Followers

Showing posts with label Faridabad Police. Show all posts

सुशांत राजपूत मौत की आरोपी रिया चक्रवर्ती को फरीदाबाद के सीपी ओपी सिंह से भी हुई घबराहट

rhea-chakraborty-sushant-singh-murder-accused-afraid-of-faridabad-cp

फरीदाबाद, 1 अगस्त: सुशांत सिंह राजपूत को न्याय दिलाने की हर तरफ से मांग की जा रही है, उनकी आत्महत्या की कहानी पर कोई भरोसा नहीं कर रहा है, शक की सुई उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती पर घूम रही है क्योंकि वह सुशांत राजपूत को न्याय दिलाने की मांग करने के बजाय उनकी मौत को आत्महत्या साबित करने पर तुली हुई हैं, जबकि सुशांत राजपूत की मौत का उन्हें भी दुःख होना चाहिए था और अन्य लोगों की तरह उन्हें भी सुशांत राजपूत के लिए न्याय की मांग करनी चाहिए थी लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। 

आप खुद उनका ट्विटर अकाउंट देख लीजिये, सुशांत की मौत का उन्होंने ना तो कोई दुःख व्यक्त किया और ना ही कुछ ऐसी बातें बताईं कि सुशांत राजपूत की आत्महत्या की क्या वजह हो सकती है. आखिर कोई ऐसे ही आत्महत्या कैसे कर सकता है. रिया कई वर्षों से उनके साथ रहती थीं इसलिए सुशांत राजपूत की आत्महत्या की वजह को उनसे अधिक कौन जान सकता है.


ऊपर ट्वीट में आप साफ़ साफ़ देख सकते हैं, 13 जून को उन्होंने ट्वीट किया। 14 जून को सुशांत की मौत हुई, मौत के तुरंत बाद सुशांत की मौत को आत्महत्या बताकर मीडिया में वायरल करवा दिया गया. यह सब सोची समझी प्लानिंग के तहत किया गया. रिया ने सुशांत की मौत पर कोई दुःख व्यक्त नहीं किया। 

उन्होंने सुशांत की मौत के एक महीनें बाद ट्वीट किया और गृह मंत्री अमित शाह से सुशांत की मौत की सीबीआई जांच की मांग की। 

अब पूरा देश सुशांत की मौत की CBI जांच की मांग कर रहा है तो रिया घबरा रही हैं और महाराष्ट्र सरकार से अप्रोच लगाकर CBI जांच से बचने के लिए पूरी ताकत लगा दी है.

सुप्रीम कोर्ट पहुंची रिया चक्रवर्ती

बिहार पुलिस ने सुशांत राजपूत के पिता की तहरीर पर रिया चक्रवर्ती के खिलाफ FIR दर्ज की है और अपनी कार्यवाही में जुट गयी हैं, पुलिस को सहयोग देने के बजाय रिया सुप्रीम कोर्ट पहुँच गयीं और अपनी पेटीशन में सुशांत राजपूत के परिवार पर उन्हें फंसाने की कोशिश का आरोप लगाया।

पेटिशन में फरीदाबाद के सीपी ओपी सिंह का भी जिक्र  

रिया चक्रवर्ती कितनी चालाक हैं आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं. उन्होंने अपनी पेटीशन में हरियाणा के ADGP और फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह का भी जिक्र किया है. उन्होंने कहा है कि सुशांत राजपूत के जीजाजी हरियाणा पुलिस में ADGP  हैं इसलिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर सकते हैं.

खैर... रिया चक्रवर्ती कितनी भी कोशिश कर लें लेकिन इस मामले की सच्चाई जरूर बाहर आएगी। रिया चक्रवर्ती के बैंक खातों की डिटेल  मिलने के बाद काफी चीजें साफ़ हो जाएंगी क्योंकि सुशांत के पिता ने उनपर 14 करोड़ रुपये हड़पने के आरोप लगाए हैं. अगर बात करें फरीदाबाद के सीपी ओपी सिंह की तो हर जीजा अपने मृतक साले को न्याय दिलाने की कोशिश करेगा, इसमें कुछ भी गलत नहीं है. न्याय सबको मिलना चाहिए।

8 साल की लड़की टीन एज पुलिस (टीएपी) से हुई प्रभावित, पुलिस आयुक्त को लिखा ई-मेल

faridabad-police-commissioner-op-singh-get-email-8-year-girl-tap

फरीदाबाद, 30 जुलाई: पुलिस आयुक्त फरीदाबाद को जुलाई 29, 2020 को एक ईमेल प्राप्त हुआ, जिसमें एक 8 वर्षीय लड़की तनिष्का ने टीएपी के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने की इच्छा व्यक्त की। आयुक्त इस ईमेल को देखकर बहुत खुश हुए और बच्चों को किसी भी तरह की समस्या के लिए मदद करने का आश्वासन दिया। 

पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने कहा कि वह जानना चाहती थी कि क्या उसकी उम्र के बच्चे भी टीएपी का हिस्सा हो सकते हैं। जब उसने टीएपी के बारे में अपने माता-पिता से कुछ सवाल किए, तो उन्होंने यही सवाल पुलिस आयुक्त से करने को कहा।

तनिष्का लिखती है, उसकी उम्र के छात्रों को भी सहपाठियों या बड़े छात्रों द्वारा परेशान किया जाता है। ऐसे में वे शिक्षक को मामले की सूचना देते हैं। अगर कोई समाधान नहीं होता है, तो वे अपने माता-पिता और प्रिंसिपल को भी सूचित करते हैं। टीएपी की स्थापना के बाद हमें उम्मीद है कि यह उसकी उम्र के  बच्चों के लिए भी मददगार होगा। 

ओपी सिंह ने कहा कि कभी-कभी बच्चे भी शिक्षकों को मामलों की रिपोर्ट करने से डरते हैं। कई बच्चे अपने माता-पिता को भी सब कुछ नहीं बताते और परेशान रहते हैं। 

आगे तनिष्का लिखती हैं कि सर अपनी कम उम्र के कारण, वे पुलिस स्टेशन में नहीं जा सकते, इसलिए वे आपको अपनी समस्याओं के बारे में कैसे बता सकते हैं? वे आपके साथ संवाद कैसे कर सकते हैं? अपने स्कूल डीपीएस -19 के प्राथमिक विंग, रवि हाउस के उप-कप्तान होने के नाते क्या वह भी सीधे टीएपी का सदस्य बन सकती है या यह केवल बड़े छात्रों के लिए है? 

तनिष्का के माता-पिता पेशे से वकील हैं और उन्होंने वादा किया है कि वे स्वेच्छा से टीएपी की मदद करेंगे।

पुलिस आयुक्त महोदय ने आश्वासन दिया कि हर पुलिस स्टेशन में आउटरीच अधिकारियों को तैनात किया जाएगा जो किशोरों के साथ साथ तनिष्का की उम्र के वर्ग के बच्चों की भी मदद करेंगे!

