Followers

Showing posts with label Haryana. Show all posts

किसान बिल हुआ पास, CM ने गिनाये फायदे तो कुमारी शैलजा बोलीं - कांग्रेस आते ही खारिज होंगे बिल

 kisan-bill-passed-from-rajya-sabha-congress-threaten-to-cancell

फरीदाबाद, 20 सितम्बर: मोदी सरकार ने राज्यसभा में किसान बिल को पास करवा दिया हालाँकि कांग्रेस ने इसका काफी विरोध किया, हरियाणा की कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा है कि कांग्रेस सरकार आते ही किसान विरोधी बिल खारिज होंगे । 21 सितंबर को प्रदेश के हर जिले में कांग्रेस पार्टी धरना-प्रदर्शन आयोजित करेगी।

वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रदेश के किसानों को बधाई देते हुए इस बिल के फायदे गिनाये हैं. उन्होंने कहा - किसानों को सशक्त बनाने वाले कृषि विधेयकों के सदन में पास होने पर मैं आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तथा केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर जी का धन्यवाद प्रकट करता हूँ।

आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में सरकार ने किसान भाइयों की आय में वृद्धि तथा उन्हें बिचौलियों के चंगुल से मुक्त करने की दिशा में मजबूत कदम बढ़ा दिए हैं। इस ऐतिहासिक अवसर पर मैं देश-प्रदेश के सभी किसान भाइयों को शुभकामनाएं देता हूं। 

अब किसान अपनी उपज को लाभदायक मूल्यों पर कहीं भी बेचने को स्वतंत्र है तथा यह किसानों की आय को दोगुना करने में महत्वपूर्ण सिद्ध होगा। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, फसल बीमा आदि महत्वपूर्ण योजनाओं के लिए मैं एक बार पुनः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार प्रकट करता हूँ.

पढ़ें, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने ADGP अरशिंदर सिंह चावला से क्यों वापस लिए सभी चार्ज

 

फरीदाबाद, 18 सितम्बर: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने ADGP अरशिंदर सिंह चावला से सभी चार्ज वापस लिए हैं, उन्हें सिर्फ हाजिरी देने के लिए दफ्तर आना पड़ेगा लेकिन अब उन्हें कोई काम नहीं करना पड़ेगा, हम आपको बताने जा रहे हैं कि अरशिंदर सिंह चावला से अनिल विज क्यों नाराज हो गए.

दरअसल अनिल विज को लेट लतीफी और गैरजिम्मेदाराना रवैया पसंद नहीं है जबकि अरशिंदर सिंह चावला अनिल विज के किसी भी पत्र का जवाब नहीं देते थे और ना ही उनके आदेशों को गंभीरता से लेते थे.

इसके अलावा डायल 112 प्रोजेक्ट को लागू करने की जिम्मेदारी भी अरशिंदर सिंह चावला पर थी लेकिन उन्होंने इस प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने के लिए कोई कदम ही नहीं उठाया। यह प्रोजेक्ट काफी समय से जस का तस पड़ा रहा.

जब अरशिंदर सिंह चावला ने गृह मंत्री अनिल विज के पत्रों का जवाब नहीं दिया तो अनिल विज खुद ही हेडक्वार्टर पहुँच गए, वहां पर लिफ्ट में भी कोई स्टाफ नहीं था, अनिल विज वहां भी परेशान हुए इसलिए स्टाफ को भी सस्पेंड कर दिया।

वहां पर गृह मंत्री ने अरशिंदर सिंह चावला के कामों की जांच की जिसपर वह संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने तुरंत DGP मनोज यादव को ADGP अरशिंदर सिंह चावला से सभी चार्ज वापस लेने को कहा. DGP मनोज यादव ने उसपर तुरंत एक्शन लिया।

ADGP अरशिंदर सिंह के पास जो भी चार्ज थे अब उन्हें ADGP AK Roy, ADGP नवदीप सिंह विर्क और ADGP  कला रामचंद्रन को दी गयी है.

हरियाणा में हर प्रशासनिक कार्य हिंदी में करने के लिए CM मनोहर ने उठाया ये कदम, पढ़ें

haryana-cm-manohar-lal-khattar-implementing-in-state

चंडीगढ़, 14 सितम्बर: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के दिशा-निर्देशानुसार प्रदेश में  प्रशासन में हर स्तर पर हिन्दी लागू करने की दिशा में हरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा हिंदी-पखवाड़े की शुरुआत की गई है। आज से आरम्भ हो रहे हिंदी-पखवाड़े में अकादमी की ओर से कुछ नई योजनाओं की घोषणा की गई है।

अकादमी के एक प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकरी देते हुए बताया कि 14 सितम्बर से अकादमी द्वारा सभी विभागाध्यक्षों एवं निगमों को प्रशासनिक शब्दावली भेजी जा रही है ताकि सरकारी कामकाज में सही शब्दों के चयन में सुविधा हो सके। 

इसी पखवाड़े में आज से ही श्रेष्ठ कृतियों के पुरस्कार विजेताओं को उनकी सम्मान राशि उनके बैंक खातों के माध्यम से भेजी जा रही है और शेष लम्बित कृति पुरस्कारों एवं अनुदानों की घोषणा भी इसी सप्ताह कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि अकादमी की पत्रिका हरिगंधा का नया अंक ‘हिंदी’ की उपलब्धियाँ, उपयोगिता, देन व सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़ाव के विषयों पर केन्द्रित है। इसमें विश्वभर से लगभग दो दर्जन लेखकों की भागीदारी है।

प्रवक्ता ने बताया कि अकादमी भवन परिसर में हिंदी के मूर्धन्य साहित्यकारों की एक चित्र-दीर्घा भी आज स्थापित कर दी गई है और इसी सप्ताह में हरियाणा के तीन महान साहित्यकारों संत सूरदास, बाबू बालमुकुन्द गुप्त और पंडित लखमीचंद की धातु-प्रतिमाएं भी स्थापित की जाएंगी।

प्रवक्ता ने बताया कि इस पखवाड़े में तीन वेबिनार व एक वर्चुअल कवि सम्मेलन भी आयोजित किया जा रहा है। बाबू बालमुकुन्द गुप्त की पुण्यतिथि पर इसी सप्ताह में उनकी प्रतिमा का औपचारिक लोकार्पण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अकादमी उत्कृष्ट साहित्य के प्रकाशन को भी गतिशीलता देगी और हरियाणा की अन्य अकादमियों के सहयोग से इन प्रकाशनों की बिक्री के लिए एक मोबाइल प्रदर्शनी-वाहन भी चलाया जाएगा।

अब हरियाणा में उठी होम-गार्ड भर्ती घोटाले के खिलाफ आवाज, IAS अशोक खेमका से जांच कराने की मांग

haryana-homegaurd-bharti-ghotala-raised-by-welfare-association

फरीदाबाद, 9 सितम्बर: हरियाणा में अब होम-गार्ड भर्ती घोटाले के आरोप लगाए जा रहे हैं और इसके खिलाफ लोगों ने आवाज भी उठानी शुरू कर दी है, ट्विटर पर लोग काफी दिनों से शिकायत कर रहे हैं हालाँकि अभी तक सरकार ने इस पर संज्ञान नहीं लिया है, इसलिए हरियाणा होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन के लोग अब मुख्यमंत्री और गृहमंत्री अनिल विज से मिलने का विचार कर रहे हैं.

हरियाणा होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन का कहना है - इतना बड़ा घोटाला और इन्क्वायरी उसी विभाग से जिसकी शिकायत की गयी है। अगर सरकार को सच्चाई ही जाननी है और निष्पक्ष जांचकर न्याय देना है  तो एशोसिएशन द्वारा दी शिकायत की जांच किसी IS अधिकारी अशोक खेमका जैसे अधिकारी से करवाएं जिससे हजारों लाखों लोगों को न्याय मिले। विभाग के किसी भी कर्मचारी या अधिकारी से जाँच निष्पक्ष नहीं हो सकती। 

बहुत जल्दी हरियाणा होमगार्ड एशोसिएशन गृहमंत्री से मिलकर गुहार लगाएंगे की जांच अशोक खेमका से करवाएं जिसके चलते बहुत से ओर घोटाले भी विभाग में सामने आ सकते हैं। एसोसिएशन द्वारा विजिलेंस जांच की शिकायत पहले भी की गई थी और उस समय मीडिया और विभाग द्वारा दिखाया गया था कि जांच जल्दी और निष्पक्ष होगी लेकिन आज तक कोई रिजल्ट  नहीं आया  और आगे भी ऐसा ही हुआ तो न्याय मिलना तो दूर उल्टा विभाग  द्वारा शिकायत कर्ता को अपने पदों का दुरुपयोग कर विभाग से निकाल सकते हैं और मानसिक प्रताड़ना से गुजरकर जांच में हस्तक्षेप कर सकते हैं।  

क्योंकि सरकार मुख्यमंत्री, गृहमंत्री व गृहसचिव के आदेशों को भी कुछ समय पहले विभाग ने पलट दिया लेकिन सरकार द्वारा कोई हस्तक्षेप नहीं किया गया। जिस विभाग के रूल सरकार से ऊपर हों वो क्या किसी गरीब को न्याय दे सकता है। होमेगार्ड विभाग सिर्फ तानाशाही और शोषण का अड्डा बनकर रह गया है। यहां ज्यादातर कर्मचारियों और अधिकारियों ने पद पर बैठते ही अपने सगे संबंधियों  और जातिवाद को बढ़ावा देकर नए जवानों को भर्ति कर दिया और गरीब और असहाय जवानों को दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर कर दिया। 

अगर खेमका साहब को जांच दी गयी तो जिले स्तर  पर और राज्य मुख्यालय में बैठे उनके आकाओ को भी शिकंजे में लेकर विभाग को भ्र्ष्टाचारऔर तानाशाही से मुक्त किया जा सकता है। अगर जांच का दायरा सही अधिकारी को नही दिया गया तो जांच को भटकाकर कुछ और जवानों को एसोसिएशन के नाम पर या अन्य बहाना  बनाकर विभाग से निकालने के षड्यंत्र रचकर जांच को भटका सकते हैं । अभी कुछ समय पहले सरकार ने जिला आदेशकों को बदल दिया था लेकिन विभाग ने बदली कर पुराने जिले का अतिरिक्त चार्ज दे दिया है और कंपनी कमांडर सुनील कुमार को मुख्यमंत्री और गृहमंत्री के आदेशों से अम्बाला बदल दिया गया था लेकिन भ्र्ष्टाचार के माध्यम से बिना किसी सीट के एक माह के अंदर अंदर उसको पंचकूला बदल दिया गया । क्या ऐसा होने पर कोई  विभाग से न्याय की उम्मीद कर सकता है।

प्रेस नोट जारीकर्ता: 

विकास रंगा, प्रदेश अध्यक्ष हरियाणा, हरियाणा होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन, 9068002012
संदीप शर्मा, प्रदेश सयोंजक, हरियाणा होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन, 7087569991

Rs 500 दाखिला, Rs 200 फीस, अब प्राइवेट के बजाय सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ा सकते हैं लोग

education-fees-in-rajkeeya-model-sanskriti-prathmik-vidyalay-haryana

फरीदाबाद, 9 सितम्बर: हरियाणा सरकार ने 100 सरकारी स्कूलों को राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालय घोषित कर दिया है, इसी महानें सितम्बर 2020 से इन स्कूलों में दाखिला शुरू हो जाएगी। 

