Palwal Assembly

ऑनलाइन पोल रिजल्ट: देखिये, फरीदाबाद में किसकी लहर, कौन जीत सकता है चुनाव, कौन बेहतर उम्मीदवार

हमें ख़बरें Email: dpsingh84@gmail.com. WhatsApp: 9953931171 पर भेजें (धर्मेन्द्र प्रताप सिंह)
आगे की खबर विज्ञापन के नीचे

online-poll-result-faridabad-loksabha-election-2019-who-will-win-election

फरीदाबाद 13 मार्च: देश में लोकसभा चुनाव 2019 का ऐलान हो चुका है, 11 अप्रैल से 19 मई के बीच में सात चरणों में चुनाव होना है, फरीदाबाद में 12 मई को चुनाव होगा और इसी दिन हरियाणा और दिल्ली की सभी सीटों पर मतदान होगा.

फरीदाबाद में अभी किसी भी पार्टी के उम्मीदवार का नाम फाइनल नहीं है. कृष्णपाल गुर्जर को टिकट मिलना करीब करीब तय है लेकिन अन्य राजनीतिक पार्टियों के उम्मीदवारों के नाम सामने नहीं आ रहे हैं. हमने कांग्रेस को मुख्य विपक्षी पार्टी मानते हुए लोकप्रियता के हिसाब से दो उम्मीदवारों - करण दलाल और अवतार भड़ाना को चुना है और फरीदाबाद लेटेस्ट न्यूज़ फेसबुक पेज पर एक ऑनलाइन सर्वे किया है.

नोट: फरीदाबाद लेटेस्ट न्यूज़ शहर का सबसे अधिक पढ़ा जाने वाला न्यूज़ पोर्टल है, फेसबुक पेज पर करीब 1 लाख 10 हजार फॉलोवर हैं जिनमें से अधिकतर फरीदाबाद और पलवल के हैं, इस पेज पर फरीदाबाद शहर और देहात के हर क्षेत्र के पाठक हैं, इसलिए इस पेज पर किया गया सर्वे वास्तविक नतीजे में बदल सकता है. 

हमने ये सर्वे 11 मार्च 2019 को किया था. 24 घंटे के लिए किये गए इस सर्वे में कई हजार लोगों ने भाग लिया और अपना अपना मत दिया. हम नीचे दिखाने जा रहे हैं कि हमारे सर्वे में क्या नतीजे आये.

सर्वे: 1 कौन सी राजनीतिक पार्टी जीत सकती है चुनाव, किसकी लहर

हमने ऑनलाइन पोल में सवाल पूछा - फरीदाबाद में भाजपा और कांग्रेस में से कौन सी पार्टी जीत सकती है लोकसभा चुनाव, आप किसे देंगे वोट.

रिजल्ट: 

सर्वे में करीब 5000 पाठकों ने वोट दिया, 72 फ़ीसदी लोगों ने भाजपा के पक्ष में वोट दिया जबकि 28 फ़ीसदी पाठकों ने कांग्रेस के पक्ष में वोट दिया. रिजल्ट के हिसाब से फरीदाबाद में भाजपा की जीत की संभावने सबसे अधिक हैं. अच्छा उम्मीदवार इस रिजल्ट को वास्तविकता में बदल सकता है.

bjp-may-win-in-faridabad

सर्वे 2: करण दलाल Vs कृष्णपाल गुर्जर

दूसरे सर्वे में भाजपा के भावी उम्मीदवार कृष्णपाल गुर्जर और पलवल के कांग्रेस विधायक करण दलाल की लोकप्रियता आंकी गयी. लोगों से सवाल पूछा गया - कृष्णपाल गुर्जर और करण दलाल में से कौन जीत सकता है फरीदाबाद लोकसभा सीट से चुनाव.