अब सीपी ऑफिस में हुए बीमार तो तुरंत किया जाएगा उपचार, सीपी ने किया डिस्पेंसरी का उद्घाटन

dispensary-started-in-police-commissioner-office-in-faridabad-news

फरीदाबाद, 30 जुलाई: आज पुलिस आयुक्त ओ.पी. सिंह ने अपने कार्यालय सैक्टर 21-C में डिस्पेनसैरी का रिबन काट कर उद्घाटन किया।

इस मौके पर राजेश दुग्गल पुलिस उपायुक्त मुख्यालय व आदर्श दीप सिंह साहयक पुलिस आयुक्त मुख्यालय के अलावा कार्यालय मे तैनात पुलिस कर्मचारी मोजूद रहे।

ओ.पी. सिंह ने कहा कि कार्यालय मे काम करने वाले पुलिस कर्मचारीयो के स्वास्थ को ध्यान मे रखते हुए और कार्यालय में बाहर से आने वाले लोगो का स्वास्थ खराब होने पर प्राथमिक उपचार के लिए डिस्पेनसैरी स्थापित की गई है। पुलिस आयुक्त ने उद्घाटन के दौरान कहा की स्वास्थ मनुष्य के लिए सबसे बडा धन है

पुलिस कमिश्नर ने  डीसीपी मुख्यालय राजेश दुग्गल की तारीफ करते हुए कहा कि यह डिस्पैनसैरी पुलिस आयुक्त मुख्यालय राजेश दुग्गल की सोच है, उन्होंने एक सराहनीय पहल करते हुए डिस्पेंसरी शुरू करवाई।

दुग्गल ने जानकारी देते हुए बताया कि कार्यालय मे काम करने वाले पुलिस कर्मचारीयो की तबियत खराब होने पर उनको समय पर प्राथमिक मिलेगा। बीपी शुगर व अन्य रूटीन के चेकअप की जाएंगे। इसलिए डिस्पेनसैरी शुरुवात की गई है।

उन्होने कहा की क्ई बार पुलिस आयुक्त कार्यालय मे बहार से आने वाले लोगो की अचानक तबियत खराब हो जाती है। तो उस परिस्थिति में पुलिस पीड़ित की मौका पर प्राथमिक उपचार देकर मदद कर की जा सकेगी।

राजेश दुग्गल ने बताया कि डिस्पेंसरी में प्रतिदिन कार्यालय के करीब 50 कर्मचारियों का बीपी शुगर चेक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारी स्वस्थ रहेगा तभी स्वस्थ कार्य कर पाएगा। 

उन्होंने कहा कि ऑफिस में काम के चलते पुलिस कर्मचारी अपना बीपी और शुगर भी चेक नहीं करा पाते हैं। अतः उनको यह सेवा उपलब्ध हो पाएगी। डिस्पेंसरी में फार्मासिस्ट श्रवण कुमार सहित तीन कर्मचारी मौजूद रहेंगे।

8 महीनें से शस्त्र लाइसेंस के लिए भटक रहे 2 शूटिंग खिलाड़ियों का नए CP ने फटाफट करवाया काम

faridabad-police-commissioner-op-singh-make-arm-licence-two-sportsman

फरीदाबाद, 28 जुलाई: शस्त्र लाइसेंस बनवाने के लिए 8 महीनों से सीपी कार्यालय भटक रहे दो स्पोर्ट्स शूटर का नए पुलिस कमीशनर ने फटाफट कुछ दिनों में लाइसेंस बनवा दिया, ऐसा करके पुलिस कमिश्नर ने स्पोर्ट्स को बढ़ावा दिया है, शस्त्र लाइसेंस पाकर दोनो शुटर खुश हैं।

आज 28 जुलाई को दो स्पोर्ट्स शूटर मोहित पुत्र अशोक  निवासी नीमका  व  कृष्णा पुत्र सुरेंद्र निवासी भगत सिंह कॉलोनी बल्लभगढ़ पुलिस आयुक्त ओ पी सिंह से अपनी समस्या को लेकर मिले। पुलिस आयुक्त महोदय ने उनकी समस्या सुनी। 

मोहित और कृष्णा ने बताया कि वह दोनों दोस्त हैं और पिछले 3 साल से कर्णी सिंह शूटिंग रेंज दिल्ली मे शूटिंग कर रहे हैं। उनको प्रैक्टिस के दौरान यह महसूस हुआ कि अगर वह आगे बढ़ना चाहते हैं तो उनको अपना आरम लाइसेंस हथियार बनवाना होगा। क्योंकि 10 बच्चों को एक ही पिस्टल से शूटिंग की प्रैक्टिस करनी होती है जिसमें काफी वक्त लगता है। जिस पर मोहित और कृष्णा दोनों दोस्तों ने 8 महीने पहले आर्म लाइसेंस बनवाने के लिए अप्लाई किया था। लेकिन वह 8 महीने से भटक रहे हैं उनका आर्म लाइसेंस अभी तक नहीं बना है। 

पुलिस आयुक्त ने दोनों लड़कों की समस्याओं को समझते हुए उनको भरोसा दिलाया की उनको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है उनका लाइसेंस बन जाएगा। पुलिस आयुक्त ने आर्म लाइसेंस इंचार्ज को आदेश दिए कि दोनों बच्चों का लाइसेंस बनाया जाए। मोहित और कृष्णा पुलिस आयुक्त महोदय से मिलकर बहुत खुश हुए और उन्होंने धन्यवाद दिया। 

मोहित और कृष्णा का कहना है कि उन्होंने पुलिस आयुक्त  ओपी सिंह के बारे में पता चला था कि वह लोगों की बहुत मदद करते हैं। इसी आधार पर दोनों ने पुलिस आयुक्त महोदय से मिले थे।

फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह ने किशोर छात्र से चर्चा करके किया बड़ा ऐलान, पढ़ें क्या

faridabad-police-commissioner-op-singh-teen-age-police-in-every-thana

फरीदाबाद, 27 जुलाई: आज दिनांक 27-07-2020 को टीनएज पुलिस से प्रभावित डी.पी.एस स्कूल के 12वीं क्लास के छात्र शौर्य ने पुलिस आयुक्त मोहदय, ओपी सिंह से मुलाकात करने के लिए उनके कार्यालय सै0 21 सी पहुॅचा। 

शौर्य ने पुलिस आयुक्त को टीनएज पुलिस बनाने के पहल पर खुशी जताते हुए (छात्रों) टीनएजर्स की जिंदगी की समस्याओं और उनके प्रभाव के बारे में विस्तार से बात की।

छात्र ने पुलिस आयुक्त मोहदय, को उनकी ईमेल आईडी पर मैसेज कर फरीदाबाद में गठित की गई टीनएज पुलिस के बारे में बातचीत करने के लिए समय मांगा था। जिसपर पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह ने छात्र शौर्य से अपने कार्यालय में मुलाकात की। 

शौर्य ने पुलिस आयुक्त से 40 मिनट की वार्ता के दौरान छात्र/छात्राओं की समस्याओं के बारे में बातचीत की।

मुलाकात के दौरान छात्र शौर्य ने पुलिस आयुक्त को बताया कि एक विद्यार्थी होने के नाते उनको किन-किन समस्याओं का सामना करना पडता है। जैसे कि साथियों का दबाव, माता-पिता का दबाव, परीक्षा/परिणाम का दबाव, निम्नतम शैक्षणिक परिणाम, शैक्षणिक सफलता तक सीमित जीवन, बुलिंग कम मार्क्स आने पर ताने/तजं इत्यादि को झेलना पड़ता है।