सरकार के आदेश के अनुसार इन विद्यालयों में अंग्रेजी मीडियम से पढ़ाई होगी और इनके बच्चों के पढ़ाने के लिए 500 रुपये दाखिला फीस और 200 रुपये मंथली फीस निर्धारित की गयी है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा सरकार ने राज्य में 1000 राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालयों की लिस्ट जारी कर दी है, जल्द ही स्कूलों के नाम बदलकर राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालय रख दिया जाएगा। फरीदाबाद जिले में भी 85 स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाया गया है देखिये पूरी लिस्ट - 


आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अब तक अधिकतर लोग यह सोचकर सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों का दाखिला नहीं करवाते थे कि वहां पर कोई फीस नहीं है और सिर्फ हिंदी मीडियम से ही पढ़ाई होती है, सरकार ने ऐसे लोगों की सोच में बदलाव करते हुए फीस भी लगा दी है और अंग्रेजीं मीडियम से पढ़ाई शुरू कर दी है, अब शायद लोग निजी स्कूलों में हर महीनें 5 से 15 हजार फीस और लाखों रुपये दाखिला फीस देने के बजाय सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाना पसंद करें।

देखिये सरकारी आर्डर




आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लॉक डाउन में अधिकतर लोगों की आर्थिक स्थिति खराब हुई है इसलिए लोग निजी स्कूलों में मंहगी फीस नहीं भर पा रहे हैं और रोजाना कई स्कूलों के बाहर प्रदर्शन हो रहे हैं. ऐसे में सरकारी स्कूल जनता के लिए वरदान साबित हो सकते हैं बसर्ते उनमें भी अच्छी पढ़ाई हो.

अब सरकारी स्कूलों में भी होगी प्राइवेट स्कूलों जैसी पढ़ाई, दाखिला फीस + मंथली फीस भी लगेगी, पढ़ें

haryana-guidelines-government-sanskriti-model-primary-schools-news

फरीदाबाद, 7 सितम्बर: हरियाणा के सरकारी स्कूलों में भी अब प्राइवेट स्कूलों की तरह अंग्रेजी मीडियम से पढ़ाई होगी और दाखिला फीस (500 Rs) के अलावा मंथली फीस (200 Rs) भी ली जाएगी हालाँकि गरीब लोगों को फीस में कुछ रियायत मिलेगी। यह व्यवस्था फिलहाल राज्य के 1000 स्कूलों में शुरू होगी और बाद में धीरे धीरे सभी स्कूलों में यह व्यवस्था लागू हो जाएगी।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा सरकार ने राज्य में 1000 राजकीय मॉडल संस्कृति प्राथमिक विद्यालयों की लिस्ट जारी कर दी है, जल्द ही स्कूलों के नाम बदल दिए जाएंगे। फरीदाबाद जिले में भी 85 स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाया गया है देखिये पूरी लिस्ट - 


हरियाणा सरकार ने इन विद्यालयों को लेकर आज दिशानिर्देश जारी किये हैं जिसे राज्य के हर नागरिक को पढ़ना चाहिए और इसका फायदा भी जरूर उठाना चाहिए। नीचे फोटो में पूरी जानकारी दी गयी है.







भाजपा सहित सभी पार्टियों को टक्कर देगी अखिल भारत हिंदू महासभा, हरियाणा में बनाएगी अपनी सरकार

akhil-bharat-hindu-mahasabha-meeting-in-faridabad-membership

फरीदाबाद, 7 सितम्बर: स्थानीय सेक्टर - 56 निजी बैंकट हॉल में कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए अखिल भारत हिंदू महासभा के जिला अध्यक्ष आर पी गौड की अध्यक्षता में समारोह का आयोजन किया तथा मंच संचालन प्रदेश महामंत्री राजकुमार तालु ने किया गया जिसमें अखिल भारत हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष आर के शर्मा ने विभिन्न राजनैतिक दल एवं सामाजिक धार्मिक संस्थाओं के पदाधिकारियों को हिंदू महासभा में आस्था रखने पर सदस्यता ग्रहण करवाई।

जिनमें पूर्व में एमपी का चुनाव लड़ चुके राजेंद्र शर्मा वरिष्ठ नेता एवं समाजसेवी को राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य , संजय जिंदल को कोषाअध्यक्ष हरियाणा प्रदेश तथा इनके साथ शंकर मोदी, मनोज सैनी, गौरव गोयल, रोहतास शर्मा, शिवकुमार, अधिवक्ता देवेंद्र, शिवराम स्वामी, संदीप चौहान, बीआर तिवारी, संजय वर्मा, संदीप वाल्मीकि, दुष्यंत वाल्मीकि, निरंजन सिंह को जिला एवं प्रदेश में जिम्मेदारी सौंपते हुए उनका फूल मालाओं से स्वागत किया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि आर के शर्मा ने सदस्य अभियान का श्री गणेश करते हुए बताया कि अखिल भारत हिंदू महासभा प्रदेश में तीन लाख से ज्यादा कार्यकर्ताओं की फौज खड़ी करके भाजपा समेत दूसरी पार्टियों को आने वाले लोकसभा व विधानसभा चुनाव में कड़ी टक्कर देते हुए जीत का परचम लहराएंगे।

नवनियुक्त राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य राजेंद्र शर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री त्रिदड़ी स्वामी एवं कार्यकारी अध्यक्ष रविंद्र कुमार त्रिवेदी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते हुए हरियाणा प्रदेश में सरकार बनाएंगे। 

इस अवसर पर एमएम शर्मा, धर्मपाल चहल, रोहतास हिंदू, विशाल, विजेंद्र भार्गव, आशीष, गोविंद राम, जसबीर मलिक, चौधरी रामकला आदि उपस्थित थे.

दुष्यंत चौटाला को सलाह, राशन डिपो वालों की मौज करने के बजाय आम जनता तक राशन पहुंचाने का काम करो

dushyant-chautala-slams-for-order-ration-depot-transfer-in-haryana

फरीदाबाद, 6 सितम्बर: उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने गरीब जनता के हिस्से का राशन खुद हजम करने वाले राशन डिपो संचालकों की सात पुश्तों के खाने कमाने का इंतजाम कर दिया है लेकिन अब उनके फैसले का विरोध भी होने लगा है क्योंकि लोगों को लग रहा है कि अब राशन डिपो संचालक खुलकर लूट मचाएंगे और बाद में अपने परिवार के लोगों के नाम लाइसेंस ट्रांसफर भी करवा सकेंगे।

फरीदाबाद से समाजसेवी अनुज भाटी का कहना है कि माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अनुपस्थिति में जो यह जल्दबाजी में फैसले लिए जा रहे हैं यह हरियाणा के भविष्य को गर्त में ले जाने का काम करेंगे व सरकार की छवि को भी धूमिल करने का काम करेंगे।

भाटी से जब डिपो ट्रांसफर के फैसले को लेकर हमारी उनसे बात हुई तो उन्होंने बताया कि यह एक बचकाना वाला फैसला है,और सरकार इस तरीके के फैसलों से जनता का अपनी नाकामियों की तरफ से ध्यान आकर्षित करना चाहती है। 

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के डिपो ट्रांसफर वाले इस फैसले को पूर्णतः गलत व बचकाना वाला फैसला बताते हुए कहा,कि उमुख्यमंत्री इस तरीके के  फैसलों को जनता पर थोप कर कई तरह के भृष्टाचारों कि जांच,व कई भृष्टाचारों की जड़ों को छुपाना चाहती है।और साथ ही समाजसेवी अनुज ने  बताया कि,यह डिपो ट्रांसफर वाला  फैसला भी  शराब घोटाले की तरह  नए घोटाले को  जन्म देने के लिए  सुनाया गया है, जोकि भविष्य में  राशन डिपो घोटाले के नाम से जाना जाएगा।

भाटी ने अपने विरोध पूर्ण स्वर में कहा की उपमुख्यमंत्री जी को इस तरह के फैसले लेने से अच्छा तो अधिकारियों व डिपो होल्डरों द्वारा राशन वितरण प्रणाली को सुद्रढ़ व दुरुस्त करने का काम करना चाहिए था।साथ ही उन्हें कड़ी व जल्द से जल्द कार्रवाई करने वाला एक बोर्ड व शिकायत केंद्र का भी गठन करने की अति आवश्यकता थी।ताकि सही व जरूरतमंद लोगों तक राशन पहुंच पाता।व सरकार का लाभ जरूरतमंदों को मिल सकता।लेकिन सरकार ऐसा करने में विफल रही है, और विफल शिकायत केंद्र को बनाने में ही नहीं,अपितु राशन वितरण प्रणाली में भी पूर्णतः फेल रही। जब सूत्रों के हवाले से पता लगा,तो यह ज्ञात हुआ ,कि लॉकडाउन के दौरान हजारों,लाखों की संख्यां में ऐसे लोग थे,राशन से वंचित रह गए या उन तक नहीं पहुंच पाया जिनको उस समय एक एक दाने की आवश्यकता थी।और जो वास्तव में जरूरतमंद थे।किंतु उन्हें नही मिल सका।ओर online प्रक्रिया का ढिंढोरा पीटने वाले सत्ता का यह एक मात्र ढकोसला साबित हुआ।जिसमें आमजन ने असुविधा व परेसानी झेली।

साथी ही भाटी ने आरोप लगाया कि कुछ चुनिंदा सत्ताधारी लोगों द्वारा अपने अपने आला अफसरों व अपने बड़े बड़े डिपो धारकों को इस फैसले की आड़ में मोटा मुनाफा देने का प्रयास किया जा रहा है।जो कतई भी बर्दाश्त नही किया जाएगा।

दीपेंद्र सिंह हुड्डा भी हो गए कोरोना पॉजिटिव, लगता है किसी कोरोना संक्रमित ने छू लिया

deepender-singh-hooda-corona-positive-congress-leader-6-september

फरीदाबाद, 6 सितम्बर: कांग्रेस नेता और राज्या सभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं, उन्होंने ट्विटर पर लिखा - मेरी कोरोना #COVID19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। चिकित्सकों के निर्देश अनुसार बाक़ी के टेस्ट किए जा रहे हैं। आप सभी की दुआ से शीघ्र ही ठीक होकर आप सबके बीच वापस लौटूंगा। जो लोग गत कुछ दिनों में मेरे संपर्क में आयें हैं, कृपया स्वयं आइसोलेट हों अपनी जाँच करवाएं।
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दीपेंद्र सिंह हुड्डा बरोदा उपचुनाव के प्रचार में लगे हुए हैं इसलिए रैलियां और जनसभाएं भी कर रहे हैं, फोटो में आप देख सकते हैं कि कई लोगों ने एक साथ उनके सर पर हाथ रखा है, लगता है कि किसी कोरोना संक्रमित ने उन्हें छू किया या वह किसी तरह से कोरोना संक्रमित के संपर्क में आ गए, उन्हें अपना ध्यान जरूर रखना चाहिए क्योंकि भारत में कोरोना का खतरा अभी कम नहीं हुआ है. रोजाना 90 हजार लोगों को संक्रमण हो रहा है.

यह फोटो आंवली, सिरसाढ़ आदि गांव में मिले ज़बरदस्त आशीर्वाद के बाद स्वयं दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने अपने ट्विटर पेज पर शेयर की है.

deepender-singh-hooda-corona-positive

DCM दुष्यंत चौटाला ने कर दिया राशन डिपो होल्डरों की कई पुश्तों के खाने-कमाने का इंतजाम

sinior-citizen-ration-dipo-licence-may-be-transfer-to-sons-daughter

फरीदाबाद, 6 सितम्बर: हरियाणा सरकार राशन डिपो होल्डरों को खुश करने और उनके खाने कमाने की पूरी फिक्र कर रही है, अब तो राशन डिपो होल्डरों की आने वाली पुश्तों की भी फ़िक्र की जाने लगी है.

हरियाणा सरकार में उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के एक फैसले से राशन डिपो होल्डरों के अलावा उनके बेटे-बेटी और पोते-पोती भी ख़ुशी से झूम उठे हैं, खुश भी क्यों ना हों, आखिर उनके खाने कमाने का इंतजाम कर दिया है हरियाणा सरकार ने.

उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला द्वारा खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को दिए आदेश के मुताबिक अब बुजुर्ग राशन डिपो होल्डर अपने बेटे-बेटियों और नाते-पोतियों के नाम पर डिपो ट्रांसफर कर सकेंगे। मतलब अब एक ही घर में राशन बांटने का ठेका रहने वाला है.

हरियाणा सरकार ने सभी जिलों में ऐसे डिपो संचालकों की लिस्ट बनाने का आदेश दिया है जिनकी उम्र 60 साल या उससे ऊपर है. लिस्ट बनाये जाने के बाद डिपो को इनके बेटे-बेटियों और पोते-पोतियों के नाम पर ट्रांसफर करने का काम शुरू कर दिया जाएगा।

जनता की टेंशन - कहीं बढ़ ना जाए लूट, भ्रष्टाचार कर राशन घोटाला

सरकार के इस फैसले के बाद जनता की टेंशन बढ़ गयी है क्योंकि अधिकतर राशन डिपो संचालक जनता के हिस्से का राशन खुद हजम कर रहे हैं, सरकार जनता को डबल राशन भेज रही है तो डिपो वाले सिर्फ सिंगल राशन बांटकर जनता को बहाना बनाकर वापस भेज देते हैं. अधिकतर राशन डिपो होल्डर लॉक डाउन के दौरान जनता का राशन खुद हजम कर गए.

जनता इसलिए परेशान है कि एक तो राशन डिपो होल्डरों के खिलाफ शिकायत का कोई प्लेटफार्म नहीं है, दूसरा - अब एक ही घर में राशन डिपो रहने वाला है इसलिए जनता को लुटते ही रहना पड़ेगा। अब तो लूट भ्रष्टाचार और घोटाला और बढ़ जाएगा। काश सरकार जनता का दर्द समझ पाती।

जनता के लिए खुशखबरी, फरीदाबाद के 5 सीनियर सेकेंडरी और 85 प्राइमरी स्कूल बने मॉडल संस्कृति स्कूल

list-of-model-sanskriti-senior-secondary-model-primary-school-faridabad-haryana

फरीदाबाद, 5 सितम्बर: हरियाणा सरकार ने सरकारी स्कूलों का कायापलट करने का अभियान शुरू किया है जिसके तहत राज्य में हजारों मॉडल संस्कृति सीनियर सेकेंडरी व संस्कृति प्राइमरी स्कूल बनाये जा रहे हैं. 

पहले चरण में 112 मॉडल संस्कृति सीनियर सेकेंडरी स्कूलों की लिस्ट जारी की गयी है जबकि 981 मॉडल प्राइमरी स्कूलों की लिस्ट जारी की गयी है.

अगर फरीदाबाद की बात करें तो इस जिले में 5 मॉडल संस्कृति सीनियर सेकेंडरी स्कूल बनाये गए हैं जिनकी लिस्ट नीचे दी गयी है - 

list-of-model-sanskriti-senior-secondary-school-in-faridabad-haryana

इसके अलावा जिले में 85 मॉडल प्राइमरी स्कूल आये हैं जिसमें से फरीदाबाद मंडल में 63 और बल्लभगढ़ मंडल में 22 स्कूल हैं जिसकी लिस्ट नीचे दी गयी है - 

list-of-model-sanskriti-primary-school-in-faridabad-haryana

list-of-model-sanskriti-primary-school-in-faridabad-haryana-2

list-of-model-sanskriti-primary-school-in-faridabad-haryana-3

जानकारी के अनुसार इन मॉडल स्कूलों में प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर पढ़ाई कराई जाएगी। इन स्कूलों के लिए शिक्षकों का अलग से कैडर होगा जिनको प्रशिक्षण दिया जाएगा इनके लिए अलग तबादला नीति बनाई जाएगी। छात्रों को ट्रांसपोर्ट की सुविधा मिलेगी। सौर ऊर्जा पैनल, सीसीटीवी ,आधुनिक फर्नीचर डिजिटल प्रोजेक्टर ई लर्निंग बायोमैट्रिक अटेंडेंस आदि की व्यवस्था रहेगी। 
इन मॉडल स्कूलों में छात्रों से फीस भी ली जाएगी जो इस प्रकार होगी -
पहले से तीसरी    200,
चौथी से पांचवी    250 , 
छठी से आठवीं    300,
9 में से 10 वीं       400 
11वीं से 12वीं  500  रुपए।

रणदीप सुरजेवाला की माने तो पूर्व कांग्रेस सरकार ने हार्ड वर्क किया, मोदी सरकार फ्रॉड वर्क

congress-hard-work-modi-sarkar-fraud-work-says-randeep-surjewala

फरीदाबाद, 4 सितम्बर: कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राहुल गाँधी की आवाज कहे जाने वाले हरियाणा के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर जबरदस्त हमला बोला है. उन्होंने मोदी सरकार को फ्रॉड वर्क करने वाला बताया है जबकि पूर्व सोनिया मनमोहन की कांग्रेस यूपीए सरकार को हार्ड वर्क करने वाला बताया है.

रणदीप सूरजेवाला ने ट्विटर पर एक वीडियो अपलोड करके कहा - अबकी बार, ग़रीबों पर वार, हार्ड वर्क और फ़्रॉड वर्क में यही अंतर है. UN की ताज़ा रिपोर्ट करोड़ों महिलाओं में तेज़ी से बढ़ती ग़रीबी बताती है.

उन्होंने रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा - ILO के मुताबिक़ 40 करोड़ भारतीय ग़रीबी रेखा के गर्त में धकेले जा रहे हैं. मोदीजी नचाए मोर, मस्त हैं चोर, गरीब के हाथ कटोरा, देश गया किस और?

हरियाणा में अब दुकानों एवं दफ्तरों के लिए कोई लॉकडाउन नहीं, रोजाना खोलिए दुकाने: अनिल विज

home-minister-haryana-order-to-end-lock-down-in-haryana-shops

फरीदाबाद 30 अगस्त: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने एक बार फिर से फरमान सुनाया है लेकिन आपकी बार दुकानदारों एवं व्यापारियों के लिए राहत भरा फरमान सुनाया है.

 गृह मंत्री अनिल विज ने ट्वीट किया है कि केंद्र सरकार ने अनलॉक 4 में प्रदेश सरकारों को लॉक डाउन करने का अधिकार नहीं दिया इसलिए हरियाणा सरकार का दिनांक 28 अगस्त का सोमवार और मंगलवार को बाजार बंद रखने का आदेश वापस ले लिया गया है इसलिए अब कोई लोक डाउन नहीं होगा.


गृह मंत्री अनिल विज के इस फरमान के बाद हरियाणा में अब रोजाना दुकाने व्यापार और दफ्तर खोले जा सकते हैं और अपना काम धंधा आगे बढ़ाया जा सकता है, अनिल विज के इस आदेश के बाद दुकानदारों व्यापारियों एवं आम लोगों को काफी राहत महसूस हुई है क्योंकि शनिवार और रविवार को दुकानें एवं व्यापार बंद करने के आदेश का काफी विरोध हुआ था.

व्यापारियों और दुकानदारों के लिए खुशखबरी, अब शनिवार रविवार की जगह सोमवार मंगलवार को Lockdown

faridabad-haryana-lockdown-monday-tuesday

फरीदाबाद के दुकानदारों व्यापारियों और अन्य लोगों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है, हरियाणा सरकार ने अब शनिवार और रविवार के बजाय सोमवार और मंगलवार को लॉक डाउन की घोषणा की है. इस आदेश के बाद अब शनिवार और रविवार को दुकान और व्यापार बंद रहने के बजाय सोमवार और मंगलवार को दुकानें और व्यापार बंद रहेंगे.

इससे पहले हरियाणा सरकार ने अचानक शनिवार और रविवार को दुकानें व्यापार एवं सरकारी प्राइवेट  दफ्तरों को बंद रखने का आदेश देकर व्यापार जगत में हाहाकार मचा दिया था जिसके बाद सरकार के आदेश का काफी विरोध भी हुआ था जिसे देखते हुए हरियाणा सरकार ने अपने ऑर्डर में बदलाव करते हुए व्यापारियों को राहत प्रदान की है.


दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने पूछा सवाल - कहाँ गया 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज, जनता तो परेशान है

deepender-singh-hooda-ask-where-is-rs-20-lakh-crore-rahat-package

फरीदाबाद, 23 अगस्त: हरियाणा के राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के युवा नेता दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने हरियाणा की भाजपा सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं.

दीपेंद्र हुड्डा आज झज्जर में थे, उनके साथ विधायक गीता भुक्कल और विधायक कुलदीप वत्स भी थे. तीनों नेताओं ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

दीपेंद्र हुड्डा ने कहा - पता नही कहाँ गया कोरोना-प्रभावित जनता हेतु घोषित 20 लाख करोड़ का राहत पैकेज? क्षेत्र में इस पैकेज के लभार्थियो को खोजने हेतु जल्दी टीमें निकालेंगे! ऊपर से वीकेंड लॉकडाउन में सभी रोज़ी-रोटी के साधन व दुकानें बंद करके केवल शराब ठेके खोलना!

हरियाणा सरकार बताये, शराब जरूरी वस्तु कैसे, काम-काज बंद तो क्यों खुले हैं ठेके: कुमारी शैलजा

congress-president-haryana-kumari-selja-slams-khattar-sarkar-order

फरीदाबाद, 22 अगस्त: शनिवार और रविवार को दुकानें, व्यापार और दफ्तरों को बंद करने के हरियाणा सरकार के आदेश की चौतरफा आलोचना हो रही है, सरकार के इस फैसले से व्यापारी खासे नाराज हैं क्योंकि धीरे धीरे उनका रोजगार और व्यापार पटरी पर आ रहा था लेकिन अचानक शनिवार रविवार को सिर्फ जरूरी सेवाओं को  छोड़कर सभी दुकानें, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों को बंद करने का आदेश दे दिया गया.

हरियाणा सरकार के इस फैसले से विपक्ष को राजनीतिक मुद्दा मिल गया है. कांग्रेस की हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद कुमारी शैलजा ने आज खट्टर सरकार पर जमकर हमला किया।

उन्होंने कहा - एक तरफ हरियाणा सरकार व्यापारियों और दुकानदारों का रोजगार चौपट करवा कर रही है, वहीं दूसरी ओर शराब के ठेके खोलने की अनुमति देना हैरान करने वाला है। हरियाणा सरकार का यह फैसला उसके दोहरे चरित्र को उजागर करता है।
कुमारी शैलजा ने हरियाणा सरकार से सवाल पूछते हुए कहा कि हरियाणा सरकार जानना चाहती है कि शराब जरूरी वस्तुओं में कैसे आती है और सभी काम काज बंद कराये जाने के बाद आखिर ठेके क्यों खुलवाए गए हैं. उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार कोरोना महामारी को रोकने में नाकाम हो गयी है.

पटरी पर आने लगा धंधा तो शनिवार-रविवार को बंद करने का आदेश देकर किया व्यापारियों का जोश ठंढा

haryana-sarkar-order-close-shops-offices-sunday-saturday-not-good

फरीदाबाद, 21 अगस्त: कोरोना की वजह से लॉक डाउन में अधिकतर लोगों के काम धंधे बंद हो गए, व्यापारियों का काफी नुकसान हुआ लेकिन पिछले कुछ दिनों से व्यापार फिर से पटरी पर आने लगा था और व्यापारियों का जोश भी बढ़ने लगा था लेकिन अब हरियाणा के व्यापारियों का जोश फिर से ठंढा पड़ गया है. 

हरियाणा में वैसे तो कोरोना वायरस का संक्रमण 50926 तक पहुँच गया है लेकिन वर्तमान में सिर्फ 7555 एक्टिव मरीज हैं, अन्य सभी मरीज ठीक हो चुके हैं, रोजाना 700 से अधिक संक्रमण बढ़ रहा है और इतने ही मरीज ठीक भी हो रहे हैं.

हरियाणा सरकार को पता नहीं क्या सूझा कि आज एक और सख्त कदम उठा लिया, शनिवार और रविवार को जरूरी गुड्स और सर्विसेज को छोड़कर सभी दुकानों, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों, All Shopping Malls and Shops in Market Areas को बंद करने का आदेश दिया गया है. कल से यह आदेश लागू है. 

व्यापारियों की परेशानी ये है कि उन्हें अपनी दुकान और दफ्तर का हर महीनें किराया भी देना है, बिजली बिल भी भरना है, टेलीफोन और अन्य बिल भी भरना है, वीकेंड में ही कुछ कमाई होती है लेकिन अब हर वीकेंड पर दुकानें बंद रहेंगी।

faridabad-dc-order

आपको बता दें कि हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने अचानक से एक ट्वीट किया है जिसके बाद खलबली मच गयी है. अनिल विज ने ट्वीट किया है कि जरूरी सामानों की दुकानों और दफ्तरों को छोड़कर सभी दुकानें और दफ्तर शनिवार और रविवार को बंद रहेंग। कोविड-19 की वजह से.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा में कुल कोरोना संक्रमण 50926 हो चुका है, आज की अपडेट आनी शेष है. रोजाना 700 से अधिक मरीज बढ़ रहे हैं हालाँकि अब तक 42793 मरीज ठीक भी हो चुके हैं लेकिन अनिल विज ने कोरोना पर कण्ट्रोल लगाने के लिए यह निर्णय लिया है.

haryana-corona-update

शनिवार और रविवार, क्या बंद रहेगा और क्या खुलेगा, पढ़ें क्या लिखा है DC Faridabad के आर्डर में

faridabad-dc-yashpal-yadav-order-shops-offices-closed-sunday-saturday

फरीदाबाद, 21 अगस्त: शनिवार और रविवार को जरूरी गुड्स और सर्विसेज को छोड़कर सभी दुकानों, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों, All Shopping Malls and Shops in Market Areas को बंद करने को लेकर DC Faridabad का आदेश भी आ गया है. इस आर्डर में क्या लिखा है, आप पढ़ सकते हैं - 

faridabad-dc-order

आपको बता दें कि हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने अचानक से एक ट्वीट किया है जिसके बाद खलबली मच गयी है. अनिल विज ने ट्वीट किया है कि जरूरी सामानों की दुकानों और दफ्तरों को छोड़कर सभी दुकानें और दफ्तर शनिवार और रविवार को बंद रहेंग। कोविड-19 की वजह से.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा में कुल कोरोना संक्रमण 50926 हो चुका है, आज की अपडेट आनी शेष है. रोजाना 700 से अधिक मरीज बढ़ रहे हैं हालाँकि अब तक 42793 मरीज ठीक भी हो चुके हैं लेकिन अनिल विज ने कोरोना पर कण्ट्रोल लगाने के लिए यह निर्णय लिया है.

haryana-corona-update

हरियाणा में कोरोना 50 हजार पार, जरूरी को छोड़कर सभी दफ्तर-दुकानें शनिवार-रविवार को बंद: अनिल विज

haryana-lock-down-saturday-sunday-shops-offices-closed-anil-vij

फरीदाबाद, 21 अगस्त: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने अचानक से एक ट्वीट किया है जिसके बाद खलबली मच गयी है. अनिल विज ने ट्वीट किया है कि जरूरी सामानों की दुकानों और दफ्तरों को छोड़कर सभी दुकानें और दफ्तर शनिवार और रविवार को बंद रहेंग। कोविड-19 की वजह से.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा में कुल कोरोना संक्रमण 50926 हो चुका है, आज की अपडेट आनी शेष है. रोजाना 700 से अधिक मरीज बढ़ रहे हैं हालाँकि अब तक 42793 मरीज ठीक भी हो चुके हैं लेकिन अनिल विज ने कोरोना पर कण्ट्रोल लगाने के लिए यह निर्णय लिया है.

haryana-corona-update
इस मामले में फरीदाबाद DC ये आदेश भी जारी कर दिए हैं, शनिवार और रविवार को सिर्फ जरूरी गुड्स और सर्विसेज को छोड़कर सभी सरकारी और प्राइवेट दफ्तर बंद रहेंगे।

dc-faridabad-order

लॉकडाउन में गरीब हुए कंगाल लेकिन चोर राशन डिपो वाले उनके हिस्से का राशन लूटकर हुए मालामाल

chor-ration-depo-in-faridabad-looting-public-ration-with-leader-dfso

फरीदाबाद, 17 अगस्त: फरीदाबाद में सैकड़ों राशन डिपो हैं जहाँ पर सरकार द्वारा 2 रुपये प्रति किलो सस्ता अनाज मिलता है. राशन कार्ड धारक डिपो वालों की दुकानों पर जाते हैं और 2 रुपये प्रति किलो में अनाज खरीदते हैं, परिवार में हर सदस्य को हर महींने पांच किलो अनाज मिलता है.

ऐसा नहीं है कि सभी राशन डिपो वाले चोर हैं, कुछ लोग ईमानदारी से भी काम करते हैं लेकिन हमारी रिपोर्ट के अनुसार 90 फ़ीसदी से अधिक राशन डिपो वाले चोर हैं और जनता के हिस्से का राशन खुद ही डकार रहे हैं.

हमारी सूचना के मुताबिक़ लॉक डाउन के दौरान चोर राशन डिपो वालों की मौज आ गयी, अगर लूट की बात करें तो इनके लिए गोल्डन टाइम चल रहा है, चोर राशन डिपो वाले दोनों हाथों से लूट रहे हैं और अपना घर भर रहे हैं.

अगर गरीबों की बात करें तो फरीदाबाद में उनकी जिंदगी नरक जैसी हैं, सरकार ने उनके बारे में सोचा और राशन डबल कर दिया लेकिन सरकार को शायद ये नहीं पता है कि चोर राशन डिपो वाले गरीबों को पूरा राशन नहीं दे रहे हैं, सरकार एक सदस्य को 10 किलो अनाज भेज रही है तो चोर राशन डिपो वाले उन्हें 5 किलो ही दे रहे हैं और कई बार तो 2 महीनें के एक बार राशन देकर एक  महीनें का पूरा राशन ही डकार जाते हैं.

बात दरअसल ये हैं कि राशन डिपो वाले तो पहले से ही लूटते थे लेकिन पहले वे खुलकर नहीं लूट पाते थे क्योंकि राशन कार्ड ग्राहकों को अंगूठा लगाने के बाद ही उनके खाते से राशन मिलता था लेकिन लॉक डाउन में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए ग्राहकों को अंगूठा लगाना बंद कर दिया गया और राशन डिपो वालों को खुद ही अंगूठा लगाकर ग्राहकों का राशन उनके खाते से लेने की छूट दे दी गयी.

कैसे आयी राशन चोरों की मौज, पढ़ें

राशन डिपो वालों की तो मौज आ गयी क्योंकि अब वे खुद ही मशीन पर पंच करके ग्राहकों का राशन निकाल रहे हैं, बहुत सारे लोग तो फरीदाबाद छोड़कर अपने होम टाउन यूपी, बिहार या अन्य राज्यों में चले गए हैं, राशन डिपो वाले उनके हिस्से का भी राशन खुद ही पांच करके डकार रहे हैं.

इसके अलावा राज्य सरकार के अलावा केंद्र सरकार अलग से राशन भेज रही है, मतलब जनता को सरकार डबल राशन भेज रही है लेकिन जब जनता राशन डिपो वालों के पास राशन लेने जाती है तो राशन डिपो वाले कहते हैं कि अभी सिंगल राशन ही आया है, डबल राशन कुछ दिन बाद ले जाता है, ऐसा करके डिपो वाले जनता को बार बार चक्कर लगवाते हैं और उनके हिस्से का राशन खुद ही डकार जाते हैं. ऐसा एक दो के साथ नहीं सबके साथ किया जाता है.

जनता की परेशानी ये है कि शिकायत करने के लिए कोई प्लेटफार्म नहीं है, ना तो कस्टमर केयर है, या हेल्पलाइन नंबर है, DFSO को फोन करो तो वे उठाते नहीं हैं, डीसी साहब के दफ्तर जाओ तो वे मिलते नहीं हैं.

बहुत ऊँची पकड़ रखते हैं राशन माफिया

चोर राशन डिपो वाले बहुत ऊंची पहुंच रखते हैं अगर कोई इनके खिलाफ शिकायत करता है तो अधिकारियों से मिलकर उनका राशन कार्ड ही कैंसिल करा देते हैं और कई बार नाम ही कटवा देते हैं इसलिए गरीब लोग इनकी शिकायत करने से डरते हैं. कई बार जब शिकायत डीसी दफ्तर में पहुंचती है तो चोर राशन डिपो वाले गरीब लोगों पर बहुत ज्यादा दबाव बना देते हैं और उनसे यह लिखवा लेते हैं कि मेरा राशन मिल गया है अब मुझे कोई शिकायत नहीं है और इस तरह से वे आसानी से बच जाते हैं और फिर से लूटना शुरू कर देते हैं.

कैसे होगा राशन चोरों का इलाज 

सरकार को चाहिए कि हर जिले में एक राशन हेल्पलाइन सेण्टर बनाया जाय जहाँ पर जनता तुरंत शिकायत कर सके और शिकायत पर तुरंत कार्यवाही हो, इसके अलावा चोर राशन डिपो वालों के खिलफा धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया जाय.