलता रहता तो अब तक क्या परिस्थिति होती।

अगर आप ध्यान दें तो 25 अप्रैल को लॉक डाउन के बाद ही जमातियों के बारे में पता चला, जब इस्लामिक सेण्टर में एक जमाती की मौत हो गयी और उसका टेस्ट कराया गया तो वह कोरोना पॉजिटिव निकला। उसके बाद जांच पड़ताल की गयी तो पता चला कि निजामुद्दीन के मरकज में पिछले एक महीनें से तबलीगी जमात के हजारों लोग इकठ्ठा होकर धार्मिक समारोह कर रहे हैं. कई लोगों ने तो तबलीगी जमात और मरकज के बारे में सुना ही नहीं था, दिल्ली सरकार ने पूरी दिल्ली में धारा 144 लगा थी और तक साथ 5 लोगों के इकठ्ठे होने पर रोक लगा दी थी लेकिन ये लोग तो कोई नियम कानून मानते ही नहीं।

उसके बाद 28 मार्च को पुलिस निजामुद्दीन पहुंची और जमातियों को बसों में भरकर अस्पताल भेजा और उनका टेस्ट कराया तो सैकड़ों लोग कोरोना पॉजिटिव निकले, उसके बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया, उसके बाद जमातियों की लिस्ट बनायी गयी और सभी राज्यों ने जमातियों की तलाश शुरू की, सभी राज्यों ने जमातियों को पकड़कर टेस्ट कराया तो सैकड़ों लोग पॉजिटिव मिले और ये लोग जहाँ पर रह रहे थे वहां के लोगों को भी संक्रमित कर दिया है. तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, दिल्ली में जमातियों ने सबसे अधिक संक्रमण फैलाया, गृह मंत्रालय के अनुसार इन लोगों ने अब तक 14 राज्यों में कोरोना संक्रमण फैलाया है।

इन जमातियों को निजामुद्दीन मरकज के मौलाना साद ने यह बोलकर धार्मिक प्रोग्राम में बुलाया था कि मस्जिद में आने वालों को कोरोना संक्रमण नहीं होगा क्योंकि मस्जिद मरने के लिए सबसे अच्छा स्थान है, उनका ऑडियो भी वायरल हुआ है, उनपर FIR दर्ज की गयी है, वह फरार हैं, इस कार्यक्रम में अधिकतर कट्टरपंथी विचारधारा के लोग ही आये थे जिनके अंदर जिहाद का जहर भरा होता है इसलिए उन्होंने कोरोना संक्रमण को गंभीरता से नहीं लिया।

यह कार्यक्रम पिछले एक महीनें से चल रहा था, पूरे देश के और विदेश के जमाती कार्यक्रम में आकर कुछ दिन रूककर चले जाते थे, इस प्रोग्राम में विदेश से कुछ संक्रमित जमाती भी आये और अन्य लोगों को संक्रमित कर दिया, उसके बाद संक्रमित लोग यहाँ से निकलकर अपने घरों को गए तो वहां अपने पूरे परिवार को संक्रमित कर दिया, अब जहाँ से भी कोरोना के मामले निकल रहे हैं तो पता चल रहा है कि जमातियों का पूरा परिवार ही संक्रमित है.

संक्रमित जमातियों की पहचान इसलिए हो पा रही है क्योंकि देश में लॉक डाउन है, जनता को उनके घरों में ही रहने को बोला गया है, जमाती अधिकतर मस्जिदों में छुपे हुए हैं, ये लोग खुद बाहर आकर अपना टेस्ट नहीं करवा रहे हैं, पुलिस इन्हें ढूंढ ढूंढ कर इनका टेस्ट करवा रही है और अन्य संपर्क में आये लोगों का टेस्ट करवा रही है. कई जगह से यह भी ख़बरें आयी कि ये लोग पुलिस और इनका इलाज कर रहे डॉक्टरों पर थूक रहे हैं, कुछ लोग डॉक्टर और नर्सों को अश्लील इशारे कर रहे हैं, गाजियाबाद में इनके खिलाफ शिकायत की गयी है और डॉक्टरों ने  इनका इलाज करने से इंकार कर दिया है.

भगवान का शुक्र है कि देश में लॉक डाउन है, वरना ये लोग भीड़ भाड़ में घुसकर अन्य लाखों लोगों को अब तक संक्रमित कर चुके होते और भारत भी अमेरिका, इटली, स्पेन, चीन, ईरान, इंग्लॅण्ड, फ़्रांस की श्रेणी में आ चुका होता। हम ये नहीं कह रहे हैं कि ये लोग जान बूझकर संक्रमण फैला रहे हैं लेकिन देश के कानून को ना मानकर ये लोग खुद को गलत साबित कर रहे हैं.

कुछ लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लॉक डाउन के फैसले को गलत बता रहे हैं लेकिन अगर लॉक डाउन ना होता और लाखों लोगों में संक्रमण फ़ैल चुका होता तो हो सकता है उसमें से आप भी होते। इसलिए लॉक डाउन के नियमों का पालन करें और  अपने घरों में रहें ताकि संक्रमित लोगों की पहचान करके उनका इलाज किया जा सके और देश को इस महामारी से बचाया जा सके.

कोरोना ने अब तक छीनी 56,987 लोगों की जिंदगी, बन गया सबसे बड़ा और तेज रफ़्तार किलर

corona-virus-infection-total-56987-people-death-in-world-news

नई दिल्ली, 3 अप्रैल: कोरोना वायरस ने भारत में भले ही ज्यादा नुकसान नही किया है लेकिन दुनिया में इस वायरस ने कोहराम मचा दिया है. विश्व में अब तक कोरोना संक्रमण की वजह से 56,987 लोगों की मौत हो गयी है, अगर कुल संक्रमण की बात करें तो अब तक पूरे विश्व में 1,074,290 लोग संक्रमित हुए हैं और 226,062 लोग बीमारी से ठीक भी हुए हैं. 

आपको बता दें कि कोरोना वायरस से सबसे अधिक नुकसान - अमेरिका, इटली, स्पेन, जर्मनी, यूनाइटेड किंगडम, चीन, फ़्रांस और ईरान को हुआ है. कम से कम 20 देशों में कोरोना के 10 हजार से अधिक मरीज हैं.

कोरोना की वजह से सबसे अधिक इटली में - 14,681 लोगों की मौत हुई है, स्पेन में 10,935 लोगों की मौत हुई है, अमेरिका में  6,786 लोगों के मौत हुई है.

भारत में अभी 2500 के आसपास संक्रमण हैं जबकि 72 लोगों की मौत हुई है. भारत में पिछले तीन दिनों से तेजी से संक्रमण बढ़ा है. निजामुद्दीन में आयोजित मरकज में हजारों लोग संक्रमित हुए हैं.

अगर ओवरऑल बात करें तो कोरोना वायरस अब तक का सबसे बड़ा किलर है और यह सबसे तेज लोगों की जान ले रहा है, पिछले एक हप्ते में 30 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई है, अब रोजाना 6000 लोगों की मौत हो रही है, अगर यही हाल रहा तो अगले 6 महीनें में करोड़ों लोगों की मौत हो जाएगी।

कोरोना संक्रमण में 1000 आगे चल रहा था पाकिस्तान, जमातियों की वजह से अब आगे हो गया हिंदुस्तान

india-corona-virus-infection-hindustan-vs-pakistan-news-in-hindi

नई दिल्ली: कोरोना वायरस संक्रमण से देश की जनता को बचाने के लिए केंद्र सरकार ने पूरे देश में 21 दिनों का लॉक डाउन किया है, शुरुआत में भारत ने कोरोना पर कण्ट्रोल कर लिया था, पाकिस्तान भारत से 1000 संक्रमण आगे चल रहा था लेकिन अचानक निजामुद्दीन के जमातियों ने मरकज में इकठ्ठा होकर एक दूसरे को संक्रमित किया और उसके बाद पूरे देश में घूमकर करीब 14 राज्यों में वायरस का संक्रमण फैला दिया।

भारत सरकार ने आज एक प्रेस वार्ता में बताया कि पिछले दो दिनों में 647 जमातियों में कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आयी है, इन लोगों ने 14 राज्यों में कोरोना का संक्रमण फैलाया है - अंडमान एंड निकोबार, असम, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, जम्मू एंड कश्मीर, झारखण्ड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश।