छात्र ने पुलिस आयुक्त को बताया कि स्कूल में कुछ इस तरह के ग्रूप होते है जिसमें बच्चों के शारीरिक आकार, रंग रूप, पहनावा, भाषा, इत्यादि से संबंधित तंज कसे जाते है। अध्यापक की बातों को मानने वाले बच्चों को चापलूस कहा जाता है। कई बार इन समस्यओं के चलते बच्चे का मानसिक संतुलन खराब होने के कारण वह गलत कदम उठा लेता है।

पुलिस कमिश्नर ओ.पी सिंह ने कहा की प्रत्येक थाने में टीएपी आउटरीच ऑफिसर की तैनाती की जाएगी जिसमें महिला व पुरुष पुलिसकर्मी इसमें कार्य करेंगे जो किशोर एवं किशोरियों की समस्याओं के समाधान व नासमझी की वजह से कुछ छात्रों द्वारा मादक पदार्थो के सेवन और अपराध की दलदल में फंसने से बचाने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि स्कूल, कोचिंग सेंटर इत्यादि जगहो पर टी.ए.पी पुलिस की नजर रहेंगी। टी.ए.पी पुलिस स्कूलों में जाकर बच्चों को अपराध, नशा और गलत संगत पड़ने के कारणों व उनके निदान पर कार्य करेंगे व अंडर एज ड्राइविंग ना करने के बारे में जागरूक करेंगे।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि टीएपी टीनएजर्स की समस्याओं के समाधान पर ध्यान केंद्रित करेगी, उनके टीनेजर्स अधिकार क्या है के बारे में बताएगी। किशोरों को कानून के बारे में जानकारी देंगे ताकि गलत संगत में पड़कर अपराध की दलदल मे फसने से बचाया जा सकें।

पुलिस आयुक्त ने बताया कि TAP पुलिस अभियान चलाएगी जिसमें पब, बार, हुक्का बार इत्यादि जगह पर जाकर उनको बताया जाएगा कि वह किशोरों को यह चीजें उपलब्ध ना कराएं क्योंकि यह छात्र-छात्राओं के शारीरिक और मानसिक दोनों पर दुष्प्रभाव डालती है।

शराब के ठेकों के बाहर ध्यान रखा जाएगा और अगर कोई किशोर शराब खरीदते पाया जाता है तो उसको इस बारे में समझाया जाएगा और नशे से होने वाले दुष्परिणामों से अवगत कराया जाएगा।

टी ए पी पुलिस का मुख्य उद्देश्य किशोरों को नशा करने और अपराध की दुनिया में जाने से बचाना रहेगा और उनको अच्छा जीवन जीने और एक अच्छे व्यक्तित्व वाला इंसान बनने के लिए प्रेरित किया जाएगा। 

पुलिस कमिश्नर ओ पी सिंह ने छात्र शौर्य सूर्य देव भारद्वाज को उनके द्वारा लिखित पुस्तक *से यस टू स्पोर्ट्स* उपहार स्वरूप प्रदान की।

पढ़ें, व्हाट्सएप पर किस तरह के मैसेज और पोस्ट शेयर करने वालों को जेल भेजेगी फरीदाबाद पुलिस

faridabad-police-strict-rule-whatsapp-post-sharing-groups

फरीदाबाद: पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने  व्हाट्सएप ग्रुप पर गलत सुचना, झूठी खबर, घृणा, जाति, धर्म, नस्ल, का भेदभाव से संबंधित खबर को व्हाट्सएप ग्रुप पर फैलाने वालों पर सख्त कार्यवाही करने के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं.

पुलिस आयुक्त ने कहा कि अक्सर देखने में आता है कि व्हाट्सएप ग्रुप पर लोग गलत संदेश चलाते हैं जोकि झूठे होते हैं, जिससे शातीं भगं होने  नफरत फलने का खतरा बना रहता है। ऐशे संदेशों के चलते कई बार कानून व्यवस्था बिगड़ने के संभावना बन जाती हैं।

फरीदाबाद पुलिस द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप एडमिन और व्हाट्सएप ग्रुप मेंबर्स की जिम्मेदारी के बारे में भी बताया है।

उन्होंने कहा कि व्हाट्सएप ग्रुपों से प्राप्त फर्जी समाचार एवं अभद्र भाषा इत्यादि को दूसरे व्हाट्सएप ग्रुप पर ना भेजें। कोई भी खबर व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर करने से पहले यह सत्यापित करें कि यह सच है कि नहीं।

 व्हाट्सएप ग्रुप पर ग्रुप मेंबर की जिम्मेदारी

ध्यान रहे कि ग्रुप पर कोई भी फेक न्यूज़, घृणा शब्दों एवं अन्य गलत तरह की पोस्ट को ग्रुप पर शेयर ना करें।

जो भी खबर आपको अन्य किसी ग्रुप मेंबर से प्राप्त होती है उन गलत खबरों को फॉरवर्ड एवं वायरल ना करें।

अगर आपत्तिजनक कोई भी पोस्ट आपको प्राप्त होती है तो उसी समय इस तरह की पोस्ट को डिलीट कर दें.

यह सुनिश्चित करें कि जो खबर, फोटो, वीडियो, मिम इत्यादि जो आप ग्रुप पर शेयर करने जा रहे हैं वह सच है कि नहीं।

अगर आप ग्रुप पर किसी भी तरह की गलत सुचना, झूठी खबर, व्हाट्सएप ग्रुप पर प्राप्त होती है तो उसकी सूचना www.cybercrime.gov.in पर या नजदीकी पुलिस स्टेशन या अपने ग्रुप एडमिन को करें।

किसी भी तरह की हिंसक, पॉर्नोग्राफिक, जाति और धर्म  भेदभाव से संबंधित खबरों को कभी शेयर ना करें।

 व्हाट्सएप ग्रुप पर एडमिन की जिम्मेवारी

ग्रुप एडमिन यह सुनिश्चित करें की ग्रुप मेंबर विश्वसनीय एवं जिम्मेदार हो कि वह सिर्फ सत्यापित खबरों को शेयर करें।

सभी ग्रुप मेंबरों को किसी भी पोस्ट को ग्रुप में शेयर करने से संबंधित नियमो के बारे मे अवगत कराएं।

सभी ग्रुप मेंबर्स को हिदायत दे कि वह ग्रुप पर किसी भी तरह की आपत्तिजनक सामग्री को ग्रुप में शेयर ना करें।

ग्रुप एडमिन, ग्रुप में नियमित रूप से सक्रिय रहे और ग्रुप के सदस्यों द्वारा साझा की जा रही सामग्री/ संदेश पर निगरानी रखे।

ग्रुप एडमिन को सलाह दी जाती है कि यदि ग्रुप कंट्रोल नहीं किया जा रहा है तो ग्रुप एडमिन ग्रुप की सेटिंग बदले जिसमे सिर्फ एडमिन को ही पोस्ट डालने का अधिकार रहे।

अगर कोई ग्रुप मेंबर आपत्तिजनक सामग्री को सांझा करता है, प्रेषित करता है तो इस बारे में पुलिस को सूचित करें।

ग्रुप एडमिन, ग्रुप मेंबर एवं उपयोगकर्ता आपत्तिजनक पोस्ट करता है तो आईपीसी की धारा 153 ए, 153 बी, 295ए, 505, 188 के अलावा आईटी एक्ट की धारा 66 सी, 66डी, एवं आपदा प्रबंधन की धारा 54 के तहत कार्यवाही की जाएगी जिसमें दोषी को 3 साल तक की सजा एवं जुर्माना का प्रावधान है.

पुलिस आयुक्त ने कहा कि इस तरह की कोई भी पोस्ट शेयर नहीं की जाए जिसमें धर्म, राष्ट्रीयता, नस्ल, भाषा और भेदभाव के आधार पर दुश्मनी को बढ़ावा दे। और आपस में भाईचारा खराब हो।

उन्होंने कहा कि आपत्तिजनक संदेश सार्वजनिक व्यवस्था, शालीनता, नैतिकता को बाधित कर सकता है.

पुलिस आयुक्त ने कहा कि साइबर सेल द्वारा  आपत्तिजनक फोटो, वीडियो, समाचार, फेक न्यूज़ कटिंग, फेक  मैसेज इत्यादी पोस्ट करने वालो पर निगरानी रख रही है । ऐसे आरोपियों के खिलाफ  सख्त कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

पढ़ें, फरीदाबाद के सभी महिला थानों में क्यों बनायी गयी फुलवारी

faridabad-women-thana-fulwari-for-child-abuse-victims-4-july-2020

फरीदाबाद: दिनांक 4 जुलाई 2020 को नवनियुक्त पुलिस आयुक्त ओम प्रकाश सिंह के दिशा निर्देश पर एसीपी महिला विरुद्ध अपराध धारणा यादव ने महिला थाना सेंट्रल में फुलवारी का उद्घाटन किया गया।

थाना सेक्टर 16 में फुलवारी का आयोजन महिला थाना सेक्टर 16 एसएचओ रेनू शेखावत की पहल पर किया गया है।

फुलवारी के उद्घाटन के दौरान एसीपी क्राइम अगेंस्ट वूमेन धारणा यादव, महिला थाना सेक्टर 16 प्रभारी रेनू शेखावत, इंस्पेक्टर सुनीता, सब इंस्पेक्टर सीमा, सब इंस्पेक्टर बबीता, के अलावा अन्य महिला पुलिस कर्मी सही मौजूद रही।

एसीपी धारणा यादव ने बताया कि यौन शोषण के शिकार हुए बच्चों एवं माता पिता के वैवाहिक झगड़ों के शिकार हुए बच्चों को मानसिक एवं शारीरिक रूप से मजबूत करने के उद्देश्य से फुलवारी का आयोजन किया गया है।

महिला थाना सेक्टर 16 एसएचओ रेनू शेखावत ने बताया कि फुलवारी के माध्यम से बच्चों को घर जैसा खुशनुमा माहौल में खेल खेल में बच्चों के बयान दर्ज किए जाएंगे। 

फरीदाबाद से कोई कांवड़ यात्रा पर ना जाए और ट्रांसपोर्ट वाले किसी को वाहन ना दें: CP Faridabad

faridabad-cp-om-prakash-singh-ban-kanwad-yatra-july-2020-news

फरीदाबाद, 4 जुलाई: फरीदाबाद पुलिस कमिश्नर ने कांवड़ यात्रा पर प्रतिबन्ध की सूचना जारी की है, इससे पहले कल कोविड-19 के चलते उत्तराखंड सरकार, हरियाणा सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा जनहित मे सामूहिक निर्णय के अंतर्गत इस वर्ष सावन माह में होने वाली कावड़ यात्रा पर पाबंदी लगाने की सूचना जारी की गयी थी.

कावड़ यात्रा की पाबंदी के संबंध में पुलिस आयुक्त ओम प्रकाश सिंह ने सभी डीसीपी, एसीपी, थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज को अपने अपने एरिया में कावड़ यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं को इस संबंध में अवगत कराने के दिशा निर्देश जारी किए है।

उन्होंने कहा कि इस वर्ष सावन माह में जाने वाली पैदल कावड़ यात्रा एवं डाक कावड़ यात्रा को स्थगित किया गया है। इस वर्ष कावड़ यात्रा नहीं जाएगी।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि शिव भक्तों को स्वयं और दूसरों की सुरक्षा के लिए प्रशासन द्वारा लिए गए निर्णय का पालन करें।

ट्रांसपोर्ट मालिकों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वह किसी भी तरह का वाहन कावड़ यात्रा के लिए उपलब्ध नहीं कराएंगे।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि निर्देशों की पालना ना करने वालों के खिलाफ पुलिस कार्यवाही करेगी। 

CP Faridabad की कुर्सी पर बैठते ही बोले ओपी सिंह, फरीदाबाद जिले से ख़त्म करेंगे अपराध

cp-faridabad-op-singh-join-3-july-2020-to-make-city-crime-free-meeting

फरीदाबाद, 3 जुलाई: पुलिस आयुक्त ओपी सिंह ने आज दिनांक 3 जुलाई 2020 को पुलिस आयुक्त फरीदाबाद के पद पर कार्यभार संभालते के साथ ही फरीदाबाद में अपराध को खत्म करने के लिए क्राइम मीटिंग का आयोजन किया।

मीटिंग में पुलिस आयुक्त ओपी सिंह के अलावा डीसीपी अपराध मकसूद अहमद, एसीपी क्राइम अनिल यादव, के अलावा सभी क्राइम ब्रांच के इंचार्ज मौजूद रहे। सभी को अपराध पर अंकुश लगाने के लिए दिशा निर्देश दिए हैं।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि फरीदाबाद जिले के कई किलोमीटर के दायरे में भी अपराधी नहीं होने चाहिए। उन्होंने कहा कि अपराधियों में पुलिस का भय होना अति आवश्यक है।

पुलिस आयुक्त ने मीटिंग के दौरान कहा कि सभी क्राइम ब्रांच अपने-अपने एरिया में सक्रिय गैंग और अपराधियों को चिन्हित कर उन पर कार्यवाही करें।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि फरीदाबाद शहर में अपराध एवं अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद शहर में अपराध को रोकने के लिए प्रत्येक उचित प्रयास किए जाएंगे।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि जनता और पुलिस में आपस का भाईचारा अच्छा होना चाहिए ताकि हो रहे अपराध के बारे में जनता के द्वारा पुलिस को सही समय पर इंफॉर्मेशन मिल सकें ताकि अपराधियों पर तुरंत नकेल कसी जा सके।

नवनियुक्त पुलिस आयुक्त महोदय के फरीदाबाद आगमन पर, उनको पुलिस आयुक्त कार्यालय में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

डीसीपी मुख्यालय राजेश दुग्गल, डीसीपी एनआईटी अर्पित जैन, डीसीपी बल्लभगढ़ मकसूद अहमद, डीसीपी सेंट्रल मुकेश मल्होत्रा, डीसीपी ट्रैफिक सुरेश कुमार ने उनका  स्वागत किया।

इस मौके पर एसीपी हेड क्वार्टर आदर्शदीप सिंह, एसीपी राजीव कुमार के अलावा एसीपी गजेंद्र सिंह, एसीपी सुखबीर सिंह, एसीपी जयवीर सिंह, एसीपी क्राइम अनिल यादव, एसीपी धारणा यादव, एसीपी मोजीराम राम, एसीपी पृथ्वी सिंह, एसीपी सत्यपाल, एसीपी जयपाल, एसीपी रमेश गुलिया मौजूद रहे।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ओमप्रकाश सिंह 1992 बैच, हरियाणा केडर के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हैं। पुलिस आयुक्त महोदय उत्कृष्ट कार्यों के लिए 2008 में पुलिस मेडल और 2017 में प्रतिष्ठित सेवा के लिए प्रेसिडेंट पुलिस मेडल से नवाजे जा चुके हैं।

