Followers

क्या किसी बड़ी साजिश का शिकार हो गयीं शारदा राठौर, क्या उन्हें बल्लभगढ़ से दूर करने के लिए.. ?

आगे की खबर विज्ञापन के नीचे

sharda-rathore-victim-of-conspiracy-before-haryana-election-2019

फरीदाबाद, 1 अक्टूबर: दो महीनें पहले बल्लभगढ़ की जनता कह रही थी कि बल्लभगढ़ से इस बार शारदा राठौर की जीत पक्की है, अगर वह  निर्दलीय चुनाव लड़ें तो भी उनकी जीत तय है लेकिन शारदा राठौर को अचानक पता नहीं क्या सूझी कि वह भाजपा में शामिल हो गयीं।

आपको याद होगा कि शारदा राठौर कांग्रेस में रहते हुए विधायक मूलचंद शर्मा के खिलाफ खड़ी रहती थीं, चाहे बिजली चोरी का मामला हो, बल्लभगढ़ में गुंडागर्दी और अपराध के मामले हों, शारदा राठौर हमेशा आवाज उठाती रहती थीं लेकिन भाजपा में शामिल होने के बाद उन्होंने अपना मुंह बंद कर दिया।

अब ऐसा कहा जा रहा है कि शारदा राठौर का मुंह बंद कराने के लिए उन्हें भाजपा में शामिल करने का ड्रामा रचा गया, प्लानिंग करने वालों की प्लानिंग सफल रही, शारदा ने पिछले दो महीनों में मूलचंद शर्मा के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया, भाजपा की तारीफ करती रहीं लेकिन आज वह ना तो घर की हैं और ना घाट की हैं.

शारदा राठौर को कांग्रेस वापस बुला रही है लेकिन शारदा राठौर ने अगर इतनी जल्दी दल बदला तो उनपर दलबदलू का आरोप लग जाएगा, इसके अलावा वह कोंग्रेसी कार्यकर्ताओं से भी नजर नहीं मिला पाएंगी क्योंकि जब कोंग्रेसियों को उनकी जरूरत थी तो वह भाजपा में भाग गयीं। कांग्रेसी यह समझेंगे कि भाजपा ने इन्हें टिकट नहीं दिया इसलिए ये वापस कांग्रेस में आयी हैं.

शारदा राठौर बड़ी नेता हैं, विधायक और संसदीय सचिव रह चुकी हैं लेकिन आज वह जिस रास्ते पर खड़ी हैं इसकी कल्पना किसी ने नहीं की होगी। अब देखते हैं कि वह क्या राजनीतिक कदम उठाती हैं, कांग्रेस में घर वापसी करती हैं या जिस मकसद से उन्हें खामोश कराया गया था प्लानिंग करने वालों का मकसद कामयाब होता है.
विज्ञापन के नीचे जाकर खबर शेयर करें
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

loading...

Faridabad News

Politics

Post A Comment:

0 comments: