Palwal Assembly

Showing posts with label Haryana. Show all posts

फरीदाबाद प्रशासन को CM के विशेष अधिकारी का निर्देश, राहगिरी के बारे में जनता को करें जागरूक

cm-manohar-lal-special-officer-op-singh-rahgiri-program-awareness

फरीदाबाद, 28 नवंबर। जिला स्तर पर आयोजित की जाने वाली राहगिरी के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों जागरूक करें। राहगीरी का मुख्य उद्देश्य प्रशासन, पुलिस और आम जनता एक साथ इक्कठा हो कर सरकार द्वारा चलाए गए सामाजिक उत्थान के कार्यक्रमों में लोगों की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करके कार्यक्रमों बारे जागरूकता लाना है। राहगिरी में अधिकाधिक लोगों की भागीदारी सुनिश्चित की जाए और इसका सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार करें।

यह निर्देश मुख्यमंत्री के विशेष अधिकारी एवं एडीजीपी ओपी सिंह ने वीरवार को प्रदेश के लगभग एक दर्जन जिलों के अधिकारियों के साथ आगामी एक दिसंबर को आयोजित की जाने वाली राहगीरी बारे समीक्षा कर  वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान दिए। 

ओपी सिंह ने राहगिरी कार्यक्रम को अधिक प्रभावशाली बनाने,अधिक से अधिक जनभागीदारी करने तथा राहगीरीे में आयोजित की जाने सास्कृतिक  गतिविधियों की संख्या को बढ़ाने के संबंध में व्यापक दिशा-निर्देश भी  दिए। 
एडीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि एक दिसंबर को विश्व एड्स दिवस के अवसर पर राहगिरी कार्यक्रम में एड्स के प्रति जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करवाए जाने बारे विडियो कान्फ्रेंस में उपस्थित जिला चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए और इसमें स्वास्थ्य विभाग का सक्रियता बढ़ाने के लिए कहा ।
उन्होंने कहा कि राहगिरी कार्यक्रम में सामाजिक उत्थान के स्वच्छता, जल शक्ति तथा नशारोधि अभियानों बारे समाज में अधिक से अधिक जागरूकता लाने के लिए सास्कृतिक  गतिविधियों को भी बढ़ावा दिया जाए। इसमें प्रतिभागियों के लिए पेंटिंग प्रतियोगिता आदि का आयोजन करवाया जाए। उन्होंने राहगिरी में योग गतिविधियों को भी शामिल करने के संबंध में दिशा-निर्देश दिए। इसके साथ ही राहगिरी कार्यक्रम में शारीरिक छमता को बढ़ाने वाली  गतिविधियों को बढ़ावा देने की भी हिदायतें दी गईं। 
एडीजीपी ने कहा कि राहगिरी कार्यक्रम की पूर्व सूचना व कार्यक्रम उपरांत के समाचार व फोटो आदि सोशल मीडिया पर प्रसारित करने के लिए जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारियों को कहा कि वे मीडिया के माध्यम से राहगीरी का अधिक से अधिक प्रचार प्रसार करें, ताकि  राहगिरी का संदेश अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके। उन्होंने कहा कि फेसबुक, ट्वीटर व वट्सअप आदि के माध्यम से राहगिरी के फॉलोअर्स की संख्या बढ़ाई जाए। उन्होंने कहा कि इस समय हरियाणा में राहगिरी कार्यक्रम साकारात्मक दिशा में जा रहा है। इसमें प्रतियोगिता के साथ-साथ सहयोग की भावना को बढ़ाना भी जरूरी है। जब आपसी सहयोग से लक्ष्य प्राप्त करने की दिशा में प्रयास किए जाते हैं, तो नागरिक समाज के उपयोगी अंग बनते हैं। उन्होंने कहा कि समस्याओं के समाधान की प्रवृति जीवन में सफलताओं के द्वार खोलती है।

पुलिस व प्रशासन के सभी विभागों के अधिकारी, कर्मचारी,  खिलाड़ी, विद्यार्थी, एनसीसी कैडेट व शहरवासी तथा नगर निगम व पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि,समाज सेवी और समाजिक विकास के कार्य करने वाली संस्थाओं के प्रतिनिधियो सहित कालेजों, उच्च शैक्षणिक संस्थानों तथा स्कूलों के विद्यार्थियों को राहगीरी में  भागीदारी बनाए । उन्होंने  प्रशासनिक व पुलिस के अधिकारियों को राहगीरी के भव्य आयोजन की तैयारियों के बारे  सुझाव सांझे किए ।

विडियो कान्फ्रेंस में फरीदाबाद के डीसीपी डॉ अर्पित जैन ने  जिला में आगामी राहगीरी की तैयारियों  की जानकारी  मुख्यमंत्री के स्पेशल ऑफिसर को दी। उन्होंने बताया कि आगामी एक दिसंबर को स्थानीय बल्लभगढ़ के सैक्टर-2 राहगीरी का आयोजन किया जाएगा। 

इसको लेकर एसडीएम बल्लभगढ़ त्रिलोक चंद  ने  विभिन्न विभागों के अधिकारियों  की  अलग-अलग कार्यों के लिए ड्यूटी अभी लगाई हैं । उन्होंने बताया  कि राहगीरी के माध्यम से  आम जनता में आपसी भाईचारे को बनाए रखने बारे अधिक से अधिक लोगों में जागरूकता  पहुंचाने के लिए बच्चे, बुढ्ढे और जवान,  खिलाडिय़ों व विद्यार्थियों का सहयोग लिया जाएगा। खेल विभाग व शिक्षा विभाग के अधिकारियों को विशेष दिशा-निर्देश दिए गए। पुलिस विभाग को राहगीरी बारे रूट पर वाहनों के आवागमन को डायवर्ट करने, नगर निगम के अधिकारियों को झंडे व पानी आदि की व्यवस्था करवाने, जनस्वास्थ्य अभियान्त्रिकी  विभाग को पानी के टैंकर उपलब्ध करवाने तथा स्वास्थ्य विभाग को एंबुलेंस व चिकित्सकों की ड्यूटी लगाने के निर्देश भी दिए गए। उन्होंने कहा कि राहगीरी में शामिल बच्चे अपने हाथों में स्लोगन आदि की तख्तियो पर लिखकर व संदेश देते पोस्टर-बैनर लेकर आमजन को एकता का संदेश देंगे।लोगों को सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की विस्तृत जानकारी देंगे । उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए प्रशासनिक व पुलिस के अधिकारियों की कमेटी का गठन किया गया है। उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार के परिवहन, खनन कैबिनेट मंत्री श्री मूलचंद शर्मा राहगीरी में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करेंगे ।

विडियो कान्फ्रेंस में डीसीपी डॉ अर्पित जैन , एसडीएम फरीदाबाद  अमित कुमार, एसडीएम बल्लभगढ़ त्रिलोक चंद, एसीपी महेंद्र वर्मा,जिला शिक्षा अधिकारी सतिन्दर कौर वर्मा, पीओआईसीडीएस, एसएमओ सहित राहगीरी से जुड़े  अन्य विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे।

हरियाणा सरकार ने भावांतर भरपाई योजना में फसलों के संरक्षित मूल्य बढ़ाए, अब 10 फसलें कवर होंगी

haryana-sarkar-bhawantar-bharpaai-yojna-10-crops-included

फरीदाबाद, 27 नवंबर। प्रदेश सरकार ने किसानों के हित में भावांतर भरपाई योजना के तहत फसलों के संरक्षित मूल्यों में बढ़ोतरी की है। इसके अलावा वर्तमान में गेहूं, जौ,चना, सरसों, सूरजमुखी आदि की पाच फसलों के अलावा अब छह अन्य फल तथा सब्जियों की फसलें भी योजना के तहत कवर होंगी।

उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिये कि वे सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को फसलों में नुकसान की भरपाई के लिए कागजी कार्रवाई के साथ-साथ धरातल पर भी अधिक से अधिक किसानो को जागरूक करें। इसी कङी में लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, जिला अग्रणी बैंक अधिकारी और विभिन्न बैंको के अधिकारियों सहित योजना के सफल आयोजन के भगीदार विभागों के अधिकारियों की कार्यशाला आयोजित की गई । कार्यशाला में विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों का किसानों तथा बैंको के अधिकारियों के साथ आपसी तालमेल बारे सुझाव सांझे किए गए।

इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को अपनी फसल का निर्धारित समयावधि में पंजीकरण करवाना अनिवार्य है।गेहूं, जौ,चना,सरसों व सूरजमुखी  आदि फसलों के साथ-साथ आलू, फूलगोभी, गाजर, मटर व किन्नू आदि फल और सब्जियों की फसलों  का पंजीकरण करवाने की अंतिम तिथि 30 नवंबर निर्धारित है। पंजीकरण के लिए कृषि एवं किसान कल्याण तथा  बागवानी विभाग के अधिकारियों को जरूरी दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

यह जानकारी देते हुए उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने बताया कि प्रदेश सरकार ने भावांतर भरपाई योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में प्याज, फूलगोभी, आलू व टमाटर सब्जियों की फसलों के लिए संरक्षित मूल्य निर्धारित किए थे। इस योजना के प्रति किसानों का उत्साह देखते हुए अब सरकार ने प्याज के संरक्षित मूल्य को 600 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 650 रुपये तथा फूलगोभी के संरक्षित मूल्य को 600 रुपये से बढ़ाकर 750 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया है। 

उन्होंने बताया कि दो फल व चार सब्जियों की फसलें भी  कवर होंगी। इन चार फसलों के अलावा अब सरकार ने छह और नई फसलों को इस योजना में शामिल किया है, जिनमें दो फल व चार सब्जियों की फसल शामिल हैं। उन्होंने बताया कि किन्नू की फसल के लिए 1100 रुपये प्रति क्विंटल, अमरुद के लिए 1300 रुपये प्रति क्विंटल, गाजर की फसल के लिए 700 रुपये प्रति क्विंटल, मटर के लिए 1100 रुपये प्रति क्विंटल, शिमला मिर्च के लिए 900 रुपये प्रति क्विंटल तथा बैंगन के लिए 500 रुपये प्रति क्विंटल का संरक्षित मूल्य निर्धारित किया गया है।

इसी प्रकार गेहूं का प्रीमियम 382.43 रूपये की धनराशि पर   25492.22 रूपये की धनराशि का बीमा, जौ का प्रीमियम प्रति एकड़  247.36 रूपये की धनराशि पर  16490.95  रूपये की धनराशि का बीमा, सरसों का प्रीमियम  233.71 रूपये की धनराशि पर 15580.41 रूपये की धनराशि का बीमा, चना की फसल पर 179.68 रूपये की धनराशि के प्रीमियम पर  11978.71 रूपये की धनराशि का बीमा और सूरजमुखी के  239.78 रूपये की धनराशि प्रति एकड़ के प्रीमियम पर 15985.10 रूपये की धनराशि का बीमा किया जाता है।  इससे कम दर पर बिकने की स्थिति में भाव के अंतर की भरपाई प्रदेश सरकार द्वारा की जाएगी। 

उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने बताया कि किसानों की फसलें प्राकृतिक आपदा से खराब हो जाने पर 72 घण्टे के अन्दर कृषि विभाग, बागवानी विभाग में जानकारी लिखित में देनी होती है। इसके अलावा उपमंडल अधिकारी (नागरिक) ,तहसीलदार और उप कृषि निदेशक तथा जिला  बागवानी अधिकारी की तीन सदस्यीय कमेटी में भी लिखित में किसान फसल/सब्जियों/बाग की प्राकृतिक आपदा से खराब हो जाने पर जानकारी देनी होती है ।

ये हैं पंजीकरण करवाने की अंतिम तिथि :

उपायुक्त ने बताया कि इस योजना का लाभ उन्हीं किसानों को मिलेगा, जो अपनी फसल का पंजीकरण करवाएंगे। उन्होंने बताया कि आलू, फूलगोभी, गाजर, मटर व किन्नू की फसल के लिए पंजीकरण करवाने की अंतिम तिथि 30 नवंबर निर्धारित है। इसके अलावा, टमाटर व प्याज के लिए 15 दिसंबर से 15 फरवरी, शिमला मिर्च व बैंगन के लिए 10 फरवरी से 15 मार्च तथा अमरूद के लिए 15 अप्रैल से 15 मई के बीच पंजीकरण करवाया जा सकता है।

यहां करवा सकते हैं पंजीकरण :

उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने बताया कि योजना के तहत पंजीकरण करवाने के लिए फसल एचआरवाई डॉट इन पर लिंक उपलब्ध है। पंजीकरण केवल निर्धारित अवधि के दौरान ही खुला रहेगा। सर्व सेवा केंद्र, ई-दिशा केंद्र, मार्केटिंग बोर्ड, बागवानी विभाग, कृषि विभाग और इंटरनेट क्यिोस्क पर पंजीकरण सुविधा उपलब्ध हैै। उन्होंने बताया कि भावांतर भरपाई योजना बागवानी किसानों के लिए सब्जियों व फलों के उचित दाम दिलवाना सुनिश्चित करती है तथा यह योजना किसानों को फसल विविधिकरण की ओर प्रोत्साहित करने में एक सहायक कदम है।

उपायुक्त ने किसानों से आह्वान करते हुए बताया कि किसान इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए जिला उद्यान अधिकारी, मार्केटिंग बोर्ड के जिला विपणन प्रवर्तन अधिकारी के कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं।

उन्होंने आगे बताया कि किसान टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर 1800-180-2060,1800-180-2117 पर फोन करके भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने किसानों से आह्वान किया कि वे इस योजना के बारे में जानकारी प्राप्त करके इसके तहत अपनी फसल का पंजीकरण करवाएं और इस योजना का अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करें।

पंजीकरण के लिए बागवानी विभाग ने भावांतर भरपाई योजना के तहत किसानों की फसलों का पंजीकरण करने के लिए विभाग के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों की जिम्मेदारी निर्धारित कर दी गई है। सब्जी उगाने वाले प्रत्येक गांव में कर्मचारी लगाए गए हैं। ये कर्मचारी 30 नवंबर तक सुबह 9 से सायं 5 बजे तक इन गांवों में रहकर पंजीकरण कार्य पूरा करवाएंगे। पंजीकरण कार्य शनिवार-रविवार को अवकाश के दिनों में भी किया जाएगा।

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने भाजपा कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से की मुलाक़ात

haryana-home-minister-anil-vij-meet-bjp-national-working-president-jp-nadda

फरीदाबाद, 17 नवंबर: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज पद सँभालने के बाद ही एक्शन में हैं, आज उन्होंने दिल्ली में भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाक़ात की और उनसे हरियाणा के राजनीतिक हालात पर चर्चा की.

अनिल विज कल ही चंडीगढ़ से दिल्ली आये थे, रास्ते में उन्होंने पानीपत सिटी थाने का औचक निरीक्षण करके ड्यूटी में लापरवाही बरत रहे कुछ पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया था.

अनिल विज हरियाणा के गब्बर सिंह बताये जा रहे हैं, खुद अनिल विज ने कुछ दिनों पहले ट्वीट किया था - गब्बर इज बैक. अनिल विज ने इशारा किया था की उनका एक्शन नहीं रुकेगा और समय समय पर चौंकाने वाले कदम उठाते रहेंगे।

एक्शन में गृह मंत्री अनिल विज, थानों में औचक निरीक्षण करके कई पुलिसकर्मियों को किया सस्पेंड

haryana-home-minister-anil-vij-surprise-inspection-panipat-city-thana

पानीपत: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज अब एक्शन में आ गए हैं. पुलिस विभाग को सुधारने की उन्होंने अपने कन्धों पर जिम्मेदारी उठा ली है. कल गृह मंत्री ने कुछ थानों का औचक निरीक्षण किया और ड्यूटी पर गैर-हाजिर कुछ पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया।

गृह मंत्री अनिल विज शनिवार को चंडीगढ़ से दिल्ली जा रहे थे, रास्ते में उन्होंने पानीपत सिटी थाने का औचक निरीक्षण किया, उन्होंने सभी पुलिसकर्मियों की  हाजिरी ली, इस दौरान उन्हें पता  चला कि सब-इंस्पेक्टर निर्मला ड्यूटी से गैर-हाजिर हैं. उन्होंने तुरंत सब-इंस्पेक्टर निर्मला को संस्पेंशन आर्डर जारी कर दिए.

ऐसी खबर है की एक अन्य पुलिसकर्मी को भी सस्पेंड किया गया है. अनिल विज ने पुलिसकर्मियों को सख्त वार्निंग दी है की सभी लोग अपनी ड्यूटी जिम्मेदारी के साथ निभाएं, ड्यूटी में कोताही बरतने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।

एचटेट परीक्षा के लिए फरीदाबाद प्रशासन पूरी तरह तैयार, परीक्षा केंद्रों के आसपास धारा-144 लागू

htet-examination-in-faridabad-haryana-administration-ready-dhara-144

फरीदाबाद, 14 नवंबर। हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड (एचबीएसई) भिवानी द्वारा 16 व 17 नवंबर को आयोजित की जाने वाली हरियाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा (एचटेट) परीक्षा के सफल संचालन के लिए जिला प्रशासन की ओर से पूरी तैयारी कर ली गई है। गत दिवस मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी  वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एचटेट परीक्षा के बेहतर तरीके से नकल रहित संचालन हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिए थे। उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने जिला प्रशासन की ओर से की गई तैयारियों की जानकारी दी थी।
  
वीरवार को लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने प्रशासनिक, पुलिस, शिक्षा विभाग के अधिकारियों तथा केंद्र अधीक्षकों की बैठक भी ली और उन्हें सरकार द्वारा जारी  जरूरी दिशा निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि जिला में 12 परीक्षा केंद्रों पर कुल 8624 परीक्षार्थी दोनों दिन परीक्षा देंगे। उन्होंने बताया कि लेवल 3 (पीजीटी लैक्चरर) के लिए , लेवल 2 (टीजीटी टीचर क्लास) के लिए  तथा लेवल 1 (प्राईमरी टीचर) के लिए  परीक्षार्थी परीक्षा देंगे।

उपायुक्त ने बैठक में कहा कि परीक्षा ड्यूटी में लगे सभी अधिकरियों व कर्मचारियों के पास पहचान पत्र हो, जो उन्होंने अपने गले में पहन रखे हो। केंद्र अधीक्षकों से उन्होंने यह सुनिश्चित करने को कहा कि जिन संस्थानों को परीक्षा केंद्र बनाया गया है, उनमें पहले से मौजूद फोटोस्टेट मशीनें या फैक्स इत्यादि परीक्षा के दिन किसी एक कमरे में रखकर उन्हें सील कर दिया जाए। इसके अतिरिक्त यह भी विशेष तौर पर ध्यान रखा जाए कि परीक्षा के दिन कहीं पर भी कोई फोटोस्टेट की दुकान खुली न रहें। इस प्रकार के प्रबंधों को सुनिश्चित करने के लिए धारा 144 लागू की गई है और ड्यूटी मैजिस्ट्रैट नियुक्त कर दिए गए है। इसके अलावा आयोजित परीक्षाओं को निष्पक्ष, पारदर्शी एवं नकल रहित सम्पन्न करवाएं। परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे और जैमर लगाए गए है।
 
उपायुक्त अतुल द्विवेदी  ने कहा कि ड्यूटी पर तैनात स्टाफ के किसी सदस्य के पास मोबाइल फोन नहीं होना चाहिए। परीक्षा केंद्रों में मोबाइल फोन पूर्णरूप से प्रतिबंध रहेगा। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार की कोई कौताही बरतने वाले अधिकारियों व व्यक्तियों के खिलाफ तुंरत कार्यवाही की जाएं। उन्होंने कहा कि परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा की दृष्टि से प्रत्येक केंद्र पर भारी पुलिस बल तैनात किया जाए और और शरारत करने व असामाजिक तत्वों से सख्ती से निपटेगा जाए। उन्होंने कहा कि परीक्षा केंद्रों में ड्यूटी पर तैनात अधिकारी/कर्मचारी व पुलिस अधिकारी मॉनिटरिंग करें और परीक्षार्थियों को प्रवेश करने के बाद उन्हें परीक्षा समाप्ति के बाद ही बाहर आने दें। परीक्षा केंद्रों पर सभी औपचारिकताओं और वैद्य प्रवेश पत्र के बाद ही अभ्यर्थियों को प्रवेश की अनुमति दी जाए। प्रशासन द्वारा अधिकृत व्यक्ति ही परीक्षा केंद्र में प्रवेश में कर सकेंगे। अभ्यर्थियों के लिए अंगूठी, चैन, बालियां पहनकर पाबंदी रहेगी। हालांकि इस बार महिला परीक्षार्थी मंगलसूत्र पहनने की अनुमति रहेगी। सिख परीक्षार्थी को धार्मिक आस्था के चिह्न लेकर जाने की अनुमति होगी। उपायुक्त ने बताया कि परीक्षा केंद्रों पर 2 घंटा 10 मिनट पहले प्रवेश शुरू कर दिया जाएगा। परीक्षा केंद्रों में एक घंटा पहले प्रवेश बंद कर दिया जाएगा, इसलिए परीक्षार्थी तय समय पर अपने-अपने परीक्षा केंद्रों पर पहुंचना सुनिश्चित करे।