सीएम ऑफिस में तैनात रह चुके हैं ओपी सिंह

ओपी सिंह मुख्यमंत्री के कार्यालय में विशेष सलाहकार रहे हैं और कम्युनिटी पुलिसिंग और राहगिरी के अलावा  स्पोर्ट्स डायरेक्टर के पद पर तैनात थे, जो हाल ही में हुए स्थानांतरण पर फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त नियुक्त किए गए हैं।

ओपी सिंह पूर्व में पुलिस कमिश्नर अंबाला/ पंचकूला,आईजीपी हिसार रेजं और रेवाड़ी रेजं के आईजीपी रह चुके हैं।

नवनियुक्त पुलिस आयुक्त महोदय पूर्व मे भी फरीदाबाद में 1993  बतौर एएसपी रह चुके हैं। इसीलिए उन्हें फरीदाबाद की भौगोलिक स्थिति व अपराधिक ग्राफ, पुलिस की कार्यप्रणाली से भलीभांति अवगत है।

फरीदाबाद पुलिस उनके मार्गदर्शन में जनता के साथ तालमेल रखते हुए अपराधिक गतिविधियों और अपराध पर अंकुश लगाने की अपने प्रयास और भी बेहतर करेगी। नवनियुक्त पुलिस आयुक्त महोदय का फरीदाबाद सहित पूरे हरियाणा की पुलिस में एक अच्छा नाम है.

बड़ी खबर, फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर केके राव का तबादला

faridabad-police-commissioner-kk-rao-transfer-to-gurugram-30-june

फरीदाबाद, 30 जून: हरियाणा के राज्यपाल ने आज कई IPS अधिकारियों का ट्रांसफर किया है जिसमें फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर केके राव भी शामिल हैं। केके राव का तबादला गुरुग्राम पुलिस कमिश्नर के रूप में हुआ है। 

अगर फरीदाबाद के नए पुलिस कमिश्नर की बात करें तो आईपीएस ओपी सिंह को यह जिम्मा दिया गया है, इससे पहले ओपी सिंह CM ऑफिस में Community Policing and Outreach में Special Officer के पद पर कार्यरत थे। 


आपकी जानकारी के लिए  बता दें कि फरीदाबाद के पूर्व पुलिस कमिश्नर केके राव जनता से बहुत कम मिलते थे और बहुत ही टाइट सुरक्षा में रहते थे, सीपी ऑफिस में अपने शिकायत लेकर जाने वाले बहुत परेशान रहते थे और सीपी से मिलने के बजाय उन्हें DCP, ACP के पास भेज दिया जाता था और अधिकतर लोगों का काम नहीं होता था। इससे पहले के पुलिस कमिश्नर रोजाना दो तीन घंटे जनता से मिलते थे और उनका दुःख तकलीफ समझते थे। अब देखते हैं कि नए पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह जनता की उम्मीदों पर खरे उतरते हैं या नहीं। 

घोर कलयुग: वेतन ना मिलने से हताश मजदूरों की आवाज बने पत्रकार को फरीदाबाद पुलिस ने जेल में ठूंसा

how-faridabad-police-trapped-patrakar-pushpendra-singh-rajput-news

फरीदाबाद, 20 मई: वैसे तो लोग कहते ही हैं कि ये कलयुग चल रहा है, इसमें कुछ भी हो सकता है, सच्चे को झूठा साबित किया जा सकता है और झूठे को सच साबित किया जा सकता है, यही नहीं कलयुग में पुलिस चाहे तो पत्रकारों को गैंगस्टर और खूंखार अपराधी बता सकती है, यही नहीं पत्रकारों को आतंकवादियों जैसे टॉर्चर कर सकती है, कम से कम फरीदाबाद में तो यही हुआ है, जहाँ Friends Auto India Limited Company द्वारा  वेतन ना मिलने से हताश मजदूरों की आवाज बने एक पत्रकार को साजिश के तहत उद्योगपति, उसके साथियों और पुलिस ने मिलकर फर्जी केस में खतरनाक तरीके से फंसा दिया, यही नहीं पत्रकार को रिमांड में लेकर आतंकवादियों जैसी यातनाएं दी गयीं, उसकी आँखों में मिर्ची झोंकी गयी, उलटा लटककर पानी में डुबोया गया, फेफड़े में विषैला पानी डालने की बात कही गयी, पत्रकार को जान से मारने की धमकी देकर कोरे कागज़ पर सिग्नेचर करवा लिए गए ताकि उसे और भी फर्जी तरीके से फंसाया जा सके। मतलब कलयुगी पुलिस ने पत्रकार को कलयुगी तरीके से फंसा दिया गया। गौरतलब बात ये है कि पत्रकार पिछले 18 वर्षों से फरीदाबाद में पत्रकारी कर रहा है, आज तक किसी ने भी अवैध वसूली या ब्लैकमेलिंग के आरोप नहीं लगाए लेकिन कलयुगी फरीदाबाद पुलिस ने निर्दोष पत्रकार पर IPC 384, 385, 386, 506, 34 जैसी खतरनाक धाराएं लगा दी, इसमें से धारा 386 खूंखार गैंगस्टर जो जान से मानने की धमकी देकर फिरौती मांगते हैं, उनपर लगाई जाती है लेकिन कलयुगी फरीदाबाद पुलिस ने यह धारा निर्दोष पत्रकार पर लगा दी ताकि निर्दोष पत्रकार लम्बे समय तक जेल में सड़े।

क्या है पुष्पेंद्र को फंसाने की साजिश

फरीदाबाद में Friends Auto India Limited कंपनी ने सैकड़ों मजदूरों को लॉक डाउन से पहले निकाल दिया, उन्हें वेतन भी नहीं दिया और हिसाब के नाम पर सभी मजदूरों को कुछ चेक थमा दिए गए जिसे बैंक में डालने के बाद सभी मजदूरों के चेक बाउंस हो गए और मजदूरों के खाते से चेक बाउंस की पेनाल्टी के रूप में उनकी जमा-पूँजी भी काट ली गयी।

लॉकडाउन के दौरान वेतन ना मिलने और चेक बाउंस होने से हताश और परेशान सैकड़ों मजदूरों में से कुछ ने फरीदाबाद के haryanaabtak.com न्यूज़ पोर्टल के पत्रकार पुष्पेंद्र राजपूत से संपर्क किया और उनसे अपने पोर्टल के जरिये मजदूरों की आवाज उठाकर हरियाणा सरकार तक पहुंचाने की अपील की ताकि लॉकडाउन के दौरान उन्हें वेतन मिल सके और उनके परिवार का गुजारा हो सके।