रिजल्ट

सर्वे में कुल 10 हजार लोगों ने वोट दिया. 56 फ़ीसदी लोगों ने कृष्णपाल गुर्जर की जीत पर मुहर लगाई जबकि 44 फ़ीसदी लोगों ने करण दलाल के पक्ष में वोट दिया. नतीजे देखकर कहा जा सकता है कि अगर करण दलाल कड़ी मेहनत करें तो कृष्णपाल गुर्जर को कड़ी टक्कर दे सकते हैं.

krishan-pal-gurjar-and-karan-dalal

सर्वे 3: कृष्णपाल गुर्जर Vs अवतार भड़ाना

तीसरे पोल में पाठकों से पूछा गया - कृष्णपाल गुर्जर और अवतार भड़ाना में से कौन जीत सकता है फरीदाबाद लोकसभा सीट से चुनाव.

रिजल्ट:

इस पोल में करीब 4800 लोगों ने भाग लिया. 60 फ़ीसदी लोगों ने कृष्णपाल गुर्जर के पक्ष में मतदान किया जबकि 40 फ़ीसदी लोगों ने अवतार भड़ाना के पक्ष में मतदान किया. दोनों के बीच में 20 फ़ीसदी का फासला है जिससे साफ़ दिख रहा है कि अवतार भड़ाना कृष्णपाल गुर्जर के खिलाफ कमजोर उम्मीदवार होंगे.

krishna-pal-gurjar-and-avtar-bhadana

सर्वे 4: करण दलाल Vs अवतार भड़ाना

चौथे पोल में पाठकों से पूछा गया - करण दलाल और अवतार भड़ाना में से कौन होगा कांग्रेस से बेहतर उम्मीदवार.

रिजल्ट: 

इस पोल में 3100 लोगों ने भाग लिया जिसमें से 50.3 फ़ीसदी लोगों ने करण दलाल को बेहतर उम्मीदवार बताया जबकि 49.7 फ़ीसदी लोगों ने अवतार भड़ाना को अच्छा उम्मीदवार बताया, करण दलाल यहाँ भी अवतार भड़ाना पर भारी पड़े हैं इसलिए कृष्णपाल गुर्जर को कड़ी टक्कर देने वाला सर्वे नंबर - 2 सही साबित हो रहा है.

karan-dalal-and-avtar-bhadana-image

फरीदाबाद में मोदी-भाजपा लहर, सिर्फ अच्छे उम्मीदवार की जरूरत

सर्वे नंबर एक पर अगर नजर दौड़ाई जाए तो साफ दिख रहा है कि फरीदाबाद में मोदी और भाजपा की लहर है जबकि कृष्णपाल गुर्जर को करण दलाल कड़ी टक्कर दे रहे हैं, अगर कांग्रेस वोटर एकजुट होकर यानी करण दलाल और अवतार भड़ाना के समर्थक कृष्णपाल गुर्जर के खिलाफ एकजुट होंगे तो उन्हें और कड़ी टक्कर मिलेगी. 

मोदी लहर का फायदा उठाने के लिए कृष्णपाल गुर्जर को कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी, विकास कार्य तेज गति से कराने पड़ेंगे, कई विधानसभाओं में विधायकों के भ्रष्टाचार, अवैध कब्जे, अवैध निर्माण, बड़े बड़े गैरकानूनी होटल, अपना अपना विकास करने की होड़ भी कृष्णपाल गुर्जर के लिए नुकसानदायक साबित होंगे. बडखल और बल्लभगढ़ विधानसभा में सत्ता विरोध लहर उनपर भारी पड़ सकती है. इसके अलावा विपुल गोयल का भी कृष्णपाल गुर्जर को पूरा समर्थन नहीं मिलेगा क्योंकि दोनों के बीच के कई महीनों से मनमुटाव चल रहा है.

modi-lahar-in-faridabad
विज्ञापन के नीचे जाकर खबर शेयर करें
फेसबुक, WhatsApp, ट्विटर पर शेयर करें

फेसबुक पर अपडेट के लिए पेज LIKE करें

Election

Faridabad News

Politics

Post A Comment:

2 comments: