Palwal Assembly

Showing posts with label Crime. Show all posts

जेल भेजे गए इंस्पेक्टर अब्दुल, अब IG अमिताभ ढिल्लो निकलवाएंगे DCP आत्म-हत्याकांड का सच

faridabad-dcp-vikram-kapoor-suicide-case-inspector-abdul-shahid-jail

फरीदाबाद: DCP विक्रम कपूर आत्महत्या केस में मुख्य आरोपी इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद को नीमका जेल भेज दिया गया है, कल क्राइम ब्रांच ने उन्हें चार दिन की रिमांड के बाद कोर्ट में पेश किया जिसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया. 

इस मामले में मीडिया से बातचीत करके हुए डिफेंस लॉयर सत्येन्द्र भडाना ने कहा कि हमारे मुवक्किल को टॉर्चर किया गया है, उनका मेडिकल भी नहीं कराया गया, हमने कोर्ट से उनका मेडिकल कराने की मांग की है, उन्होंने यह भी कहा कि यह हनीट्रैप का मामला हो सकता है और इसीलिए बदनामी के डर से DCP विक्रम कपूर ने आत्महत्या की होगी, उन्होंने इसके लिए अखबारों की ख़बरों का रेफरेंस दिया.

इस मामले में पीपी की तरफ से मीडिया से बात करते हुए वकील एल एन पाराशर ने बताया कि यह हनी ट्रैप का मामला नहीं है, आरोपी से पूछताछ कर ली गयी है. उसे कोर्ट में भेज दिया गया है, आरोपी का मेडिकल कराया गया है, जाँच में पूरी बात सामने आ जाएगी.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस मामले में भ्रष्टाचार निरोधी कानून के तहत भी कार्यवाही की जा रही है और इसकी जांच फरीदाबाद का पूर्व कमिश्नर और IG अमिताभ सिंह ढिल्लो को सौंपी गयी है. उनकी निगरानी में एक SIT का गठन किया गया है. 

ऐसा आरोप है कि इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद के पास आय से अधिक संपत्ति है, इस बात की जांच की जाएगी कि उनके पास अकूत संपत्ति कहाँ से आयी. SIT की जांच में इस मामले से जुड़े अन्य राज भी सामने आ सकते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस मामले में पुलिस ने इस बात का खुलासा किया है कि इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद DCP विक्रम कपूर को अपनी महिला मित्र के जरिये झूठा आरोप लगाकर बदनाम करने की धमकी देता था. सवाल ये उठ रहा है कि अगर आरोप झूठे थे तो उसके लिए DCP साहब को आत्महत्या करने की जरूरत क्यों पड़ी, DCP एक प्रेस कांफ्रेंस करके या पुलिस में रिपोर्ट करके या खुद से एक्शन लेकर ब्लैकमेलरों को सबक सिखा सकते थे. अब इस मामले में असली सच का पूरा देश इन्तजार कर रहा है जो SIT जांच में ही सामने आ सकता है.

इस मामले में अभी सह-आरोपी पत्रकार सतीश मालिक और इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद की महिला मित्र की गिरफ्तारी बकाया है. दोनों की गिरफ्तारी के बाद भी कई राज खुल सकते हैं.

नहरपार भारत कॉलोनी में प्रिंस ज्वेलर्स दुकान में करीब 10 लाख कीमत के आभूषण और कैश की लूट

faridabad-naharpar-prince-jewelers-loot-bhart-colony-hanuman-nagar

फरीदाबाद: नहरपार भारत कॉलोनी, खेड़ी रोड, हनुमान नगर, 45 फूट रोड, गली नंबर 3 पास स्थित प्रिंस ज्वेलर्स की दुकान में 19 अगस्त की रात को चोरों ने करीब 10 लाख रुपये कीमत के आभूषण और करीब 35 हजार रुपये कैश लूट लिए। 

दुकानदार अमित वर्मा ने बताया कि मैंने 19 अगस्त को करीब 8 बजे शाम अपनी दुकान बढ़ाई और दूकान से कुछ दूरी पर स्थित अपने घर चला गया, सुबह दुकान पर आया तो पड़ोसियों ने बताया कि तुम्हारी दुकान का शटर उठा हुआ है, ऐसा लगता है कि चोरी हुई है। 

इसके बाद अमित वर्मा ने 100 नंबर पर फोन किया, काफी देर बार पुलिस पहुंची और जांच पड़ताल की, खेड़ीपुल थाना पुलिस में लिखित शिकायत दी गयी है। 

पुलिस में दी गयी शिकायत में दुकानदार अमित वर्मा ने लिखा है - मेरी दुकान से 6 किलो चांदी, 250 ग्राम सोना, मेरी आईडी प्रूफ (आधार कार्ड, पैन कार्ड, एटीएम कार्ड, मेरा मोबाइल फोन मॉडल जोलो, मेरी एक फाइल जिसमें बैंक एवं एलआईसी पालिसी के कागजात थे चोरी हो गया है। शिकायतकर्ता ने चोरी हुए सामान की जल्द से जल्द बरामद करने और चोरों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की है.

तिगांव लूट-काण्ड का पर्दाफाश, इकोग्रीन कंपनी की कूड़ा उठाने वाली गाड़ी का ड्राईवर निकला लुटेरा

faridabad-eco-green-company-driver-looted-tigaon-sheeshram-nagar

फरीदाबाद: क्राइम ब्रांच बदरपुर बॉर्डर ने तिगांव में रात के समय परिवार के सभी सदस्यो को बेहोश करके चोरी करने वाले आरोपी को गिरफतार किया।  

पुलिस कमिश्नर संजय कुमार IPS के दिशा निर्देश तथा DCP क्राइम राजेश कुमार व ACP क्राइम अनिल यादव के नेत्रत्व में कार्य करते हुए SI ब्रहम प्रकाश व उनकी टीम ने  तिगांव थाना एरिया में 2 दिन पहले परिवार के सदस्यों को बेहोश कर घर में चोरी करने वाले आरोपी योगेश पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी गांव नवादा थाना सदर बल्लभगढ़ को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की 

गिरफ्तार आरोपी ने पूछताछ में बतलाया की वह इको ग्रीन कंपनी की गाड़ी चलाता है जो घरो से कूड़ा उठाने का काम करता है जिसने तिगांव में एक घर में शाम के समय रसोई में उबल रहे दूध में नींद की गोलिया डाल दी व रात को सब बेहोश हो गये तब घर में सोए हुए परिजनों जिसमें अधिकतर महिलाएं थी, के गहने, नकदी व मोबाइल फोन चोरी कर लिए थे। जिस संबंध में थाना के तिगांव में अज्ञात लोगों के खिलाफ चोरी का मुकदमा दर्ज कर तफ्तीश क्राइम ब्रांच बॉर्डर को सौंपी गई थी।

आरोपी को गिरफ्तार करके चोरी किए गए जेवरात  जिसमें 2 सोने की चैन, 6 जोड़ी कानो के झुमके 2 जोड़ी कानो के झालर व एक मोबाइल फोन वह वारदात में प्रयोग की गई मोटरसाइकिल बरामद की गई. पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि आरोपी को आज कोर्ट में पेश करके 2 दिन का पुलिस रिमांड लिया गया है जिससे चोरी के जेवरात, कैश व चोरी किया गया फोन बरामद किया जायेगा। आरोपी का पूर्व कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में दो बार लूट करने वाले चार लुटेरे गिरफ्तार

crime-branch-sector-85-arrested-4-accused-looted-state-bank-of-india

फरीदाबाद: क्राइम ब्रांच सेक्टर 85 ने भारतीय स्टेट बैंक में दो बार चोरी की कोशिश करने वाले 4 आरोपियों को दबोचा।

आरोपी वाहन चोरी की वारदात को भी देते थे अंजाम।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 85 ने विशेष सूत्रों से मिली सूचना के आधार पर छापेमारी कर वाहन चोरी एवं एसबीआई बैंक में दो बार चोरी की कोशिश करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

गिरफ्तार आरोपी

1) उमेश कुमार पुत्र रणवीर गांव गाजीपुर थाना बरला  जिला अलीगढ़ यूपी। 

2) चंद्रपाल पुत्र जसवंत गांव गाजीपुर   थाना  बरला जिला अलीगढ़ यूपी।

3) अली पुत्र सतबीर गांव अटेला कला थाना बाढड़ा जिला भिवानी।

4) देवेंद्र पुत्र उदयवीर गांव सिकंदरपुर थाना अकराबाद जिला अलीगढ़ यूपी।

उपरोक्त आरोपियों को निम्नलिखित वारदात में संलिप्त होने पर गिरफ्तार किया गया है।

1) Fir No. 140 Dt. 16 -8-19 U/S 398,401IPC 25-54-59 A. Act PS BPTP Faridabad ।

2) Fir No. 524 Dt. 16 -8-19 U/S 457, 380 ,511  IPC PS SEC- 7 Faridabad ।

3) Fir No. 468 Dt. 23-7-19 U/S 457, 380 ,511  IPC PS SEC- 7 Faridabad ।

4) Fir No. 227 Dt. 5 -8-19 U/S 379 IPC PS Kheri Pul Faridabad ।

5) Fir No. 40 Dt. 17-02-19 U/S 379 IPC PS Tigaon  Faridabad ।

6) Fir No. 637 Dt. 13-08-19 U/S 379 IPC PS Sec-58 Faridabad ।

प्रभारी क्राइम ब्रांच सेक्टर 85 एस आई सुमेर ने बताया की आरोपीयान बड़े ही शातिर और चालाक किस्म के है जो नशे के आदि हैं।

आरोपी चोरी करते वक्त CCTV केमरा की डिजिटल रिकार्डिंग डिवाइस (DVR) को साथ चोर कर ले जाते थे। ताकि किसी को कोई सुराग ना लग सके।

गिरफ्तार सभी आरोपी अपने शौक पूरा करने के लिए वाहन चोरी के अलावा दो बार स्टेट बैंक ऑफ इंडिया शाखा सेक्टर 11 फरीदाबाद में चोरी करने की कोशिश जैसी वारदात को अंजाम दे चुके हैं।

आरोपियों ने गैस कटर की सहायता से अभी कुछ दिनों पहले ही एसबीआई बैंक के तीन दरवाजों को काटकर बैंक के अंदर प्रवेश किया जो बैंक के खजाना रूम तक पहुंच गए जहां पर स्ट्रांग रूम को भी गैस कटर से काटने की कोशिश की लेकिन अपराधियों की गैस सिलेंडर की गैस खत्म हो गई थी।

आरोपियान बैंक में चोरी करने में विफल हो गए जिनका उपरोक्त मुकदमा दर्ज है इसके अलावा आरोपीयान व्हीकलो की भी चोरी करते हैं।

पुलिस प्रवक्ता सुबे सिंह ने बताया कि आरोपियों से 1 इको कार, 1 मोटरसाइकिल, 1 डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर, 1 देसी कट्टा, एवं बैंक में चोरी की वारदात को अंजाम देने की कोशिश करने में इस्तेमाल किए गए 1 गैस कटर, सिलेंडर एवं हथोड़ा बरामद किया गया है।

उन्होंने बताया कि आज सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया था ,,,, माननीय कोर्ट ने आरोपी अली को जेल भेजा है,,, बाकी तीन आरोपियों से आईसर कैंटर बरामद करने हेतु 1 दिन का पुलिस रिमांड दिया गया है।

CRPF जवान ने जताया अपने लापता भाई की हत्या या किडनैप किये जाने का शक, CIA से जांच की मांग

shiv-singh-missing-case-crpf-jawan-doubt-murder-or-kidnaip-news

फरीदाबाद: CRPF जवान मनोज कुमार ने अपने लापता भाई शिवसिंह की हत्या किये जाने या किडनैप किये जाने का शक जताया है और पुलिस कमिश्नर से मिलकर इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच से करवाने की मांग की है, पुलिस कमिश्नर ने इस शिकायत को DCP सेंट्रल लोकेन्द्र सिंह को मार्क कर दी है.

मनोज कुमार ने अपनी शिकायत में लिखा है - मैं CRPF (कैम्प) में तैनात होकर देश की सेवा कर रहा हूँ, मेरा छोटा भाई शिवसिंह पिछले लगभग 20 दिन से लापता है जिसकी FIR - 223 Date 30.07.2019 खेडीपुल थाने में दर्ज है, मुझे शक है कि मेरे भाई की किसी ने हत्या कर दी है या कहीं किडनैप कर रखा है और इस काम में वेदराम पुलिसवाला और मेरे छोटे भाई की पत्नी किरण का हाथ हो सकता है इसलिए FIR-223 की कार्यवाही क्राइम ब्रांच से करवाई जाय ताकि न्याय मिल सके, अति कृपा होगी.

manoj-kumar-image

खेडीपुल थाने पर क्यों नहीं है CRPF जवान को भरोसा

शिवसिंह की गुमशुदगी का मामला उसका पत्नी ने खेडीपुल थाने में दर्ज करवाया है लेकिन केस के IO वेदराम मामले की सही जांच नहीं कर रहे थे, जब CRPF जवान ने उनसे फोन पर बातचीत की तो उन्होंने गन्दी गन्दी गालियाँ दी और फौजियों को पागल बोला. उनपर कार्यवाही हुई और उन्हें सस्पेंड किया गया. देखिये वीडियो - 



क्या था मामला?

