Followers

Showing posts with label Faridabad Police. Show all posts

Faridabad: पुलिस फ्लैग दिवस के तीसरे दिन बैडमिंटन मैच का किया गया आयोजन, जानिये रिजल्ट

faridabad-news-police-flag-day-badminton-match-result

फरीदाबाद, 23 अक्टूबर: आज दिनांक 23 अक्टूबर 2020 को पुलिस लाइन सेक्टर 30 में पुलिस फ्लैग दिवस के तीसरे दिन बैडमिंटन मैच का आयोजन किया गया।

इस दौरान एनआईटी जोन और क्राइम ब्रांच के बीच एवं बल्लभगढ़ जॉन और एनआईटी जॉन के बीच मुकाबले हुए।

उपरोक्त मुकाबलों में बेहतरीन प्रदर्शन दिखाते हुए एनआईटी जॉन ने क्राइम ब्रांच को हराकर जीत हासिल की, इसके अलावा बल्लभगढ़ जॉन ने एनआईटी जॉन को हराया।

ऑफिस स्टाफ और एनआईटी जोन के बीच हुए मुकाबले में ऑफिस स्टाफ ने जीत हासिल की।

क्राइम ब्रांच और ऑफिस स्टाफ के बीच हुए मुकाबले में क्राइम ब्रांच ने ऑफिस स्टाफ को हराया।

इसके अलावा सिंगल पर्सन के बीच भी मुकाबले कराए गए जिसमें ऑफिस स्टाफ ने बाजी मार कर जीत हासिल की।

मैच के दौरान मौजूद पुलिस अधिकारियों ने बैडमिंटन मैच का भरपूर आनंद उठाया और पुलिसकर्मियों को उनकी खेल के प्रति भावना का भी सम्मान किया।

Faridabad: पुलिस की टीमों के बीच हुआ क्रिकेट और बॉलीबाल मैच, पढ़ें क्या रहा रिजल्ट

faridabad-news-police-smriti-divas-cricket-match-result

फरीदाबाद, 22 अक्टूबर: फरीदाबाद: फरीदाबाद पुलिस, पुलिस फ्लैग दिवस 10 दिनों तक प्रत्येक दिन अलग-अलग कार्यक्रमों के साथ आयोजन कर रही है।

पुलिस फ्लैग दिवस के दूसरे दिन फरीदाबाद पुलिस ने पुलिस लाइन सेक्टर 30 में सुबह के समय वॉलीबॉल मैच का आयोजन किया।

इस दौरान एनआईटी जोन और सेंट्रल जोन के पुलिस कर्मियों के बीच मुकाबला हुआ।

दूसरी तरफ ट्रैफिक पुलिस और ऑफिस स्टाफ के बीच यह मुकाबला हुआ।

वॉलीबॉल मुकाबलों के बीच सेंट्रल जोन ने एनआईटी जोन को हराकर जीत हासिल की। ऑफिस स्टाफ ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए ट्रैफिक पुलिस को हराकर जीत अपने कब्जे में की।

क्रिकेट मैच मुकाबला की बात की जाए तो कांटे का मुकाबला हुआ। क्रिकेट 20-20 मैच का मुकाबला बल्लभगढ़ जॉन, सेंट्रल जॉन, ट्रैफिक पुलिस की टीम और एनआईटी जोन, क्राइम ब्रांच, ऑफिस की टीम के बीच हुआ।

मुकाबले में इंस्पेक्टर संदीप मोर की टीम ने बाजी मारी और ट्वेंटी-20 क्रिकेट मैच की जीत अपने कब्जे में ली।

मैच का मुकाबला देखने के लिए मैदान में मौजूद पुलिस अधिकारियों ने पुलिसकर्मियों के द्वारा किए गए बेहतर प्रदर्शन की सराहना की है।

फरीदाबाद में हर पुलिसकर्मी के पास रहेगी बदमाशों की लिस्ट, अब इनकी खैर नहीं: CP ओपी सिंह

faridabad-criminal-list-provided-to-every-policemen-says-cp-op-singh

फरीदाबाद, 19 अक्टूबर: कार्यालय पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद में कमिश्नरेट के सभी पुलिस उपायुक्तों तथा सहायक पुलिस आयुक्तों की संगोष्ठी के दौरान पिछले सप्ताह दिए गए कार्यों के निष्पादन की जानकारी लेते हुए पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद ओ॰पी॰ सिंह द्वारा कहा गया कि फरीदाबाद जिले में बदमाशों की अब खैर नहीं है, क्योंकि अब जिले में तैनात पी॰सी॰आर॰, राइडर, नाका व गस्त पार्टी सहित हर पुलिस कर्मी के पास बदमाशों के नाम, पता व फोटो व उनके आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी है। 

एक विशिष्ट मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए अब उनकी तुरंत पहचान कर ली जाएगी। इसके अतिरिक्त सूचनाओं के आदान-प्रदान की गोपनीयता को बनाए रखने के लिए व्हाट्सेप की बजाए पुलिस बेतार प्रणाली पर ही लौट रही है। इसके जिला रेडियो अधिकारी (डी॰आर॰ओ॰) द्वारा पुलिस कर्मियों को अतिरिक्त प्रषिक्षण दिया जा रहा है। 

कार्यसिद्धि का मंत्र प्रदान करते हुए श्री सिंह द्वारा कहा गया कि हमें सर्वप्रथम योग्य और उपयुक्त व्यक्ति को कार्य देना चाहिए। उसके बाद उसमें निरंतर प्रगति की जानकारी लेते रहना चाहिए। तदुपरांत की गई कार्यवाही के रिपोर्ट लेकर उसकी समीक्षा की जानी चाहिए और अगर कोई कमी रही है, तो उचित मार्गदर्शन के साथ पुनः उस कार्य को पूर्ण करने के लिए सौंपा जाए। 

इसके साथ-साथ स्वस्थ और फाइटिंग फिट रहने की युक्ति बताते हुए कहा गया कि शारीरिक सामर्थ्य के अनुसार सुबह-सुबह दौड़ना शरीर को स्वस्थ और फाइटिंग फिट रखने के लिए अति उत्तम है। दौड़ने से शरीर में रक्त संचरण तेज होता है और स्क्त धमनियों के छोटे-मोटे अवरोध स्वतः ही दूर हो जाते है। उत्कृष्ट सेवा निष्पादन के लिए सभी अधिकारियों का आभार प्रकट करते हुए संगोष्ठी का समापन किया गया। 

स्कूली बच्चों को सीपी ओपी सिंह की सलाह, दूसरों की नक़ल करने के बजाय अपना लक्ष्य खुद चुनें

 police-commissioner-op-singh-faridabad-news-17-october

फरीदाबाद: सेक्टर 21 फरीदाबाद स्थित श्रीराम मॉडल स्कूल की अध्यक्षा डॉ अमृता ज्योति व विभागाध्यक्ष अशोक शर्मा सहित उक्त स्कूल की कक्षा ग्याहरवीं के छात्र छात्राओं की एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए पुलिस आयुक्त ओ पी सिंह द्वारा कहा गया कि हमें दूसरों जैसा बनने की कोशिश नहीं करनी चाहिए इसकी बजाय हर व्यक्ति में कोई ना कोई खास खूबी होती है, उसको पहचान कर उसी के मुताबिक अपना करियर तय करना चाहिए। उसी से हम जीवन में कामयाब होते हैं तथा खुश रहते हैं।

हमें उसी काम या नौकरी को करना चाहिए जिसको करने में हमें खुशी मिले और हमारी आजीविका भी चलती रहे। हमें किसी काम को छोटा या बड़ा नहीं समझना चाहिए, इसी में हमारे जीवन की सार्थकता है। इसके अतिरिक्त हमें अपनी समस्याओं का समाधान खुद खोजना चाहिए।

कंप्यूटर के इस युग में इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त सूचना और ज्ञान में फर्क समझना चाहिए। हर सूचना ज्ञान नहीं होती। कुछ सूचनाओं के प्रसार से लोग अपना मतलब हल करने का स्वार्थ भी रखते हैं।

फरीदाबाद पुलिस द्वारा पकड़े गए नशीले पदार्थों को भट्टी में किया गया स्वाहा, CP भी रहे मौजूद

 faridabad-police-cp-op-singh-destroyed-drug-news

फरीदाबाद, 17 अक्टूबर: पुलिस आयुक्त फरीदाबाद ओ पी सिंह व कमिश्नरेट के अन्य उच्चाधिकारियों और जनता के 2 मौजिज व्यक्तियों की उपस्थिति में फरीदाबाद के पुलिस थानों द्वारा पकडे गए नशीले पदार्थों को फरीदाबाद के गाँव जसाना स्थित मेडिकल वेस्ट की विद्युतीय भट्टी में डालकर नष्ट किया गया.

पुलिस कमिश्नरेट फरीदाबाद के 14 पुलिस थानों द्वारा पकड़े गए नशीले पदार्थों जिसमे 197.747 किलोग्राम गांजा, 4.065 किलोग्राम चरस, 86.8 ग्राम स्मैक, 50.87 ग्राम हेरोइन, 4.540 किलोग्राम पॉपी हस्क शामिल था को विद्युतीय भट्टी में डालकर नष्ट कर दिया गया.

श्री सिंह ने कहा कि नशीले पदार्थ व्यक्ति में राक्षस प्रवृति पैदा करने वाले तमोगुणी पदार्थ हैं. जिस मात्रा में नशीले पदार्थ पकडे जा रहे हैं, उसको देखते हुए लगता है कि लोग बड़ी संख्या में इसका प्रयोग करते हैं. उन सब से अपील है कि नशे आदि की लत को छोड़कर समाज के उत्तम नागरिक बनें ताकि समाज से अपराध को समाप्त कर भाईचारा एवं शांति व्यवस्था स्थापित की जा सके.

पढ़ें बीट सिस्टम के सुखद परिणामों से क्यों संतुष्ट हुए पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह

faridabad-police-commissioner-op-singh-happy-with-beat-system

फरीदाबाद: पुलिस कमिश्नरेट, फरीदाबाद के सभी थानों के बीट ऐरिया में नियुक्त सभी बीट अधिकारियों की कार्यालय पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद में आयोजित एक संगोष्ठी के दौरान पिछले सप्ताह के कार्यों की जानकारी लेते हुए पुलिस आयुक्त ओ॰पी॰ सिंह द्वारा कहा गया कि इस कमिश्नरेट की बीट प्रणाली बड़ी प्रभावकारी सिद्ध हो रही है। थाना भूपानी के बीट अधिकारी सिपाही मनोज कुमार ने अपनी बीट के दो वरिष्ठ नागरिकों तक उनकी दवाई पहुँचाने में मदद करके यह सिद्ध कर दिया है कि बीट अधिकारी पारिवारिक स्तर तक जाकर जनता की मदद कर रहे हैं।

बीट अधिकारी अपने बीट ऐरिया में रोजाना 5-7 किलोमीटर पैदल चलकर 50-60 व्यक्तियों से संवाद कायम करते हैं, इससे उनकी समझ विकसित हो रही है, लोगों को पुलिस द्वारा दी जाने वाली सेवाएँ आसानी से प्राप्त हो रहीं हैं तथा जनता अपराधों के प्रति जागरूक हो रही है। 

लोग घर के नौकरों की, सुरक्षा गार्ड़ों की और कर्मचारियों की पुलिस तस्दीक करवा रहे हैं, क्योंकि इनके रूप में कुछ अपराधी लोग भी अपने आप को छुपाकर रखते हैं। कई सोसाइटियों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से गेट लगवाए गए हैं। थाना पल्ला के बीट अधिकारी सिपाही रविंद्र के जागरूक करने के बाद लोगों ने बाइकों में अतिरिक्त और विशेष लॉक लगवाए हैं। 

थाना सैक्टर 58 के बीट अधिकारी ए॰एस॰आई॰ सुरेंद्र के समझाने के बाद शराब की लत छोड़कर एक बेरोजगार व्यक्ति परचून की दुकान चलाई है। इसी प्रकार थाना सैंट्रल के 13 नंबर के जूते वाले बीट अधिकारी सिपाही कुलदीप के मार्गदर्शन के बाद उसकी बीट के क्षेत्र में स्थित ट्रांस्पोट नगर में लोग अपने ट्रकों को व्यस्थित तरीके से खड़े करते हैं और गाड़ियों की भीड़-भाड़ समाप्त हो गई।

थाना एन॰आई॰टी॰ के बीट सिपाही दीपक कुमार के समझाने से उनकी बीट में स्थित एक मंदिर को लेकर दो संप्रदायों में होने वाले विवाद को बातचीत से सुलझा लिया गया। बीट अफसर उप नि॰ महंद्रे सिंह के मार्गदर्शन पर संजय कॉलोनी में 75 सी॰सी॰टी॰वी॰ कैमरे लगवाए गए तथा थाना सारन के बीट अफसर उप नि॰ रामकिशन ने भी अपनी बीट में अनेक विशिष्ट कार्य किए, जिसके आधार पर इन दोनों बीट अधिकारियों को उस्ताद बीट अफसर की उपाधि के साथ-साथ कम अनुभव वाले बीट अफसरों का मार्गदर्शन करने का भी दायित्व दिया गया। उत्कृष्ट सेवा करने वाले बीट अधिकारियों को प्रथम श्रेणी के प्रशंसा पत्र दिए गए और सामान्य रूप से कार्य करने वालों को और अधिक लग्न, मेहनत व निष्ठापूर्वक कार्य करने के लिए प्रेरित किया गया।

Faridabad: जघन्य अपराधों में जमानत पर जेल से बाहर आये 103 अपराधियों के घर जाकर की गयी चेकिंग

 faridabad-police-crime-latest-news

फरीदाबाद, 15 अक्टूबर: पुलिस आयुक्त ओ पी सिंह द्वारा अपराधियों पर नकेल कसने के आदेशों व पुलिस उपायुक्त व सहायक पुलिस आयुक्तों के दिशा निर्देशों पर कार्य करते हुए दिनांक 13 अक्टूबर को रात्रि, फरीदाबाद के प्रत्येक थाना क्षेत्र में रोजाना लगाए जा रहे पुलिस नाकों पर अपराधियों व संदिग्ध व्यक्तियों के वाहनों को रोककर चेकिंग की गई जिसमें पिछले 3 साल में फरीदाबाद में घटित हुए जघन्य अपराधों में जेल से जमानत पर बाहर आए कुल 103 अपराधियों व हिस्ट्रीशीटरों की चेकिंग की गई और 28 स्प्लेंडर मोटरसाइकिल जब्त किए गए।

फरीदाबाद में रोज रात्रि 11 बजे से लेकर सुबह 4:00 बजे तक नाका लगाकर पुलिस प्रशासन फरीदाबाद के नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करती है तथा संदिग्ध प्रकार के व्यक्तियों पर निगरानी रखती है।

फरीदाबाद में घटित हो रहे अपराधों में जेल से जमानत पर बाहर आए अपराधियों का बड़ा हाथ है। यह अपराधी गलत प्रकार की गतिविधियों में संलिप्त रहते हैं तथा अन्य व्यक्तियों को भी इस प्रकार के कार्यों में शामिल होने के लिए लालच देते हैं।

जिस प्रकार एक गंदी मछली पूरे तालाब को गन्दा कर देती है उसी प्रकार एक आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति समाज के अन्य व्यक्तियों को गलत धन्धों में धकेलने का पर्यटन करता है। कुछ व्यक्ति लालच में आकर या मजबूरी के कारण इनके साथ कार्य करने लग जाते हैं और बाद में अपराध के जंजाल में फसते चले जाते हैं।

 इन आपराधिक प्रकार के व्यक्तियों पर लगाम लगाने के लिए पुलिस आयुक्त ने अपने अधीनस्थ पुलिस अधिकारियों को उनपर नजर रखने के लिए नाकों पर अपराधियों से पूछताछ करने व उन पर निगरानी रखने के आदेश दिए। 