बैठक में उन्होंने  ने केंद्र अधीक्षकों को निर्देश दिए कि वे अभ्यर्थियों से बाए हाथ का अँगूठा ही विभिन्न दस्तावेजों पर लगवाएं। उन्होंने बताया कि एचटेट की लेवल 3 की परीक्षा 16 नवंबर (शनिवार) को सायंकाल सत्र यानि दोपहर 3 बजे से साढ़े 5 बजे तक होगी।इसमें 2684 परीक्षार्थी एचटेट की  परीक्षा देंगे । जबकि 17 नवंबर (रविवार) को लेवल 2 की परीक्षा सुबह के सत्र यानि 10 बजे से साढ़े 12 बजे तक होगी,इसमें 3510 परीक्षार्थी एचटेट की परीक्षा देंगे  तथा लेवल 1 की परीक्षा इसी दिन सायंकाल सत्र यानि 3 बजे से साढ़े 5 बजे तक होगी इसमें 2430 परीक्षार्थी एचटेट की परीक्षा देंगे। उन्होंने कहा कि दिव्याग जनों परीक्षाथियों के लिए सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार परीक्षा केंद्रों पर व्यवस्था बनाए रखनासुनिश्चित करें।

जिला उपायुक्त ने बताया कि मुख्यमंत्री के दिशा-निर्देश अनुसार जिला में नकल रहित एचटेट की परीक्षा के सफल संचालन के लिए एसडीएम फरीदाबाद अमित कुमार व एसडीएम बङखल पंकज सेतिया को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है ।इसी प्रकार  12 ट्रांजिट, 10 ड्यूटी मजिस्ट्रेट तथा दो हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा भेजे गए ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए है।

बैठक में एसडीएम बङखल पंकज सेतिया ने प्रशासनिक प्रबंधन बारे जानकारी दी। उन्होंने परीक्षा केंद्रों पर जैमर, सीसी टीवी  कैमरे सहित अन्य व्यवस्थाओ बारे भी विस्तार पूर्वक जानकारी दी।
एसीपी अभिमन्यु लोहान ने एचटेट के परीक्षा केंद्रों पर सुरक्षा व्यवस्था बारे विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई। 
 बैठक में सीटीएम श्रीमती बैलीना, जिला शिक्षा अधिकारी सतिन्दर कौर वर्मा, तहसीलदार शिव कुमार, नायब तहसीलदार जसवंत सिंह सहित बैठक से जुड़े विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा परीक्षा केंद्रों के स्कूलों के प्रिंसीपल और हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा भेजे गए अधिकारी उपस्थित थे ।

एचटेट परीक्षाओं के मद्देनजर धारा 144 लागू 

जिलाधीश  अतुल द्विवेदी  ने हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड, भिवानी द्वारा 16 व 17 नवंबर को आयोजित करवाई जाने वाली हरियाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा (एचटेट) की परीक्षा को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न करवाने के लिए परीक्षा केंद्रों की परिधि में धारा 144 लागू करने के आदेश पारित किए है। जिलाधीश ने प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए आपराधिक प्रक्रिया 1973 के अनुसार धारा 144 लागू की है। जारी आदेशों में कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति घातक हथियार, आग्रेय अस्त्र विस्फोटक सामग्री के साथ-साथ तलवार, भाला, बरछा, चाकू व लाठी आदि हथियार लेकर नहीं चल सकता। जारी आदेशों के तहत परीक्षा केंद्रों की 200 मीटर की परिधि में पांच या इससे अधिक व्यक्ति इकठ्ठा होने पर पाबंदी रहेगी। इसके अलावा कोई भी व्यक्ति अनावश्यक रूप से केंद्र में प्रवेश नहीं कर सकता है। आदेशों की अवहेलना करने वाले तथा असामाजिक तत्वों के साथ सख्ती से निपटा जाएगा। परीक्षा केन्द्रों के नजदीक सभी फोटोस्टेट की दुकानें भी बंद रहेगी। ये आदेश डयूटी पर तैनात पुलिस व कर्मचारियों पर लागू नहीं होंगे। इन आदेशों की अवेहलना करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

परीक्षा के लिए ये बनाए गए केंद्र

हरियाणा शिक्षक पात्रता परीक्षा (एचटेट) शनिवार, 16 नवम्बर व रविवार 17 नवम्बर को जिला में 17 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की जाएगी।एंजेल पब्लिक स्कूल, अशोक मेमोरियल पब्लिक स्कूल फेस-1 मे दो, सूरज कुण्ड इटंरनैशनल पब्लिक स्कूल में तीन, डीएवी पब्लिक स्कूल, अग्रवाल पब्लिक स्कूल, आयशर स्कूल, डीसी मेमोरियल सीनियर सेकेंडरी स्कूल, फरीदाबाद माडल स्कूल व होली चाइल्ड पब्लिक स्कूल में एचटेट की परीक्षा के सफल संचालन के लिए परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं ।

कल होगा मनोहर मंत्रिमंडल का गठन, फरीदाबाद से भी एक विधायक का नाम चर्चा में शामिल, पढ़ें

manohar-lal-sarkar-mantrimandal-gathan-on-14-november-2019

फरीदाबाद: 14 नवंबर को मनोहर सरकार के मंत्रिमंडल का गठन किया जाएगा, मंत्रियों के शपथ की पूरी तैयारी कर ली गयी है और भाजपा नेताओं को निमंत्रण भी  भेज दिया गया है.

शपथग्रहण कार्यक्रम दोपहर 12.30 बजे हरियाणा राजभवन में आयोजित होगा। 11.30 बजे तक ही मेहमानों को आने को कहा गया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा में भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार बनी है. मनोहर लाल मुख्यमंत्री और दुष्यंत चौटाला उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके हैं, कल दोनों पार्टियों के अन्य मंत्रियों का शपथग्रहण होगा।

फरीदाबाद से एक विधायक का नाम मंत्रिपद की चर्चा में शामिल है और वो हैं सीमा त्रिखा, पलवल से दीपक मंगला को मंत्रिमंडल में स्थान में मिल सकता है.
haryana-mantrimandal-gathan-14-november

हरियाणा के DSP बोले, एक मछली पूरे तालाब को कर देती है गंदा, खाकी विभाग में तो 99% मछलियां..

haryana-sirsa-dsp-rajesh-chechi-exposed-police-department-corruption

सिरसा, 7 नवंबर: हरियाणा के बेहतरीन पुलिस अफसर और वर्तमान में सिरसा के DSP पद पर कार्य करने वाले राजेश चेची की एक फेसबुक पोस्ट काफी वायरल हो रही है हालाँकि उन्होंने कुछ देर बाद अपनी पोस्ट डिलीट कर दी. राजेश चेची ने पोस्ट भले ही डिलीट  कर दी लेकिन उनकी बात को हर कोई मान रहा है और उनकी दिलेरी की जमकर तारीफ हो रही है, यही नहीं अगर उनका सन्देश सभी पुलिसवाले अच्छी तरह से समझ लें तो पुलिस विभाग में काफी सुधार आएगा और भ्रष्टाचार घटेगा।

उन्होंने अपने फेज पर लिखा कि मित्रों क्षमा चाहूंगा पर मैं भी एक पुलिस वाला हूँ। आज भारत में कोई चाहे वकील हो, पुलिस वाला हो या कोई अन्य काम करने वाला पर कितने है जो किसी गरीब या लाचार की वेदना समझते है।
ऐसा नहीं हैं कि 130 करोड़ इंसानों वाला पूरा देश ही इंसानियत रहित हो गया पर इंसानियत लुप्त प्रायः जरूर है जी।
न्याय मांगने का अधिकार सिर्फ उन लोगो को होना चाहिए जो खुद न्याय करते हों😊
मेरी बातें बहुतों को कड़वी लगेगीं। पर आम आदमी के नज़रिए से देखें तो महसूस होगा कि
पहली बार जनता ने देखा खाकी में खौफ
वरना आम जन ने हमेशा झेला ही है खाकी का खौफ।
क्या हम सब (खास तौर पर पुलिस) को अपने भीतर नहीं झांकना चाहिए कि :-
*क्या हम रिश्वतखोर तो नहीं हैं ?
* हम में कितने हैं जिन्होंने FIR दर्ज करने से पहले अपना उल्लू सीधा करने तक चक्कर नहीं कटवाए ?
* क्या हम कई बार अपराधियों को पकड़ने में अकारण विलंब नहीं करते हैं?
* कितने हैं जो अपने एरिया के नशा या शराब बेचने वालों, जुआ-सट्टा वालों आदि से हफ्ता या मंथली नहीं वसूलते??
* कितनो के पास अवैध सम्पत्तियां नहीं होंगी?
*हम में से कितने होंगे जो इलाके के बदमाशों से मेल मिलाप में रहते होंगे?
अपनी असली सम्पत्तियां घोषित क्यो नही करते?
ट्रॅफिक पुलिस चेकिंग के नाम पर डरा धमकाकर रोज़ कितनी उगाही करती है? खास तौर पर कॉमर्शियल वाहनों से।
गरीब रेहड़ी पटरी वालो से हमारा व्यवहार सब को ज्ञात है?
ट्रांसफर-पोस्टिंग के लिए क्या क्या किया जाता है सब जानते हैं?
प्रभावशाली आदमी की तुरन्त FIR होती है और प्रायः अपराधी भी जल्द पकड़े जाने का प्रयास होता है पर आम जन का क्या हाल करते हो?
इस लिए हम पहले अपनी गिरेबान में झांके फिर कुछ बोलें।
आज वकीलों ने पीटा तो बवाल जब रोज़ किसी लाचार पर ऐसा हम में से कोई करता है तब न्याय कहा जाता है जी?

कुछ बहुत लाज़वाब अफसर भी हैं कृपया वो दिल पर ना लें। क्योंकि लोगों में सारी खाकी के प्रति एक जैसी धारणा है फिर उसे पहनने वाला कितना भी पुण्य आत्मा क्यों न हो। एक मछली पूरे तालाब को गंदा करती है पर जब 90% क्या 99 % मछलियां........ 😳
हमें भी सोच बदलनी होगी कि हम अपने भीतर सेवा भाव जगाएं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर राजेश चेची की बातों पर गौर किया जाए तो पुलिस विभाग में भ्रष्टाचार की जड़ें काफी गहरी हैं, उनकी नजर में 99% मछलियां।। आप उनके लिखने के स्टाइल को समझ सकते हैं. देखते हैं कि राजेश चेची की बातें कितनी दूर तक पहुँचती हैं. अगर पुलिस विभाग की सोच में बदलाव आ जाए तो जनता भी पुलिसवालों पर जान छिड़कने लगेगी।

पुरानी कैबिनेट बुलाकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पूछा मंत्रियों की हार और बहुमत ना मिलने का कारण

cm-manohar-lal-meeting-with-old-cabinet-ministers-haryana-news

चंडीगढ़: हरियाणा विधानसभा चुनाव में भाजपा के कई दिग्गज नेता चुनाव हार गए जिनमे 8 मंत्री भी शामिल थे। 1 नवंबर को सीएम मनोहर लाल ने इन पूर्व मंत्रियों के साथ बैठक की और उनसे बहुमत ना मिलने की वजह पूछी।

 आपको बता दें कि हरियाणा चुनाव में भाजपा को 40 सीटों पर जीत मिली है जबकि 50 सीटों पर हार मिली है. भाजपा 6 सीटों से बहुमत से पीछे रह गयी है और इसी वजह से जेजेपी के साथ मिलकर सरकार बना रही है। अगर भाजपा को अकेले बहुमत मिल जाता तो उसे किसी का सहारा लेने की जरूरत ना पड़ती।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पूर्व मंत्रियों से बीजेपी-जेजेपी सरकार पर भी सलाह मश्वरा किया। पूर्व मंत्रियों ने कहा कि फिलहाल तो  हमें सरकार बनानी चाहिए लेकिन जहाँ हमारी पार्टी की हार हुई है वहां मेहनत करने की जरूरत है। 

हरियाणा में पेट्रोल पहुंचा 75 पार, जनता को दिया गया 2.10 रुपए प्रति लीटर का झटका

petrol-price-increased-in-faridabad-haryana-rs-2-per-leter-after-election

फरीदाबाद: चुनाव बीतते ही हरियाणा सरकार ने हरियाणा की जनता को बड़ा झटका देते हुए पेट्रोल के दामों में 2.10 रुपए प्रति लीटर की वृद्धि कर दी है.

इस बढ़त के साथ हरियाणा में पेट्रोल 75 पर पहुंच चुका है. बता दें कि भाजपा ने हरियाणा चुनाव से पहले अब की बार 75 पार का नारा दिया था. भाजपा को 75 सीटें भले ही ना मिली हों पेट्रोल को 75 पर जरूर पहुंचा दिया गया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि चुनाव में सरकार पर काफी ज्यादा बोझ पड़ता है जो पेट्रोल और डीजल के दामों में वृद्धि करके जनता से वसूला जाता है. इसीलिए सभी राज्यों में चुनाव के बाद पेट्रोल और डीजल के दामों में तुरंत वृद्धि की जाती है.

मनोहर-दुष्यंत ने ली CM-DCM पद की शपथ, बाकी विधायक हाथ मलते रह गए, कार्यक्रम समाप्त हो गया

manohar-lal-take-oath-as-cm-dushyant-chautala-dcm-haryana-news

फरीदाबाद, 27 अक्टूबर: हरियाणा में भाजपा और जजपा गठबंधन की सरकार बन गयी है। आज मनोहर लाल ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली तो दुष्यंत चौटाला ने उप-मुख्यमंत्री पद और गोपनीयता की शपथ ली। हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने दोनों नेताओं को शपथ दिलाई। 

पहले ऐसा कहा जा रहा था कि भाजपा कोटे से 3 और जजपा कोटे से 3 मंत्रियों का शपथग्रहण आज ही होगा, सभी विधायक खुद की लॉटरी निकलने का इन्तजार कर रहे थे लेकिन सब के सब हाथ मलते रह गए और कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा कर दी गयी। 

अन्य मंत्रियों का शपथग्रहण दिवाली के बाद होगा। अभी किसी का नाम तय नहीं है। अबकी बार सोच समझकर मंत्री बनाया जाएगा क्योंकि पिछली बार मंत्री बनाये गए अधिकतर भाजपा नेता इस बार चुनाव हार गए। 

पतली दाल मिली तो BSF छोड़ दी, अखिलेश की साईकिल छोड़ दी, अब दुष्यंत की चाबी छोड़कर भागे तेजबहादुर

tejbahadur-yadav-left-jjp-in-haryana-election-2019-news

फरीदाबाद, 26 अक्टूबर: तेजबहादुर यादव BSF में नौकरी करते थे, एक दिन उन्हें पतली दाल  मिली तो उन्होंने उसकी वीडियो बनाकर पूरी दुनिया में वायरल कर दिया जिसकी वजह से भारत की पूरी दुनिया में बदनामी हो गयी, दुनिया को भारत पर हंसने का मौक़ा मिल गया. उसके बाद तेजबहादुर यादव को BSF से बर्खास्त कर दिया गया। 

BSF के बाद तेज बहादुर यादव प्रधानमंत्री मोदी को हराने के लिए वाराणसी से चुनाव मैदान में कूद गए, उन्हें अखिलेश यादव ने सपा का टिकट दे दिया लेकिन उनका नामांकन गलत पाया गया और चुनाव आयोग ने उनका नामांकन रद्द कर दिया। उसके बाद तेजबहादुर यादव ने अखिलेश यादव की साइकिल भी छोड़ दी। 

हरियाणा चुनाव से पहले तेजबहादुर यादव के मन में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से चुनाव लड़ने का ख्याल आया। वह करनाल से मुख्यमंत्री मनोहर के खिलाफ चुनाव मैदान में कूद पड़े तो उन्हें दुष्यंत चौटला ने अपनी पार्टी जेपेपी का टिकट दे दिया। तेजबहादुर चुनाव लड़े लेकन उनकी बुरी तरह से हार हुई और उनकी जमानत जब्त हो गयी। 

अब तेजबहादुर यादव ने चाबी भी छोड़ दी है। उन्होंने दुष्यंत चौटाला के खिलाफ अनाप शनाप आरोप लगाकर जजपा पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया है। 

ऐसा लगता है कि तेजबहादुर यादव के अंदर छोड़ने की आदत है। यह भी हो सकता है कि वह 'छोड़कर' मशहूर होना चाहते हों। जब उन्होंने BSF की पतली दाल का वीडियो वायरल किया तो पूरी दुनिया में वह मशहूर हो गए क्योंकि दुनिया को भारत पर हंसने का मौका मिल गया। उसके बाद वह मोदी से लड़ने गए तो भी उन्हें लोकप्रियता मिली, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से लड़े तो भी उन्हें लोकप्रियता मिली। राजनीतिक पार्टियां भी उन्हें हाथों हाथ लेती हैं। जिन पार्टियों में लाखों-करोड़ों खर्च करने पर भी टिकट नहीं मिलती वहां तेजबहादुर यादव को मुफ्त में टिकट मिल जाती है। 

अब दिल्ली में चुनाव होने वाले हैं, हो सकता है कि तेजबहादुर यादव आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर लें और किसी बड़े भाजपा नेता के खिलाफ चुनाव लड़ें क्योंकि इससे उन्हें लोकप्रियता मिलेगी और अखबारों को भी मसाला मिल जाएगा। उसके बाद तेजबहादुर यादव AAP छोकर किसी और राज्य में चले जाएंगे और वहां किसी बड़े नेता के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे, हो सकता है कि वह सबसे बड़ा छोड़ू या दलबदलू बनकर नाम कमाना चाहते हों। 

जब 7 निर्दलीय समर्थन दे रहे थे तो भाजपा को जजपा से गठबंधन करने की जरूरत क्यों पड़ी, पढ़ें

why-bjp-gathbandhan-with-jjp-in-haryana-when-independent-mla-support

फरीदाबाद, 26 अक्टूबर: हरियाणा में भाजपा और जजपा के गठबंधन की सरकार बनने जा रही है, मनोहर लाल एक बार फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे तो जजपा अपनी तरफ से दुष्यंत चौटाला या उनकी माँ नैना चौटाला को उप-मुख्यमंत्री बनाने का ऐलान करेगी। 

कुछ लोगों के मन में सवाल उठ रहा है कि 40 सीटें जीतने वाली भाजपा को जब 7 निर्दलीय विधायक समर्थन दे रहे हैं तो भाजपा को जजपा से गठबंधन करने की जरूरत क्यों पड़ी. लोग सोच रहे हैं कि भाजपा को जजपा के बिना ही बहुमत मिल रहा है.

आपको शायद याद ना हो, पिछली बार भाजपा को 47 सीटें मिली थीं, बहुमत से सिर्फ दो ज्यादा। भाजपा ने पांच साल सरकार चलाई लेकिन भाजपा विधायकों ने ही गुटबाजी करके दो बार सरकार गिराने का प्रयास किया, दो विधायक तो खुद मुख्यमंत्री बनना चाहते थे इसलिए खट्टर को कुर्सी से हटाने के लिए साजिश रची गयी लेकिन आलाकमान ने हालात को संभाल लिया और सरकार पर संकट नहीं आया। 

इस बार तो भाजपा को सिर्फ 40 सीटें मिली हैं। पांच निर्दलीय विधायक भाजपा से ही बगावत करके चुनाव लड़े थे और इन्होने चुनाव के दौरान भाजपा के खिलाफ खूब दुष्प्रचार किया था। भाजपा यह मान रही है कि जब ये लोग टिकट के लिए पार्टी से बगावत कर गए, पार्टी के खिलाफ ही चुनाव लड़ा, पार्टी की बदनामी की, ऐसे में कल को ये कुछ भी कर सकते हैं, इनका भरोसा नहीं किया जा सकता। या तो इनकी ब्लैकमेलिंग सहनी पड़ेगी या ये लोग बाद में सरकार गिरा देंगे। यह भी अफवाह फ़ैल गयी है कि निर्दलीय विधायक 50 करोड़ नकद और मनपसन्द मंत्री पद मांग रहे थे लेकिन इसकी पुष्टि नही हुई है। 

इसीलिए जजपा के साथ गठबंधन किया जा रहा है और सरकार में उन्हें हिस्सेदारी दी जा रही है। ऐसा करने पर पांच साल सरकार चलाई जा सकेगी। किसी की ब्लैकमेलिंग का शिकार भी नहीं होगा पड़ेगा। जब जजपा सरकार में हिस्सेदार रहेगी तो वह भी अपने पैर नहीं खींचेगी। 

ये हैं हरियाणा चुनाव में चार सबसे बड़े विजेता, देखिये सबके वोट, सबसे बड़ा विजेता कौन?

haryana-election-2019-biggest-winner-bhupinder-singh-hooda-congress

फरीदाबाद, 25 अक्टूबर: हरियाणा  चुनाव के नतीजे आ चुके हैं। हरियाणा में भाजपा और JJP गठबंधन की सरकार बनने जा रही है। आज हम आपको हरियाणा के चार सबसे बड़े विजेताओं से मिलवाने जा रहे हैं। 

हरियाणा में कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा विजेता नंबर 1 बजे हैं। उन्होंने गढ़ी सांपला-किलोई सीट से भाजपा प्रत्याशी सतीश नंदाल को 58312 वोटों के भारी मार्जिन से हराया है। 

मार्जिन के मामले में दूसरे नंबर पर जननायक जनता पार्टी के देवेंद्र सिंह बबली हैं। उन्होंने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष शुभाष बराला को टोहाना सीट पर 52302 वोटों के भारी मार्जिन से हराया। 

तीसरे नंबर पर जननायक जनता पार्टी के नेता दुष्यंत चौटाला हैं। उन्होंने उचाना कलां सीट पर भाजपा प्रत्याशी प्रेम लता को 47452 वोटों के भारी मार्जिन से हराया है। 