पुष्पेंद्र सिंह राजपूत ने यह खबर चलाई तो Friends Auto India Limited ने स्थानीय रसूखदार लोगों से पुष्पेंद्र राजपूत पर खबर हटाने का दबाव बनाया। इस शर्त पर कि Friends Auto India Limited कंपनी का मालिक सरबजीत चावला मजदूरों को एक दो दिन में पेमेंट दे देगा, पुष्पेंद्र राजपूत ने 4 मई को खबर हटा ली, लेकिन दो दिन बाद भी सरबजीत चावला ने मजदूरों को वेतन नहीं दिया और ना ही कोई अन्य आर्थिक मदद की तो, पुष्पेंद्र राजपूत ने मजदूरों की परेशानी देखते हुए फिर से 6 मई को अपने पोर्टल पर खबर लगा दी।

उसके बाद ऊंची पहुँच रखने वाले Friends Auto India Limited कंपनी के डायरेक्टर सरबजीत चावला ने पुलिस अधिकारियों से मिलीभगत करके पुष्पेंद्र राजपूत को राजिश के तहत फंसाने की चाल चली, पुलिस से मिलकर पुष्पेंद्र राजपूत को फंसाने का जाल बना गया, उसके बाद 9 मई को मजदूरों की मदद का सबूत दिखाने के बहाने कंपनी मालिक सरबजीत चावला ने पुष्पेंद्र राजपूत को फरीदाबाद में सेक्टर 12 में बुलाया, पुलिस भी सादे भेष में सरबजीत चावला के साथ थी, पुष्पेंद्र को सरबजीत चावला ने अपनी गाडी में बिठाया और पुलिस ने उनकी जेब में लिफाफा देकर रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया ताकि उन्हें ब्लैकमेलर साबित किया जा सके।

पहले से बनाये गए प्लान के अनुआर पुलिस कार्यवाही में इतनी जल्दबाजी की गयी कि पुष्पेंद्र राजपूत और उन्हें साथ बाइक पर घटनास्थल पर गए लाल सिंह के खिलाफ तत्काल IPC की धारा 384, 385, 386, 506, 34 के तहत फर्जी मुकदमा (FIR No 0248) दर्ज कर लिया गया, पुलिस कमिश्नर प्रवक्ता ने तुरंत प्रेस नोट जारी करके उन्हें ब्लैकमेलर, रंगदारी मांगने वाला और उद्योगपति को जान से मारने की धमकी देने वाला अपराधी बता दिया। इस मामले में पुलिस ने ही जज बनकर तुरंत फैसला सुना दिया और बेगुनाह पत्रकार को गुनहगार बना दिया।

इसके बाद पुष्पेंद्र राजपूत का 2 दिन का रिमांड माँगा गया लेकिन जज ने एक दिन का रिमांड दिया, पुष्पेंद्र राजपूत का मोबाइल और लॅपटॉप ले लिया गया, उसके बाद रात में पुष्पेंद्र राजपूत को गैर-कानूनी तरीके से CIA BPTP ले जाया गया, उन्हें थर्ड डिग्री टार्चर किया गया, उनकी आँखों में मिर्ची डाली गयी, फेफड़े में ऐसा पानी डाला गया जिसमें CIA वाले कह रहे थे कि यह पानी डालने के बाद तू ढाई महीनें से अधिक समय तक जिन्दा नहीं रह सकेगा, इसके अलावा उन्हें 4 घंटे तक उल्टा लटका कर पानी में डुबोया गया। इसके बाद उन्हें जान से मारने की धमकी देकर दूसरे आरोपी लाल सिंह को CIA टीम के साथ पुष्पेंद्र राजपूत के घर भेजा गया और परिवार द्वारा इकठ्ठे किये गए 40 हजार रुपये जबरदस्ती छीन लिए गए और उसे रिकवरी में दिखा दिया गया।

पुष्पेंद्र सिंह राजपूत पिछले 15 वर्षों से haryanaabtak.com न्यूज़ पोर्टल चला रहे हैं, हमेशा गरीबों की आवाज उठाते हैं, साधारण जिंदगी जीते हैं, उन पर 5 लाख रुपये की रंगदारी मांगने और उद्योगपति सरबजीत चावला को जान से मारने की धमकी देने के भी आरोप लगाए गए हैं जो सरासर झूठे हैं।

उद्योगपति सरबजीत चावला का यह भी कहना है कि पुष्पेंद्र राजपूत उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे और 50 हजार पहले भी ले चुके थे, अब आप ही सोचिये जो कंपनी मालिक अपने मजदूरों को सैलरी नहीं दे रहा है वो किसी पत्रकार को 50 हजार रुपये कैसे दे देगा।

कहने का मतलब ये है कि पत्रकारों के मामले में अब फरीदाबाद पुलिस ही जज बनकर फैसला कर रही है, इस मामले में पुष्पेंद्र राजपूत को फंसाने की प्लानिंग की गयी, पुलिस ने खुद तय किया कि 30 हजार रुपये लिफ़ाफ़े में भरकर ले जाना है

दिल्ली से पैदल भागकर आये थे सैकड़ों प्रवासी श्रमिक, फरीदाबाद पुलिस ने बस में बिठाकर वापस भेजा

faridabad-police-send-delhi-shramik-back-by-bus-from-surajkund-news

फरीदाबाद, 8 मई: कल देर शाम सैकड़ों प्रवासी श्रमिक दिल्ली  मैदानगढ़ी से भागकर सूरजकुंड के रास्ते फरीदाबाद में घुस आये थे, उन्हें मानव रचना के पास एक स्थान पर रोका गया था, देर रात पुलिस ने बसों में बिठाकर उन्हें दिल्ली वापस भेज दिया। उन्हें वापस भेजते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का भी ख्याल रखा गया.

आपको बता दें कि हरियाणा सरकार प्रवासी श्रमिकों को उनके होम स्टेट पहुंचाने के लिए 100 ट्रेन और 5000 बसों की व्यवस्था कर रही है, ऐसा कल हरियाणा सरकार की तरफ से कहा गया है, लेकिन दिल्ली में हालात सही नहीं है इसलिए दिल्ली के प्रवासी श्रमिक फरीदाबाद के रास्ते अपने होम स्टेट को जाना चाहते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या 6318 हो चुकी है और रोजाना 300 - 500 नए मरीज बढ़ रहे हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी बार बार कह रहे हैं कि दिल्ली में कोरोना फ़ैल चुका है, इसलिए लोगों में डर का माहौल है.

कोर्ट परिसर में भगवान के मंदिर से 38570 चुराने वाले चोर 24 घंटे के अंदर दबोचे गए, पढ़ें रिपोर्ट

faridabad-central-thana-police-arrested-chor-sector-12-mandir-loot

फरीदाबाद, 8 अप्रैल: अदालत परिसर में बने मंदिर से रुपए चुराने वाले दो आरोपियों को थाना सेंट्रल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपियों से चोरी किया गया मंदिर का चढ़ावा ₹38570 रुपए भी बरामद कर लिया गया है. पुलिस ने सिर्फ 24 घंटे के अंदर चोरों को गिरफ्तार करके मामले को सुलझा लिया।

गिरफ्तार आरोपी:

1. रोहित निवासी इंदौर मध्य प्रदेश हाल निवासी गड़ी मोहल्ला ओल्ड।
2. कमल निवासी कपिलवस्तु नेपाल हाल निवासी सरपंच कॉलोनी बडोली ।

उपरोक्त दोनो आरोपी फरीदाबाद अदालत परिसर में बने मंदिर से चढ़ावे के पैसे चोरी कर फरार हो गए थे।