पुलिस कमिश्नर ने अपने पुलिस अधिकारियों को प्रोत्साहित करते हुए उनको उनके द्वारा किए जा रहे हैं पुलिस कार्यों के लिए शाबाशी दी और भविष्य में भी ऐसे ही इमानदारी और पूरी निष्ठा से कार्य करने के लिए प्रेरित किया।

फरीदाबाद में भय के कारण जो लोग FIR दर्ज नहीं कराते, अब वह घबराएँ नहीं: CP OP SINGH

faridabad-cp-op-singh-news-14-october-how-to-fir-thana

फरीदाबाद, 14 अक्टूबर: पुलिस उपायुक्त, क्राइम मुकेश कुमार, पुलिस उपायुक्त, मुख्यालय-श्री अर्पित जैन, सहायक पुलिस उपायुक्त, क्राइम अनिल कुमार तथा सभी क्राइम ब्रांच प्रभारियों की संगोष्ठी के दौरान पिछले सप्ताह किए गए कार्यों का ब्यौरा लेते हुए पुलिस आयुक्त ओ पी सिंह द्वारा कहा गया कि क्राइम ब्रांच सैक्टर 48 में पकड़े गए चोर से पूछताछ के दौरान एक ऐसी चोरी का खुलासा हुआ जिसकी कोई एफआईआर दर्ज नहीं थी।

चोरी एक बुढ़िया के घर में की गई थी। पुलिस द्वारा उस वृद्धा से शिकायत लेकर एफआईआर दर्ज की गई और रिकवर किया गया चोरी का माल उसके हवाले किया गया। 

अतः ऐसे कार्यों में बिना डर या हिचकिचाहट के शिकायत कर अभियोग अंकित करवाएँ। इस कमिश्नरेट की पुलिस फरीदाबाद की जनता की सेवा, सुरक्षा और सहयोग के लिए वचनबद्ध और तत्पर है।

फैमली डॉक्टर की तरह अब फरीदाबाद की जनता को मिला फैमली पुलिस ऑफिसर: OP Singh CP Faridabad

 cp-faridabad-op-singh-give-family-police-officer-to-public

फरीदाबाद: कार्यालय पुलिस आयुक्त में आयोजित बीट अधिकारियों की एक संगोष्ठी के दौरान गत सप्ताह में उनके द्वारा उनके बीट ऐरिया में किए गए कार्यों को ब्यौरा लेते हुए पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद ओ॰पी॰ सिंह द्वारा कहा गया कि फरीदाबाद में एक प्रभावशाली बीट सिस्टम लागू होने से लोगों को फैमली डॉक्टर की तरह एक फैमली पुलिस ऑफिसर भी मिल गया है।

इस सिस्टम के अंतर्गत हर थाने के ऐरिया को बीटों में विभाजित करके एक बीट अधिकारी नियुक्त किया गया है, जिसके द्वारा घर-घर जाकर लोगों के बारे में जानकारी ली गई और उनको अपनी जानकारी व मोबाइल नंबर दिया है तथा पुलिस विभाग से जुडे़ जिन कार्यों में वे जनता की मदद कर सकते हैं, उनकी जानकारी भी साझा की गई है।

बीट अधिकारी अपनी बीट के ऐरिया में लगभग 80 लोगों से रोजाना संवाद कायम करते हैं। फैमली पुलिस ऑफिसर होने के नाते जनता और पुलिस दोनों को इसका लाभ प्राप्त हुआ है। 

बीट प्रणाली से जनता को अनेकों प्रकार से लाभ प्राप्त हुए हैं जैसे की-

संदेहजनक फोन कॉल के बारे में प्रतिक्रिया देने से पहले या कोई सामूहिक कार्यक्रम करने से पूर्व लोग अपने बीट अधिकारी से सलाह लेते हैं।

पुलिस विभाग से जुडे़ उनके कार्य आसानी से हो रहे हैं।

आवारा बच्चों ने ऐरिया में हुड़दंगबाजी करनी बंद कर दी है।

महिलाएँ कहती हैं कि उनके पति जो दारू पीकर मारपीट करते थे, अब वे ऐसा नहीं करते हैं। 

ए॰टी॰एम॰ से पैसे निकलने वाले कम पढ़े लिखे लोगों की मदद के बहाने से उनके ए॰टी॰एम॰ को स्केन करने वाले बदमाश अब ए॰टी॰एम॰ के आस पास भी नहीं दिखते।

बीट के निर्जन स्थानों में होने वाली शराबखोरी और जुआ आदि बंद हो गए हैं। 

बच्चे अवारागर्दी छोड़कर पढ़ाई और खेलकूद की और अग्रसर हो रहे हैं। 

लोगों को बीट अधिकारी के व्हाट्सेप ग्रुप के माध्यम से अपराधियों से बचने की युक्तियों का पता चला है।

गली, मोहल्ले और घर के कहासुनी जैसे छोटे-मोटे विवाद बीट अधिकारी के पास फोन करने से ही निपट जाते हैं। 

वरिष्ठ नागरिक, जिनके बच्चे विदेश में रहते हैं, उनके पास बीट अधिकारियों का मोबाइल नंबर होने से वे अपने आपको सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। 

जागरूक किए जाने के कारण वाहन चोरियों की वारदातों में भी कमी आई है। 

महिलाएँ भी मोबाइल और चैन स्नैचिंग के अपराधों के प्रति सतर्क और जागरूक हो रही हैं। 

लोगों को अपराध की दुनिया की दुर्दशा की जानकारी मिली है और पता चला है कि एक मुकदमा केंसर से कम नहीं होता। इसलिए लोग संयम में रहने लगे हैं।

अधिकतर विवादों को लोग आपसी बातचीत के जरिए निपटाने लगे हैं, क्योंकि उनको समझ आ गया है कि गोली वहीं चलती है जहाँ बोली नहीं चलती। 

इसी प्रकार बीट सिस्टम लागु होने से पुलिस विभाग को लाभ हुए हैं जोकि इस प्रकार है-

जनता से पुलिस को सत्य एवं उपयोगी सूचना नियमित प्राप्त हो रही हैं, जिनके कारण अपराध पर नियंत्रण करने में मदद मिल रही है।

जनता पुलिस को अपना मित्र समझकर हर संभव सहयोग दे रही है। 

पैदल घूमने से स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ बीट ऐरिया की स्थल आकृति का पता लगा है।

बीट सिस्टम से ऐरिया की जानकारी के साथ-साथ लोगों से जान पहचान भी बढ़ी।

पुलिस को समाज के बच्चे, युवा व बुजर्गों से बहुत सम्मान मिल रहा है, इसलिए अब ड्यूटी कोई बोझ प्रतीत नहीं होती।

एस॰एच॰ओ॰ की तरह एक सिपाही और मुख्य सिपाही को भी अपने इलाके को संभालने का अनुभव मिल रहा है। 

पुलिस कमिश्नर ने फरीदाबाद के नागरिकों से अपील की कि कानूनी रूप से अयोग्य बच्चों को चलाने के लिए अपनी गाड़ी न दें. अपने कीमती सामान को बैंक के लॉकर में ही रखें। कोविड-19 के कारण दो गज की दूरी को ध्यान में रखते हुए अपने ऐरिया में बच्चों की खेलकूद आदि की प्रतियोगिताओं का आयोजन करें और उचित इनाम देकर उनका उत्साहवर्धन करें, ताकि बच्चे आपराधिक प्रवृति से बचे रहें और इसी प्रकार पुलिस-पब्लिक एकता को बनाए रखने के सन्देश के साथ ही संगोष्टी का समापन किया गया.

CP ने IT को सौंपी ड्रग तस्करों, जबरन वसूली, जमाखोरी और पानी का अवैध व्यापार करने वालों की लिस्ट

faridabad-police-commissioner-op-singh-income-tax-list

फरीदाबाद: सायंकालीन सत्र के दौरान कार्यालय पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद में आयकर विभाग के अधिकारियों के साथ की गई एक संगोष्ठी में उनको एक सूची सौंपते हुए पुलिस आयुक्त ओ॰पी॰ सिंह ने बताया कि यह नशीले पदार्थों की तस्करी, सूदखोरी, जबरन वसूली और पानी के अवैध व्यापार आदि से पैसा कमाने वाले उन व्यक्तियों की वह सूची है, जो एक विशिष्ट पुलिस दस्ते द्वारा तैयार की गई है। 

आयकर विभाग के अधिकारियों को यह जानकारी देते हुए ओ पी सिंह ने क्हा कि ये वह लोग हैं, जो असामाजिक कार्यों से धन कमाते हैं और सरकार से टैक्स की चोरी भी करते हैं। आयकर विभाग के अधिकारियों से यह अपेक्षा की गई कि इन लोगों की कमाई और संपत्ति की जाँच की जाए तथा दोषी पाए जाने पर इनके विरूद्ध कानूनी कार्यवाही की जाए, ताकि फरीदाबाद को अपराध मुक्त किया जा सके। 

पुलिस आयुक्त ने बताया कि फरीदाबाद पुलिस समाज में घटित हो रहे अपराधों पर लगाम लगाने की पूरी कोशिश कर रही है और इसके लिए कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। पुलिस प्रशासन अनेक तरिकों से आपराधिक प्रवर्ति के व्यक्तियों पर शिकंजा कस रही है। पुलिस अधिकारी नागरिकों को समाज में घटित होने वाले अपराधों के बारे में जागरुक कर रहे हैं। अपराधियों को पकड़वाने व आपसी भाईचारे की भावना को बढावा देने के लिए लोगों को प्रेरित किया जा रहा है।

आयकर विभाग के अधिकारियों ने भी अवैध संसाधनो से पैसा कमाने वाले व्यक्तियों पर कानूनी कार्यवाही करने के बात कही और इसके साथ ही संगौष्ठी का समापन किया गया।

फरीदाबाद में अपराधियों पर शिकंजा कसने का किया गया दावा, पुलिस ने दिया ये उदाहरण, पढ़ें

faridabad-nimka-jail-criminals-news

फरीदाबाद, 7 अक्टूबर: फरीदाबाद पुलिस ने अपराधियों पर शिकंजा कसने का दावा किया है और नीमका जेल का उदाहरण देते हुए कहा गया है कि जेल में सजा काट रहे अपराधियों से जाकर बार-बार मुलाक़ात करने वाले असामाजिक तत्व नदारद हो गए हैं.

कार्यालय पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद में आयोजित एक संगोष्ठी के दौरान डी॰सी॰पी॰ व ए॰सी॰पी॰ क्राइम और क्राइम ब्रांच प्रभारियों से गत सप्ताह उनके द्वारा किए गए कार्यों की जानकारी लेकर पुलिस आयुक्त ओ॰पी॰ सिंह ने कहा कि अपराध शाखा अपराधों के अनुसंधान और रोकथाम में पूरी मेहनत और लगन के साथ कार्य कर रही है, जिसके फलस्वरूप बंदी अपराधियों से बार-बार जेल में जाकर मुलाकात करने के लिए जाने वाले असमाजिक और शरारती तत्व नदारद हैं। इसके बावजूद भी ऐसे लोगों पर भी नजर रखी जा रही है। हमारा संकल्प है कि या तो ऐसे लोग सद्मार्ग पर आ जाएँ या यहाँ से दूर भाग जाएँ।

गत सप्ताह किए गए कार्यों की प्रशंसा करते हुए श्री सिंह ने कहा कि हमारे द्वारा किए गए संकल्प की पूर्ति हेतु अनुसंधान के दौरान बार-बार अपराध करने वालों का पता लगने पर उनकी पर्सनल फाइल या हिस्ट्रीसीट खोल दी जाए तथा पहली बार अपराध करने वाले व्यक्तियों के अपराध करने का कारण या मजबूरी का पता लगाया जाए तथा उन्हें अपराध की दुनिया की दुर्दशा से अवगत करवाकर और समझा बुझाकर इससे दूर रहने और एक अच्छा नागरिक बनने के लिए प्रेरित किया जाए। 

अपराधिक प्रवृति के लोगों की फोटो सहित सूची तैयार करके हर थाना में उपलब्ध करवाए जाने की भी बात कही गई ताकि नाका, पी॰सी॰आर॰, राइडर या गस्त पार्टी द्वारा संदिग्ध व्यक्तियों के अपने मोबाइल फोन से फोटो उतार कर एक विशेष मोबाइल एप्पलीकेशन की सहायता से उसका पता लगाया जा सके कि कहीं इस व्यक्ति का कोई आपराधिक रिकॉर्ड तो नहीं है। 

संगोष्ठी में उपस्थित अधिकारियों का हौसला अफजाही करते हुए कहा गया कि पुलिस अधिकारी हमेशा फाइटिंग फिट और बहुप्रतिभावान होना चाहिए, वह तभी वह पुलिस ड्यूटी जैसे चुनौती भरे दायित्वों का सफलतापूर्वक निर्वहन कर सकता है। भविष्य में इसी प्रकार मेहनत और लग्न से कार्य करने के लिए प्रेरित रहें। समय और ध्यान मनुष्य के पास दो ऐसी चीजें हैं, जिन्हें वह जिस दिशा में लगाएगा, उसी दिशा में वह सफल होता चला जाएगा। इतना कहकर संगोष्ठी का समापन कर दिया गया।

CP OP Singh की अपील, बुरे लोगों, अपराधियों को अपना नेता न बनाए फरीदाबाद की जनता

faridabad-op-singh-advised-public-to-make-good-leader

फरीदाबाद: कार्यालय पुलिस आयुक्त में आयोजित जिले के गणमान्य व्यक्तियों की एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए पुलिस आयुक्त OP Singh ने कहा कि फरीदाबाद की जनता से अपील है कि वह आपराधिक प्रवृति के लोगों की न तो जमानत दें और न ही उनको अपना नेता बनाएँ, क्योंकि इससे वे अपनी आपराधिक प्रवृति को बदलने की बजाए समाज में केवल अपनी छवि सुधारकर इसकी आड़ में सफाई से अपराध करने का अपना रास्ता साफ करना चाहते हैं। पुलिस प्रशासन चाहता है कि फरीदाबाद की जनता अपने आपको सुरक्षित महसूस करे। इसके लिए उनसे अपेक्षा है कि भय या लालच में कोई कार्य न करें। 

कई बार शीघ्र पैसा कमाने के लालच या पैसा गवाँ देने के भय के कारण फोन कॉल के माध्यम से किसी अनजान और आपराधिक व्यक्ति की बातों पर विश्वास करके लोग अपने फोन पर आया ओ॰टी॰पी॰, पिन या अकाउंट डिटेल बता देते हैं और अपना सारा कमाया हुआ धन खो देते हैं। अतः साइबर अपराध से बचने के लिए किसी के साथ अपना ओ॰टी॰पी॰, पिन या अकाउंट डिटेल साझा न करें। 

अपराध को मूल रूप से समाप्त करने के लिए आवश्यक है कि किशोर बालक-बालिकाओं के सद्चरित्र निर्माण पर ध्यान दिया जाए, क्योंकि इस आयु के बच्चे शीघ्रभेद्य होते हैं और इनको अच्छाई या बुराई के किसी भी रास्ते पर आसानी से ले जाया जा सकता है। सुनिश्चित किया जाए कि बच्चे माता-पिता या अध्यापकों के पूर्ण रूप से निकट संपर्क में रहे और अपने मन के सभी भावों को साझा करें। किशोरों के साथ मित्रवत व्यवहार करके उन्हें सद्मार्ग पर ले जाया जाए और समाज को एक उत्तम नागरिक प्रदान किया जाए। 

युवावस्था में सामाजिक बुराई का रास्ता आकर्षक लगता है और बच्चे आसानी से नशा, व्यसन या अपराध की दुनिया में चले जाते हैं। इस आयु के बच्चों को पैसे कमाने के शॉर्टकट का लालच देकर साइबर क्राइम में भी धकेला जा रहा है। अतः बच्चों के प्रति सतर्कता बरतनी जरूरी है। बच्चे आजकल चैट के माध्यम से गलत व्यक्तियों के संपर्क में आ जाते हैं। हमारे द्वारा भी ‘टीनेज पुलिस‘ नाम से किशोरों के लिए एक विशेष कार्यक्रम चलाया जा रहा है, जिसके तहत उनके मन की बात जानकर उन्हें उत्तम चरित्र का निर्माण करने के लिए प्रेरित किया जाता है। 

यदि समाज में एक भी अपराध प्रवृति का व्यक्ति पैदा होता है, तो उसको सुधारने के लिए समाज और सरकार के कितना समय व संसाधन खर्च होते है। इसके अतिरिक्त वह चाहते हैं कि बिना सरकार से कोई अतिरिक्त बजट लिए फरीदाबाद को सुरक्षित किया जाए जिसके लिए फरीदाबाद की जनता पुलिस का भरपूर सहयोग करे। 

चोरी पर रोक लगाने के लिए पुलिस आयुक्त ने कहा कि अपने घर, दूकान व कार्यालयों में कैमरे लगवाएँ तथा अपने ऐरिया की सुरक्षा के लिए गार्ड रखें| यह सुरक्षा का एक उत्तम उपाय है। आपसी झगड़ों से बचने के लिए एक अच्छे पड़ौसी बने और किसी बात पर कोई मनमुटाव हो तो आपसी बातचीत के जरिए विवाद को सुलझाकर मुकदमे रूपी केंसर और कचहेरी की कचकच से बचें। यदि अच्छे व्यक्ति समाज में सक्रिय नहीं रहेंगे तो बदमाश सक्रिय हो जाएँगे। अपने आपको इस काबिल बनाएं कि कुछ लोगों को रोजगार उपलब्ध करवा सकें। 

संगोष्ठी में उपस्थित कुछ लोगों ने अपने-अपने क्षेत्र की कुछ छोटी-मोटी समस्याओं का भी जिक्र किया, जिन्हें नोट कर लिया गया और दूर करने का भी आश्वासन भी दिया गया। सभी ने बीट सिस्टम की प्रशंसा की और कहा कि जैसे फैमली डॉक्टर होता है, उसी प्रकार उन्हें इस सिस्टम से एक फैमली पुलिस वाला मिल गया है, जिसके माध्यम से पुलिस से जुड़े जनता के छोटे-मोटे काम आसानी से हो रहे हैं, अन्यथा पुलिस से सम्बंधित कोई छोटा-सा भी कार्य होने पर किसी पुलिस के जानकार को ढूँढना पड़ता था। बैठक में उपस्थित लोगों ने भी भरोसा दिलाया कि वे पुलिस की हर संभव मदद करने के लिए तैयार है। इस प्रकार पुलिस पब्लिक एकता के इस कार्यक्रम में जनता के सहयोग के लिए उनका आभार प्रकट करते हुए संगोष्ठी का समापन किया गया।

बीट ऑफिसर मतलब फॅमिली पुलिस ऑफिसर: पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह

 faridabad-police-beat-incharge-will-have-to-behave-family-police

फरीदाबाद, 5 अक्टूबर: पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह ने करीब 1 महीने पहले फरीदाबाद में बीट सिस्टम को जनता से सीधे संवाद के लिए लागू किया था। 

उनके द्वारा किए गए इस कार्य की सराहना जनता कर रही है।

लागू की गई बीट प्रणाली में करीब 597 बीट ऑफिसर तैनात है, जोकि अभी तक घर घर जाकर करीब 80,000 लोगो से मिल चुके है।

श्री ओपी सिंह ने कहा कि पुलिस वैसी ही होगी जैसी जनता चाहेगी, बीट ऑफिसर लगातार लोगो से संवाद करके लोगो से पुलिस प्रणाली से संबंधित सुझाव ले रहे हैं।

पुलिस जनता के अनुसार जमीनी स्तर पर कार्य कर रही है।

बीट ऑफिसर अपने साथ डायरी रखते हैं और डोर टू डोर जाकर लोगों से बातचीत कर रहे हैं।

बीट सिस्टम के माध्यम से फरीदाबाद पुलिस जनता के बहुत करीब आई है। बीट सिस्टम ने जनता और पुलिस की दूरी को कम करने का काम किया है।

बीट ऑफीसर लोगों की समस्याओं को सुनते हैं और उनके अनुसार ही उनका निपटारा करते हैं। लोगों की सुविधा अनुसार बीट सिस्टम में इंप्लीमेंट किया जा रहा है।

पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह ने कहा कि बीट सिस्टम को लागू करने का मुख्य उद्देश्य लोगों में सुरक्षा के भाव को पैदा करना और पुलिस पब्लिक रिलेशनशिप को बढ़ावा देना है।

पुलिस के द्वारा बीट सिस्टम से संबंधित फीडबैक भी लोगों से लिए जा रहे हैं जिसमें लोगों ने बताया कि उन्होंने बीट सिस्टम कार्य की सराहना करते हुए कहा कि हमारे लिए पुलिस हमारा बीट ऑफीसर होता है जब भी हमें कोई परेशानी होती है तो हम अपने बीट ऑफिसर से बात करते हैं इससे पहले हमें चौकी एवं थाना के चक्कर लगाने पड़ते थे।

लोगों ने पुलिस कमिश्नर श्री ओपी सिंह के कार्य की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने जनता के हिसाब से पुलिस की कार्यप्रणाली में बदलाव किया है जोकि सराहनीय कदम है।

श्री सिंह ने कहा कि बीट ऑफीसर मतलब फैमिली पुलिस ऑफिसर, अपनी बीट में पुलिस ऑफिसर लोगों से दोस्ती नुमा व्यवहार करेगा और सभी से मिलता-जुलता रहेगा जिससे कि एरिया मे रह रहे अच्छे और बुरे लोगों का ज्ञान भी होगा।

शिकायतकर्ता की हर संभव सहायता करे पुलिस, अपराधियों को दिलवाए कड़ी सजा: DCP अर्पित जैन, IPS

 faridabad-dcp-dr-arpit-jain-ias-order-strict-action-against-crime

फरीदाबाद, 1 अक्टूबर: पुलिस उपायुक्त मुख्यालय डा० अर्पित जैन ने आज अपने कार्यालय सेक्टर 21C में NIT जोन के सहायक पुलिस आयुक्त तथा थाना व चौकी प्रभारियों के साथ बैठक कर उन्होंने पुलिस अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

बैठक में उन्होंने कहा कि हमारा सबका फर्ज  नागरिकों की हर संभव सहायता करना है ताकि उनमें सुरक्षा की भावना पनपे व जनता में पुलिस के प्रति सोच को साकारात्मक दिशा प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन का यह कर्तव्य बनता है कि वह आमजन के हितों की रक्षा के लिए हर वक्त उनके साथ खड़े हों।

डा० अर्पित जैन ने क़हा कि अच्छे प्रशासन से ही एक कल्याणकारी समाज का निर्माण होता है प्रशासन की नीतियाँ ही यह निर्धारित करती हैं कि समाज का आने वाला भविष्य किस दिशा में प्रगति करेगा अच्छा प्रशासन ही समाज को सकारात्मक दिशा प्रदान करता है तथा उनकी प्रशासन से सम्बंधित आवश्यकताओं की पूर्ति करता है।

सकारात्मक विचार ही मनुष्य को अपने जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा देते है। इसलिए विपरीत परिस्थितियों में भी हमें हौसला नहीं हारना चाहिए तथा मुसीबतों से डटकर सामना करना चाहिए।

इसके साथ ही उन्होंने  निर्देश देते हुए पुलिस अधिकारीयों से कहा कि अपने क्षेत्र के सीसीटीवी कैमरों को चेक करवाएं क्यूंकि सीसीटीवी कमरे किसी अपराधी को पकड़वाने में अहम् भूमिका अदा करते है। कई बार अपराधी वारदात को अंजाम देकर घटनास्थल से फरार हो जाता है और किसी अन्य व्यक्ति की नजर से बच जाता है परन्तु यदि घटनास्थल के आस पास कोई कैमरा लगा हुआ है तो उसकी तस्वीर कैमरे मे कैद हो जाएगी और इस तरह से उस अपराधी को आसानी से पकड़ा जा सकता है।इसलिए आप अपने क्षेत्र में लगे हुए कैमरों को चेक करवाएं और यदि उनमे कोई खामी मिलती है तो उसे जल्द ठीक करवाएं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शिकायतकर्ता को जब थाने में बुलाया जाता है तो उन्हें बताए गए उचित समय पर उनसे मुलाकात करें। कई बार शिकायतकर्ता को पुलिस अधिकारिओं से मिलने में काफी समय तक इंतज़ार करना पड़ता है जिसकी वजह से उनके समय की बर्बादी होती है।

कुछ व्यक्ति तो इतने गरीब होते है कि यदि लम्बे इंतज़ार के चलते वह मजदूरी पर भी नहीं जा पाते जिसकी वजह से उनको उनके एक दिन की मजदूरी की हानि होती है जो उस गरीब व्यक्ति के लिए अति महत्वपूर्ण है। इसलिए ऐसी छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखें जो किसी फरियादी के दुख को दूर कर सके।

पुलिस अधिकारियों का समाज में सकारात्मक प्रभाव बना रहे इसके लिए उनको चाहिए कि समाज के मुख्य व्यक्तियो के साथ संपर्क बनाए रखें ताकि वह भी पुलिस प्रशासन की सहायता करने में अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी पेट्रोल पंप के मालिकों, दुकानदारों, प्रधानों व सरपंचों के साथ बैठक आयोजित करते रहे और उन्हें जागरूक करें कि वाहन चोरी, घर की चोरी इत्यादि से कैसे बचें और साइबर ठगी के प्रति जागरूक करें की साइबर ठगी से कैसे बचा जा सकता है। एक जागरूक नागरिक भी बिना वर्दी की पुलिस होता है।

अपराध पर नियंत्रण करने के लिए उन्होंने कहा कि सभी पुलिस अधिकारी उनके क्षेत्र में रह रहे आपराधिक प्रवर्ति वाले व्यक्तियों की सूची बनाए तथा उसे अपने कर्मचारियों व आम जनता तक पहुंचाएं ताकि उन्हें भी यह पता रहे कि हमारे समाज में कोनसा व्यक्ति किस प्रवृति का है तथा आपराधिक प्रवृर्ति वाले व्यक्ति के प्रति सजग रहकर समाज में घटित होने वाले अपराधों को रोका जा सके।

बैठक के अंत में जुआ और अवैध नशे के कारोबारियों पर रोक लगाने के लिए उन्होंने बताया की पुलिस अधिकारी अपने क्षेत्र के जुआ खिलाने वाले व अवैध नशे के कारोबारियों की सुची बनाए और इसकी सूचना पुलिस उपायुक्त कार्यालय में दे, जिसे इनकम टैक्स विभाग को भेजा जा सके। इससे अवैध स्रोतों से काली कमाई करने वाले के खिलाफ इनकम टैक्स विभाग भी उनपर कड़ी कार्यवाही कर सकेगा।

फरीदाबाद को अपराध मुक्त बनाने के लिए CP Faridabad ने बताये कुछ और जरूरी एक्शन-प्लान, पढ़ें

faridabad-cp-op-singh-told-some-tips-to-end-crime-in-city

फरीदाबाद, 29 सितम्बर: पुलिस आयुक्त ओ पी सिंह ने आज सुबह पुलिस कमिष्नरेट, फरीदाबाद के सभी पुलिस उपायुक्तों तथा सहायक पुलिस आयुक्तों को बैठक के दौरान कहा कि फरीदाबाद को हर तरह के अपराध से मुक्त करने के लिए विभिन्न युक्तियाँ अपनाई जा सकती हैं। जैसे कि जेल से सजा पूर्ण होने उपरांत, पेरोल पर या जमानत पर आए बंदी अपराधियों से संपर्क बनाए रखने वाले व्यक्तियों तथा फरीदाबाद में सक्रिय सभी अपराधियों की फोटो सहित पूर्ण विवरण के साथ एक सूची सभी नाकों, पीसीआर, राइडर व गस्त पार्टियों को उपलब्ध करवा दी जाए। इस सूची में से रोजाना पाँच-सात लोगों से पुलिसकर्मी मिलें और उनके साथ वार्तालाप करें।

उन्होंने कहा कि फरीदाबाद को अपराध मुक्त करना ही हमारा लक्ष्य है। कई बार व्यक्ति बड़े मामूली कारणों से अपने लक्ष्यों से भटक जाता है और अपराध की दुनिया में पहुँच जाता है। हर प्रकार की सजा का अंतिम उद्देश्य व्यक्ति की सोच में सुधार करके उसे एक नई दिशा प्रदान करना है। इसके लिए उससे बातचीत करना, उनके दुख तकलीफ में उनकी छोटी-मोटी मदद कर देना या संभव हो तो उन्हें कोई काम दिलवा देना आदि कार्य करके भी उनकी सोच में परिवर्तन किया जा सकता है और उन्हें अपराध की दुनिया से बाहर निकाला जा सकता है।

जिस प्रकार चावला कालोनी पुलिस चौकी प्रभारी उप निरीक्षक कृष्ण कुमार द्वारा अग्रसेन पार्क में आयोजित एक बाल रस्सा-कस्सी प्रतियोगिता के दौरान बच्चों को पेन वितरित करके उन्हें सन्देश दिया कि वे पढ़-लिखकर समाज में एक अच्छे इन्सान बने और कलम की ताकत को समझे तथा एक अच्छे समाज के निर्माण में अपना योगदान दें। इसी प्रकार ‘सर्तकता से सुरक्षा‘ और ‘आओ पुलिस के मददगार‘ आदि अभियानों का अपराध जैसी सामाजिक बुराई को समाप्त करने का माध्यम बनाया जा सकता है। 

यदि समाज का एक व्यक्ति अपराध का रास्त पकड़ लेता है, तो उसे सुधारने के लिए न जाने कितना सरकारी खर्च व समय बर्बाद होता है। संसार सोच से चलता है। व्यक्ति जैसा सोचता है, वैसा ही बन जाता है। कहते हैं - छोटी सोच और घुटने की मौच मनुष्य को आगे नहीं बढ़ने देती। इस प्रकार युक्तियुक्त रूप से ही अपराध की जड़ को खत्म किया जा सकता है। 

पुलिस कमिश्नर द्वारा कोविड-19 से जुड़े सरकारी दिशा-निर्देशों की भी सख्ती से पालना करने के आदेश दिए गए। आंतरिक सूचनाओं के आदान-प्रदान, निर्देश देने व प्रतिक्रिया लेने के लिए ट्विटर के प्रयोग का भी सुझाव दिया गया। हर थाना चैकी या कार्यालय में प्राप्त शिकायतों के निपटारे की एक मानक संचालन प्रक्रिया बनाए जाने पर भी विचार किया गया। 

समार्ट सीटी योजना के तहत फरीदाबाद में विभिन्न स्थानों पर लगाए गए सीसीटीवी कैमरों पर चर्चा की गई कि इन कैमरों की मदद से यातायात नियमों की उल्लंघना करने वालों, अपराधिक गतिविधियों और अपराध करके भागने वाले अपराधियों की पहचान करने में बड़ी मदद मिल रही है। सुनिश्चित करें कि इन कमरों का सञ्चालन अच्छे से किया जाए। 

फरीदाबाद के गिरते भूमिगत जल स्तर की बात करते हुए ओ पी सिंह ने निर्देश दिए कि सर्वप्रथम जो लोग औद्योगिक गतिविधियों के लिए अवैध रूप से पानी का दोहन कर रहे हैं, उन पर कार्यवाही करने का एक साप्ताहिक लक्ष्य रखकर कार्य किया जाए। 

इसके अलावा उन्होंने अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए कि पुलिस चैकिंग के दौरान पुलिस अधिकारी पीसीआर, राइडर और नाकों पर तैनाती की समुचित चैकिंग करें तथा उच्च अधिकारी इसके साथ ही नाकों पर तैनात पुलिसकर्मियों का दुख तकलीफ सुने तथा एक उत्तम कर्तव्य पालन के लिए उनका मार्गदर्शन करें।

पुलिस अधिकारी को होना चाहिए सेल्फ स्टार्ट, जनता की सेवा के लिए रहें हमेशा तैयार: CP OP Singh

 faridabad-cp-meeting-with-police-officers-on-25-september-2020

फरीदाबाद, 25 सितम्बर: पुलिस उपायुक्त, अपराध, सहायक पुलिस आयुक्त, अपराध एवं क्राइम ब्रांच प्रभारियों की एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद श्री ओ॰पी॰ सिंह ने कहा कि एक पुलिस अधिकारी को धक्का स्टार्ट नहीं, सैल्फ स्टार्ट होना चाहिए यानि कहने बाद काम करने वाला होने की बजाए परिस्थियों और कानून के मुताबिक स्वतः संज्ञान लेने वाला और स्मार्ट होना चाहिए एक पुलिस अधिकारी को।

उत्कृष्ट कार्य निष्पादन करने वाले पुलिस कर्मियों की स्टोरी का मीडिया में प्रकाशन किया जाना चाहिए, इससे उनको प्रोत्साहन और दूसरों को प्रेरणा मिलती है।

बीट अफसरों के माध्यम से फरीदाबाद में वाहन की चोरी रोकने के लिए नागरिकों को जागरूक किया जाए कि वे अपने वाहनों को असुरक्षित स्थानों पर पार्क न करें। वाहनों में एंटी थैप्टिंग एलार्म सिस्टम या अतिरिक्त लाॅक आदि उपकरण लगवाएँ। 

इसके अतिरिक्त ऐसे अपराधियों को भी अपराध की दुनिया से निकालने के लिए हर संभव युक्ति का प्रयोग किया जाए, जो किसी प्रकार के नशे की लत के शिकार हैं और उसकी पूर्ति के लिए ही अपराध करते हैं। अपराधियों पर कानून का शिकंजा कसने में कोई ढिलाई नहीं बरती जानी चाहिए।

जिला कारागार से पेरोल एवं  जमानत पर या सजा पूर्ण होने उपरांत रिहा होने वाले बंदियों की जानकारी भी नियमित लेते रहना चाहिए। क्योंकि ये लोग कई बार बाहर आकर पुनः अपराध में संलिप्त हो जाते हैं। 

इसके अलावा जघन्य अपराध के बंदियों से मिलने जाने वाले व्यक्तियों की जानकारी भी क्राइम ब्रांच के पास होनी चाहिए। अधिकारियों को और अधिक लग्न, मेहनत और होशियारी के साथ योजनापूर्ण तरीके से कार्य करने के लिए प्रेरित करते हुए संगोष्ठी का समापन किया गया।

रात्रि चेकिंग में लापरवाह पाए गए पुलिस कर्मियों के खिलाफ पुलिस कमिश्नर ने लिया एक्शन

 faridabad-cp-op-singh-action-against-policemen-night-checking-post

फरीदाबाद, 25 सितंबर: पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह ने रात्रि गश्त के दौरान लापरवाह पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही करने के दिशा निर्देश जारी किए हुए हैं।

जिसके तहत एसीपी ट्रैफिक प्रथम ने रात्रि चेकिंग के दौरान पाया कि शिवालिक अस्पताल के नजदीक, अगवानपुर चौक, तिकोना मंदिर, क्राउन प्लाजा मॉल, शनि मंदिर सेक्टर 28, ओल्ड मैन मार्केट, सोना t-point पर लगे पीसीआर व राइडर के नाकों पर कुछ पुलिसकर्मी लापरवाही करते हुए पाए गए जिनके खिलाफ कार्यवाही की गई है।

एसीपी ट्रैफिक प्रथम ने बताया कि फरीदाबाद शहर में राइडर पीसीआर की जगह चिन्हित है जहां पर उनको नाकाबंदी कर चेकिंग करनी होती है। चेकिंग के दौरान पुलिस कर्मियों के पास टॉर्च, असला, वायरलेस सेट, रिफ्लेक्टर लाइट होनी अति अनिवार्य है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि रात्रि गस्त के दौरान अगर कोई भी पुलिसकर्मी लापरवाही करता पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

पुलिस कर्मियों को नाकों पर दुरुस्त होना चाहिए निर्धारित जगह पर नाके लगे होने चाहिए किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए पुलिसकर्मियों के पास हथियार और वायरस सेट अति आवश्यक है।

इसके अलावा अन्य जगहों पर लगे नाको पर पुलिसकर्मी दुरुस्त पाए गए जिनकी मौका पर है सराहना की गई।

किसान हमारे अन्नदाता हैं, भाई हैं, शांतिपूर्वक रहे असामाजिक तत्वों से दूर रहे: CP OP Singh

faridabad-police-ready-for-law-and-order-bharat-band-kisan

फरीदाबाद: कल दिनांक 25 सितंबर को किसानों द्वारा भारत बंद को लेकर फरीदाबाद पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद है। किसान हमारे अन्नदाता हैं, हमारे भाई हैं उनसे अपील है कि वह शांतिपूर्वक रहे असामाजिक तत्वों से दूर रहे,  अप्रिय घटना को अंजाम देने वाले व्यक्तियों को बख्शा नहीं जाएगा।

फरीदाबाद शहर में करीब 700 कैमरे लगे हुए हैं जिनसे प्रत्येक संदिग्ध व्यक्ति एवं संगठन पर विशेष नजर रखी जाएगी।

इस दौरान असामाजिक तत्वों के लिए विशेष पुलिस बल और रिजर्व बल तैयार किया गया है जो कि एंटी राइट इक्विपमेंट सहित तैयार रहेंगे।

जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त पुलिस बल और रिजर्व बल को तैनात किया जाएगा।

कुछ असामाजिक तत्व समाज में अहिंसा फैलाने की मंशा से भीड़ का फायदा उठाते हुए किसी भी वारदात को अंजाम दे सकते हैं।

जिसके मद्देनजर फरीदाबाद पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद है। सीसीटीवी कैमरा कंट्रोल रूम को भी इस बारे में अवगत कराया गया है। 

अगर कहीं भी धरना प्रदर्शन होना पाया जाता है तो वहां पर वीडियोग्राफी एंव फोटोग्राफी कराई जाएगी ताकि अगर कोई भी शांति व्यवस्था को बिगाड़ने से संबंधित कोई भी घटना सामने आती है तो ऐसे असामाजिक तत्वों की पहचान कर उनके खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जा सके।

पुलिस प्रवक्ता ने सभी से अपील की है कि सभी शांतिप्रिय रहे कानून को अपने हाथ में ना लें कानून व्यवस्था बनाए रखने में फरीदाबाद पुलिस की मदद करें।

बच्चों, खूब पढ़ो, खेलो-कूदो और आगे बढ़कर देश की सेवा करो: CP ओपी सिंह

faridabad-cp-op-singh-meet-teacher-and-students

फरीदाबाद: विद्या निकेतन पब्लिक स्कूल, एन॰आई॰टी॰-2 के अध्यापकों, विद्यार्थियों और सहायक पुलिस आयुक्त धारणा यादव, आदर्शदीप व जयपाल सिंह के साथ कार्यालय पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद में आयोजित एक संगोष्ठी के दौरान बोलते हुए पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद ओ॰पी॰ सिंह ने कहा कि बच्चे राष्ट्र की धरोहर हैं। 

OP सिंह ने कहा कि आने वाले समय में इनके कंधों पर देश को संभालने का दायित्व होगा। ये अपने दायित्वों का समुचित निर्वहन कर सकें, इन्हें इस लायक बनाने की अध्यापको और माता-पिता की संयुक्त जिम्मेदारी है। हमें बच्चों में इस तरह की सोच विकसित करनी चाहिए कि वे कुछ भी ऐसा न करें जिससे दूसरों का नुकसान हो। कानून नागरिकों की सुविधा के लिए बनाए जाते हैं। अतः वे पूर्णतया कानून का पालन करने वाले बनें। 