बात दरअसल ये थी कि CRPF जवान मनोज कुमार का भाई शिव सिंह 28 जुलाई को गायब हो गया. शिव सिंह नहरपार हनुमान नगर, गली नंबर 3 में अपनी पत्नी किरण देवी के साथ रहता था, उसकी पत्नी ने 30 जुलाई को गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाई. पत्नी ने लिखा - मेरा पति किसी से मिलने गया था उसके बाद नहीं आया. मैंने उसे कई जगह ढूंढा लेकिन नहीं मिला.

जब मनोज कुमार को अपने भाई के गुम होने की सूचना मिली तो वे ड्यूटी से छुट्टी लेकर अपने भाई को ढूँढने निकल पड़े. पुलिस में रिपोर्ट लिखवा दी गयी थी इसलिए उन्होंने केस के IO हेड कांस्टेबल वेदराम से संपर्क किया. मदद के बजाय वेदराम ने उन्हें गालियाँ दी, उन्हें पागल बोला, उनकी बेटी को भी गालियाँ दी. उन्हें दोबारा फोन ना करने की धमकी दी. वेदराम ने यह भी कहा कि तू कौन है अपने भाई के बारे में जानकारी करने वाला, उसकी पत्नी है, हम उसे बता देंगे. मनोज कुमार ने कहा कि क्या भाई का कोई फर्ज नहीं होता, क्या हम अपने भाई के बारे में जानकारी नहीं ले सकते, जिस प्रकार से वेदराम ने मुझसे बात की वैसे तो कोई भी पुलिसवाला बात नहीं करता, उन्होंने हम फौजियों को भी पागल बोला.

पुलिसकर्मी वेदराम ने CRPF जवान मनोज कुमार को थाने में बुरी तरह से धमकाया, उसके छोटे भाई को थप्पड़ मारे गए. थक हारकर मनोज कुमार ने फरीदाबाद लेटेस्ट न्यूज़ से संपर्क किया. जब हमने वेदराम से रिपोर्ट ली तो उन्होंने हमसे भी बदतमीजी से बात की और बोले - तुम ढूंढ लो उसके भाई को, तुम पता लगवा लो उसका मोबाइल कहाँ है, तुम ट्रेस करवा लो उसका मोबाइल, हमें इतना पता नहीं है.

इसके बाद मनोज कुमार ने हमसे बताया कि वेदराम की मेरे पास फोन रिकॉर्डिंग है. उसके बाद हमने CRPF जवान मनोज कुमार के टॉर्चर की कहानी को अपने फेसबुक पेज पर डाला जिसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए वेदराम को सस्पेंड कर दिया. पुलिस उपायुक्त सेंट्रल लोकेन्द्र सिंह ने इस एक्शन की जानकारी दी.

DCP को महिला मित्र से झूठा आरोप लगवाने और बदनाम करने की धमकी देता था इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद

dcp-vikram-kapoor-suicide-case-inspector-abdul-shahid-exposed

फरीदाबाद: डीसीपी विक्रम कपूर सुसाइड केस में  फरीदाबाद पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है जिसके अनुसार  आरोपी निलंबित इंस्पेक्टर अब्दुल शहीद अपने भांजे को केस से निकलवाने के लिए बना रहा था दबाव।

साथ ही महिला मित्र के पति के द्वारा दी गई दरखास्त पर महिला के पति के हक में कार्यवाही कराने हेतु भी बना रहा था दबाब, कहना ना मानने पर अपनी महिला मित्र के द्वारा झूठे आरोप लगाने और बदनाम करने की धमकी देता था.

गिरफ्तार s.h.o. अपनी महिला मित्र के नाम पर  स्वर्गीय डीसीपी को झूठे केस में फंसाने और अंजाम भुगतने की लगातार दे रहा था धमकी।

ऐसा ना करने पर  पत्रकार दोस्त सतीश के साथ मिलकर फरीदाबाद शहर में बदनाम करने की दे रहा था धमकी।

जिसके चलते दिनांक 14 अगस्त 2019 को स्वर्गीय श्री विक्रम कपूर डीसीपी एनआईटी ने खुद को सरकारी आवास पर सुबह करीब 5:45 बजे, गोली मारकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी।

आत्महत्या के समय स्वर्गीय डीसीपी ने एक सुसाइड नोट लिखा था जिसमें उन्होंने अब्दुल शहीद एसएचओ थाना भूपानी को अपनी आत्महत्या  का जिम्मेदार ठहराते हुए लिखा था कि आई एम डूइंग दिस डयु टू अब्दुल ,   इंस्पेक्टर अब्दुल शहीद वाज ब्लैकमेलीग, विक्रम । सुसाइड नोट व परिजनों की शिकायत के आधार पर अब्दुल शहीद और उसके पत्रकार मित्र सतीश को आत्महत्या करने  के लिए मजबूर करने की धाराओं के अंतर्गत थाना सेक्टर 31में मुकदमा दर्ज किया गया था।

श्रीमान संजय कुमार पुलिस आयुक्त महोदय  ने इस केस की तफ्तीश के लिए एसीपी क्राइम श्री अनिल कुमार के नेतृत्व में एसआईटी गठित की गई जिसमें इंस्पेक्टर विमल, एसआई रविंदर और एसआई सतीश को शामिल किया गया था।

एसआईटी ने आरोपित  अब्दुल शहीद को गिरफ्तार कर कोर्ट मे पेश कर 4 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया था।

एसआईटी टीम ने बताया कि एसएचओ अब्दुल शहीद के भांजे का नाम थाना मुजेसर मे दर्ज हत्या के प्रयास के मुकदमे में शामिल था, जिसका नाम मुकदमा से निकालने के लिए निलंबित एसएचओ अब्दुल शहीद लगातार स्वर्गीय डीसीपी पर दबाव बना रहा था।

पूछताछ में गिरफ्तार आरोपी अब्दुल शहीद ने बताया की उनकी एक महिला मित्र है जिनका अपने ससुर से प्रॉपर्टी का विवाद चल रहा है जो प्रॉपर्टी विवाद की दरखास्त महिला मित्र के पति के द्वारा दी गई थी  जिसकी जांच स्वर्गीय डीसीपी साहब के क्षेत्राधिकार में आती थी, पर महिला मित्र के हक में जांच करवाना चाह रहा था।

आरोपित ने बताया कि उसने डीसीपी को बोला था कि अगर मेरे भांजे को बाहर नहीं किया और मेरी महिला मित्र की दरखास्त पर कार्यवाही नहीं की तो मैं अपनी महिला मित्र ""जो कि मेरे इशारों पर चलती है"" उसके साथ मिलकर तुझे झूठे केस में फंसा दूंगा।

और मै अपने पत्रकार साथी सतीश से फरीदाबाद के अखबारों में तेरे खिलाफ ऐसी-ऐसी खबर छप आऊंगा कि तू आत्महत्या करने के लिए मजबूर हो जाएगा।

आरोपी ने पूछताछ में कबूला है कि वह और उसका दोस्त सतीश  पिछले 3 महीने से लगातार स्वर्गीय डीसीपी को परेशान कर रहे थे। 