चौथे नंबर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर हैं। उन्होंने करनाल सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी तारलोचन सिंह को 45188 वोटों के भारी मार्जिन से हराया है। 

haryana-election-biggest-winner

मुख्यमंत्री खट्टर को धूल चटाने करनाल के मैदान में उतरे थे तेजबहादुर यादव, पढ़ें कितने मिले वोट

tej-bahadur-yadav-vote-on-karnal-seat-election-haryana-2019-news

करनाल: पतली दाल का आरोप लगाकर मशहूर हुए BSF से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव सुर्खियां पाने के लिए अलग तरीका अपना रहे हैं। पहले वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ बनारस से चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन उनका नामांकन रद्द हो गया। उस समय भी उन्हें जमकर सुर्खियां मिलीं और समाजवादी पार्टी ने उन्हें टिकट भी दे दिया। 

उसके बाद तेज बहादुर यादव हरियाणा चुनाव में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को हराने के लिए करनाल से मैदान में कूद गए। दुष्यंत चौटाला ने उन्हें JJP की टिकट दे दी। 

24 अक्टूबर को हरियाणा  के नतीजे आये। तेज बहादुर यादव और दुष्यंत चौटाला को लग रहा होगा कि मुख्यमंत्री हारकर घर बैठ जाएंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। तेजबहादुर यादव को सिर्फ 3192 (2.55%) वोट मिले और उनकी जमानत जब्त हो गयी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल को 79906 (63.72) वोट मिले। दूसरे नंबर पर कांग्रेस प्रत्याशी तारलोचन सिंह रहे जिन्हें 34718 (27.68) वोट मिले। 

tej-bahadur-yadav-vote-on-karnal-seat-election-haryana

कांग्रेस हमेशा उल्टा काम करती है: मनोहर लाल

cm-manohar-lal-khattar-attack-congress-in-jind-haryana-election

जींद, 14 अक्टूबर: मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जींद में एक रैली को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस पार्टी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा उल्टा काम करती है। 

मनोहर लाल ने कहा कि हमने पंच सरपंच के चुनाव में नियम पास किया था कि सरपंचों का कम से कम 8वीं, दसवीं तक पढ़ा लिखा होना अनिवार्य है लेकिन कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में लिख दिया कि है कि हम ये नियम ख़त्म कर देंगे और अनपढ़ लोग भी सरपंच बन सकेंगे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब सरपंच पढ़े लिखे होते हैं तो वे अधिकारियों से हर पैसे का हिसाब मांगते हैं लेकिन जब सरपंच अनपढ़ होते हैं तो अधिकारी उनसे अंगूठा लगवाकर सरकारी पैसे का गोलमाल कर लेते हैं और बाद में कई सालों तक केस चलता है तो सरपंच कोर्ट में कहता है कि मैं तो अनपढ़ हूँ, इसने हमसे अंगूंठा लगवा लिया। 

मनोहर लाल ने कहा कि कांग्रेस हमारे हर फैसले का विरोध करती है लेकिन हम इनके अच्छे कामों की तारीफ करते हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा की जनता सोच समझकर फैसला करे और सरकारों के काम की तुलना करने अपना आशीर्वाद दे। 

Breaking, हरियाणा के भाजपा उम्मीदवारों की लिस्ट जारी, देखिये कहाँ से किसे बनाया गया उम्मीदवार

haryana-breaking-news-bjp-candidate-list-election-2019-declared

फरीदाबाद, 29 सितम्बर: इन्तजार की घड़ियाँ ख़त्म हो चुकी हैं, भाजपा ने हरियाणा के भाजपा उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. आज पार्लियामेंट बोर्ड की मीटिंग के बाद उम्मीदवारों के नाम पर अंतिम मुहर लगी, बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, हरियाणा के चुनाव प्रभारी नरेंद्र सिंह तोमर, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, हरियाणा प्रभारी अनिल जैन, प्रदेश अध्यक्ष शुभाष बराला सहित अन्य भाजपा नेता मौजूद थे.

हरियाणा के 78  उम्मीदवारों के नाम फाइनल हो चुके हैं  देखिये लिस्ट -
haryana-bjp-candidate-list-1

haryana-bjp-candidate-list-2

haryana-bjp-candidate-list-3


LIST देखने के लिए देखिये लाइव प्रेस कॉन्फ्रेंस

राशन डिपो पर 24 रुपये प्रति किलो प्याज बिकवाएंगे मनोहर लाल लेकिन कहीं लूट ना लें राशन माफिया

haryana-sarkar-sale-onion-rs-24-per-kg-at-rashan-dipo-for-public

फरीदाबाद: हमने पिछले दो तीन वर्षों में हजारों ऐसी खबरें और वीडियो दिखाई जिसमें राशन डिपो होल्डर जनता का राशन लूटते हुए दिखाई दिए, जनता उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग करती रही लेकिन भ्रष्ट अधिकारियों की मिलीभगत की वजह से लूट रुक नहीं पायी.

अब ऐसी खबर आ रही है कि केंद्र सरकार ने हरियाणा सरकार को 2000 टन प्याज दिया है, मनोहर लाल जनता को 24 रुपये प्रति किलो में प्याज उपलब्ध कराएंगे लेकिन टेंशन की बात ये है कि ये प्याज राशन डिपो पर बेचीं जाएगी.

अगर ऐसा हुआ तो शहर में एक बार फिर से लूट बचेगी. राशन डिपो होल्डर्स जनता को पूरा राशन नहीं देते, कई बार अंगूठा एडवांस में लगवा दिया जाता है लेकन जनता को राशन ही नहीं मिलता. गरीब लोग रोते रहते हैं लेकिन उनकी फ़रियाद कोई नहीं सुनता, राशन डिपो वाले लूटा हुआ राशन किराने वालों को बेचकर मुनाफा कमाते हैं. प्याज में भी यही खेल हो सकता है. राशन डिपो वाले अधिकारियों के साथ मिलीभगत करके प्याज लूट सकते हैं और उसे मंडियों में बेच सकते हैं इसलिए इनपर नजर रखे जाने की जरूरत है. राशन डिपो वालों पर सिर्फ DFO ही कार्यवाही कर सकते हैं लेकिन लूट का हिस्सा अधिकारियों तक पहुँचता है इसलिए उनके खिलाफ कार्यवाही नहीं हो पाती.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केंद्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री रामबिलास पासवान का कहना है कि देश में पर्याप्त मात्रा में प्याज का भण्डार है और जल्द उन सभी राज्यों में प्याज की आपूर्ति की जाएगी जहाँ इनके दाम बढे हैं। उन्होंने बताया कि हरियाणा को 2,000 टन, त्रिपुरा को 1,850 टन और आंध्र प्रदेश को 960 टन प्याज तत्काल 15.59 रुपए प्रति किलो की दर से मुहैया करा दिया है। ये अधिकतम 23.90 रुपए/किलो की दर से उपभोक्ता को मुहैया कराएंगे। हरियाणा में दो या तीन दिन बाद राशन डिपो पर प्याज मिलने लगेगी। 

अमित शाह भी नहीं निकाल पाए हरियाणा में कई टिकटों पर फंसा पेंच, अब 29 को मोदी-शाह के साथ बैठक

haryana-bjp-candidate-list-not-final-by-amit-shah-cm-manohar-25-june

फरीदाबाद: हरियाणा में भाजपा विधानसभा उम्मीदवारों को लेकर भाजपा की बड़ी बैठक दिल्ली में हुई, बैठक की अध्यक्षता अमित शाह ने की, बैठक में उम्मीदवारों के नाम पर चर्चा हुई लेकिन कई सीटों पर ऐसा पेंच फंसा है कि उसे अमित शाह भी नहीं निकाल पाए.

इस बैठक में राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नडडा , मुख्यमंत्री मनोहर लाल, चुनाव प्रभारी नरेंद्र तोमर, हरियाणा प्रभारी अनिल जैन मौजूद थे, इसके अलावा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, संघठन मंत्री सुरेश भट्ट भी इस मीटिंग में मौजूद थे लेकिन टिकट पर कोई फैसला नहीं हो सका .

इससे पहले बीजेपी में टिकटों को लेकर हरियाणा भवन में तेज हलचल देखने को मिली. कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश धनखड, कैबिनेट मंत्री राव नरबीर सिंह, केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से की मुलाकात की, इसके अलावा सांसद अरविंद शर्मा, सांसद रमेश कौशिक भी मुख्यमंत्री से मिले, करीब एक दर्जन भाजपा विधायक भी हरियाणा भवन में डेरा डाल चुके हैं लेकिन अब टिकट पर अंतिम फैसला मोदी-शाह और राज्य के वरिष्ठ भाजपा नेताओं की मीटिंग के बाद ही होगा.

हरियाणा में भाजपा प्रत्याशियों की लिस्ट फाइनल करने के लिए कुर्सी पर बैठे अमित शाह और CM मनोहर

haryana-election-2019-bjp-final-list-by-amit-shah-cm-manohar-lal

फरीदाबाद: हरियाणा में भाजपा विधानसभा उम्मीदवारों को लेकर भाजपा को बड़ी बैठक दिल्ली में शुरू हो गए है. अमित शाह की अध्यक्षता में भाजपा मुख्यालय में ये बैठक हो रही है जिसमें राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नडडा , मुख्यमंत्री मनोहर लाल, चुनाव प्रभारी नरेंद्र तोमर मौजूद हैं.

इसके अलावा प्रदेश भाजपा प्रभारी अनिल जैन, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, संघठन मंत्री सुरेश भट्ट भी इस मीटिंग में मौजूद हैं. आज प्रत्याशियों की लिस्ट फाइनल कर ली जाएगी.

इससे पहले बीजेपी में टिकटों को लेकर हरियाणा भवन में तेज हलचल देखने को मिली. कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश धनखड, कैबिनेट मंत्री राव नरबीर सिंह, केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से की मुलाकात की, इसके अलावा सांसद अरविंद शर्मा, सांसद रमेश कौशिक भी मुख्यमंत्री से मिले, करीब एक दर्जन भाजपा विधायक भी हरियाणा भवन में डेरा डाल चुके हैं.

फरीदाबाद में मनोहर लाल की चाल में फंस रही है कांग्रेस

manohar-lal-khattar-playing-game-with-congress-in-haryana-election

फरीदाबाद, 25 सितम्बर: हरियाणा में 21 अक्टूबर को मतदान है, अब सिर्फ 26 दिन बचे हैं लेकिन भाजपा और कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है, हो सकता है प्रत्याशियों की घोषणा में एक हप्ते और लग जाएं. अगर 1 अक्टूबर के आसपास प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की जाएगी तो प्रत्याशियों के पास चुनाव प्रचार के लिए सिर्फ 20 दिन बचेंगे.

भाजपा इस चुनाव में कांग्रेस को ही टक्कर में मानकर चल रही है इसलिए मनोहर लाल ने एक सोची समझी चाल के तहत कांग्रेस को अपनी जाल में फंसा लिया है.

मनोहर लाल ने एक महीना पहले जन आशीर्वाद यात्रा से ही चुनाव प्रचार शुरू कर दिया था, उन्होंने सभी विधानसभाओं में तीन चार भाजपा नेताओं को चुनाव की तैयारी करने का संकेत दे दिया था और भाजपा नेता भी एक महीनें से चुनाव प्रचार कर रहे हैं, इन्हीं में से किसी एक दावेदार को टिकट मिलेगी.

भाजपा वालों को चुनाव प्रचार करने के लिए 20 दिन मिलेंगे लेकिन अधिकतर नेता आधे विधानसभा क्षेत्र को कवर कर चुके हैं वहीं कांग्रेस पार्टी ने अभी दावेदार ही फाइनल नहीं किये गए हैं, कांग्रेस इस बात का इन्तजार कर रही है कि भाजपा लिस्ट जारी करे, कुछ लोगों के टिकट काटे ताकि कांग्रेस उन्हें टिकट देने का ऑफर कर सके.

अगर कांग्रेस 1 अक्टूबर को लिस्ट जारी करेगी तो उनके उम्मीदवारों के पास समय कम होगा वहीं भाजपा नेता एक महीनें पहले से ही जनता के बीच में हैं. ये सब एक सोची समझी चाल के तहत किया गया है ताकि कांग्रेस को प्रचार करने का कम समय मिले. 

उदाहरण के लिए पृथला में - सोहनपाल छोकर, नयनपाल रावत, टेकचंद शर्मा, आशा हुड्डा, बिजेंदर नेहरा और अन्य कई नेता खुद को भावी उम्मीदवार बताकर पार्टी के काम का प्रचार कर रहे हैं लेकिन कांग्रेस में से सिर्फ एक दो नेता थोडा बहुत प्रचार कर रहे हैं.

इसी तरह ने NIT विधानसभा में यशवीर डागर, नगेंदर भडाना, नीरा तोमर, अनिल प्रताप सिंह, बैजू ठाकुर आदि नेता खुद को भावी भाजपा उम्मीदवार बताकर पार्टी का प्रचार कर रहे हैं वहीँ कांग्रेस पार्टी से अधिकारिक रूप से कोई आगे नहीं आ रहा है, पंडित परिवार से नीरज शर्मा थोडा बहुत प्रचार कर रहे हैं लेकिन अब खबर आ रही है कि पूर्व मंत्री महेंदर प्रताप सिंह कांग्रेस की टिकट पर यहाँ से चुनाव लड़ना चाहते हैं.

इसी तरह से बडखल विधानसभा में सीमा त्रिखा, धनेश अधलखा, कैलाश बैसला, जैसे नेता प्रचार कर रहे हैं लेकिन कांग्रेस यहाँ पर ढीली पड़ रही है.

तिगांव से देवेन्द्र चौधरी, राजेश नागर तैयारी कर रहे हैं लेकिन कांग्रेस से ललित नागर अकेले हैं.

फरीदाबाद-89 में लखन सिंगला काफी पहले से तैयारी कर रहे हैं, अगर उन्हें टिकट मिली तो विपुल गोयल को कड़ी टक्कर दे सकते हैं, अगर किसी और को टिकट मिली तो विपुल गोयल एकतरफा चुनाव जीतेंगे.

बल्लभगढ़ में गोपाल शर्मा, आनंद शर्मा, मूलचंद शर्मा, शारदा राठौर प्रचार कर रही हैं लेकिन कांग्रेस से अभी कोई आगे नहीं आ रहा है.