OP सिंह ने कहा कि हम कपड़े जूते गाड़ी ए॰सी॰ और न जाने सुबह से शाम तक किन-किन सुविधाओं का उपभोग करते है लेकिन हम उनको पैदा नहीं कर सकते। इसलिए हमें अपने आपको इन सुविधाओं के मुहैया करवाने वालों का ऋणि समझना चाहिए। इस ऋण से मुक्ति का एक आसान-सा उपाय यह है कि हम समाज में जो भी काम कर रहे हैं या जो काम हमें दिया गया है, उसे लग्न, मेहनत और पूरे समर्पण के साथ पूर्ण करना चाहिए। विद्यार्थियों को लिखने पढ़ने का कार्य दिया गया है, तो उनका कर्तव्य बनता है कि वे पूरी लग्न व पुरूषार्थ से अपने आपको गुणवत्तापूर्ण बनाकर देश के काम आने के लायक बनाना चाहिए। तभी समाज में उनकी मांग और ऊँची कीमत होगी।

OP सिंह ने कहा कि कई बार बच्चों को शिकायत होती है कि कुछ ऐसे विषय भी पढ़ा दिए जाते हैं, जो जीवन में कहीं काम नहीं आते, लेकिन ऐसे विषयों की जानकारी से इस संसार को बेहतर तरीके से समझने में मदद मिलती है। जेसै कानून की जानकारी होने से हम अपराध करने से बचे रहते हैं और समाज की कई समस्याओं के समाधान का हिस्सा बनते हैं। हमें हमेशा बड़ी और उत्तम सोच रखनी चाहिए, तभी हम बड़े काम कर सकते हैं।

OP सिंह ने कहा कि हमारी सोच इसी तरह होती है, जेसै कंप्यूटर में प्रोग्रामिंग होती है और कंप्यूटर वहीं तक काम करता है, जहाँ तक की उसमें प्रोग्रामिंग की होती है। बच्चे लालचवश कोई कार्य न करें और भय देने वाली परिस्थिति से लड़ने का सामर्थ्य हो तो मुकाबला करें अन्यथा उससे बचने का रास्ता खोजें। इन्हें समझ हो कि लड़ाई करने के बाद बात करने की बजाए लड़ाई से पहले बात करना उत्तम होता है। बच्चों को सामूहिक खेलकूद में भी हिस्सा लेना चाहिए। इससे मिलकर काम करने का किया गया वायदा पूरा करने तथा प्रतियोगिता की भावना को बढ़ावा मिलता है।

OP सिंह ने कहा कि इसके अतिरिक्त बच्चों को खुलकर अपना व्यक्तव्य देने के काबिल भी बनाना चाहिए। ये सारी चीजें केवल शिक्षा से ही संभव हैं। इसलिए अध्यापक का कार्य सबसे अधिक परमार्थ और पुरूषार्थ भरा होता है।

एक सवाल के जवाब में पुलिस आयुक्त महोद्य द्वारा बच्चों से पूछा गया कि तुम्हें सरकारी विभागों में होने वाले भ्रष्टाचार का पता कहाँ से लगता है तो बच्चों ने स्पष्ट किया की इसका पता उन्हें अखबार, टी॰वी॰, फिल्म  आदि से चलता । स्पष्ट किया गया कि कई बार ये सब अपने किसी कारणवश तथ्यों को बढ़ा चढ़ाकर भी पेश कर देते हैं। अंत में सभी को अल्पाहार देकर उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए सभा का समापन किया गया।

फरीदाबाद को अपराध मुक्त करने के लिए बहुत मेहनत कर रहे CP OP Singh, अब अपराधियों का बचना मुश्किल

cp-op-singh-working-for-apradh-mukt-faridabad-mission

फरीदाबाद, 22 सितम्बर: फरीदाबाद के पुलिस कमिश्नर ओपी सिंह फरीदाबाद को अपराध मुक्त बनाने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं. फरीदाबाद को अपराध मुक्त करना ही फरीदाबाद पुलिस कमिश्नर का लक्ष्य है, अब चप्पे चप्पे पर CCTV से निगरानी रखी जा रही है जिसकी वजह से अपराधियों का बचकर निकलना मुश्किल है, देखिये वीडियो - 

 

पुलिस आयुक्त, फरीदाबाद ओ॰पी॰ सिंह ने आज सुबह पुलिस कमिष्नरेट, फरीदाबाद के सभी पुलिस उपायुक्तों तथा सहायक पुलिस उपायुक्तों की संगोष्ठी के दौरान कहा कि फरीदाबाद को हर अपराध से मुक्त करना ही हमारा सामूहिक लक्ष्य। 

सर्वप्रथम समार्ट सीटी योजना के तहत फरीदाबाद में विभिन्न स्थानों पर लगाए गए सी॰सी॰टी॰वी॰ कैमरों पर चर्चा की गई कि इन कैमरों की मदद से यातायात नियमों की उल्लंघना करने वालों, अपराधिक गतिविधियों और अपराध करके भागने वालों की पहचान करने में बड़ी मदद मिल रही है। फरीदाबाद के गिरते भूमिगत जल स्तर की बात करते हुए निर्देष दिए गए कि जो लोग अवैध रूप से पानी का दोहन कर रहे हैं, उन पर कार्यवाही करने का एक साप्ताहिक लक्ष्य रखकर कार्य किया जाए। हालाँकि पिछले कुछ दिनों ऐसे व्यक्तियों पर फरीदाबाद में अलग-अलग 35 अभियोग अंकित किए गए हैं । अपराध व अपराधिक गतिविधियों पर अंकुष लगाए जाने के उद्देष्य से अपने-अपने इलाके के अपराधियों की पहचान कर उनके परिवार, सगे-संबधियों तथा मिलने-जुलने वालों के निवास स्थानों के साथ-साथ उनके आवागमन की भी जानकारी जुटाएँ। 

इसके अलावा अधिकारियों को दिषा निर्देष दिए गए कि चैबीस घंटों के दौरान जो भी पुलिस अधिकारी चैंकिग पर होते हैं, वे पी॰सी॰आर॰, राइडर और नाकों की समुचित चैकिंग करें। इस दौरान आसपास की गतिविधियों पर ध्यान रखे तथा व्हाट्सेप की बजाए वायरलैस सिस्टम से ज्यादा संपर्क करें, क्योंकि यह संदेष ड्यूटी पर तैनात सभी पुलिस कर्मियों तक एक साथ चला जाता है और सभी अपनी ड्यूटी पर मुस्तैद रहते हैं। इस प्रकार संपर्क का यह माध्यम कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अधिक प्रभावषाली होता है। इलाके के अपराध संभावितय जैसे - चैन स्नैचिंग और छीना झपटी होने वाले तथा शराब के ठेके इत्यादि स्थानों का भी दौरा करें। चैकिंग पर निकलने से पहले सुनिष्चित करें कि आप क्षेत्र में हर परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार हों, जिसके लिए वैपन का साथ होना भी अति आवष्यक है। स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करते हुए पुलिस आयुक्त, महोदय द््वारा बताया गया कि पुलिस की ड्यूटी को एक चुनौती समझते हुए उसे पूरा करने के लिए अपने आपको फाइटिंग फिट रखें। इस कार्य हेतु रोजाना सौ, दौ सौ या चार सौ मीटर करके कुछ किलोमीटर दौड़ लगाना अति लाभदायक है, क्योंकि दौड़ लगाने से पसीने के माध्यम से विषाक्त तत्व शरीर से बाहर निकल जाते हैं, जो शरीर में अनेक प्रकार की व्याधियों का कारण बनते हैं। खून तथा शरीर की अनावष्यक चर्बी चली जाती है और हृदय एवं खून की गति सामान्य रहती है। शरीर को दौड़ का कार्य देकर हम अपने स्वास्थ्य का परीक्षण स्वयं कर सकते हैं। सभी अधिकारियों से गत दिनों में उनके द्वारा किए गए कार्यों की जानकारी लेकर अंत में सभी की अच्छा कार्य करने के लिए उनकी प्रषंसा की गई।