Palwal Assembly

अरावली पर अवैध खनन माफियाओं से भिड़ने गए थे वकील LN पाराशर, झाड़ियों में सांप द्वारा डसने से बचे

खबर के लिए संपर्क करें: 9560510320, Email: dpsingh84@gmail.com, Whatsapp: 9953931171
आगे की खबर विज्ञापन के नीचे

advocate-ln-parashar-visit-aravali-pahad-to-exposed-avaidh-khanan

फरीदाबाद: अरावली पहाड़ पर रोजाना करोड़ों रुपये के पत्थरों की चोरी होती है, अरावली पहाड़ पूरे शहर की सेहत के लिए रामवाण है लेकिन जैसे जैसे पत्थरों का अवैध खनन होता जा रहा है वैसे वैसे पहाड़ भी ख़त्म होता जा रहा है और जैसे जैसे पहाड़ ख़त्म होता जा रहा है वैसे वैसे शहर में प्रदूषण बढ़ता जा रहा है, वन अधिकारी और प्रशासन अरावली की रक्षा करने में नाकाम है, रोजाना रात में पत्थरों का अवैध खनन होता है और रात रात में ट्रकों में पत्थरों को भरकर क्रेशर जोन में भेज दिया जाता है.

वकील एल एन पाराशर रोजाना अरावली का दौरा करते हैं और खनन माफियाओं से पंगा लेते हैं, दिन में खनन करने वाले तो नहीं दिखते लेकिन खनन स्थल को देखकर पता चल जाता है कि रात में पत्थरों की चोरी हुई है. आज सुबह वकील एल एन पाराशर अरावली पर खनन का जायजा लेने गए थे, झाड़ियों में अचानक सांप लिपटा दिखा लेकिन पाराशर ने खुद को बचा लिया.



वकील एल एन पाराशर ने कहा कि - अवकाश के दिनों में अरावली के पत्थरचोर और ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं और अवैध खनन कर कई - कई डम्फर पत्थर चुराकर ले जाता हैं। उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह मुझे सूचना मिली कि सूरजकुंड-पाली रोड के किनारे कुछ लोगों ने जंगल के अंदर जाने वाले रास्ते पर बड़े-बड़े पत्थर लगा दिए हैं और अंदर खुद अवैध खनन कर रहे हैं और शाम को ये रास्ता खोल देंगे और खनन से निकले पत्थरों को डम्फर में भरकर ले जाएंगे। 

वकील पाराशर ने कहा कि सूचना सही मान मैं मौके पर गया तो देखा रास्ते को बड़े-बड़े पत्थरों से रोका गया है ताकि अगर किसी विभाग के अधिकारी को भी इसकी सूचना मिले तो उनकी गाड़ी आगे न बढ़ सके। वकील पाराशर ने कहा कि जहाँ रास्ता रोका गया था वहाँ से आधा किलोमीटर की दूरी पर अवैध खनन हो रहा था। उन्होंने कहा कि शनिवार और रविवार अवकाश रहता है इसलिए पत्थर माफिया इस दिन बड़ा खेल खेलते हैं। उन्होंने कहा कि एक डम्फर पत्थर लगभग 25 हजार रूपये का बिकता है और अगर माफिया दिन में पांच डम्फर पत्थर भी ले जाते होंगे तो दिन भर में ही वो सवा लाख रूपये कमा लेते हैं। पाराशर ने कहा कि एक गरीब आदमी दिन पर मेहनत करता है तो पूरे महीने में 20 हजार रूपये भी नहीं कमा पाता और ये माफिया एक-एक दिन में लाखों कमा रहे हैं। पाराशर ने कहा कि सूचना देने वाले व्यक्ति ने बताया कि ये सब खनन विभाग के अधिकारीयों की मिलीभगत से होता है। अधिकारी माफिया को बोल देते हैं कि छुट्टी के दिनों में पत्थर चुराना ताकि मेरे ऊपर कोई आरोप न लगा सके और मैं कह सकूं कि उस दिन छुट्टी का दिन था, मैं मौजूद नहीं था। 

पाराशर ने कहा कि अरावली पर कई अन्य जगहों पर भी पत्थर चोरी हो रहे हैं। कई जगहों पर ब्लास्ट कर पत्थर तोड़े जाते हैं और मौका पाकर उन पत्थरों को बेंच दिया जाता है। पाराशर ने कहा कि ऐसे ही चलता रहा तो एक दिन ऐसा भी आएगा जब अरावली पर एक भी पत्थर नहीं दिखेगा और फरीदाबाद से अरावली का नाम गायब हो जाएगा। उन्होंने कहा कि खनन अधिकारियों से मैंने कई बार शिकायत की। ये कभी कभी दिखावे के लिए किसी माफिया पर हल्की धाराओं के तहत मामला दर्ज करवा अपना पीछा छुड़ा लेते हैं। उन्होंने कहा कि इनकी माफियाओं से मिलीभगत है इसलिए अरावली के पहाड़ गायब हो रहे हैं। 
विज्ञापन के नीचे जाकर खबर शेयर करें
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

फेसबुक पर अपडेट के लिए पेज LIKE करें

Faridabad News

Post A Comment:

0 comments: