Palwal Assembly

केजरीवाल की चुप्पी पर कपिल मिश्रा ने दागा सवाल, शहीद HC रतनलाल को भी दीजिये 1 करोड़ का मुआवजा

खबर के लिए संपर्क करें: 9953931171, Email: dpsingh84@gmail.com, Whatsapp: 9953931171
आगे की खबर विज्ञापन के नीचे

kapil-mishra-ask-arvind-kejriwal-1-crore-muavja-to-martyl-ratan-lal

नई दिल्ली: दिल्ली दंगों में बदरपुर के रहने वाले और दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल CAA विरोधी दंगाइयों की गोली के शिकार होकर शहीद हो गए, भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री से मांग की है कि अपने वादे के अनुसार शहीद कॉन्स्टेबल रतन लाल को एक करोड़ का मुआवजा दीजिये, इतनी देरी क्यों? चुप्पी क्यों?
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अरविन्द केजरीवाल दिल्ली में तुष्टिकरण की नीति पर चल रहे हैं, कुछ महीनों पहले उन्होंने दंगाइयों को 5 लाख का मुआवजा और मौलवियों को सैलरी देने का वादा किया था, उन्होंने यह भी वादा किया था कि शहीद सुरक्षाकर्मियों को 1 करोड़ रुपये का मुआवजा देंगे। चुनाव से पहले अरविन्द केजरीवाल तुरंत मुआवजे का ऐलान कर देते हैं ताकि पूरा देश समझे कि केजरीवाल तो अच्छे नेता हैं। 

क्योंकि अब चुनाव नहीं हैं इसलिए केजरीवाल अपने वादे पर खामोश हैं इसीलिए कपिल मिश्रा ने उन्हें याद दिलाते हुए कहा है कि शहीद कांस्टेबल रतनलाल जी के परिवार को तुरंत एक करोड़ रुपये का मुआवजा दीजिए?

केजरीवाल के लिए मुसीबत ये है कि पुलिसकर्मी रतनलाल CAA विरोधियों की गोली के शिकायत हुए हैं जबकि केजरीवाल CAA विरोधियों का समर्थन कर रहे हैं. अगर केजरीवाल रतनलाल को 1 करोड़ रुपये का मुआवजा देंगे तो CAA विरोधी उनसे नाराज हो सकते हैं. कपिल मिश्रा केजरीवाल की मजबूरी को अच्छी तरह से समझ रहे हैं.
विज्ञापन के नीचे जाकर खबर शेयर करें
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

फेसबुक पर अपडेट के लिए पेज LIKE करें

Delhi News

Post A Comment:

6 comments:

  1. wo to deshabhakat tha to use thodi dega wo wo to aatangwadi o ko hi deta hey

    ReplyDelete
  2. यह केजरीाल दोगला आदमी है यह इसी का रचाया हुआ है। दिल्ली का चुनाव जीतने के लिए,नायक भी यही प्रोड्यूसर,डायरेक्टर, फाइनेंसर सभी का करता धर्ता।

    ReplyDelete
  3. Kejriwal का अंत होने में समय लगेगा, सच्चाई सामने आने में और फिर समझ में आने मे समय लगेगा. लेकिन जिस दिन लोगों को समजेना, केजरीवाल पूरी तरह से खत्म हो जाएगा, दुर्योधन की तरह। इस देश का बहुल समाज बहुत ही भावुक और देर से जागने वाला है।

    ReplyDelete