यह जानकारी MHA के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने दी. उन्होंने यह भी जानकारी दी कि 960 विदेशी जमातियों के खिलाफ मामला दर्ज करके कानूनी कार्यवाही की जाएगी और इन्हें डिपोर्ट नहीं किया जाएगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत में अब कोरोना वायरस संक्रमण की संख्या पाकिस्तान से अधिक हो गयी है, भारत में 2567 संक्रमण हो चूका है जबकि पाकिस्तान में 2458 लोगों को संक्रमण हो चुका है. एक हप्ते पहले पाकिस्तान में भारत की तुलना में 1000 अधिक लोगों में संक्रमण था. यह सब जमातियों की वजह से हुआ है, मरकज में पहले इन्हें संरकमण हुआ, उसके बाद ये लोग पूरे देश में फैलाकर मस्जिदों में छुप गए और अन्य लोगों को संक्रमित कर दिया।

दुर्भाग्य, जमातियों की वजह से कोरोना के मामले में पाकिस्तान के विल्कुल नजदीक पहुँच गया हिंदुस्तान

corona-infection-in-india-vs-pakistan-2-april-2020-news

फरीदाबाद, 2 अप्रैल: इसे देश का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि कोरोना के खिलाफ जीतती हुई जंग अब मुश्किल में पड़ गयी है, हिंदुस्तान के लोग कोरोना को तीसरे स्टेज में जाने से रोकने में सफल हो रहे थे लेकिन अचानक जमातियों ने दिन दूना रात चौगुनी रफ़्तार से कोरोना संक्रमण फैला शुरू किया और देखते ही देखते भारत में कोरोना संक्रमण की संख्या 2000 के पर पहुँच गयी, पिछले दो दिनों में करीब 800 कोरोना के नए मामले सामने आये हैं जिनमें से अधिकतर जमाती हैं, इसके अलावा करीब 9000 संदिग्ध जमाती कई स्थानों पर क्वारंटाइन किये जा रहे हैं.

कुछ दिन पहले पाकिस्तान की तुलना में भारत में कोरोना मरीजों की संख्या काफी कम थी, करीब 1000 का अंतर था लेकिन पिछले दो दिनों में भारत में संक्रमित मरीजों की संख्या में इतना उछाल आ गया है कि भारत पाकिस्तान के विल्कुल करीब पहुँच गया.

इस वक्त पाकिस्तान में कोरोना संक्रमण की संख्या 2386 है तो भारत में 2341 है, भारत अब पाकिस्तान ने सिर्फ 50 मरीज पीछे है जो एक दो दिन में पूरा हो सकता है.

अगर कुल मौतों की बात करें तो भारत में अब तक 68 लोगों की मौत हुई है जबकि पाकिस्तान में 33 लोगों की मौत हुई है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि निजामुद्दीन मरकज में आयोजित जलसे में तबलीगी जमात के कम से कम 2500 लोग शामिल हुए थे, इनमें से कई विदेशी भी थे और कुछ चीन से भी आये थे, ये लोग संक्रमित थे और मरकज में सैकड़ों लोगों को भी संक्रमित कर दिए और उसके बाद उन लोगों को पूरे देश में फैला दिया। अब इनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की तैयारी चल रही है.

मुसीबत में फंसा आंध्र प्रदेश, निजामुद्दीन मरकज से गए 43 जमाती पाए गए कोरोना पॉजिटिव

andhra-pradesh-43-new-corona-positive-cases-from-nizamuddin-markaj

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश में कोरोना पर विल्कुल कण्ट्रोल था, कल तक आंध्र प्रदेश में कोरोना के सिर्फ गिने चुने मामले थे लेकिन आज अचानक कोरोना मरीजों की संख्या 43 बढ़ गयी है.

आंध्र प्रदेश अब मुसीबत में फंस गया है क्योंकि निजामुद्दीन मरकज से गए 43 जमाती कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, इन लोगों ने रास्ते में पता नहीं कितने लोगों को संक्रमित किया होगा, अब इनकी जांच चल रही है.

 ये सभी संक्रमित जमाती निजामुद्दीन मरकज में आयोजित कट्टरपंथी समारोह में शामिल हुए थे, इसमें देश और दुनिया भर के 2500 से भी अधिक कट्टरपंथियों ने हिस्सा लिया था.

दिन-दूना रात चौगुनी रफ़्तार से जान लेने लगा कोरोना, सिर्फ 24 घंटों में 4533 लोगों की मौत

corona-virus-infection-total-dealth-update-world-in-hindi-news

नई दिल्ली, 1 अप्रैल: चंद दिनों पहले कोरोना वायरस संक्रमण से विश्व में रोजाना 1000 लोगों की मौत हो रही थी लेकिन अब  मौत की रफ़्तार चार गुना बढ़ गयी है, सिर्फ पिछले 24 घंटों में कोरोना से विश्व में 4533 लोगों की मौत हुई है, एक तरह से कहें तो कोरोना संक्रमण दिन दूनी, रात चौकुनी रफ़्तार से बढ़ रहा है.

दुनिया में कुल कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 858319 हो गयी है, करीब 42302 लोगों की मौत हो गयी है. करीब 177,931 लोग पूरी तरह से स्वस्थ भी हो चुके हैं.

अमेरिका में सब अधिक कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ है, अब तक 188530 लोग संक्रमित हुए हैं और 4053 लोगों की मौत हुई है. इटली दूसरे नंबर पर है, वहां पर 105792 लोगों को संक्रमण हुआ और 12428 लोगों की मौत हो गयी.

तीसरे नंबर पर स्पेन है जहाँ पर 95923 लोगों को संक्रमण  हुआ है और 8464 लोगों की मौत हो गयी. कोरोना का जन्मदाता चीन चौथे स्थान पर पहुँच गया है, वहां पर 81518 लोगों को संक्रमण हुआ और 3305 लोगों की मौत हो गयी.

जर्मनी, फ़्रांस, ईरान, यूनाइटेड किंगडम और स्विट्जरलैंड में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से फैला है और रोजाना हजारों नए मामले इन देशों में आ रहे हैं, इन सभी देशों में कोरोना वायरस तीसरे चरण में पहुँच चुका है.

अगर भारत की बात करें तो अब तक 1600 लोगों को कोरोना हुआ है कर कुल 38 लोगों की मौत हुई है.

कोरोना वायरस संक्रमण: निजामुद्दीन मरकज की वजह से पाकिस्तान के करीब पहुँच गया भारत, देखें अपडेट

india-corona-virus-infection-cases-vs-pakistan-case-latest-news

फरीदाबाद, 1 अप्रैल: भारत सरकार कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में अपनी पकड़ मजबूत कर चुकी थी, दुनिया के अन्य देशों की अपेक्षा भारत में कोरोना के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे थे और ऐसा लग रहा था कि भारत कोरोना संक्रमण को तीसरे स्टेज में नहीं पहुँचने देगा लेकिन निजामुद्दीन मरकज ने बना बनाया खेल ख़राब कर दिया है.

यहाँ पर कुछ दिनों पहले एक बड़ा जलसा हुआ जिसमें देश विदेश के करीब 2500 लोग शामिल हुए, दर्जनों कोरोना पॉजिटिव लोग भी शामिल हुए मरकज में शामिल सैकड़ों लोगों को संक्रमित कर दिया, अब ये लोग पूरे देश में फ़ैल चुके हैं और अनजानें में कोरोना का संक्रमण फैला रहे हैं.

कोरोना के मामले में पाकिस्तान भारत से बहुत आगे निकल गया था लेकिन अब भारत पाकिस्तान के करीब पहुँच रहा है, पाकिस्तान में रोजाना 200 से अधिक कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं और कुल संक्रमण 1938 पहुँच गया है तो भारत में भी कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 1397 हो गयी है और आज कम से कम 200 नए केस आने की संभावना है.

कोरोना से भारत में अब तक 35 लोगों की मौत हो गयी है जबकि पाकिस्तान में 26 लोगों की मौत हो गयी है, भारत में कम से कम 10 मृतक लोगों में वे लोग हैं जो निजामुद्दीन मरकज में आयोजित जलसे में शामिल हुए थे.

कोरोना से और तेज हुई मौतों की रफ़्तार, अब तक मरे 32,155, देखिये, वर्ल्ड की अपडेट

corona-virus-world-update-total-32155-people-dead-latest-news

नई दिल्ली, 29 मार्च: कोरोना  महामारी का प्रकोप बढ़ता जा रहा है, पूरी दुनिया में अब तक 32155 लोगों की मौत हुई और मौत की रफ़्तार भी बढ़ती जा रही है, पिछले एक हप्ते से रोजाना 2 - 3 हजार लोगों की मौत हुई है और 25,426 लोग बहुत क्रिटिकल हैं.

अगर कुल संक्रमण की बात करें तो अब तक दुनिया में 683,694 लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण हुआ है और 146,396 मरीज पूरी तरह से ठीक हुए हैं.

कोरोना महामारी से इटली में सबसे अधिक 10,023 लोगो की मौत हुई है, कुल 92,472 संक्रमित मरीज हैं. संक्रमित मरीजों में अमेरिका इस वक्त नंबर वन चल रहा है, वहां पर 123,828 संक्रमित मरीज हैं जबकि  2,231 लोगों की मौत हुई है, पिछले दो तीन दिन में अमेरिका में भी तेजी से मौतें शुरू हो गयी हैं.

कोरोना वायरस का जनक चीन तीसरे नंबर पर पहुँच गया है, वहां पर 81,439 को कोरोना हुआ, 3,300 की मौत हुई और 75,448 लोग ठीक हो गए.

चौथे नंबर पर स्पेन है जहाँ पर 78,797 संक्रमित मरीज हैं, 6,528 लोगों की मौत हुई है और 14,709 लोग ठीक हो गए हैं. स्पेन की राजकुमारी की भी कोरोना से मौत हो गयी.

अगर भारत की बात करें तो अब तक 987 लोगों को कोरोना का संक्रमण हुआ, 87 लोग ठीक हुए हैं और 25 लोगो की मौत हुई है, वर्तमान में 875 मरीज हैं और रोजाना 50 - 70 नए संक्रमण हो रहे हैं.

भारत के मुकाबले पाकिस्तान में दोगुनी रफ़्तार से बढ़ रहा कोरोना, देखिये डिटेल

corona-virus-infection-in-pakistan-double-speed-than-india-news

नई दिल्ली, 27 मार्च: भारत के मुकाबले पाकिस्तान में दोगुनी रफ़्तार से कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ रहा है, पाकिस्तान ने अभी पूरी तरह से देश को लॉक डाउन नहीं किया है क्योंकि पाकिस्तान सरकार को आर्थिक बर्बादी की चिंता है. वहीं भारत सरकार ने पूरे देश को लॉक डाउन कर दिया है जिसकी वजह से कोरोना संक्रमण की रफ़्तार अन्य देशों से कम है.

भारत में अब तक 727 लोगों को कोरोना हो चुका है, 45 लोगों का इलाज हो चुका है और 662 लोगों में अभी भी संक्रमण है और उनका इलाज चल रहा है, अगर 26 मार्च के आंकड़ों पर गौर करें तो 70 नए मरीज जुड़े हैं.

पाकिस्तान में अब तक 1235 लोगों को कोरोना हो चुका है, 23 लोगों का इलाज हो चुका है और 1203 लोगों में अभी भी संक्रमण है और उनका इलाज चल रहा है, अगर 26 मार्च के आंकड़ों पर गौर करें तो 138 नए मरीज जुड़े हैं जो भारत से दोगुना हैं.

कोरोना ने अमेरिका में मचाया हाहाकार, सिर्फ एक दिन में 17000 से अधिक संक्रमण, चीन को पीछे छोड़ा

corona-virus-infection-in-usa-italy-spain-china-india-latest-news-hindi

वाशिंगटन, 27 मार्च: कोरोना वायरस से फ़ैली महामारी ने अमेरिका में हाहाकार मचा दिया है, पिछले 24 घंटों में 17,224 लोगों में संक्रमण फ़ैल गया और 268 लोगों की मौत हो गयी. कुल मौतों की बात करें तो अब तक 1295 लोगों की मौत हो चुकी है.

कोरोना संक्रमण के मामले में अमेरिका ने अब चीन को पीछे छोड़ दिया है, चीन में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 81,285 है तो अमेरिका में 85,435 लोगों को कोरोना हो चुका है.

कोरोना की वजह से अमेरिका आर्थिक रूप से काफी कमजोर हो सकता है, वहां पर अभी पूरे देश को लॉक डाउन नहीं किया गया है, जहाँ भी संक्रमण अधिक है सिर्फ उन्हीं राज्यों को लॉक डाउन किया गया है, कई राज्यों में राज्य सरकारों द्वारा नागरिकों पर कुछ पाबंदी लगाई गयी है लेकिन पूरी तरह से लॉक डाउन के आर्डर नहीं जारी किये गए हैं, वहां के लोगों से सिर्फ यही अपील की जा रही है कि सोशल डिस्टैन्सिंग का पालन करें और किसी के संपर्क में आने से बचें।

कोरोना के मामले में तीसरे नंबर पर इटली है. कुल संक्रमित मरीज 80,589 हैं, अब तक 8,215 लोगों की मौत हो चुकी है, स्पेन चौथे स्थान पर जहाँ पर 57,786 मरीज हैं और 4,365 लोगों की मौत हुई है.

अगर भारत की बात करें तो 662 एक्टिव संक्रमित मरीज  हैं और अब तक 753 को कोरोना हुआ है और कुल 20 लोगों की मौत हो चुकी है.

कोरोना: पाकिस्तान पार कर गया खतरे की लाइन, अब भारत पर दुनिया की नजर

pakistan-crossed-danger-line-of-corona-virus-epidemic-india-behind

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने की पाकिस्तान भी पूरी कोशिश कर रहा है लेकिन पाकिस्तान की तमाम कोशिशें ध्वस्त हो गयीं और पाकिस्तान खतरे की लाइन को पार कर गया है.

25 मार्च 2020 पर पाकिस्तान में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1022 हो चुकी है और आज भी करीब 100 मरीज जुड़ने की संम्भावना है. पिछले एक हप्ते से पाकिस्तान में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ा है, वहां पर टेस्टिंग की बढ़िया सुविधा नहीं है इसलिए मरीजों की संख्या अधिक नहीं दिखाई दे रही है, वहां पर कई हजार कोरोना संक्रमित मरीज हो चुके हैं लेकिन उनका टेस्ट नहीं हो पा रहा है.

1000 संक्रमण खतरे की लाइन मानी जाती है जिसे पाकिस्तान ने पार कर लिया है और अब वहां पर कुछ भी हो सकता है, अब दुनिया की नजर भारत पर टिक गयी है. भारत सरकार लॉक डाउन करके कोरोना संक्रमण को रोकने का पूरा प्रयास कर रही है लेकिन भारत में भी कोरोना के 606 संक्रमित मरीज हो चुके हैं, पाकिस्तान करीब करीब डबल आगे है, अगर भारत 1000 से पहले रुक गया तो समझ लो भारत का खतरा टल गया लेकिन अगर भारत में भी संक्रमित मरीजों की संख्या 1000 के ऊपर पहुँच गयी तो भारत भी खतरे में आ जाएगा।

भारत को खतरे से बचाने के लिए जनता पर ही भरोसा है, अगर जनता लॉक डाउन के दिशा निर्देशों का पालन करेगी तो भारत बर्बादी से बच जाएगा लेकिन अगर जनता ने लापरवाही दिखाई  और लोग घरों से बाहर निकलकर अनजाने में संक्रमित लोगों से मिलकर खुद भी बीमार होते रहे तो भारत को खतरे से कोई नहीं बचा पाएगा।

लठ्ठ भी सेनेटाईज करती दिखी पुलिस, बिना मतलब बाहर निकलने से बचें

police-lath-sensitize-during-lock-down-to-stop-corona-virus-spread

नई दिल्ली, 25 मार्च: भारत सरकार ने जनता को कोरोना वायरस से फ़ैली महामारी के प्रकोप से बचाने के लिए पूरे देश को 21 दिनों के लिए लॉक डाउन कर दिया है लेकिन कुछ लोग अभी भी बिना मतलब बाहर घूम रहे हैं और कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ा रहे हैं.

एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें पुलिसकर्मी लट्ठ को भी सेनेटाइज करता दिख रहा है, शायद इसलिए ताकि लट्ठ में वायरस का संक्रमण ना फैले, मान लो कोई संक्रमित व्यक्ति पुलिस को बहार घूमता मिल गया और पुलिस वालों ने उसपर लट्ठ बजा दिया तो लट्ठ पर संक्रमण ना फैले।

यह नहीं पता चल पाया है कि यह वीडियो कहाँ का है, हरियाणा के किसी जिले का बताया जा रहा है लेकिन वीडियो देखकर हर कोई यही कह रहा है कि बिना मतलब घर से बाहर ना निकलें, क्योंकि पुलिस ने लठ्ठ सेनेटाइज करके पूरी तैयारी कर ली है.