पूछताछ पर आरोपी अब्दुल शहीद ने बताया कि कई बार  वह डीसीपी की कोठी पर जाकर डीसीपी साहब को दोनों के केसो के संबंध में अपने मन मुताबिक कार्य करने के लिए  बनाता था दबाब।

आरोपी ने पूछताछ पर  बताया कि दिनाक 13.07.19 को भी वह डीसीपी साहब के सरकारी आवास पर गया था और डीसीपी साहब को मेरे हक के मुताबिक मेरी इच्छा के मुताबिक कार्य करने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने मना किया तो, मैने गुस्से में आकर उनको तेज आवाज में बात कर ही रहा था, की, तभी, मेरी तेज आवाज सुनकर स्वर्गीय डीसीपी साहब की पत्नी भी वहां पर आ गई थी। इसके बावजूद भी , आरोपी ने कहा की  अगर मेरे भांजे अरसद को केस से नहीं निकाला वा मेरी महिला मित्र के पति के द्वारा दी गई दरखास्त पर आपने सही कार्यवाही नहीं करी तो मैं अपने दोस्त सतीश पत्रकार से कहकर आपके खिलाफ झूठी खबर निकलवा दूंगा व अपनी महिला मित्र से आपके ऊपर झूठे इल्जाम भी लगवा दूंगा।और इस झुठे इल्जाम के सहारे तेरा वो हाल कर देंगे कि आत्महत्या करने के अलावा तेरे पास और कोई रास्ता नही बचेगा,,,, ये धमकी देकर मै उनके घर से आ गया था।

मैंने अपने दोस्त सतीश पत्रकार से मिलकर पहले भी तेरे खिलाफ अखबार में तेरी छवि धूमिल करने व बदनाम करने के लिए काफी छपवाया है। लेकिन इस बार कुछ ऐसा अखबार में निकलवाएंगे जिसे तू बर्दाश्त नहीं कर सकेगा।

एसआईटी हेड और एसीपी क्राइम श्री अनिल यादव ने बताया कि आरोपित अब्दुल शहीद व उसके आरोपित  दोस्त सतीश पत्रकार से परेशान होकर डीसीपी साहब ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी।

इस केस में अभी तफ्तीश जारी है जो भी अन्य तथ्य सामने आएंगे वह आपको अवगत कराए जाएंगे। एफआईआर में नामजद व आरोपित अब्दुल शहीद के पत्रकार दोस्त सतीश की तलाश जारी है जिसको जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

इंस्पेक्टर विमल कुमार और इंस्पेक्टर संदीप मोर कौशल को दबोच कर फरीदाबाद लाने दुबई पहुंचे

inspector-vimal-kumar-sandeep-more-reach-dubai-to-arrest-kaushal

फरीदाबाद: अभी-अभी बहुत बड़ी ब्रेकिंग खबर आई है. विकास चौधरी मर्डर केस में मुख्य आरोपी कौशल को दुबई में गिरफ्तार कर लिया गया है. कौशल को गिरफ्तार करने में फरीदाबाद पुलिस का भी बड़ा रोल है फरीदाबाद क्राइम ब्रांच के प्रभारी इंस्पेक्टर विमल कुमार और साइबर सेल प्रभारी इंस्पेक्टर संदीप मोर कौशल को फरीदाबाद लाने के लिए दुबई पहुंच गए हैं और जल्द ही कौशल को फरीदाबाद लाया जाएगा.

जानकारी के अनुसार कौशल को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दुबई में गिरफ्तार कर लिया के बाद हरियाणा पुलिस को सूचना दी.

जानकारी के लिए बता दें कि विकास चौधरी मर्डर केस में कौशल गैंग के दर्जनों सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. पहले ऐसा लगता था कौशल और विदेश में हाथ चलने में मुश्किल होगी लेकिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके एक बार फिर से साबित कर दिया कि अपराधी भले ही विदेश में जाकर छुप जाएं पुलिस के हाथों से उनका बचना मुश्किल है.

सूत्रों से इस बात की भी जानकारी मिली है कि कौशल को दबोचने में सेक्टर 30 क्राइम ब्रांच के प्रभारी विमल राय,  और साइबर सेल प्रभारी  संदीप मोर की भी विशेष भूमिका रही है लेकिन अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है.

विकास चौधरी मर्डर केस का मुख्य आरोपी गैंगस्टर कौशल दुबई में गिरफ्तार

vikas-chaudhary-murder-case-gangster-kaushal-arrested-news

फरीदाबाद: अभी-अभी बहुत बड़ी ब्रेकिंग खबर आई है. विकास चौधरी मर्डर केस में मुख्य आरोपी कौशल को दुबई में गिरफ्तार कर लिया गया है.

जानकारी के अनुसार कौशल को दिल्ली क्राइम ब्रांच ने दुबई में गिरफ्तार कर लिया के बाद हरियाणा पुलिस को सूचना दी गई. पुलिस की एक टीम कौशल को दुबई से फरीदाबाद लाएगी जहां पर उसके खिलाफ विकास चौधरी मर्डर केस में कानूनी कार्यवाही की जाएगी.

जानकारी के लिए बता दें कि विकास चौधरी मर्डर केस में कौशल गैंग के दर्जनों सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है. पहले ऐसा लगता था कौशल और विदेश में हाथ चलने में मुश्किल होगी लेकिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके एक बार फिर से साबित कर दिया कि अपराधी भले ही विदेश में जाकर छुप जाएं पुलिस के हाथों से उनका बचना मुश्किल है.

सूत्रों से इस बात की भी जानकारी मिली है कि कौशल को दबोचने में सेक्टर 30 क्राइम ब्रांच के प्रभारी विमल राय की भी विशेष भूमिका रही है लेकिन अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है.

धौज में ATM को विस्फोट से उड़ाकर लूटने वाले आरोपी फरदीन और शकील गिरफ्तार, पढ़ें

faridabad-sector-56-crime-branch-arrested-robber-fardeen-shakeel

फरीदाबाद: क्राइम ब्रांच सेक्टर 56 ने एटीएम मशीन को विस्फोट से उड़ाकर उसमें से रुपए चोरी करने वाले गिरोह को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। आरोपीयों को दिनांक 11-8-19 को मुखबिर की सूचना पर बल्लभगढ़ बस अड्डा से गिरफ्तार किया गया।

पुलिस आयुक्त संजय कुमार के दिशा-निर्देश पर एवं राजेश कुमार पुलिस उपायुक्त अपराध के आदेश पर एवं अनिल कुमार सहायक पुलिस आयुक्त के नेतृत्व में कार्य करते हुए प्रभारी क्राइम ब्रांच सेक्टर 56 सेठी मलिक और उनकी टीम ने एटीएम मशीन को बारूद से तोड़कर उसमें से रुपए चोरी करने वाले गिरोह को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 56 द्वारा एटीएम चोर गिरोह को पकड़ा गया हैे आरोपी फरदीन पुत्र अब्दुल हक निवासी गांव इमाम नगर थाना नगीना जिला नूह, वा शकील पुत्र ईसब निवासी गांव डाला वास थाना टपूकड़ा जिला अलवर राजस्थान ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर दिनांक 6-7-19 की रात को गांव धौज बस स्टैंड पर लगे एक्सिस बैंक के एटीएम को बारूद से फाड़ कर रुपए चोरी करके ले गए थे।

सुलझाई गई वारदात

1 मुकदमा नंबर 211/18 धारा 392,436 आईपीसी 3 एक्सप्लोसिव एक्ट थाना नगीना जिला नूह।
2 मुकदमा नंबर 140/19 धारा 457,380  आईपीसी थाना महरौली दिल्ली
3 मुकदमा नंबर 135 दिनांक 7-7-19 धारा 457 380 आईपीसी 25-54-59 आर्मज एक्ट 3ंए एक्सप्लोसिव एक्ट थाना धौज
4 मुकदमा नंबर 218 दिनांक 10-5-19 धारा 379  आईपीसी थाना एसजीएम नगर फरीदाबाद

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि उपरोक्त आरोपीयों को दिनांक 12/8/19 को पेश अदालत करके माननीय अदालत से 3 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया। आरोपीयों ने बडकली चैक नूह वा महरौली दिल्ली मैं भी एटीएम में बारूद से ब्लास्ट करके रुपए चोरी करना स्वीकार किया है। उपरोक्त आरोपीयों को पुलिस रिमांड पर लेकर उनके कब्जे से एक देसी पिस्तौल व कुल रकम ₹ 500000 बरामद कर आरोपियों को जेल भेजा गया है।

क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 ने चेन स्नेचिंग गिरोह के तीन अपराधियों को दबोचा

faridabad-sector-48-crime-branch-arrested-3-accused-chain-snatching-gang

फरीदाबाद: क्राइम ब्रांच सेक्टर 48 प्रभारी एसआई अनिल कुमार व उनकी टीम ने फरीदाबाद शहर में चैन स्नैचिंग  करने वाले  गिरोह के  तीन आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है.

गिरफ्तार आरोपियों का विवरण

1. अमित पुत्र सुरेश निवासी मकान न0 -160 गली न० 8, सेहतपुर, सूर्या विहार पार्ट-2, फरीदाबाद। 
2. आमिर/सोनू पुत्र जब्बार निवासी इस्माइलपुर नजदीक चील कोठी सेक्टर-91 थाना पल्ला, फरीदाबाद।
3. संजय पुत्र रामदास निवासी गांव सादाबाद थाना सादाबाद जिला मथुरा उतर प्रदेश।, 
हाल कियायेदार हाल किरायेदार मकान न0 डी1-139 नजदीक एसटी कोलम्बस पब्लिक स्कूल लकडपुर फरीदाबाद।

आरोपियों से सुलझाई गई वारदात

1. मुकदमा न0 - 209 दिनांक  01-08-19 धारा 379ए ,34 थाना सराय ख्वाजा । रिकवरी 9000 रुपये।
2. मुकदमा न0 - 195 दिनांक  22-07-19 धारा 379ए ,34 थाना सराय ख्वाजा । रिकवरी 10000 रुपये।
3. मुकदमा न0-313 दिनांक 15-07-19 धारा 379ए, 34 थाना सै0-31 
रिकवरी -7000 रुपये।
4. मुकदमा न0 -333 दिनांक. 24-07-19 धारा 379ए, 34 थाना सै0-31 
रिकवरी -7000 रुपये।
5. मुकदमा न0 361 दिनांक  06-08-19 धारा 379ए, 34 थाना सै0-31 
रिकवरी -8000 रुपये।

प्रभारी क्राइम ब्रांच ने बताया कि सभी आरोपी नशे के आदि हैं, जो कि नशा करके  मोटरसाइकिल पर सवार होकर पार्क के पास अकेली टहलने वाली महिलाओं तथा बच्चों को स्कूल छोड़ते और बच्चों को स्कूल से घर लाने वाली औरतों के गले से सोने की चैन छीनकर मोटरसाइकिल से फरार हो जाते थे। 

आरोपी छीनी हुई सोने की चैन को राह चल रहे किसी भी व्यक्ति को सस्ते दामों में बेच देते थे।

पुलिस प्रवक्ता सुबे सिंह ने बताया कि आरोपियों से ₹41000 नकद एवं वारदात में इस्तेमाल की गई पल्सर मोटरसाइकिल बरामद कर जेल भेजा गया।

4 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा गया DCP को ब्लैकमेल करने का आरोपी इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद

inspector-abdul-shahid-4-days-police-remand-dcp-suicide-case

फरीदाबाद: स्वर्गीय विक्रम कपूर आत्महत्या केस में आरोपित निलंबित इंस्पेक्टर अब्दुल शहीद को कोर्ट में पेश किया।

केस की तफ्तीश कर रहे एसआईटी मेंबर इंस्पेक्टर विमल राय  की टीम ने आरोपित इंस्पेक्टर को माननीय शिवानी की अदालत में पेश किया।

एसआईटी  की टीम ने अदालत से मांगा 5 दिन का पुलिस रिमाण्ड। माननीय कोर्ट ने 4 दिन का पुलिस रिमांड किया मंजूर।

पुलिस रिमाण्ड के दौरान इस केस से सबधित सभी तरह के साक्ष्य जुटाए जाएगे।

उपरोक्त केस में एफआईआर में नामजद अब्दुल शहीद को कल पूछताछ के बाद निलंबित कर, गिरफ्तार किया गया था

अभी इस केस में तफ्तीश की जा रही है पूछताछ के बाद जो भी तथ्य सामने आएंगे.

इस मामले में फरीदाबाद जिला बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान वकील एलएल पाराशर ने पुलिस की तरफ से पैरवी करते हुए आरोपी की 5 दिन की पुलिस रिमांड मांगी जिनकी बातों पर गौर करते हुए कोर्ट ने 4 दिन की पुलिस रिमांड मंजूर की.

तिगांव में चोरों की इतनी बढ़ गयी हिम्मत, शीशराम नागर के घर कुत्ते और महिलाओं को बेहोश करके लूटा

faridabad-tigaon-chori-loot-sheeshram-nagar-16-august-2019-night

फरीदाबाद: वैसे तो तिगांव विधानसभा में रोजाना चोरी और लूट की वारदातें हो रही हैं और इन वारदातों से जनता इतनी परेशान हो चुकी है कि रोड जाम करके अपना आक्रोश जताना पड़ रहा है. पुलिस चोरी की वारदातों को रोक नहीं पा रही है और ना ही चोरों को कड़ी सजा मिल पाती है.

तिगांव में पथवारी मंदिर के पास एनिमल हॉस्पिटल के पास रहने वाले शीशराम नागर के यहाँ आज चोरी की वारदात हुई, हैरानी इस बात पर हो रही है कि चोरों ने घर के बाहर बंधे कुत्ते को बेहोश किया उसके बाद घर के अन्दर सो रही महिलाओं को बेहोश करके उनके पहने हुए गहने - सोने की दो चैन, तीन जोड़ी झुमके, एक अंगूठी और दो मोबाइल फोन लूट लिए.

इस वारदात से लोग नाराज हो गए क्योंकि चोरों ने अपनी हद पार करते हुए लोगों को बेहोश करके लूट की है, सुबह लोगों ने रोड जाम कर दिया, दो घंटे तक पुलिस नहीं आयी जिसकी वजह से लोग और नाराज हो गए और पुलिस के आने के बाद पुलिस मुर्दाबाद के नारे भी लगाए.

पुलिस ने लोगों को समझा बुझाकर शांत किया, अब देखते हैं कि चोरों से पुलिस किस प्रकार से निपटती है. देखें वीडियो -

SIT करेगी DCP विक्रम कपूर आत्महत्या और ब्लैकमेलिंग मामले की जांच

sit-will-investigate-dcp-vikram-kapoor-suicide-case-investigation

फरीदाबाद: संजय कुमार पुलिस आयुक्त के द्वारा एसीपी क्राइम अनिल यादव की अध्यक्षता में  एसआईटी गठित की गई है जो DCP NIT आत्महत्या और ब्लैकमेलिंग मामले की जांच करेगी.

क्राइम ब्रांच सेक्टर 30 प्रभारी इंस्पेक्टर विमल, उप निरीक्षक रविंद्र व उप निरीक्षक सतीश एसआईटी के सदय होंगे.

उपरोक्त केस में एफआईआर में नामजद अब्दुल शहीद को पूछताछ के बाद निलंबित कर, गिरफ्तार कर लिया गया है जिसको कल कोर्ट में पेश करके पुलिस रिमांड लिया जाएगा।

अभी इस केस में तफ्तीश की जा रही है जिसकी प्रगति के बारे में समय अनुसार पाठकों को अवगत किया जाएगा। 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 14 अगस्त को DCP विक्रम कपूर ने खुद को गोली मार ली थी. उन्होंने आत्महत्या से पहले एक सुसाइड नोट लिह्का था जिसमें DCP विक्रम कपूर ने लिखा था - I am doing this due to ABDUL, Abdul Inspector, He was Blackmailing - Vikram. विक्रम कपूर ने अंग्रेजी में ये सुसाइड नोट लिखा था.

इस नोट का जिक्र डीसीपी के बेटे ने पुलिस दी शिकायत में किया है। डीसीपी के बेटे अर्जुन कपूर ने शिकायत में कहा कि उनके पिता को पिछले डेढ़ महीने से इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद (एसएचओ भूपानी) व सतीश मलिक मानसिक तौर पर तंग कर रहे थे। दोनों आरोपी कोई झूठा इल्जाम लगा रहे थे, जिसे वह बर्दाश्त नहीं कर पाए।  उन्होंने सुबह 6 बजे अपनी सरकारी पिस्टल से मुंह की नोक मुंह में घुसाकर गोली चला दी, गोली उनकी खोपड़ी के पार निकल गयी.

पुलिस ने सेक्टर-31 थाने में आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज किया है. देखिये FIR की कॉपी.

fir-dcp-vikram-kapoor-suicidefir-dcp-vikram-kapoor-suicide-2

Abdul Inspector, He was Blackmailing Me, लिखकर DCP कपूर ने खुद को मारी गोली, देखिये FIR की कॉपी

dcp-vikram-kapoor-wrote-in-suicide-note-abdul-inspector-he-was-blackmailing-me

फरीदाबाद: फरीदाबाद NIT जोन के पुलिस उपायुक्त विक्रम कपूर की आत्महत्या पर अभी तक लोग यकीन नहीं कर पा रहे हैं हालाँकि अब उनका अंतिम संस्कार भी हो चुका है. दोषी इंस्पेक्टर और उसके साथी पर मुकदमा भी दर्ज हो चुका है और उनकी गिरफ्तारी भी हो चुकी है लेकिन सच शायद ही किसी को पता चले क्योंकि सच सामने आने पर पुलिस महकमे की बदनामी हो सकती है.

अगर बात करें सुसाइड नोट की तो सुसाइड नोट भी अभी तक सार्वजनिक नहीं किया गया है, सुसाइड नोट का पूरा मैटर तो अभी तक नहीं मिला है लेकिन ऊपर की लाइन में DCP विक्रम कपूर ने लिखा था - I am doing this due to ABDUL, Abdul Inspector, He was Blackmailing - Vikram. विक्रम कपूर ने अंग्रेजी में ये सुसाइड नोट लिखा था.

इस नोट का जिक्र डीसीपी के बेटे ने पुलिस दी शिकायत में किया है। डीसीपी के बेटे अर्जुन कपूर ने शिकायत में कहा कि उनके पिता को पिछले डेढ़ महीने से इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद (एसएचओ भूपानी) व सतीश मलिक मानसिक तौर पर तंग कर रहे थे। दोनों आरोपी कोई झूठा इल्जाम लगा रहे थे, जिसे वह बर्दाश्त नहीं कर पाए।  उन्होंने सुबह 6 बजे अपनी सरकारी पिस्टल से मुंह की नोक मुंह में घुसाकर गोली चला दी, गोली उनकी खोपड़ी के पार निकल गयी.

पुलिस ने सेक्टर-31 थाने में आत्महत्या के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज किया है. देखिये FIR की कॉपी.

fir-dcp-vikram-kapoor-suicidefir-dcp-vikram-kapoor-suicide-2

फौजियों को पागल बोलने वाले खेड़ीपुल थाने के गालीबाज और अकडू पुलिसकर्मी वेदराम सस्पेंड, पढ़ें

kheripul-thana-head-constable-vedram-suspend-abusing-crpf-jawan

फरीदाबाद: फरीदाबाद पुलिस ने अच्छा कदम उठाते हुए खेड़ीपुल थाने के गालीबाज और बदतमीजी से बात करने वाले सिपाही वेदराम को सस्पेंड कर दिया है, हेड कांस्टेबल वेदराम ने CRPF जवान मनोज कुमार को फोन पर गालियाँ दी थी और उन्हें पागल बोलने के साथ साथ फौजियों को भी पागल बोला था. उनका ऑडियो फरीदाबाद लेटेस्ट न्यूज़ चैनल पर वायरल होने के बाद फरीदाबाद पुलिस ने तुरंत एक्शन लिया और उन्हें सस्पेंड कर दिया.



क्या था मामला?

बात दरअसल ये थी कि CRPF जवान मनोज कुमार का भाई शिव सिंह 28 जुलाई को गायब हो गया. शिव सिंह नहरपार हनुमान नगर, गली नंबर 3 में अपनी पत्नी किरण देवी के साथ रहता था, उसकी पत्नी ने 30 जुलाई को गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाई. पत्नी ने लिखा - मेरा पति किसी से मिलने गया था उसके बाद नहीं आया. मैंने उसे कई जगह ढूंढा लेकिन नहीं मिला.

जब मनोज कुमार को अपने भाई के गुम होने की सूचना मिली तो वे ड्यूटी से छुट्टी लेकर अपने भाई को ढूँढने निकल पड़े. पुलिस में रिपोर्ट लिखवा दी गयी थी इसलिए उन्होंने केस के IO हेड कांस्टेबल वेदराम से संपर्क किया. मदद के बजाय वेदराम ने उन्हें गालियाँ दी, उन्हें पागल बोला, उनकी बेटी को भी गालियाँ दी. उन्हें दोबारा फोन ना करने की धमकी दी. वेदराम ने यह भी कहा कि तू कौन है अपने भाई के बारे में जानकारी करने वाला, उसकी पत्नी है, हम उसे बता देंगे. मनोज कुमार ने कहा कि क्या भाई का कोई फर्ज नहीं होता, क्या हम अपने भाई के बारे में जानकारी नहीं ले सकते, जिस प्रकार से वेदराम ने मुझसे बात की वैसे तो कोई भी पुलिसवाला बात नहीं करता, उन्होंने हम फौजियों को भी पागल बोला.

पुलिसकर्मी वेदराम ने CRPF जवान मनोज कुमार को थाने में बुरी तरह से धमकाया, उसके छोटे भाई को थप्पड़ मारे गए. थक हारकर मनोज कुमार ने फरीदाबाद लेटेस्ट न्यूज़ से संपर्क किया. जब हमने वेदराम से रिपोर्ट ली तो उन्होंने हमसे भी बदतमीजी से बात की और बोले - तुम ढूंढ लो उसके भाई को, तुम पता लगवा लो उसका मोबाइल कहाँ है, तुम ट्रेस करवा लो उसका मोबाइल, हमें इतना पता नहीं है.

इसके बाद मनोज कुमार ने हमसे बताया कि वेदराम की मेरे पास फोन रिकॉर्डिंग है. उसके बाद हमने CRPF जवान मनोज कुमार के टॉर्चर की कहानी को अपने फेसबुक पेज पर डाला जिसके बाद फरीदाबाद पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए वेदराम को सस्पेंड कर दिया. पुलिस उपायुक्त सेंट्रल लोकेन्द्र सिंह ने इस एक्शन की जानकारी दी.

कितना बिगड़ गया फरीदाबाद पुलिस का सिस्टम, SHO कर रहे DCP को ब्लैकमेल, जनता का क्या होगा

dcp-vikram-kapoor-suicide-case-bhupani-thana-sho-abdul-saeed-arrested

फरीदाबाद: फरीदाबाद में कुछ महीनों से अपराध इतना अधिक बढ़ गया है कि फरीदाबाद पुलिस पर अब सवाल उठने शुरू हो चुके हैं. पिछले 6 महीने में दर्जनों मर्डर की वारदात सामने आई, आज एनआईटी फरीदाबाद के डिप्टी पुलिस कमिश्नर विक्रम कपूर ने सुसाइड कर के पुलिस सिस्टम पर एक और प्रश्नचिन्ह लगा दिया.

ऐसी खबरें आ रही है कि भू पानी थाने के एसएचओ अब्दुल शईद उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे जिससे तंग आकर उन्होंने आत्महत्या जैसा कदम उठाया. 

यह खबर आने के बाद सबके मन में एक सवाल उठ रहा है कि जब एसएचओ डीसीपी को ब्लैकमेल कर सकते हैं तो आम जनता के साथ यह लोग क्या बर्ताव करते होंगे.

इस मामले में भूपानी थाने के एसएचओ अब्दुल सईद के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है. एक अन्य आरोपी के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हुआ है. दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है लेकिन अभी तक दोनों की गिरफ्तारी की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है.

बडा सवाल, आखिर कौन है वो SHO जो कर रहा था विक्रम कपूर को परेशान?

why-nit-dcp-vikram-kapoor-suicide-which-sho-blackmailing-him

फरीदाबाद: आज फरीदाबाद में उस वक्त हड़कंप मच गया जब खबर आई कि फरीदाबाद एनआईटी के डीसीपी विक्रम कपूर ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली है.

यह खबर सुनकर हर कोई हैरान रह गया कि आखिर ऐसी क्या परिस्थिति आ गई थी जिसके कारण डीसीपी विक्रम कपूर को आत्महत्या जैसा कदम उठाना पड़ा.

सोशल मीडिया पर अब ऐसी खबरें चल रही हैं कि डीसीपी विक्रम कपूर को फरीदाबाद का ही एक एसएचओ परेशान और ब्लैकमेल कर रहा था, इसी ब्लैकमेलिंग से तंग आकर विक्रम कपूर ने आज सुबह अपनी सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि उपरोक्त खबरें सिर्फ सोशल मीडिया पर सूत्रों के हवाले से चल रही हैं अभी तक फरीदाबाद पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है.

यह भी खबर आ रही है कि डीसीपी विक्रमजीत कपूर अपने गनर की रिवाल्वर 1 महीने से अपने पास ही रख रहे थे. सोशल मीडिया पर ऐसी बहुत सी अफवाहें चल रही हैं, पुलिस इस मामले की जांच कर रही है और जल्द ही आत्महत्या के कारणों और ब्लैक मेलिंग करने वाले एसएचओ के नाम का खुलासा हो सकता है.

इतना जरूर खबर आई है कि तिगांव विधानसभा क्षेत्र के भूपानी थाने के एसएचओ अब्दुल सईद के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है. एक अन्य आरोपी के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हुआ है. जल्द ही पूरी अपडेट दी जाएगी.

चरम पर गुंडागर्दी, NIT-3 में हितेश भाटिया नामक 25 वर्षीय युवक की पीट-पीटकर हत्या

nit-3-faridabad-hitesh-bhatia-murder-in-angan-restraunt-news

फरीदाबाद: शहर के तीन नंबर के पास कल रात्रि को दो नंबर में रहने वाले लगभग 25 वर्षीय युवक की हत्या कर दी गई। अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक़ हितेश भाटिया नाम का युवक अपनी पत्नी और तीन वर्ष की बच्ची के साथ एक पार्टी में गया था जहाँ किसी बात पर युवक का किसी से विवाद हो गया।

युवक की  पत्नी का कहना है कि विवाद के बाद काफी लोग इकट्ठे हो गए और उसके पति को पीटना शुरू कर दिया। पत्नी ने बताया कि मैं अपनी मासूम बच्ची को लेकर चीखती रही, चिल्लाती रही लेकिन किसी ने मदद नहीं की और उसके पति तो तब तक पीटा गया जब तक उसकी मौत नहीं हो गई। मामले की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुँची और घायल हितेश को एक निजी अस्पताल ले जाया गया जहाँ डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया।

परिजनों का आरोप है कि पुलिस मामले को दबाने में जुटी है और वो रेस्टोरेंट फिर खुला है जहाँ हितेश की हत्या की गई। मृतक की पत्नी का कहना है कि पुलिस न आती तो वो लोग मुझे भी मार डालते। उन्होंने कहा कि पुलिस ने मेरी मदद की थी।

उनका कहना है कि उनके पति पर रॉड व् कई अन्य चीजों से हमला किया गया। मृतक के परिजनों का कहना है कि जब तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जायेगा तब तक को शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे और सड़क पर शव रखकर जाम भी लगाने के लिए कह रहे हैं। मृतक के रिश्तेदार ने बताया कि हितेश संजीव भाटिया के यहाँ काम करता था और कुछ दिन पहले संजीव ने उसे निकाल दिया था और वो संजीव पर कई तरह के आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना है कि आँगन नाम के रेस्टोरेंट के लोगों का भी हत्या में खास हाँथ है। उनका कहना है कि मारने वाले कम से कम दस लोग थे। उन्होंने किसी जगदीश भाटिया का भी नाम लिया और कहा हत्या में उसका भी योगदान है। 

वकील LN पाराशर ने हरियाणा के प्रधान सचिव और अन्य अफसरों के खिलाफ SC में किया कंटेम्प्ट केस

advocate-ln-parashar-file-contempt-case-in-supreme-court-aravali-case

फरीदाबाद: बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के प्रधान एलएन पाराशर ने फिर अरावली पर अवैध खनन को लेकर कई बड़े अधिकारीयों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी है। पाराशर ने बताया कि पिछली बार जब हमने याचिका दायर की थी तब सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि सबूत सहित याचिका दायर करो और लिबर्टी दी थी इसलिए अब हमने कई सबूतों के साथ याचिका दायर की है। पाराशर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जब लिबर्टी दी थी तब कहा था कि जहाँ भी अवैध खनन हुआ है और हो रहा है वहीं की खसरा खतौनी और हाल में दर्ज हुई सभी एफआईआर का नंबर संलग्न किया जाये इसलिए अब हमने सभी एफआईआर के नंबर और खसरा-खतौनी के साथ फ्रेश याचिका दायर की है। 

पाराशर ने कहा कि लगभग डेढ़ साल में अवैध खनन करने वालों पर लगभग एक दर्जन मामले दर्ज हुए हैं और अब सुप्रीम कोर्ट में हमने इन्ही मामलो का हवाला दिया है।  उन्होंने कहा कि कई माफियाओं ने अवैध खनन कर उस जगह पर मिट्टी डाल वेंकट हाल या फ़ार्म हॉउस बना लिए हैं जिनकी तस्वीरें और वीडियो हमने सुप्रीम कोर्ट में बतौर सबूत दिए हैं। उन्होंने कहा कि एक दो नहीं दर्जनों जगहों पर अवैध खनन हुए हैं और सबका सबूत सुरीम कोर्ट में पेश किया गया है। 

उन्होंने कहा कि अब हमने जो याचिका दायर की है उसमे हरियाणा के मुख्य सचिव, अतुल कुमार डीसी फरीदाबाद, कमलेश कुमारी, अधिकारी खनन विभाग, बलजीत सिंह सहित कई अधिकारियों को पार्टी बनाया गया है। उन्होंने कहा कि कई वर्षों से अरावली तवाह की जाती रही, करोडो के पत्थर लूट  जाते रहे और ये सब अधिकारी बापू के बंदरों की तरह सब कुछ नजरअंदाज करते रहे। उन्होंने कहा कि जब मैंने कई-कई बार सबूत सहित अवैध के कई मामले मीडिया के माध्यम से इन अधिकारियों तक पहुंचाए तो इन्होने खानापूर्ति के लिए खनन माफियाओं पर मालूली धाराओं के तहत मामला दर्ज करवाया।

 पाराशर ने कहा कि एफआईआर दर्ज करने के बाद खनन माफियाओं से नाम मात्र की बरामदगी दिखाई गई जबकि माफियाओं ने बड़ी-बड़ी मशीनों से करोड़ों के पत्थर चोरी किये। पाराशर ने कहा इन अधिकारियों की मिलीभगत के कारण अरावली तवाह हुई और फरीदाबाद के लोग प्रदूषण से बेमौत मर रहे हैं। पाराशर ने कहा कि इन अधिकारियों की लापरवाही के कारण अरावली पर अब भी अवैध खनन जारी है इसलिए अब मैंने इन्हे सुप्रीम कोर्ट में घसीटा है ताकि अरावली को बचा सकूं। उन्होंने कहा कि मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका दायर की गई है उसका नंबर 4677 OF 1985 है। 

supreme-court-of-india-aravali-cheerharan

डबुआ सब्जी मंडी के पास नाले में अज्ञात महिला का शव मिलने से हडकंप, हत्या करके फेंके जाने का शक

dabua-sabji-mandi-nala-dead-body-women-age-25-year-found-photo

फरीदाबाद: डबुआ सब्जी मंडी के पास नाले में आज सुबह एक अज्ञात महिला का शक देखे जाने के बाद हडकंप मच गया. किसी ने इसकी सूचना पुलिस कण्ट्रोल रूम में दी जिसके बाद डबुआ थाना पुलिस और फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स की टीम ने शव को निकाला और उसे पोस्टमार्टम के लिए बीके हॉस्पिटल भिजवाया.

अभी तक मृतक महिला की पहचान नहीं हो पायी है, डबुआ थाना पुलिस से बातचीत करने पर उन्होंने कहा कि यह शव करीब तीन दिन पुराना है, पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा कि महिला की ह्त्या की गयी है या कुछ और मामला है. उन्होंने यह भी बताया कि मृतक महिला की उम्र करीब 25 वर्ष के आसपास है. मृतका की पहचान नहीं हो पायी है और ना ही परिजनों का कुछ अता-पता मिल पाया है. देखें वीडियो - 



आपकी जानकारी के लिए बता दें कि NIT-86 विधानसभा के अंतर्गत आने वाले इस क्षेत्र में नाले का निर्माण कई वर्षों से चल रहा है लेकिन काम की रफ़्तार इतनी स्लो है कि ऐसा लगता है कि इसके निर्माण में कई वर्ष और लगेंगे. अब इस नाले का इस्तेमाल हत्या करके शव को छुपाने के लिए किया जा रहा है जिसकी वजह से लोगों में डर का माहौल देखा गया.