होम समाचार यूरो 2024: नीदरलैंड के बॉस रोनाल्ड कोमैन ने इंग्लैंड से हार में...

यूरो 2024: नीदरलैंड के बॉस रोनाल्ड कोमैन ने इंग्लैंड से हार में VAR पर ‘फुटबॉल को तोड़ने’ का आरोप लगाया

28
0
यूरो 2024: नीदरलैंड के बॉस रोनाल्ड कोमैन ने इंग्लैंड से हार में VAR पर ‘फुटबॉल को तोड़ने’ का आरोप लगाया


नीदरलैंड्स के कोच रोनाल्ड कोमैन ने मंगलवार को यूरो 2024 के सेमीफाइनल में इंग्लैंड को विवादास्पद पेनल्टी दिए जाने के बाद “फुटबॉल को बाधित करने” के लिए वीडियो सहायक रेफरी (VAR) के उपयोग की आलोचना की।

डच टीम ने जेवी सिमंस के शक्तिशाली शॉट से शुरुआती बढ़त हासिल कर ली थी, लेकिन गैरेथ साउथगेट की टीम को जीवनदान तब मिला जब हैरी केन को फॉलो-थ्रू पर डेनजेल डमफ्रीज़ ने कैच कर लिया, जबकि इंग्लैंड के कप्तान पहले ही शॉट बार के ऊपर से मार चुके थे।

मूलतः कोई पेनाल्टी नहीं दी गई थी, लेकिन रेफरी फेलिक्स ज्वेयर को VAR द्वारा मॉनिटर पर जाने की सलाह दिए जाने के बाद उन्होंने स्पॉट की ओर इशारा किया।

केन ने स्पॉट-किक से बराबरी कर ली तथा स्थानापन्न ओली वॉटकिंस ने 90वें मिनट में विजयी गोल करके इंग्लैंड को रविवार को होने वाले फाइनल में पहुंचा दिया, जहां उनका मुकाबला स्पेन से होगा।

कोमैन ने कहा, “मेरे विचार से यह पेनाल्टी नहीं होनी चाहिए थी।”

“उसने गेंद को लात मारी और जूते छू गए। मुझे लगता है कि हम ठीक से फुटबॉल नहीं खेल सकते और यह VAR के कारण है। यह वास्तव में फुटबॉल को तोड़ता है।”

इंग्लैंड के पूर्व डिफेंडर और आईटीवी पंडित गैरी नेविल का मानना ​​है कि नीदरलैंड को दुखी होने का पूरा अधिकार है।

उन्होंने कहा, “एक डिफेंडर के रूप में मैं इसे बिल्कुल अपमानजनक निर्णय मानता हूं।”

“ऐसा बिल्कुल नहीं है कि यह पेनल्टी थी। वह स्वाभाविक रूप से शॉट को रोकने के लिए आगे बढ़ता है। यह मेरे लिए पेनल्टी नहीं है।”

पूर्व इंग्लैंड स्ट्राइकर एलन शियरर ने बीबीसी रेडियो 5 लाइव पर कहा: “इसमें कोई संदेह नहीं है कि संपर्क हुआ था, लेकिन डिफेंडर [Dumfries] गेंद को रोकने की कोशिश कर रहा है.

“हैरी केन के फॉलो-थ्रू ने कनेक्शन स्थापित कर दिया और मुझे नहीं लगा कि यह कोई ऐसी गलती थी जिसे पलट दिया जा सके।”

नीदरलैंड और लिवरपूल के कप्तान वर्जिल वान डिक का भी मानना ​​है कि पेनल्टी का फैसला खेल का निर्णायक मोड़ था।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि पेनल्टी का क्षण एक बड़ा क्षण था, इंग्लैंड को इससे कुछ आत्मविश्वास मिला।”

“मुझे लगता है कि बहुत सारे निर्णय हमारे पक्ष में नहीं गए, लेकिन मैं रेफरी के बारे में बात नहीं करना चाहता।”



Source link

पिछला लेखलेब्रोन जेम्स या स्टीफ करी नहीं, पॉल पियर्स को लगता है कि यह 26 वर्षीय स्टार टीम यूएसए कैंप में अब तक का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी है
अगला लेखबच्चों के साथ घूम रही दादी की एसयूवी और ट्रक की टक्कर से मौत हो गई, पुलिस और परिवार का कहना है
जेनेट विलियम्स
जेनेट विलियम्स एक प्रतिष्ठित कंटेंट राइटर हैं जो वर्तमान में FaridabadLatestNews.com के लिए लेखन करते हैं। वे फरीदाबाद के स्थानीय समाचार, राजनीति, समाजिक मुद्दों, और सांस्कृतिक घटनाओं पर गहन और जानकारीपूर्ण लेख प्रस्तुत करते हैं। जेनेट की लेखन शैली स्पष्ट, रोचक और पाठकों को बांधने वाली होती है। उनके लेखों में विषय की गहराई और व्यापक शोध की झलक मिलती है, जो पाठकों को विषय की पूर्ण जानकारी प्रदान करती है। जेनेट विलियम्स ने पत्रकारिता और मास कम्युनिकेशन में अपनी शिक्षा पूरी की है और विभिन्न मीडिया संस्थानों के साथ काम करने का महत्वपूर्ण अनुभव है। उनके लेखन का उद्देश्य न केवल सूचनाएँ प्रदान करना है, बल्कि समाज में जागरूकता बढ़ाना और सकारात्मक परिवर्तन लाना भी है। जेनेट के लेखों में सामाजिक मुद्दों की संवेदनशीलता और उनके समाधान की दिशा में सोच स्पष्ट रूप से परिलक्षित होती है। FaridabadLatestNews.com के लिए उनके योगदान ने वेबसाइट को एक विश्वसनीय और महत्वपूर्ण सूचना स्रोत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जेनेट विलियम्स अपने लेखों के माध्यम से पाठकों को निरंतर प्रेरित और शिक्षित करते रहते हैं, और उनकी पत्रकारिता को व्यापक पाठक वर्ग द्वारा अत्यधिक सराहा जाता है। उनके लेख न केवल जानकारीपूर्ण होते हैं बल्कि समाज में सकारात्मक प्रभाव डालने का भी प्रयास करते हैं।