मंदिर के पुजारी ने इस बारे में थाना सेंट्रल पुलिस को शिकायत दर्ज कराई जिस पर थाना सेंट्रल में चोरी का मुकदमा दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू की गई।

अदालत परिसर मे मंदिर है जिसमें फरीदाबाद के हजारों वकीलों द्वारा समय-समय पर मंदिर के रखरखाव के लिए दान दिया जाता है। वकीलों के द्वारा मंदिर में दिया गया पिछले 4 साल का चढ़ावा उपरोक्त दो आरोपी लेकर फरार हो गए थे।

थाना प्रभारी महेंद्र पाठक ने बताया कि आरोपियों से चोरी किए हुए 38570 रुपए बरामद कर लिए गए। आरोपियों को अदालत में पेश कर जिला जेल नीमका भेजा गया है।

पुलिस कमिश्नर केके राव बोले, कल से सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक सभी ठेके खुलेंगे, ये हैं शर्तें

faridabad-sharab-theka-open-6-may-2020-says-cp-kk-rao-police

फरीदाबाद, 5 मई: हरियाणा सरकार का शराब के ठेके खोलने को लेकर दिए गए आदेश कोरोना रेड जोन फरीदाबाद में भी लागू होंगे, कल से सभी ठेके खुल जाएंगे और लोगों को दारू मिला करेगी।

पुलिस कमिश्नर केके राव् ने भी ठेके खोलने को लेकर दिशा निर्देश दे दिए हैं. उन्होंने ऑडियो सन्देश में सभी पुलिसकर्मियों को कहा है कि कल से सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक सभी ठेके खुलेंगे। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद में 200 दारू के ठेके हैं जिसकी लिस्ट सबको दे जाएगी।

उन्होंने सभीACP, DCP, SHO को आर्डर जारी करते हुए कहा है कि आपको प्रॉपर बैरिकेटिंग करना है और ठेकों पर 2 - 2 आदमी फालतू लगाना है, यहाँ पर दिल्ली जैसा हाल नहीं होना चाहिए और कानून व्यवस्था बिगड़नी नहीं चाहिए।

उन्होंने कहा कि सभी ठेके वालों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा और अपने आदमी लगाने पड़ेंगे। पुलिस भी इनपर ध्यान रखेगी और जो लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही करेंगे उनके ठेके बंद करवा दिए जाएंगे।

फरीदाबाद सेक्टर-7 थाना प्रभारी और पुलिस टीम ने बुजुर्ग दंपत्ति की 46वीं सालगिरह को बनाया यादगार

faridabad-police-marriage-anniversary-cake-for-bujurg-couple-news

फरीदाबाद, 5 मई: कोरोना के इस संकटकाल में जब सब कुछ थम गया है। लोग जहां हैं, वहीं घरों में कैद होकर रह गए हैं। ऐसे में जब मौका जिंदगी के हिस्से में बची चंद खुशियों को मनाने का हो और उन खुशियों को मनाने वाला कोई ना हो तो यह लॉकडाउन उन परिवारों को जिंदगी भर का दर्द भी दे रहा है। लेकिन फरीदाबाद पुलिस ने मंगलवार दिनांक 5 मई 2020 को एक ऐसे ही परिवार में खुशियां लौटा दी। 

बुजुर्ग दंपत्ति अपनी शादी की 46 साल पूरे कर चुका था लेकिन जिंदगी के इस महत्वपूर्ण मौके पर ना तो उनके साथ बेटियां थी और ना ही बेटा, ऐसे में शादी की सालगिरह मनती तो कैसे ? लेकिन फरीदाबाद पुलिस इस मौके पर केक लेकर इस बुजुर्ग दंपत्ति के घर पहुंची तो मानो इनकी जिंदगी का यह दिन सबसे खुशनुमा बन गया।

हुआ यूं कि फरीदाबाद के प्रो. डी.के. चुग जोकि मकान नं. 626 सैक्टर-7बी, फरीदाबाद के स्थाई निवासी है और अपनी पत्नी के साथ अकेले रहते हैं और वे प्रिंसिपल आरटीडी गवर्नमेंट कॉलेज फॉर वुमेनफैबड और एक महान सामाजिक कार्यकर्ता हैं जो ईमानदारी से लोगों की सेवा करते हैं। आज प्रो. डी.के. चुग की शादी की 46वीं सालगिरह है। प्रो. चुग के घर पर मंगलवार को जब शाम 5.30 बजे के लगभग अचानक फरीदाबाद  पुलिस  तरफ से फरीदाबाद सैक्टर-8 थाना के एसएचओ विनीत कुमार यादव के निर्देशानुसार चौकी इंचार्ज सुरेंद्र कुमार के नेतृत्व में एसआई राजवीर, एएसआई सुंदर अन्य पुलिसकर्मियों में प्रवीण, दीपक, योगेश, रविंद्र केक लेकर इस बुजुर्ग दंपत्ति के घर के दरवाजे पर पहुंची तो इनकी खुशियों का कोई ठिकाना नहीं था। 

इस बुजुर्ग दंपत्ति को भरोसा नहीं था कि फरीदाबाद पुलिस आज उनकी शादी की सालगिरह मनाने आई है। पुलिस को प्रोफेसर साहब के गेट पर देखकर पड़ोसी भी बाहर निकल आए और शादी की सालगिरह पर बधाई देने लगे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दोनों बुजुर्ग दंपति ने केक काटा, एक दूसरे को खिलाया और पुलिस के इस गिफ्ट के लिए दिल से धन्यवाद दिया। दंपत्ति ने कहा कि फरीदाबाद पुलिस ने उनके लिए आज का दिन सबसे यादगार बना दिया। इस मौके पर परिवार के बीच खुशियों की सौगात लेकर पहुंचे  सभी  पुलिस कमिर्यों ने संयुक्त रूप से कहा कि हम भी समाज का हिस्सा हैं और इस कठिन परिस्थिति में हमें इस परिवार की खुशी बांटने का मौका मिला, जो कि हमारे लिए भी गर्व का विषय है। 

फरीदाबाद पुलिस प्रशासन का आभार व्यक्त किया 

श्रीमति सोनिया भाटिया ने बताया कि हीं उनकी तीन बेटियां हैं, बड़ी बेटी प्रिया सहगल पंचकूला में एफडीबी में हैं और मंझली बेटी नीलू मनचंदा व सबसे छोटी बेटी सोनिया भाटिया सैक्टर-21 में रहती है और फरीदाबाद 3 नं. स्थित डीएवी शताब्दी कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। जो लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों का पालन कर रहे हैं और जिसके चलते नहीं जा सकें है। पुलिस प्रशासन से अनुरोध है किया कि वे अपने पिता की 46वीं शादी की साल गिरह की शुभकामना देना चाहाते हैं लेकिन लॉकडाउन के चलते कोई भी बच्चा उनके साथ अपना खास दिन नहीं मना रहा है तब पुलिस प्रशासन द्वारा उन्हें अरश्वासन दिया गया कि यथासंभव उनके इस अनुरोध पर प्रो. साहब को उनकी वर्षगांठ पर शुभकामना जरूर दी जाऐंगी। सोनिया भाटिया, नीलू मनचंदा और प्रिया सहगल ने अपने परिवार के साथ फरीदाबाद जिला पुलिस प्रशासन का आभार व्यक्त किया है।

शराबियों की मजबूरी का उठाया जा रहा फायदा, अरावली पहाड़ी पर बन रही गन्दी शराब, पहुंची पुलिस

faridabad-aravali-pahadi-poisonous-wine-making-exposed-by-police

फरीदाबाद, 2 मई: कोरोना महामारी के चलते फरीदाबाद रेड जोन में है, यहाँ पर शराब के ठेके बंद हैं जिसकी वजह से शराबियों को शराब नहीं मिल पा रही है, इसका फायदा उठाकर कुछ अपराधी किस्म के लोग अरावली की पहाड़ियों पर गंदे पानी से गन्दी शराब बनाकर उसकी सप्लाई कर रहे थे जिसकी सूचना पुलिस को मिली।

अनंगपुर की पहाड़ियों में मुखबिर की सूचना पर थाना सुरजकुण्ड प्रभारी अमन कुमार व अंकित चौकी प्रभारी फुल कुमार ने  पुलिस टीम के साथ रेड डाली। मौके पर 18 ड्रम लहान देसी हथकड़ी शराब बनाने का रॉ मेटेरियल और दो भठियां बरामद की है।

इन दोनों भट्ठीयो पर रात  के समय लहान को पकाकर देसी शराब बनाने वाले थे आरोपी। आरोपी मौके से फरार, लेकिन आरोपियों को चिन्हित कर लिया गया है जिनको जल्द काबू किया जाएगा।

आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आबकारी अधिनियम  के तहत कार्रवाई की जा रही है। मौके पर आबकारी अधिकारियों की टीम को बुलाया गया.

पल्ला में पुलिसकर्मियों का हुआ मान सम्मान

faridabad-palla-police-staff-ko-kiya-gaya-sammanit-news

फरीदाबाद, 28 अप्रैल: कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रही पुलिस का जगह जगह सम्मान भी हो रहा है, इसी क्रम में थाना पल्ला के कुछ पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया गया.

इस अवसर पर अमन प्रधान, अंकित बैसोया, राहुल पंडित ने पुलिसकर्मियों को फूलों की माला पहनकर उनका हौसला बढ़ाया।

मान सम्मान पाकर पुलिसकर्मी काफी खुश दिखे। अमन प्रधान, अंकित बैसोया, राहुल पंडित ने पुलिसकर्मियों को मास्क भी दिए और उनके स्वास्थय की कामना की.

फरीदाबाद पुलिस ने बढ़ाई सख्ती, 17 लोगों को किया गिरफ्तार

faridabad-police-arrested-17-people-27-april-2020-breaking-lock-down-rule

फरीदाबाद 27 अप्रैल: फरीदाबाद पुलिस लॉक डाउन आदेशों की पालना ना करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रही है। फरीदाबाद पुलिस ने दिनांक 27 अप्रैल को 6 एफ आई आर दर्ज कर 17 लोगों को गिरफ्तार किया है.

इस दौरान पुलिस ने अनावश्यक रूप से सड़कों पर घूम रहे 213 वाहनों के चालान कर 10 वाहनों को जब्त किया है।

फरीदाबाद पुलिस ने नियमों की पालन ना करने वालों से 1 लाख 16 हजार 100 रुपए जुर्माना वसूला है।

पुलिस आयुक्त के के राव ने कहा कि संक्रमण से बचाव के लिए घरों में रहे। घरों से बाहर निकलते समय सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ख्याल रखें। फरीदाबाद पुलिस आपकी सुरक्षा एवं सहयोग के लिए सड़कों पर तैनात है.

फरीदाबाद पुलिस ने लॉकडाउन की धज्जियाँ उड़ाने वाले 9 लोगों को किया गिरफ्तार

faridabad-police-arrested-9-accused-for-breaking-lock-down-rule

फरीदाबाद, 26 अप्रैल: फरीदाबाद पुलिस लॉक डाउन के आदेशों की पालना ना करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर रही है। फरीदाबाद पुलिस ने दिनांक 26 अप्रैल को 9 लोगों को गिरफ्तार किया है।

इस दौरान पुलिस ने उल्लंघन करने वालों के खिलाफ 12 f.i.r. भी दर्ज की है। इस दौरान पुलिस ने अनावश्यक रूप से सड़कों पर घूम रहे 140 वाहनों के चालान कर 11 वाहनों को जब्त किया है।

फरीदाबाद पुलिस ने नियमों की पालन ना करने वालों से 46 हजार 900 रुपए जुर्माना वसूला है। पुलिस आयुक्त ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें आवश्यकता पड़ने पर घरों से बाहर निकलते समय मास्क का इस्तेमाल करें।

गोलीकांड में मारे गए अन्नी मर्डर केस में CIA DLF ने राजेंद्र पाली और राहुल को किया गिरफ्तार

faridabad-anni-murder-case-rajendra-pali-rahul-arrested-by-dlf-cia-news


फरीदाबाद, 25 अप्रैल:  आपको बताते चलें कि दिनांक 24 फरवरी 2020 को रात करीब 11:30 बजे राहुल उर्फ बब्बू पुत्र ज्ञानचंद निवासी गांव में भैंसरावली फरीदाबाद अपने दो दोस्तों धर्मेंद्र उर्फ भूरा एवं अनिल उर्फ अनी के साथ धर्मा ढाबा पर खाना खाने के लिए जा रहे थे।

तभी आरोपी राजेंद्र एवं राहुल पुत्र मांगेराम, कुल्लू अपने अन्य साथियों के साथ आकर धर्मेंद्र उर्फ भूरा एवं अनिल उर्फ अनी पर गोलियां चला दी और अपनी गाड़ियों में सवार होकर मौके से फरार हो गए थे। बाद में इलाज के दौरान अन्नी की मौत हो गयी.

जिस पर थाना बीपीटीपी में मुकदमा नंबर 45 आईपीसी की धारा 148, 149, 341, 307, 302, 427, 506, 120बी 34, एवं 25-54-59 आर्म एक्ट के तहत दर्ज किया गया था।

पुलिस आयुक्त के के राव ने मामले की गंभीरता को देखते हुए मामले की जांच एवं आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच डीएलएफ को सौंपा गया था।

जिस पर क्राइम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी व उनकी टीम ने विशेष सूत्रों से मिली सूचना के आधार परवारदात में शामिल दो आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है।

गिरफ्तार आरोपी

1. राजेंद्र पुत्र श्री चंद निवासी गांव पाली फरीदाबाद।
2. राहुल पुत्र मांगेराम निवासी गांव फिरोजपुर थाना धौज।

प्रभारी क्राइम ब्रांच डीएलएफ ने बताया कि अनिल उर्फ अनी को गोली लगने से अस्पताल में मौत हो गई थी।

आरोपियों को विशेष सूत्रों से मिली सूचना के आधार पर एनसीआर एरिया से गिरफ्तार किया गया है।

प्रभारी क्राइम ब्रांच ने बताया कि आपसी रंजिश के चलते आरोपियों ने वारदात को अंजाम दिया था।

उन्होंने बताया कि आज आरोपीयों को अदालत में पेश कर 2 दिन का पुलिस रिमांड लिया गया है रिमांड के दौरान आरोपियों से वारदात में प्रयोग की गई गाड़ी बरामद की जाएगी इसके अलावा आरोपियों के अन्य साथियों के बारे में पूछताछ की जाएगी।